Journey

I healed my hip bone through Nature Cure

Saurav injured his hip bone in an accident in the year 2010. He underwent the conventional treatment of surgery, but after 2 years, the problem bounced back. He was suggested to go for a hip replacement operation that would be repeated every 15 years. He refused to give in to the surgical methods and followed a natural lifestyle. Thanks to the power of this science, he is perfectly fit and fine now. Read his full story here.

Saurav Chauhan

33 yrs, Travel Consultant and tour planner

Delhi

The journey of accident and pain

In 2010, I had a bad accident that led to a severe crack in my hip bone. After following the regular treatment that involved a minor operation, screws were inserted in my hip bone. The doctor told me clearly that no doctor in the entire country could assure me if my hip bone would ever get fixed. He further stated that I’d never be able to walk naturally. But, the only way to fix this situation would be to undergo another operation in which the fractured hip bone would be removed and an artificial hip bone would be placed. However, this solution would come with its limitations as I’ll not be able to use an Indian style washroom, unable to bend and lift weights too. Another shocking fact that came to my notice was that I’d have to undergo the surgery after every 15 years as the artificial hip bone can only sustain itself for 15 years. It needs to be replaced after every 15 yrs for effective working. I was aghast as not only would this surgery cost 1-1.5 lac rupees each time, but the regularity of going under the knife with such frequency would also weaken my body. I decided to give this matter more thought and focussed on my recovery instead.

That period of 1 year was difficult for me; physically and emotionally. After my first operation wherein screws were placed on my hip bone, I was restricted to my bed for an entire year. I did not come out of my house and was confined to the walls of my room. I used to move by using a wheelchair which further increased my agitation. After exactly 11 months, I was able to walk on my feet. Thankfully, due to the prayers and blessings of family, friends and well-wishers, I had resumed the once impossible task of walking normally.

The recurring pain

Though I did not see any ripples in the initial phase, after almost 2 years of recovering completely, I started having pain in my body again. Unfortunately, I’d also resumed smoking and drinking habits; which I had shunned during my year-long recovery period. I dismissed the intensity of pain, thinking it to be a fresh injury that could take a bit longer to heal. I started taking pain-killers without consulting my doctor. When the pain reached unacceptable levels, I decided to consult my doctor. A few tests followed and he informed me that the hip bone had deteriorated and the screws had displaced from their position. This was the reason for constant pain and the ineffective result of any pain killer. The doctor reinstated what was conveyed to me at the time of my accident, about the hip replacement surgery. I knew about the side-effects of the surgery and how it would make me entirely dependent on medicines and frequent surgeries. As I was merely 24 years old at that time, my doctor suggested that I bear with the pain till I could and after a few months, once it reaches its limit, opt for a hip bone replacement surgery. He gave me a plastic stick to use while walking and also removed the screws from my hip bone. I was feeling hopeless and distraught sensing the impending future as I knew that one surgery would pave the way for many others. I continued taking 2 tablets each day for the next 4 years till 2018 beginning.

It was during this time that a miracle happened in my life. I met my friend Preyash Mishra and was indeed amazed by his appearance. Despite being elder to me, he was way fitter. In fact, I looked the elder one in his presence! I asked him the secret of his health, and he gave me a few tips related to living a natural lifestyle. This increased my interest and I decided to follow his advice. I quit smoking and drinking entirely, started eating homemade food and mostly raw fruits and veggies. I saw the change in my body in a few days. I felt lighter, better and healthier. As I went to thank Preyash for his tips and asked for the source of his wisdom, he told me about his wife Ruby Mishra. I decided to visit her and consult her in seeking natural treatment.

A new direction

My meeting with Ruby Mishra turned out to be an eye-opener. Being a Nature Cure coach, she told me about the importance of living a natural life. Her profound insight helped me understand how conventional medicines only suppressed the pain but did not cure it. She was the only person amongst all those I’d consulted who gave me the belief that I would be able to lead a healthy life. This inspired me and I decided to follow her instructions for the next 5 months.

During this time, I made the following changes:

  • I cut off dairy, oil and processed food from my diet as it is not natural food and increases the toxins in the body that aggravate pain.
  • I consumed whole foods, green leafy veggies, fresh seasonal fruits as they give the right proportion of fibre, water, and minerals that keep you full for a more extended period. Being natural foods, they are also easy to digest by our human body.
  • I kept my intake of nuts and seeds high to introduce healthy fats into my body.
  • I soaked the sun for atleast 20 mins for natural intake of Vitamin D, did the wet towel therapy for proper circulation of blood in body and non-violent enema to get rid of toxins, daily.
  • I also did regular fasting as it gives body the desired digestive rest to assimilate the food we consume.

I began to sense the benefits from the very first week and as time progressed, I could see my body’s response to the natural way of living. I had better digestion, sleep quality and slowly, the pain in my body also began to vanish. After a year of following this lifestyle, I was amazed when I could walk till the 4th floor without any support! It’s been 1.5 yrs of following it and I am feeling pain free and in the pink of my health. The pain and agony that I faced now look like things of the past and my next goal is to start running.

I haven’t got any tests done to see the latest status of my hip bone. I just don’t feel like going back to the same old route of doctors and hospitals, as I struggled so much all these years. I am more comfortable now in listening to my body. I am taking being pain-free and feeling healthful as my body’s signal that all is well. I hope to follow this path and support my body naturally for as long as I can.    

Conclusion

I am indebted to Ruby Mishra for her valuable guidance as it cured me of a problem that I had no hope to recover from. Medical science had declared their verdict about me, stating clearly that I had no ray of hope in terms of getting better.

But, thanks to the path of natural living, I am medicine and pain free. I am living my best life and am extremely thankful that I got to learn about this science. I hope my story motivates you to take charge of your health and break away from the myths around diseases.

(About me: I am a 33 yrs old Travel Consultant and tour planner in Delhi. Ever since my introduction to Nature Cure, I like to take care of my health in a natural manner. Whenever I get some leisure time, I like to travel and listen to songs.)

You can read the story in Hindi here:

हिप बोन (कूल्हे) की परेशानी प्रकृति के इलाज से ठीक

२०१० में एक दुर्घटना ने उनके कूल्हे की हड्डी को प्रभावित किया। उन्होंने सर्जरी की पारंपरिक उपचार पद्धति की कोशिश की लेकिन 2 साल बाद समस्या फिर से सामने आ गई। अंत में, उन्होंने नेचर क्योर में समाधान पाया। उनकी पूरी कहानी यहां पढ़ें।

सौरव चौहान

33 साल, ट्रेवल कंसलटेंट और टूर प्लानर

दिल्ली

दुर्घटना और दर्द की यात्रा

2010 में मेरा एक एक्सीडेंट हुआ था, जिसमे मेरी हिप बोन (कूल्हे) पर चोट आई थी। एक्सीडेंट के वक़्त उसमे एक क्रैक आ गया था। जब मेरा ट्रीटमेंट चला और एक छोटे से ऑपरेशन के बाद, उन्होंने मेरे हिप बोन मै कुछ स्क्रू लगाकर उसे फिक्स कर दिया। उन्होंने मुझसे कहा कि हमने आपका ऑपरेशन तो कर दिया है पर पुरे भारत में कोई भी इस बात की गारंटी नही लेगा की आप की हिप बोन जुड़ जाएगी, और आप शायद ही कभी दुबारा चल पाएंगे नैचुरली। हाँ पर दूसरा चलने का ऑप्शन ये है की हम आपका फ्रैक्चरड कुल्हा (हिप बोन) निकाल देंगे और वहां पर एक आर्टिफीसियल कूल्हा लगा देंग, फिर आप चल सकेंगे। लेकिन आर्टिफीसियल कूल्हे की भी कुछ लिमिटेशन है की आप कभी इंडियन वाशरूम पॉट पर नहीं बैठ पाएंगे, कभी झुक नहीं पाएंगे. कभी वजन नहीं उठा पाएंगे।

आर्टिफीसियल कूल्हे की वैलिडिटी सिर्फ 15 साल की है, और हर 15 साल बाद वो बदलना पड़ेगा और नया लगाना पड़ेगा। इसका एक बार खर्चा लगभग 1-1.5 लाख रस के आस पास आता है। खर्चा कोई उठा भी ले, पर बार बार ऑपरेशन हर 15 साल में करना होगा और आप समझ सकते है की शारीर की क्या हालत हो जाएगी।

ऑपरेशन करने के बाद मैं 1 साल तक बेड पर रहा। पूरा रिकवर होने मे मुझे 1 साल लगा। 6 महीने तक तो मैंने कभी सूरज नहीं देखा। सिर्फ रूम में ही रहता था। 6 महीने बाद मैं व्हील चेयर यूज़ करने लगा। फिर ठीक 11 महीने मै मैंने पहली बार अपने कदम जमीन पर रखे।सभी की दुआओं और आशीर्वाद से मै ठीक हो गया, जो की बिलकुल ही नामुमकिन सा लग रहा था।

उसके एक साल बाद मैं फिर से दर्द महसूस करने लगा। साथ ही मुझे एक और गन्दी आदत थी स्मोकिंग और ड्रिंकिंग की जो कि बेड रेस्ट के वक़्त खत्म हो गयी थी। ठीक होने के 3 महीने बाद ही मैंने ये सब फिर से शुरू कर दिए। ऐसे करने से शुरू शुरू मे तो मुझे कुछ पता नहीं चला। लेकिन ठीक होने के 2 साल बाद मुझे अचानक से दर्द होना शुरू हो गया। मुझे लगा पुरानी चोट है, हो सकता है कभी कभी दर्द हो जाता है। उसके लिए मैंने बिना प्रिस्क्रिप्शन के पैन किलर टेबलेट शुरू कर दिया। उसी से मेरा दर्द खत्म हो जाता था और मैं फिर से उसी ट्रैक पर, खाना पीना मौज मस्ती, फिर धीरे धीरे मेरा दर्द बढ़ने लगा और मै दिन मई 1 टेबलेट से 2 टेबलेट तक पहुंच गया। मैंने 3-4 साल में (2 टेबलेट, 365 दिन, 4 साल तक ली). फिर 3 – 4 साल बाद मुझे वही दर्द महसूस होने लगा जो कि एक्सीडेंट के वक़्त होता था। मैंने फिर डॉक्टर से चेकउप करवाया। डॉ. ने मुझसे कहा की आपकी हड्डी गल चुकी है।जो स्क्रू हमने लगाए थे वो अपनी जगह से खिसक गए है और ये आपको चुभते है और आपको ये स्क्रू निकलवाने पड़ेंगे और अब आपके ऊपर किसी पैन किलर का कोई असर नहीं होगा।

डॉ. ने सलाह दी की आपकी उम्र अभी कम (24 साल है ) और आपकी हड्डी ख़राब हो चुकी है और आपको अपना कुल्हा बदलवाने पड़ेगा, और उसको आर्टिफीसियल कूल्हे से रिप्लेस करना पड़ेगा। पर अभी नहीं करेंगे क्यूंकि आपकी उम्र काफी कम है और अभी करने से भविष्य के 50 साल तक आपके 3 -4 ऑपरेशन हो जायेंगे, जो की सही नहीं है (क्युकी आर्टिफीसियल की वैल्यू 15 तक की है)। उन्होंने मुझसे कहा आप जब तक दर्द बर्दाश्त कर सकते हो करो, आपको पास और कोई ऑप्शन नहीं है। असहनीय दर्द होने पर आर्टिफीसियल कुल्हा लगाएंगे और डॉक्टर के अनुभव के हिसाब से उन्होंने मुझे कहा की आप 4-5 महीने से ज्यादा दर्द नही झेल पाओगे,तब तक हम कुछ नही कर सकते.. ये सब सुनकर ऐसा लग रहा था जैसे मानो कि सब कुछ खत्म हो गया ह, उन्होने मेरे हाथ मे स्टिक पकड़ा दी, और कहा 4-5 महीने तक आपको इसके सहारे ही चलना है, आपको अपनी लेग पर जोर नहीं देना है उसके बाद मैंने अपने स्क्रू निकलवा दिए जो की मुझे रोज चूब रहे थे , पर उसके बाद भी मुझे कुछ आराम नहीं आया।

मेरे एक करीबी फ्रेंड है प्रेयश मिश्रा, एक दिन मेरी उनसे मुलाकात हुई और मैं उन्हें देख कर काफी अचंभित रह गया, क्यूंकि वो मुझसे उम्र मै ज्यादा सीनियर है, पर वो सीनियर होने के बाद भी इतने ज्यादा फिट दिख रहे थे जैसे मेरे छोटे भाई हो. मैंने उनकी सेहत का सीक्रेट पूछा तब उन्होंने मुझे कुछ योग से जुड़े छोटे मोटे टिप्स दिए, और कहा की मुझे रोज ऐसा करना चाहिए। फिर मैंने वो करना शुरू किआ और साथ ही साथ मैंने ड्रिंकिंग और स्मोकिंग भी छोड़ दी। कुछ दिन बाद मुझे 1-2% का रिलीफ मिला, दर्द में नहीं पर दूसरी चीज़ों में, जैसे खाने खाने का बाद बिलकुल भी भारी पानी होना।

एक दिन उन्होंने मुझे बताया की वो जो इतनी उम्र मे एक दम हैंडसम, स्मार्ट, सॉलिड दिख रहे थे, उसके पीछे उनकी पत्नी " रूबी मिश्रा" का बहुत बड़ा रोल है।

नई दिशा

मिस रूबी मिश्रा फेमस नेचर क्योर कोच हैं। उन्हें मैंने अपने हाल के बारे में बताया। सिर्फ एक वही इंसान ऐसे है। जिन्होंने मुझसे ये कहा की आप ठीक हो सकते हैं. जो की मेरे लिए एक नामुमकिन बात थी। सब जगह ट्रीटमेंट करने के बाद मुझे सब बोल चुके थे कि आप कभी ठीक नही हो सकते. शायद आप समझ सकते है इस बात मतलब की “आप ठीक हो सकते है” ये ऐसे शब्द थे जिस से मेरे जीवन में उम्मीद जगी।

रूबी मिश्रा के सपोर्ट और निगरानी में डाइट फॉलो करने लगा। आप यकीन नहीं मानेंगे, 4 – 5 महीने में मुझे रिलीफ मिलने लगा। पेन में तो धीरे धीरे आाराम होना शुरू ही हुआ था, पर साथ साथ इसके अलावा बॉडी के और बीमारियों से निजाद मिला, 1 साल बाद मुझे खुद यकीन नहीं आया कि मैं एक दिन बिना ग्रिल पकडे 4थ फ्लोर तक पहुँच गया। ये ऐसा था मानो जैसे….क्या कहूँ., मैं ये बयान नहीं कर सकता. जिंदगी जीने की एक नयी उम्मीद और किरण सी जग गयी थी मेरे अंदर. और उस दिन से मलतब 2018 से और आज तक, मै एक दम फिट हूँ. कौन सा दर्द कैसे दर्द, मैं नहीं जानता, वो कहाँ चला गया. थोड़ा पैर मै चलने मे फर्क जरूर आया ….पर उसके बाद से आज तक मै सारे काम करता हूँ बिना किसी झिझक और डर के, सिवाय भागने के..

भागने का सपना भी जल्दी पूरा होगा ये मेरा विश्वास है।

निष्कर्ष

रूबी मिश्रा को जितना धन्यवाद करो उतना ही कम है. मैंने जब से उनके संपर्क मैं आया हूँ. आज तक किसी भी बीमारी के लिए कोई भी टेबलेट नहीं खायी.

ये मेडिकल साइंस के लिए मेरा एक एक्सपीरियंस…..जो की मुझे एक दम बेकार बता चुके थे की मै कभी ठीक नहीं हो पाऊंगा, प्रकिर्तिक जीवन शैली को अपना कर उस पर थोड़ा विश्वास और कुछ बदलाव को कर के मेडिसिन फ्री लाइफ जीया जा सकता है. जैसे मेरा जीवन बदला इसी प्रकार किसी के भी जीवन में बदलाव आ सकता है। सही दिशा में स्वास्थ बढ़ाने वाले मर्गदर्शक के सहयोग और

अनुभव के आधार पर प्राकृतिक जीवन शैली के साथ जुड़ कर अपने जीवन को मेडिसिन मुक्त बना सकते है और बहुत ही शानदार और खुशनुमा जीवन बिता सकते है।

(मेरे बारे में: मुझे अपनी सेहत का ख्याल रखना पसंद है I घूमना और संगीत सुन्ना भी मुझे पसंद है I )


डाइट और प्राकृतिक जीवन शैली

सूर्य उदय के एक घंटे बाद या सूर्य अस्त के एक घंटे पहले का धूप शरीर को ज़रूर लगाएँ। सर और आँख को किसी सूती कपड़े से ढक कर। जब भी लेंटे अपना दायाँ भाग ऊपर करके लेटें ताकि आपकी सूर्य नाड़ी सक्रिय रहे। विटामिन D3 की पूर्ति होगी।)


2. सुबह खीरे का जूस लें, खीरा 1/2 भाग धनिया पत्ती (10 ग्राम) पीस लें, 100 ml पानी मिला कर पीएँ। यह juice आप कई प्रकार के ले सकते हैं। पेठे (ashguard ) का जूस लें और कुछ नहीं लेना है। नारियल पानी भी ले सकते हैं। बेल का पत्ता 8 से 10 पीस कर I100ml पानी में मिला कर पीएँ। खीरा 1/2 भाग धनिया पत्ती (10 ग्राम) पीस लें, 100 ml पानी में मिला कर पीएँ। बेल पत्ता 8 से 10 पीस कर 100 ml पानी में मिला कर लें। दुब घास 25 ग्राम पीस कर छान कर 100 ml पानी में मिला कर पीएँ। सब्ज़ी का जूस आपका मुख्य भोजन है। जो की आपको ज़बर्दस्त फ़ायदा करेगा। 2 घंटे बाद फल नाश्ते में लेना है। फल को चबा कर खाएँ। इसका juice ना लें। मिनरल मिलेंगे। प्यास लगने की समस्या का निदान होगा। पाचन क्रिया ठीक होगा।


3 .मेरुदंड स्नान के लिए अगर टब ना हो तो एक मोटा तौलिया गीला कर लें बिना निचोरे उसको बिछा लें और अपने मेरुदंड को उस स्थान पर रखें। मेरुदंड (स्पाइन) सीधा करके बैठें। हमेशा इस बात ध्यान रखें। मेरुदंड को प्रतिदिन सूर्य स्नान लेट कर करवाएँ।शलभासन, सेतुबंध आसन, भुजंग आसन, अधोमुख आसन, स्वानआसन करें।लंबा गहरा स्वाँस अंदर भरें और रुकें। इसके बाद फिर पूरे तरीक़े से स्वाँस को ख़ाली करें, रुकें, फिर स्वाँस अंदर भरें। ये एक चक्र हुआ। ऐसे 10 चक्र एक समय पर करना है। ये दिन में चार बार करें। 


ऐसा करने से शरीर में ऑक्सीजन और रक्त संचार की वृद्धि होगी।


जीवन शैली - आकाश तत्व - एक खाने से दुसरे खाने के बीच में अंतराल (gap) रखें।


फल के बाद 3 घंटे, सलाद के बाद 5 घंटे, और पके हुए खाने के बाद 12 घंटे का (gap) रखें।


वायु तत्व - प्राणायाम करें, आसन करें। दौड़ लगाएँ।


अग्नि - सूर्य की रोशनी लें।


जल - अलग अलग तरीक़े का स्नान करें। मेरुदंड स्नान, हिप बाथ, गीले कपड़े की पट्टी से पेट की गले और सर की 20 मिनट के लिए सेक लगाए। 


स्पर्श थरेपी करें। मालिश के ज़रिए भी कर सकते है। नारियल तेल से


घड़ी की सीधी दिशा (clockwise) में और घड़ी की उलटी दिशा (anti clockwise)में मालिश करें। नरम हाथों से बिल्कुल भी प्रेशर नहीं दें।


पृथ्वी - कच्चे सब्ज़ी का जूस आपका मुख्य भोजन है। 2 घंटे बाद फल नाश्ते में लेना है। 


फल को चबा कर खाएँ। इसका juice ना लें। फल सूखे फल नाश्ते में लें।


दोपहर के खाने में सलाद नट्स और अंकुरित अनाज के साथ लें। सलाद में हरे पत्तेदार सब्ज़ी को डालें और नारियल पीस कर मिलाएँ। कच्चा पपीता 50 ग्राम कद्दूकस करके डालें। कभी सीताफल ( yellow pumpkin)50 ग्राम ऐसे ही डालें। कभी सफ़ेद पेठा (ashgurad) 30 ग्राम कद्दूकस करके डालें। ऐसे ही ज़ूकीनी 50 ग्राम डालें।कद्दूकस करके डालें।कभी काजू बादाम अखरोट मूँगफली भिगोए हुए पीस कर मिलाएँ। लाल, हरा, पीला शिमला मिर्च 1/4 हिस्सा हर एक का मिलाएँ। बिना नींबू और नमक के लें। स्वाद के लिए नारियल और herbs मिलाएँ।


रात के खाने में इस अनुपात से खाना खाएँ 2 कटोरी सब्ज़ी के साथ 1कटोरी चावल या 1रोटी लें। एक बार पका हुआ खाना रात को 7 बजे से पहले लें।ओ


सेंधा नमक केवल एक बार पके हुए खाने में लें। जानवरों से उपलब्ध होने वाले भोजन वर्जित हैं।


तेल, मसाला, और गेहूँ से परहेज़ करेंगे तो अच्छा होगा। चीनी के जगह गुड़ लें।


एक नियम हमेशा याद रखें ठोस(solid) खाने को चबा कर तरल (liquid) बना कर खाएँ। तरल  को मुँह में घूँट घूँट पीएँ। खाना ज़मीन पर बैठ कर खाएँ। खाते वक़्त ना तो बात करें और ना ही TV और mobile को देखें।ठोस  भोजन के तुरंत बाद या बीच बीच में जूस या पानी ना लें। भोजन हो जाने के एक घंटे बाद तरल पदार्थ  ले सकते हैं।


हफ़्ते में एक दिन उपवास करें। शाम तक केवल पानी लें, प्यास लगे तो ही पीएँ। शाम 5 बजे नारियल पानी और रात 8 बजे सलाद लें।


उपवास के अगले दिन किसी प्राकृतिक चिकित्सक के देख रेख में टोना लें। जिससे आँत की प्रदाह को शांत किया जा सके। एनिमा किट मँगा लें। यह किट ऑनलाइन मिल जाएगा। इससे 200ml पानी गुदाद्वार से अंदर डालें और प्रेशर आने पर मल त्याग करें। ऐसा दिन में दो बार करना है अगले 21 दिनों के लिए। ये करना है ताकि शरीर में मोजुद विषाणु निष्कासित हो जाये। इसके बाद हफ़्ते में केवल एक बार लेना है उपवास के अगले दिन। टोना का फ़ायदा तभी होगा जब आहार शुद्धि करेंगे।

 

 

 

 



Disclaimer: The health journeys, blogs, videos and all other content on Wellcure is for educational purposes only and is not to be considered a ‘medical advice’ ‘prescription’ or a ‘cure’ for diseases. Any specific changes by users, in medication, food and lifestyle, must be done under the guidance of licensed health practitioners. Wellcure believes that each human body is unique and hence no Health Journey should be construed as a "cure". The views expressed by the user in the above Health Journey are his/her personal views and Wellcure claims no responsibility for them.

Related Post

2019-08-12 04:45:00

I Am 69 & Have Never B...

Approaching 70 years of age with no dental issues as yet... ...

Read

2019-07-01 06:05:00

Prashanthi was upset to hear that her daughter should visit ...

Read

2019-08-18 03:20:00

From Sickness To Stren...

For many years, Anushree had been unhappy about her corporat...

Read

2019-07-17 05:20:00

I overcame acidity, pa...

Rupinder could never really recover from jaundice. Low energ...

Read

2019-06-24 04:45:00

My breast cancer journ...

Diagnosed with a rare occurrence of male breast cancer in 20...

Read

2019-06-01 05:15:00

Going off-dairy helped...

Umesh Neelakantan used to have digestive issues and frequent...

Read

2019-05-28 02:30:00

Plant based diet heale...

Dr Saravanan suffered from recurring health issues all throu...

Read

2019-08-16 04:15:00

My child’s chronic c...

Kashvi suffered from frequent bouts of cold, cough, fevers a...

Read

2019-09-26 04:00:00

All parents worry when their child is down with sickness. 7 ...

Read

2019-07-19 03:30:00

Nature helped me get r...

Manoj suffered physically from ailments like psoriasis, thyr...

Read

2019-09-17 04:30:00

Conquering tuberculosi...

Post her first delivery, Shabana Mashraki contracted tubercu...

Read

2019-08-22 04:14:00

Cervical pain, weight ...

Annu suffered for many years from cervical pain, sinus, acid...

Read

2019-09-03 04:20:00

TB of spine (Pott's Sp...

Asha Pawar suffered a major health setback related to her ba...

Read

2019-09-30 04:40:00

डॉ. राजेश कुमार ,उम्र 36 व...

Read

2019-10-23 04:00:00

HEALTHY PREGNANCY – ...

Anchal was keen to become a mother. Struggling with ulcerati...

Read

2019-11-27 04:30:00

Overcoming 16 year old...

Anant was born with only one functional kidney and learnt ab...

Read

2019-11-25 04:25:00

I Overcame Physical an...

Asha suffered from many years with irregular menstruation, u...

Read

2019-12-09 04:15:00

How Nature Cure saved ...

Vijai Pawar had suffered all through his childhood and early...

Read

2019-12-27 05:19:00

Overcoming chronic hea...

Priya was diagnosed with Cancer in the uterus in 2016. Post ...

Read

2020-01-08 07:15:00

My triumph over arthri...

Tulika was battling with rheumatoid arthritis since she gave...

Read

2020-01-13 05:00:00

Curing multiple chroni...

Deborah Wood was living a life with a plethora of diseases. ...

Read

2020-01-16 07:06:00

How I restored my heal...

This is the story of Vinoth who battled ankylosing spondylit...

Read

2020-02-07 06:33:00

I healed my hip bone t...

मेरे नाम सौरव है, मेरी उ...

Read

2020-02-17 04:43:00

How I cured my 12 year...

Abcd

Read

2019-08-08 09:35:00

My Triumph Over Ulcera...

Anchal"s health issues began with severe body aches, followe...

Read

2019-08-10 05:00:00

I Took Care Of Herniat...

Abha was conscious about her health since childhood. Yoga an...

Read

2019-08-18 03:20:00

From Sickness To Stren...

For many years, Anushree had been unhappy about her corporat...

Read

2019-11-01 04:30:00

Being In Sync With Nat...

Asha"s health issues began with a severe back pain episode f...

Read

2019-09-10 03:50:00

How I Got Freedom From...

Ruchi lived with chronic pain and erratic periods for almost...

Read

2019-07-17 05:20:00

I overcame acidity, pa...

Rupinder could never really recover from jaundice. Low energ...

Read

2019-07-26 08:30:00

My freedom from back p...

Shreelalitha suffered from repeated respiratory issues of co...

Read

2019-09-23 04:55:00

Nature helped me heal ...

Della Upsher was chronically ill for many years suffering fr...

Read

2019-08-22 04:14:00

Cervical pain, weight ...

Annu suffered for many years from cervical pain, sinus, acid...

Read

2019-10-15 04:45:00

I could understand the...

Little did Kalyan know that an ankle surgery would unravel a...

Read

2019-09-04 04:35:00

Healing from high uric...

Suresh suffered from chronic cough, bronchitis, gout and sev...

Read

2019-12-02 04:10:00

Freedom from diabetes ...

Vinodh was living the life of his dreams in Singapore when s...

Read

2019-11-25 04:25:00

I Overcame Physical an...

Asha suffered from many years with irregular menstruation, u...

Read

2019-12-16 04:30:00

My journey from chroni...

Richa experienced lower back pain since childhood. However, ...

Read

2019-12-27 05:19:00

Overcoming chronic hea...

Priya was diagnosed with Cancer in the uterus in 2016. Post ...

Read

2020-01-08 07:15:00

My triumph over arthri...

Tulika was battling with rheumatoid arthritis since she gave...

Read

2020-01-16 07:06:00

How I restored my heal...

This is the story of Vinoth who battled ankylosing spondylit...

Read

2020-02-07 06:33:00

I healed my hip bone t...

मेरे नाम सौरव है, मेरी उ...

Read

2020-02-10 09:07:00

Bidding goodbye to spi...

Ashok suffered from acute back pain in the early 90s. It aff...

Read

2020-02-12 05:59:00

Ankylosing Spondylitis...

Akhilesh was struggling from severe ankylosing spondylitis s...

Read

2020-02-26 06:09:00

How I overcame severe ...

Text

Read
Scan QR code to download Wellcure App
Wellcure
'Come-In-Unity' Plan