Q&A
06:09 PM | 13-08-2019

Dear sir, Our brother have a problem in creatinine level in blood. Now it's 1. 6. How to cure it naturally.


Post as Anonymous User
2 Answers

10:11 PM | 14-08-2019

Hi there , 

Increase in creatinine level can be because of multiple reasons and therefore the best way to lower creatinine levels in your body is to treat the underlying cause. However, high creatinine levels can also occur as a result of consuming a lot of protein or doing heavy exercise. In case of multiple test results showing abnormally high level of creatinine may indicate that the kidneys aren't functioning properly.

Diet and lifestyle changes can help to reduce creatinine level .

Reduce protein intake : excessive protein intake maybe result in excretion of more creatinine 

Increase dietary fiber ; consume more green leafy vegetables and fruits

 Drinking more water or liquid ; dehydration or decrease water intake can damage your kidney which can elevate creatinine level Avoid any extra creatine based supplements .

Some of the herbs effective in lowering creatinine levels are Dandelion , cinnamon , nettle leave, ginseng and chamomile etc ; you can try them .

Rigorous or over usage of muscles will increase creatinine level so it always good to maintain a normal level of workouts.



10:10 PM | 14-08-2019

नमस्ते 

 

शरीर में अम्लीयता अधिक होने से यह समस्या होती है।आपके शरीर में excess प्रोटीन बन रहा या जमा है। आपका पाचन तंत्र (digestive system) प्रोटीन को पचा नहीं पा रहा है।अपच (undigested) प्रोटीन के वजह से आपके शरीर में 

परेशानी हो रही है। आप प्रोटीन युक्त भोजन से परहेज़ करें।जानवरों से उपलब्ध होने वाले भोजन वर्जित हैं।

इस बीमारी का मूल कारण हाज़मा और क़ब्ज़ है।

शरीर पाँच तत्व से बना हुआ है प्रकृति की ही तरह।

आकाश, वायु, अग्नि, जल, पृथ्वी ये पाँच तत्व आपके शरीर में रोज़ खुराक की तरह जाना चाहिए।

पृथ्वी और शरीर का बनावट एक जैसा 70% पानी से भरा हुआ। पानी जो कि फल, सब्ज़ी से मिलता है।

1 आकाश तत्व- एक खाने से दूसरे खाने के बीच में विराम दें। रोज़ाना 15 घंटे का उपवास करें जैसे रात का भोजन 7 बजे तक कर लिया और सुबह का नाश्ता 9 बजे लें।

2 वायु तत्व- लंबा गहरा स्वाँस अंदर भरें और रुकें फिर पूरे तरीक़े से स्वाँस को ख़ाली करें रुकें फिर स्वाँस अंदर भरें ये एक चक्र हुआ। ऐसे 10 चक्र एक टाइम पर करना है। ये दिन में चार बार करें।

खुली हवा में बैठें या टहलें।

3 अग्नि तत्व- सूर्य उदय के एक घंटे बाद या सूर्य अस्त के एक घंटे पहले का धूप शरीर को ज़रूर लगाएँ। सर और आँख को किसी सूती कपड़े से ढक कर। जब भी लेंटे अपना दायाँ भाग ऊपर करके लेटें ताकि आपकी सूर्य नाड़ी सक्रिय रहे।

4 जल तत्व- खाना खाने से एक घंटे पहले नाभि के ऊपर गीला सूती कपड़ा लपेट कर रखें और खाना के 2 घंटे बाद भी ऐसा करें।

नीम के पत्ते का पेस्ट अपने नाभि पर रखें। 20मिनट तक रख कर साफ़ कर लें।

मेरुदंड स्नान के लिए अगर टब ना हो तो एक मोटा तौलिया गीला कर लें बिना निचोरे उसको बिछा लें और अपने मेरुदंड को उस स्थान पर रखें।

मेरुदंड (स्पाइन) सीधा करके बैठें। हमेशा इस बात ध्यान रखें और हफ़्ते में 3 दिन मेरुदंड का स्नान करें। 

5 पृथ्वी- सब्ज़ी, सलाद, फल, मेवे, आपका मुख्य आहार होगा। आप सुबह सफ़ेद पेठे 20ग्राम पीस कर 100 ml पानी में मिला कर पीएँ। 2 घंटे बाद फल नाश्ते में लेना है।

दोपहर में 12 बजे फिर से इसी जूस को लें। इसके एक घंटे बाद खाना खाएँ।शाम को 5 बजे सफ़ेद पेठे (ashguard) 20 ग्राम पीस कर 100 ml पानी मिला। 2घंटे तक कुछ ना लें। रात के सलाद में हरे पत्तेदार सब्ज़ी को डालें। कच्चा पपीता 50 ग्राम कद्दूकस करके डालें। कभी सीताफल ( yellow pumpkin)50 ग्राम ऐसे ही डालें। कभी सफ़ेद पेठा (ashgurad) 30 ग्राम कद्दूकस करके डालें। ऐसे ही ज़ूकीनी 50 ग्राम डालें।कद्दूकस करके डालें। ताज़ा नारियल पीस कर मिलाएँ। कभी काजू बादाम अखरोट मूँगफली भिगोए हुए पीस कर मिलाएँ। रात का खाना 8 बजे खाएँ

लाल, हरा, पीला शिमला मिर्च 1/4 हिस्सा हर एक का मिलाएँ। इसे बिना नमक के खाएँ। नमक सेंधा ही प्रयोग करें। नमक की मात्रा dopahar के खाने में भी बहुत कम लें। सब्ज़ी पकने बाद उसमें नमक नमक पका कर या अधिक खाने से शरीर में (fluid)  की कमी हो जाती है। एक नियम हमेशा याद रखें ठोस (solid) खाने को चबा कर तरल (liquid) बना कर खाएँ। तरल (liquid) को मुँह में घूँट घूँट पीएँ। खाना ज़मीन पर बैठ कर खाएँ। खाते वक़्त ना तो बात करें और ना ही TV और mobile को देखें। ठोस (solid) भोजन के तुरंत बाद या बीच बीच में जूस या पानी ना लें। भोजन हो जाने के एक घंटे बाद तरल पदार्थ (liquid) ले सकते हैं।

ऐसा करने से हाज़मा कभी ख़राब नहीं होगा।

जानवरों से उपलब्ध होने वाले भोजन वर्जित हैं।

तेल, मसाला, और गेहूँ से परहेज़ करेंगे तो अच्छा होगा।

हफ़्ते में एक दिन उपवास करें। शाम तक केवल पानी लें, प्यास लगे तो ही पीएँ। शाम 5 बजे नारियल पानी और रात 8 बजे सलाद लें।

Anima किट online से मँगा लें। 15 दिनों तक टोना (anima)लें। सादा पानी 100ml गुदा द्वार से अंदर डालें और प्रेशर आने पर मल का त्याग करें।ये ज़रूरी है बहुत सालों के विषाक्त (toxic) कणों बाहर निकालने के लिए क्योंकि जब तक पुरानी चीज़ जाएगी नहीं तो नई चीज़ आ नहीं सकती।

 

रूबी, Ruby

 

प्राकृतिक जीवनशैली शिक्षिका (Nature Cure Educator)


Wellcure
'Come-In-Unity' Plan