Q&A
12:53 PM | 07-10-2019

Having problem related stomach upset and insomnia


Post as Anonymous User
7 Answers

05:44 PM | 10-10-2019

Namaste 🙏

 

For Upset Stomach and Insomnia 

 

These both are Irregular & stressful eating habits and Lifestyle related Conditions.

 

we disobey some Laws of Nature like ...small unhealthy signals our body gives silently. If we observe and take timely precautions then we save Time , Energy and Efforts. Even we never attract any such more Lifestyle Disease also.  

 

Let us understand in detail.

 

Unhealthy Signals : Constipation , Acidity , Gas , Burps ,Loose Motions, Tiredness , Body Pain , Anger , Irritation , Dispute with anybody....

 

Precautions : Spend some time with Nature by Walking , Gardening , Playing...Laugh with Friends , Family and Neighbours....Avoid over eating ...Avoid Talking while eating ....Chew your Food Properly....Start taking Early Dinner...Take Enough Water in Day time...Seasonal Fruits and Vegetables add liveliness in your lifestyle....Avoid Junk Food and Spicy Food.... Also read  good spiritual book which gives you SOUL Food before Sleep....Avoid Mobile and T V 2 hours before Sleep....Listen light Relaxing Music while Reading ....

 

To Eat : Soaked Dry Anjeer at night , Saunf Water during day time , Soaked Dry Black Grapes in the Morning.

 

To Avoid  : Over Cooked , Fried and Processed Food , Outside Street Food , Refined Oil , Sugar , Dairy Products and Late Night Dinner.

 

Lastly , Pray to Universe for Good Sound Sleep at Night with Thankfull Heart. 💞

 

Thank you 🙏



06:36 PM | 07-10-2019

Hi there, 

Stomach upset is nothing but an upper abdominal discomfort which is associated with symptoms such as bloating, bleching, burning sensation, feeling of fullness and sometimes nausea or diarrhoea as well. It is commonly known as indigestion which can occur even without any underlying causes such as unhealthy eating habits. Unhealthy eating habits and sedentary lifestyle can affect your sleep too. Balancing and maintaining a healthy lifestyle habit can overall improve your physical and mental health.

 

• For the interest of a better health, stick with a plant-based diet such as fresh fruits, vegetables, whole grains, seeds and nuts. They contain almost every ingredient to maintain and boost a healthy gut thereby preventing any unwanted diseases in our body.

 

• Eat meals in smaller quantity and properly chewed. This will help relieve the burden on your guts and improves digestion and absorption at a better pace. Eat only when you're hungry so as to avoid unnecessary triggers that can cause stomach upset.

 

• Maintain a proper gap between each meal timings and follow the same time on daily basis. 

• Minimise the intake of food that can cause gas accumulation such as beans, lentils, broccoli, cabbages, onions etc..;

• Avoid midnight snacks or eating before sleep. Eating at this odd time can alter your digestive mechanism and disturb your sleep as well.

• Maintain a proper sleep hygiene, this includes, bathing, brushing teeth, reading books ( physical books), sleeping and waking up on time. 

• Avoid dairy products, oily foods, caffeine, soda, alcohol, artificial preservatives added food and any processed foods should be avoided completely.

 • Go for early morning walk or jog daily. Utilise 45 minutes to an hour daily for any physical activity which will help boost your mind and body, overall improving your health mechanism .



04:55 PM | 09-10-2019

Dear health seeker,  please follow my blog on SLEEPLESSNESS/INSOMNIA 

Tackle Sleeplessness through Nature Cure

All your stomach problem will be addressed if followed the advice contained in the above blog.

Wishing you a healthy  happy journey with Nature 
 V.S.Pawar MIINT 



10:47 AM | 09-10-2019

1st of all should know that there is a relation between our gut & brain. U should know which is ur problem 1st either the stomach or sleeplessness, find out d cause of this! Then Solution s easy



06:35 PM | 07-10-2019

हेलो,

कारण - पाचन तंत्र के स्वास्थ के बिगड़ने से शारीरिक और मानसिक समस्या हो सकता है।

परिवार का इतिहास ,  यदि आप दर्दनाक या तनावपूर्ण घटनाओं का अनुभव से भी ऐसा हो सकता है।अन्य मानसिक स्वास्थ्य विकार जैसे चिंता, डिप्रेशन, मादक द्रव्यों का सेवन से ऐसा हो सकता है।

समाधान - भ्रामरी प्राणायाम,ताड़ासन, नटराजासन

वृक्षासन,हस्तपादासन, सर्वांगासन, हलासन, पवन-मुक्तासन, अनुलोम-विलोम प्राणायाम करें।

प्रतिदिन आप ख़ुद को प्यार दें अपने बारे में 10 अच्छी बातें कोरे काग़ज़ पर लिख कर और प्रकृति को अपने होने का धन्यवाद दें।

मानसिक समस्या भी इसी शरीर की समस्या है सब कुछ इस बात पर निर्भर करता है कि हम किसी भी परिस्थिति में सकारात्मक सोंच रखते हैं या नकारात्मक।

प्राकृतिक जुड़ाव आपको सकारात्मक सोंच प्रदान करेंगी क्योंकि प्राकृतिक जीवन शैली अपने आप में पूर्ण भी है और जीवंत भी है। पाँच तत्व से प्रकृति चल रही है और उसी पाँच तत्व से हमारा शरीर चल रहा है।

जीवन शैली - 1 आकाश तत्व- एक खाने से दूसरे खाने के बीच में विराम दें। रोज़ाना 15 घंटे का उपवास करें जैसे रात का भोजन 7 बजे तक कर लिया और सुबह का नाश्ता 9 बजे लें। वाद्य यंत्र शास्त्री संगीत (instrumental classical music)सुनें।

2 वायु तत्व- लंबा गहरा स्वाँस अंदर भरें और रुकें फिर पूरे तरीक़े से स्वाँस को ख़ाली करें रुकें फिर स्वाँस अंदर भरें ये एक चक्र हुआ। ऐसे 10 चक्र एक टाइम पर करना है। ये दिन में चार बार करें।

अपने कमरे में ख़ुशबू दार फूलों को रखें।

3 अग्Iनि तत्व- सूर्य उदय के एक घंटे बाद या सूर्य अस्त के एक घंटे पहले का धूप शरीर को ज़रूर लगाएँ। सर और आँख को किसी सूती कपड़े से ढक कर। जब भी लेंटे अपना दायाँ भाग ऊपर करके लेटें ताकि आपकी सूर्य नाड़ी सक्रिय रहे।

4 जल तत्व- 4 पहर का स्नान करें। सुबह सूर्य उदय से पहले, दोपहर के खाने से पहले, शाम को सूर्यअस्त के बाद, और रात सोने से पहले स्नान करें। नहाने के पानी में ख़ुशबू वाले फूलों का रस मिलाएँ। नींबू या पुदीना का रस मिला सकते हैं।खाना खाने से एक घंटे पहले नाभि के ऊपर गीला सूती कपड़ा लपेट कर रखें या खाना के 2 घंटे बाद भी ऐसा कर सकते हैं।

मेरुदंड (स्पाइन) सीधा करके बैठें। हमेशा इस बात ध्यान रखें और हफ़्ते में 3 दिन मेरुदंड का स्नान करें। मेरुदंड स्नान के लिए अगर टब ना हो तो एक मोटा तौलिया गीला कर लें बिना निचोरे उसको बिछा लें और अपने मेरुदंड को उस स्थान पर रखें। 

सर पर सूती कपड़ा बाँध कर उसके ऊपर खीरा और मेहंदी या करी पत्ते का पेस्ट लगाएँ,नाभि पर खीरा का पेस्ट लगाएँ।पैरों को 20 मिनट के लिए सादे पानी से भरे किसी बाल्टी या टब में डूबो कर रखें।

5 पृथ्वी- सब्ज़ी, सलाद, फल, मेवे, आपका मुख्य आहार होगा। आप सुबह खीरे का जूस लें, खीरा 1/2 भाग +धनिया पत्ती (10 ग्राम) पीस लें, 100 ml पानी मिला कर पीएँ। 2 घंटे बाद फल नाश्ते में लेना है।

दोपहर में 12 बजे फिर से इसी जूस को लें। इसके एक घंटे बाद खाना खाएँ। शाम को नारियल पानी लें फिर 2 घंटे तक कुछ ना लें। रात के सलाद में हरे पत्तेदार सब्ज़ी को डालें, नारियल की गिरि मिलाएँ।

लाल, हरा, पीला शिमला मिर्च 1/4 हिस्सा हर एक का मिलाएँ।इसे बिना नमक के खाएँ, बहुत फ़ायदा होगा।सेंधा नमक केवल एक बार पके हुए खाने में लें। जानवरों से उपलब्ध होने वाले भोजन वर्जित हैं।

तेल, मसाला, और गेहूँ से परहेज़ करेंगे तो अच्छा होगा। चीनी के जगह गुड़ लें।

एक नियम हमेशा याद रखें ठोस(solid) खाने को चबा कर तरल (liquid) बना कर खाएँ। तरल  को मुँह में घूँट घूँट पीएँ। खाना ज़मीन पर बैठ कर खाएँ। खाते वक़्त ना तो बात करें और ना ही TV और mobile को देखें।ठोस  भोजन के तुरंत बाद या बीच बीच में जूस या पानी ना लें। भोजन हो जाने के एक घंटे बाद तरल पदार्थ  ले सकते हैं।

हफ़्ते में एक दिन उपवास करें। शाम तक केवल पानी लें, प्यास लगे तो ही पीएँ। शाम 5 बजे नारियल पानी और रात 8 बजे सलाद लें।

धन्यवाद।

रूबी, 

प्राकृतिक जीवनशैली प्रशिक्षिका व मार्गदर्शिका (Nature Cure Guide & Educator)



06:35 PM | 07-10-2019

The stomach and GUT will be lined with rotting waste, unwanted bacteria and foods that was not digested properly in the stomach. The causes still remains the same - foods such as dairy eggs, gluten, meat, seafood consumed over a long period of time with heavy fats and proteins that weakens the bile and the hydro chloric acid in the gut. With weaker stomach acids and and ineffective weak bile, the food does not to get digested properly and leaks into the intestine while the pathogens feed on them . Overtime it reaches the colon which is the final dumping ground. This causes inflammation, pains constipation, diarrhoea and can also result in piles, fissures and yeast infections on the excretory organs. Please understand germs are not to blame. The come to decompose and feast on rotting matter. That’s natural law of decomposition. 

To heal this condition., It is best that you start cleaning the  GUT, which in turn will clean the liver, which in turn will be ready to absorb and deliver nutrients throughout the body and eventually cleaning the intestine as well.  If the previous organs in the process have done their job, the colon will not have to take a hit. it’s very important that the liver starts doing its job to heal any kind of intestinal issues/organs of excretion so that the unwanted food , pathogens and heavy metals doesn’t end up in the intestines and colon. Ideally these are supposed to thrown out naturally after altering its state, but when they end up as-is, they attract more issues in the colon which the colon might not be geared up to do 

When body organs are clean, they do their job perfectly well. With a right lifestyle this can be achieved . You must switch to a low fat plant based lifestyle. Low fat here because fats also come in low % from raw foods like fruits vegetables and greens. 

Insomnia is also because of toxemia too. 

Kindly stay on —2-3 lts of fresh juices both from fruits and vegetables tender coconut, vegetable juices,  cranberry juice ( you get organic frozen cranberries that don’t have sugar ) . Kindly be on this for 1 week. Any pathogen has to be naturally flushed in a liquid environment and do not attempt to water fast or dry fast. You must not be dehydrated in such cases. In acidic dry environment they multiply faster.

If you want to eat something, please eat only fruits. If you want something hot, drink hot water that’s infused with lime ginger .Load yourself with these only . 

Stay on liquids for a week and fruits if hunger is unbearable. Drink liquids when u feel hungry.

You might see the symptoms, continue the liquids for one week or more if needed. With this the bacteria will be flushed out naturally and the body will restore back. Remember that not all toxins would have gone even if your symptoms have gone. The longer your condition the longer it will take. Don’t rush to eat cooked. 

Then onwards you have to maintain as below. 

To avoid this in future, avoid all diary meat. Veg juices and greens till 12, fruits only next, followed by vegetable and greens  , night 30% grains and 70% veggies steamed as a lifestyle.  No packaged ready to eat junk, eat a whole food plant based diet. No refined oils. No white sugar or brown or any fancy sugars. Just dates or moderate amount of jaggery occasionally. Avoid any form of processed sweetened foods

Also remember that if you are emotionally disturbed in any way, remove that. Practice gratitude and forgiveness. It’s best for your body. Show love to your body while it heals. Trust that this will work. 

Be blessed 

Smitha hemadri (educator of natural healing practices) 



06:35 PM | 07-10-2019

नमस्ते ,
 

पेट की समस्याएं दिन में कई बार भोजन करने, अधिक मात्रा में भोजन करने, तले भूनें, मसालेदार चीजों का सेवन ,क्रोध ,चिंता, तनाव, रोते हुए ,हंसते हुए भोजन करने की अवस्था में भोजन का पाचन अवशोषण व मल का निष्कासन सही तरीके से नहीं होता  जिससे पेट संबंधी समस्याएं प्रारंभ हो जाती है ,देर रात तक जागने, रात्रि में अधिक मात्रा में भोजन करने, नशीली वस्तुएं चाय काफी का सोने से पहले सेवन करने वालों के भोजन का पाचन सही से नहीं होता, जिससे उन्हें अनिद्रा की शिकायत हो जाती है ।

 

  • रात्रि में 7 से 8 घंटे की नींद अवश्य लें ।

 

  • प्रतिदिन प्रातः गुनगुने पानी नींबू एवं शहद का सेवन करें इससे आंतों की दीवार में फैलती है अशुद्धियां शरीर से बाहर निकल जाती है ।
  • प्रतिदिन मौसमी फल या हरी पत्तेदार सब्जियों के जूस का सेवन करें ।
  • भोजन हल्के सुपाच्य 80% मौसमी फल व हरी पत्तेदार सब्जियों से युक्त भोजन का सेवन चबा चबाकर करें ,भोजन करते समय या भोजन के तुरंत पश्चात या पहले जल का सेवन ना करें ।
  • मिट्टी के घड़े में रखे हुए जल को बैठकर धीरे-धीरे सेवन करें इससे भोजन का पाचन आसानी से होता है 5 
  • सप्ताह में एक या दो दिन उपवास रहें, इससे शरीर के पाचन अंगों को आराम मिलता है, उनके कार्य  करने की क्षमता बढ़ जाती है।
  • रात्रि का भोजन सायं 7:00 तक अवश्य करें जिससे सोने से पहले भोजन का आसानी से पाचन हो जाए।
  • रात्रि में सोने से पहले पैरों में सरसों के तेल की मालिश करें इससे नींद अच्छी आएगी।
  • सोने से 30 मिनट पहले कमरे के प्रकाश को बंद कर दें वह बिस्तर पर शांत चित्त होकर लेट जाए।

निषेध- जानवरों से प्राप्त भोज्य पदार्थ, चाय -काफी ,चीनी व मैदे से बनी हुई चीजें ,रात्रि जागरण ,सोने से पहले मोबाइल ,टेलीविजन ,कंप्यूटर का प्रयोग, हंसते -रोते ,बोलते ,जल्दी-जल्दी ,टीवी ,मोबाइल या कंप्यूटर देखते हुए भोजन करना।


Wellcure
'Come-In-Unity' Plan