Q&A
02:27 PM | 10-10-2019

Hello mam I am suffering from pcod from past 3 years. And also I have thyroid now from past 7 months. I get periods only if I take hormonal tablets. At present I am taking ayurvedic tablets and still it is not working. Pcod is my nightmare. Can you please suggest me regarding my health issue?

The answers posted here are for educational purposes only. They cannot be considered as replacement for a medical 'advice’ or ‘prescription’. ...The question asked by users depict their general situation, illness, or symptoms, but do not contain enough facts to depict their complete medical background. Accordingly, the answers provide general guidance only. They are not to be interpreted as diagnosis of health issues or specific treatment recommendations. Any specific changes by users, in medication, food & lifestyle, must be done through a real-life personal consultation with a licensed health practitioner. The views expressed by the users here are their personal views and Wellcure claims no responsibility for them.

Read more
Post as Anonymous User
4 Answers

10:59 AM | 11-10-2019

Hi! Here are some resources that you may find helpful -

  • Read Women’s Health-related stories in our Journeys section.
  • Read our blog to understand more about thyroid & Nature Cure - Hypo or hyper thyroid - Correct imbalance naturally

  • Real-life natural healing stories of people who cured thyroid issues just by following Natural Laws.  

  • Adopting a natural lifestyle will help you in reclaiming your health. Wellcure’s Buddy Program helps you in making the transition, step by step. If you would like to know more, please email us at info@wellcure.com.



11:07 AM | 13-10-2019

हेलो,

कारण - पाचन तंत्र के स्वास्थ बिगड़ने पर शरीर में मौजूद संक्रमित जीवाणु (toxin) हार्मोन के संतुलन में दोष पैदा करते है।शरीर के में हार्मोन के संतुलन के बिगड़ने से शरीर का चया पचय (metabolism) का संतुलन बिगड़ जाता है। जो की थाइरॉड का कारण हो सकता है। PCOD होने के पीछे मधुमेह (Diabetes) और उच्च रक्तचाप (Hypertension) जैसे रोग भी एक बड़ी वजह है। अगर परिवार में किसी को PCOD का ईतिहास है तो अनुवांशिकता यह भी एक कारण है। Cholesterol का बढ़ना, HDL कम होना या उच्च Triglycerides के वजह से भी PCOD हो सकता     है। अत्यधिक junk food का सेवन और व्यायाम के अभाव के कारण आज की युवा पीढ़ी में मोटापा एक बहोत बड़ी समस्या के रूप में उभरा है। ऐसे तो मोटापा कई बीमारियो का घर है परन्तु मोटापे में शरीर में बढ़ी हुई अत्याधिक चर्बी के कारण Estrogen hormone की निर्मिति सामान्य से ज्यादा होती है, जो की जो की मासिकधर्म के चक्र को अव्यवस्थि कटे देता है।

समाधान - नीम के पत्ते का पेस्ट और खीरा अपने गर्भाशय पर रखें। 20मिनट तक रख कर साफ़ कर लें। कच्चे हरे पत्ते और सब्ज़ी का जूस लें। रात 10 से सुबह 4 की नींद ज़रूर लें।

उज्जायी प्राणायाम, अनुलोम विलोम, योनिबद्धआसन,

मर्जारी आसन, भुजंग आसन, अर्धसुप्तआसन करने से विशेष लाभ होगा।

जीवन शैली - 

1 आकाश तत्व- एक खाने से दूसरे खाने के बीच में विराम दें। रोज़ाना 15 घंटे का उपवास करें जैसे रात का भोजन 7 बजे तक कर लिया और सुबह का नाश्ता 9 बजे लें।

2 वायु तत्व- लंबा गहरा स्वाँस अंदर भरें और रुकें फिर पूरे तरीक़े से स्वाँस को ख़ाली करें रुकें फिर स्वाँस अंदर भरें ये एक चक्र हुआ। ऐसे 10 चक्र एक टाइम पर करना है। ये दिन में चार बार करें।

3 अग्नि तत्व- सूरर्य उदय के एक घंटे बाद या सूर्य अस्त के एक घंटे पहले का धूप शरीर को ज़रूर लगाएँ। सर और आँख को किसी सूती कपड़े से ढक कर। जब भी लेंटे अपना दायाँ भाग ऊपर करके लेटें ताकि आपकी सूर्य नाड़ी सक्रिय रहे।

4 जल तत्व- खाना खाने से एक घंटे पहले नाभि के ऊपर गीला सूती कपड़ा लपेट कर रखें और खाना के 2 घंटे बाद भी ऐसा करना है।

मेरुदंड स्नान के लिए अगर टब ना हो तो एक मोटा तौलिया गीला कर लें बिना निचोरे उसको बिछा लें और अपने मेरुदंड को उस स्थान पर रखें।

मेरुदंड (स्पाइन) सीधा करके बैठें। हमेशा इस बात ध्यान रखें और हफ़्ते में 3 दिन मेरुदंड का स्नान करें। 

5 पृथ्वी- सब्ज़ी, सलाद, फल, मेवे, आपका मुख्य आहार होगा। आप सुबह सफ़ेद पेठे 20ग्राम पीस कर 100 ml पानी में मिला कर पीएँ। 2 घंटे बाद फल नाश्ते में लेना है।

दोपहर में 12 बजे फिर से इसी जूस को लें। इसके एक घंटे बाद खाना खाएँ।शाम को 5 बजे सफ़ेद पेठे (ashguard) 20 ग्राम पीस कर 100 ml पानी मिला। 2घंटे तक कुछ ना लें। रात के सलाद में हरे पत्तेदार सब्ज़ी को डालें। कच्चा पपीता 50 ग्राम कद्दूकस करके डालें। कभी सीताफल ( yellow pumpkin)50 ग्राम ऐसे ही डालें। कभी सफ़ेद पेठा (ashgurad) 30 ग्राम कद्दूकस करके डालें। ऐसे ही ज़ूकीनी 50 ग्राम कद्दूकस करके डालें। इसी प्रकार हरा गोभी, बंद गोभी, गाजर, चुकन्दर भी कद्दूकस करके डालें। हर दिन मुख्य सब्ज़ी किसी एक की मात्रा अधिक बाँकि सब थोड़ा थोड़ा डालें। ताज़ा नारियल पीस कर मिलाएँ। कभी काजू बादाम अखरोट मूँगफली भिगोए हुए पीस कर मिलाएँ। 

लाल, हरा, पीला शिमला मिर्च 1/4 हिस्सा हर एक का मिलाएँ। इसे बिना नमक के खाएँ। नमक सेंधा ही प्रयोग करें। नमक की मात्रा दोपहर के खाने में भी बहुत कम लें। सब्ज़ी पकने बाद उसमें नमक डालें। नमक पका कर या अधिक खाने से शरीर में (fluid)  की कमी हो जाती है। रात का खाना 8 बजे खाएँ।एक नियम हमेशा याद रखें ठोस (solid) खाने को चबा कर तरल (liquid) बना कर खाएँ। तरल (liquid) को मुँह में घूँट घूँट पीएँ। खाना ज़मीन पर बैठ कर खाएँ। खाते वक़्त ना तो बात करें और ना ही TV और mobile को देखें। ठोस (solid) भोजन के तुरंत बाद या बीच बीच में जूस या पानी ना लें। भोजन हो जाने के एक घंटे बाद तरल पदार्थ (liquid) ले सकते हैं।

ऐसा करने से हाज़मा कभी ख़राब नहीं होगा।

जानवरों से उपलब्ध होने वाले भोजन वर्जित हैं।

तेल, मसाला, और गेहूँ से परहेज़ करेंगे तो अच्छा होगा। चीनी के जगह गुड़ का सेवन करें।

हफ़्ते में एक दिन उपवास करें। शाम तक केवल पानी लें, प्यास लगे तो ही पीएँ। शाम 5 बजे नारियल पानी लें और 2 घंटे बाद सलाद लें।

धन्यवाद।

रूबी, 

प्राकृतिक जीवनशैली प्रशिक्षिका व मार्गदर्शिका (Nature Cure Guide & Educator)



05:54 PM | 10-10-2019

Pcos is a result of the body malfunctioning due to lifestyle. Once the lifestyle is corrected and back to track, the body gets back to normal too. Whether it was emotional stress or physical stress and wrong food choices, sedentary lifestyle, they all help each other mess the body’s normal functioning. I believe that people who are disciplined can reverse it in few months. But this is a lifestyle and not a diet. Cysts are growths in the body which stores toxins in it. Cysts are at the hardening stage of a disease progression in the body.  If those toxins were roaming freely, it would have caused more damage. It’s hence the way of locking those toxins and virus in a sack. Once a healthy plant based lifestyle is followed, they will melt and be thrown out of the body . 

 By the time the thyroid issue is detected, the viruses that are active in the body and causing inflammation to the organs have already impacted the related organs. It’s already in a state of Merry by the time blood reports detect it. Having said that, fixing the inflammation of the thyroid and related toxaemia is the solution. If you bring in the deficit hormones which are made artificially from animal parts or synthetically, the inflammation or thyroid suddenly does not function back. In fact you have not even thought of fixing the true issue. Chemical load in the blood will further complicate the issue. It’s best to kill and eliminate the infections of the thyroid now than looking for a temporary solution. Thyroid has multiple unknown functions that humans have not discovered yet.. so there are other deficits that are not compensated.

Best to be high on fruits, vegetables and juices and greens and high raw and low fat to attack this issue. Don’t use sugars, dairy, oils, outside packaged foods, jaggery, nuts, seeds too. So it’s best to keep the body high on raw and avoid any medications possible. Nature will take care of all the needs as long you pay attention to what your body needs..

In the Body Wisdom section, we have some interesting articles on varied topics related to natural health and healing. You may want to read these. For example - 

Hypo or hyper Thyroid - correct imbalance naturally

And the Health Journeys section of the website is a compilation of stories of people who healed themselves naturally. You may want to read these, for example:

Manoj Misran - for thyroid

Sunmeet Taluja Marwah - for thyroid 

Follow this :-

Morning on empty stomach 

  • Celery juice 500 ml filtered / ash gourd juice / cucumber juice/ green juice with any watery vegetable like ashgourd / cucumber / ridge gourd / bottle gourd / carrot / beet with ginger and lime filtered/ tender coconut water or more pure veggie juice 

Afternoon from 12 :-  

  • A bowl of fruits - don’t mix melons and other fruits. Eat melons alone. Eat citrus alone 
  • Followed by a bowl of veg salad 
  • Dinner 2-3 hrs before sleep with Gluten free, oilfree unpolished grains or dals 30% and 70% veggies
  • Please take enema for 30 days with Luke warm water and then slowly reduce the freq. this is not a substitute for daily nature call . Consult an expert as needed 
  • Include some exercises that involves moving all your parts ( neck , shoulder, elbows, wrist , hip bending twisting , squats, knees, ankles ) .
  • See if u can go to the morning sun for sometime in a day 30 mins atleast. 
  • Ensure that you are asleep between 10-2 which is when the body needs deep sleep. 
  • Place a wet cloth on your tummy for 30 mins daily

What to Avoid :- 

  • Avoid refined oils, fried food , packaged ready to eat foods, dairy in any form including ghee, refined salt and sugar , gluten , refined oils coffee tea alcohol . 
  • Avoid mental stress by not thinking about things you cannot control. Present is inevitable. Future can be planned. Stay happy. Happiness is only inside yourself . The world around you is a better place if you learn to stay happy inside yourself. Reach us if you need more help in this area. Emotional stress can cascade the effects. Thank your body and love it

To summarise, I suggest that you completely go on fruits veggies and greens only for 3 months without thinking twice. Drink 2-3 lts of fruit and veg juices. Your problems will almost disappear. Contact us if you have any questions 

Be blessed. 

Smitha Hemadri (educator of natural healing practices)



05:53 PM | 10-10-2019

नमस्ते,

 पॉलीसिस्टिक ओवेरियन डिसऑर्डर अनियमित दिनचर्या एवं खानपान की गड़बड़ी,  ईर्ष्या ,चिंता ,तनाव की वजह से महिलाओं के शरीर में हार्मोंस का असंतुलन हो जाता है इसमें ओवरी में बने हुए अंडे फूटते नहीं जिससे महिलाओं में मासिक धर्म नहीं होता और इन अंडों पर सिस्ट चढ़ने लगता है, कई सिस्ट बन जाते हैं और जाल के सदृश्य दिखते हैं या इनमें गांठ बन जाती हैं इसके बचाव निम्नलिखित उपाय करने चाहिए-

 

  •  प्रतिदिन प्रातः गुनगुने पानी नींबू और शहद का सेवन करें इससे आप में स्थित दूषित पदार्थ बाहर निकल जाते हैं।

 

  •  प्रातः सूर्योदय के पश्चात 45 मिनट धूप में रहे इससे शरीर की अंतः स्रावी ग्रंथियां सुचारू रूप से अपना कार्य करती है।
  • जूस- खीरा, एलोवेरा या नारियल पानी।
  • भोजन हल्केे सुपाच्य मौसमी फल एवं हरी पत्तेदार सब्जियोंं से युक्त भोजन को खूब चबा चबाकर सेवन चबाकर खाएं।
  • मिट्टी के घड़े में रखे जल को जब भी प्यास लगे बैठकर धीरे-धीरे सेवन करें इससे भोजन का पाचन आसानी से होता है शरीर को आवश्यक जल की आपूर्ति होती है।
  •  उपवास -सप्ताह में 1 दिन, शरीर से दूषित पदार्थ बाहर निकालते हैं पाचन अंगों को आराम मिलता है ।
  • प्रतिदिन अखरोट एवं बादाम का सेवन।
  • आसन सर्वांगासन हलासन भुजंगासन थायराइड ग्रंथि पर दबाव डालते हैं जिससे उसकी सक्रियता बढ़ती है।
  • प्रतिदिन सुगंधित पुष्पों से युक्त बगीचे में नंगे पांव प्रसन्न चित्त होकर टहलें।

 निषेध -जानवरों से प्राप्त भोज्य पदार्थ ,चीनी ,मैदे ,वसा युक्त भोज्य पदार्थ, डिब्बाबंद ,मसालेदार पदार्थ, अचार ,क्रोध ,ईर्ष्या ,चिंता ,तनाव ,रात्रि जागरण ,सोने से 2 घंटे पहले मोबाइल ,टेलीविजन ,कंप्यूटर का प्रयोग।


Scan QR code to download Wellcure App
Wellcure
'Come-In-Unity' Plan