Q&A
12:52 PM | 07-10-2019

Iam suffering from hypothyroidism... Spondylitis.. Also.. My age is... 39.. Pls suggest me some home remedies


Post as Anonymous User
5 Answers

06:39 PM | 07-10-2019

Hi. We strongly suggest you go through the Journeys section to read real life natural healing stories. Adopting a natural lifestyle will help you in reclaiming your health. Wellcure’s Buddy Program helps you in making the transition, step by step. If you would like to know more, please email us at info@wellcure.com.



06:38 PM | 07-10-2019

Hypothyroidism is majorly a gut issue. Due to constant exposure from wrong food habits and emotions roller coasters it causes this issue.

To eat clean is the only way to heal this. Dairy eggs fish meat grains cooked coffee tea alcohol outside ready foods pickles soda oils in cooking etc are all acid forming and mucous generating foods that impacts the gut and causes a lot of other symptoms including Hashimoto’s. This is major reason for hypothyroidism.

I would suggest that you go completely raw to heal from this condition because the slower you detox, you will see a variety of symptoms that are more neurological in nature that might make you goto a doctor and run around for answers. They are all going to possibly happen during your healing.

There are many other factors that are related that can cause hypothyroidism. 

Regarding spondylitis, 

Read this article https://www.wellcure.com/body-wisdom/6/can-you-make-changes-to-relieve-your-cervical-spondylitis

My mom had a similar issue which she absolutely reversed via lifestyle and exercises. She got it when she was quite stressed and hardpressed for time as a teacher and long standing hrs and hand usage writing on boards. So good news is this can heal brilliantly. 

Lifestyle changes combined with right food and exercises only work. People have also healed from slip discs.

Please remember that you may have got injured as a child and those bones may be weak too. You can’t blame your lifestyle issues on a weak bone. Yes, to balance the acidic body environment, blood can choose to target that area to leach calcium. 

With animal products like dairy meat eggs fish in your meals, acidity in the body increases and the body will suck all the alkaline enzymes to maintain homeostasis.  

If high acidic foods ( not coming under category of fruits veg veggies greens majorly) are injested, their ph is less than normal, the stomach does not need to make it acidic to process. The pancreas won’t produce the alkaline buffers to the blood to neutralise the acidity raised by the stomach. So this acidic food in its state reaches the next few levels like the duodenum which are not geared for this ph level and bile from liver and gallbladder is called to rescue this balance. As this bile continues to be overproduced, liver becomes tired. If liver and gallbladder are not in a good working condition, enough Bile is not made available in the duodenum, and this is how acidic food reaches the intestines. . As liver weakens, the body cleaning  is also compromised and blood continues to carry acidic  toxins that have the liver could not manage and have reached the intestines where nutrients get absorbed. I went to acidity in the blood goes up, the blood first uses of the alkaline buffers present in its blood plasma to bring the blood closer to an alkaline pH. Unfortunately because of continuous supply of acidic foods to the body, the level of alkaline buffers is often very low. If the blood pH value falls below this range, then all the bodily fluids such as urine, lymphatic fluid, semen, Cerebrospinal fluids, saliva everything starts becoming acidic. This disrupts all the cellular function in the body and disturbs the balance. To prevent such a state of decline, the blood starts reducing its acidity by neutralising it with one of the most alkaline substance in the body that is calcium from the bones. So blood starts dissolving the calcium from the bones in its self to reach an ideal pH level. This is also called leaching  of calcium. Blood is a supplier and also a retriever . It will choose parts of the bone where it can leach  very quickly such as the ends of the bones .As it continues to do so, that part of the joint weakens and produces a pain and inflammation. There will also be severe obstruction of blood flow, the viscosity of blood will be thicker. All these factors lead to the accumulation of toxins across the body.

Know about acid alkaline balance

https://www.wellcure.com/body-wisdom/1/do-you-know-about-the-body-s-acid-alkaline-balance

Follow ..

  • High raw foods - Start with juices till 12, fruits greens for lunch , veggies post that for 10-15 days. Then add cooked gluten free and oilfree for dinner.
  • Respecting the circadian rhythm https://www.wellcure.com/body-wisdom/15/circadian-rhythm-of-the-body
  • Natural Hydration to ensure body has enough to maintain homeostasis - 2-3 lts
  • Enough exercise like yoga as possible 
  • Breathing - Pranayam as possible 
  • Mental poise - mental peace and positive thinking 
  • Resting well - sleeping in time and following circadian rhythm 
  • Experience natural elements - exposure to sun daily
  • Not medicating the body to suppress any eliminations - are chemicals used to suppress natural elimination from body.
  • Not overloading the body with toxic foods the body can’t recognise - things unnatural that we can’t chew and digest in its raw state. Man made fake foods using Dairy eggs meat fish sugar wheat maida refined oil white rice salty store bought foods fried foods etc 
  • Freeing the body off digestion every few days - fasting 
  • Spending time Connecting with oneself the form of meditation 
  • Ensure that your bowel movements are regular
  • Apply a cold wet towel and rest in the area of pain for 30 min 

Once u feel  better ,

following exerxise must be done daily 6-7 time 

1 ) stand with feet apart but comfortably. You can sit if you cannot stand. Put pressure on the forehead wit the palms backwards while the head is trying to lean fwd. similarly head leaning backward while palms at the back of the head pushing fwd. 

2) relax and do some warm ups with neck exerxise like bending on all sides 12 counts 

3) shoulder rotations cw and acw 

3) apply cooling wet pack and relax 

Thanks let me know if you have any questions 

be blessed

Smitha Hemadri (Educator of natural healing practices)



06:37 PM | 07-10-2019

हेलो,

कारण - ज्यादातर मामलों में स्पोंडिलोसिस, रीढ़ की हड्डी में हो रही टूट-फूट के इकट्ठे एक साथ प्रभाव के परिणाम से होता है। वर्टिब्रल डिस्क जिनसे रीढ़ की हड्डी का ढांचा बना होता है, वे निर्जलित (शुष्क) हो जाती हैं तो उनकी उंचाई कम हो जाती है और रीढ़ की हड्डी के लिगामेंट्स लचीलता खो देते हैं, और कठोर बन जाते हैं। इस कारण रीढ़ की हड्डी को स्थित रखने के लिए हड्डियों में उभार (bone spurs) आ जाते हैं। जैसे ही वर्टिब्रल डिस्क निर्जलित होती है और उसका आकार घटने लगता है, तो इनमें आपस की दूरी कम होने लग जाती है, जिस कारण से रीढ़ की हड्डी के अंदर से निकलने वाली नसों के रास्ते कम होने लग जाते हैं। हमारा शरीर हड्डियों में उभार लाकर वर्टिब्रल के घटे हुए आकार को पूरा करने की कोशिश करता है।

समाधान - दर्द वाले जगह पर धनिया + खीरा का पेस्ट लगाएँ 20 मिनट के लिए। दिन में दो बार तिल के तेल से घड़ी की सीधी दिशा (clockwise) में

और घड़ी की उलटी दिशा (anti clockwise)में मालिश करें। नरम हाथों से बिल्कुल भी प्रेशर नहीं दें।

आइए प्राकृतिक जीवन शैली में हम 5 प्रकार के आहार से अवगत हों।टे बाद तरल पदार्थ (liquid) ले सकते हैं।

दर्द वाले भाग पर गीली मिट्टी लगाएँ या खीरा + धनिया + तिल पीस कर पेस्ट बना लें। लगाएँ 20 मिनट के लिए और फिर साफ़ कर लें। इससे दर्द में तुरन्त आराम मिलेगा।

आहार में परिवर्तन आयु के हिसाब से करना चाहिए। 9 साल के बाद दुध या दुध से बना सामान नहीं पचता है। 20 साल के बाद प्रोटीन के बाहरी स्रोतों से परहेज़ ज़रूरी है। 30 साल के बाद अनाज, तेल घी से परहेज़ ज़रूरी है और चीनी की ज़रूरत कभी नहीं है। उसके जगह गुड़ या सुखा फल लें। खाने में सेंधा नमक का प्रयोग करें और मात्रा कम लें। आप प्रोटीन युक्त भोजन से परहेज़ करें। जानवरों से उपलब्ध होने वाले भोजन वर्जित हैं।

इस बीमारी का मूल कारण हाज़मा और क़ब्ज़ है।

जीवन शैली - शरीर पाँच तत्व से बना हुआ है प्रकृति की ही तरह।

आकाश, वायु, अग्नि, जल, पृथ्वी ये पाँच तत्व आपके शरीर में रोज़ खुराक की तरह जाना चाहिए।

पृथ्वी और शरीर का बनावट एक जैसा 70% पानी से भरा हुआ। पानी जो कि फल, सब्ज़ी से मिलता है।

1 आकाश तत्व- एक खाने से दूसरे खाने के बीच में विराम दें। रोज़ाना 15 घंटे का उपवास करें जैसे रात का भोजन 7 बजे तक कर लिया और सुबह का नाश्ता 9 बजे लें।

2 वायु तत्व- लंबा गहरा स्वाँस अंदर भरें और रुकें फिर पूरे तरीक़े से स्वाँस को ख़ाली करें रुकें फिर स्वाँस अंदर भरें ये एक चक्र हुआ। ऐसे 10 चक्र एक टाइम पर करना है। ये दिन में चार बार करें।

खुली हवा में बैठें या टहलें।

3 अग्नि तत्व- सूर्य उदय के एक घंटे बाद या सूर्य अस्त के एक घंटे पहले का धूप शरीर को ज़रूर लगाएँ। सर और आँख को किसी सूती कपड़े से ढक कर। जब भी लेंटे अपना दायाँ भाग ऊपर करके लेटें ताकि आपकी सूर्य नाड़ी सक्रिय रहे।

4 जल तत्व- खाना खाने से एक घंटे पहले नाभि के ऊपर गीला सूती कपड़ा लपेट कर रखें और खाना के 2 घंटे बाद भी ऐसा करें। खीरा + नीम के पत्ते का पेस्ट दर्द वाले हिस्से पर रखें। 20मिनट तक रख कर साफ़ कर लें। सुर्य की रोशनी उसी जगह पर लगाएँ।

दिन में दो बार तिल के तेल से घड़ी की सीधी दिशा (clockwise) में

और घड़ी की उलटी दिशा (anti clockwise)में मालिश करें। नरम हाथों से बिल्कुल भी प्रेशर नहीं दें।

मेरुदंड स्नान के लिए अगर टब ना हो तो एक मोटा तौलिया गीला कर लें बिना निचोरे उसको बिछा लें और अपने मेरुदंड को उस स्थान पर रखें।

मेरुदंड (स्पाइन) सीधा करके बैठें। हमेशा इस बात ध्यान रखें और हफ़्ते में 3 दिन मेरुदंड का स्नान करें। 

5 पृथ्वी- सब्ज़ी, सलाद, फल, मेवे, आपका मुख्य आहार होगा। आप सुबह सफ़ेद पेठे 20ग्राम पीस कर 100 ml पानी में मिला कर पीएँ। 2 घंटे बाद फल नाश्ते में लेना है।

दोपहर में 12 बजे फिर से इसी जूस को लें। इसके एक घंटे बाद खाना खाएँ।शाम को 5 बजे सफ़ेद पेठे (ashguard) 20 ग्राम पीस कर 100 ml पानी मिला। 2घंटे तक कुछ ना लें। रात के सलाद में हरे पत्तेदार सब्ज़ी को डालें। कच्चा पपीता 50 ग्राम कद्दूकस करके डालें। कभी सीताफल ( yellow pumpkin)50 ग्राम ऐसे ही डालें। कभी सफ़ेद पेठा (ashgurad) 30 ग्राम कद्दूकस करके डालें। ऐसे ही ज़ूकीनी 50 ग्राम डालें।कद्दूकस करके डालें। ताज़ा नारियल पीस कर मिलाएँ। कभी काजू बादाम अखरोट मूँगफली भिगोए हुए पीस कर मिलाएँ। रात का खाना 8 बजे खाएँ

लाल, हरा, पीला शिमला मिर्च 1/4 हिस्सा हर एक का मिलाएँ। इसे बिना नमक के खाएँ। नमक सेंधा ही प्रयोग करें। नमक की मात्रा dopahar के खाने में भी बहुत कम लें। सब्ज़ी पकने बाद उसमें नमक नमक पका कर या अधिक खाने से शरीर में (fluid)  की कमी हो जाती है। एक नियम हमेशा याद रखें ठोस (solid) खाने को चबा कर तरल (liquid) बना कर खाएँ। तरल (liquid) को मुँह में घूँट घूँट पीएँ। खाना ज़मीन पर बैठ कर खाएँ। खाते वक़्त ना तो बात करें और ना ही TV और mobile को देखें। ठोस (solid) भोजन के तुरंत बाद या बीच बीच में जूस या पानी ना लें। भोजन हो जाने के एक घंटे बाद तरल पदार्थ (liquid) ले सकते हैं।

ऐसा करने से हाज़मा कभी ख़राब नहीं होगा।

जानवरों से उपलब्ध होने वाले भोजन वर्जित हैं।

तेल, मसाला, और गेहूँ से परहेज़ करेंगे तो अच्छा होगा।

हफ़्ते में एक दिन उपवास करें। शाम तक केवल पानी लें, प्यास लगे तो ही पीएँ। शाम 5 बजे नारियल पानी और रात 8 बजे सलाद। 

धन्यवाद।

रूबी, Ruby

प्राकृतिक जीवनशैली शिक्षिका (Nature Cure Educator)



06:37 PM | 07-10-2019

नमस्ते ,

हाइपोथाइरॉएडिज्म व स्पॉन्डिलाइटिस की अवस्था में आपको निम्नलिखित उपाय करने चाहिए ।
 

  • रात्रि में 7 से 8 घंटे की नींद अवश्य लें ,इससे शरीर से दूषित पदार्थ बाहर निकलते हैं, कोशिकाओं की टूट-फूट की मरम्मत होती है!
  • प्रतिदिन प्रातः सूर्योदय के पश्चात 45 मिनट धूप में अवश्य लेटे इससे शरीर को आवश्यक विटामिन डी की प्राप्ति होती है, शरीर की सभी अंतः स्रावी ग्रंथियां सुचारू रूप से अपना कार्य करती हैं।
  •  प्रतिदिन प्रातः गुनगुने पानी ,नींबू एवं शहद का सेवन करें इससे शरीर से दूषित पदार्थ बाहर निकल जाते हैं!
  •  जूस -प्रतिदिन अनन्नास, खीरा या लौकी के जूस का सेवन करें भोजन हरी पत्तेदार सब्जियों से युक्त भोजन को जलाकर करें मिट्टी के घड़े में रखें जल को बैठकर धीरे-धीरे सेवन करें।
  • गर्दन का सूक्ष्म व्यायाम  -ऊपर- नीचे ,दाएं -बाएं ,दक्षिणावर्त व वामावर्त दिशा में घुमाएं ( प्रत्येक 10 बार) मांसपेशियों में लचीलापन आता है !
  • मुट्ठी खोलें- बंद करें, मुट्ठी को दक्षिणावर्त -वामावर्त दिशा में घुमाएं, हाथों को मोड़े फैलाएं ,दोनों हाथों की अंगुलियों को कंधे पर रखकर चारों तरफ घूमाए (प्रत्येक 10 बार)
  • आसन-सर्वांगासन,हलासन,भुजंगासन,शलभासन।

निषेध- जानवरों से प्राप्त भोज्य पदार्थ ,चीनी व मैदे से बनी हुई चीजें ,रात्रि जागरण ,सोने से 2 घंटे पहले मोबाइल, टेलीविजन कंप्यूटर का प्रयोग, क्रोध, ईर्ष्या ,चिंता, तनाव।



09:57 AM | 10-10-2019

Hello

Hypothyroidism is mainly due to a lack in the production of thyroid hormone it is an autoimmune disease people suffering from hypothyroidism can see the symptoms like fatigue, weight gain, constipation, muscle weakness. hypothyroidism can be well controlled by simple lifestyle modification like following a plant-based diet in order to be in optimum health for the long term.

DIET

Add fruits in your diet
Boiled diet
High fiber food like spinach, beans, peas, and fruit like orange, banana, and apple

Avoid
Goitrogenic foods broccoli, soy, cauliflower, cabbage, radish, turnip, and Bakery products

Yogasanas like Sarvangasana, matsyasna, sirshasana help in regulating the thyroid hormone in our body always practice these asanas under the guidance of qualified practitioners.

SPONDYLITIS

spondylosis is nothing but the changes in the spinal region and it causes pain .it generally isa age-related disorder or it may be due to wrong sitting posture. Diet and physical exercise plays a very important role in lumbar spondylosis

always stick to a plant-based diet for optimum health and for the long term

consume fresh food and vegetables

fresh fruit juices like pineapple juice, orange juice

raw potato juice

consume ginger and soaked sesame seeds in early morning

PHYSICAL ACTIVITY

yoga can help in reducing the pain and improving the strength of the spine. yogasanas like ardhachakrasana, sethubandahsana, bhujangasana help in it avoid front bending .alwyas practice yoga


Wellcure
'Come-In-Unity' Plan