Q&A
04:20 PM | 31-10-2019

I am 21 year old suffering from NAFL stage 3 fatty liver. What should i do go make my liver better now?

Post as Anonymous User
3 Answers

02:55 PM | 01-11-2019

Hello,

Reasons for fatty liver 

  • Consuming excess calories or fat, more than the amount that is needed for the body.
  • Alcohol abuse
  • Obesity 
  • Malnutrition 
  • Diabetes

What should be done?

  • Avoid alcohol completely. 
  • Drink plenty of water to detoxify the body.
  • Soak some almonds, raisins, and then and consume it every morning.
  • Have grapefruit, its vitamin C and antioxidant properties help to cure fatty liver. 
  • Have garlic on an empty stomach early in the morning. 

Exercise 

  • Physical activity is very important for flushing out the toxins and excess fat.
  • Do yoga specially chakra asana,gomukh asana. 

What to avoid?

  • Avoid dairy foods like milk, curd, paneer, cheese.
  • Avoid oily and fried foods.
  • Avoid processed foods, packaged foods, spicy foods.
  • Don't use refined oil. 

Thank you 



11:09 AM | 01-11-2019

Most of the foods that we typically eat are acid forming   

 

https://www.wellcure.com/body-wisdom/1/do-you-know-about-the-body-s-acid-alkaline-balance

 

Any acidity causes heat and inflammation throughout the body. Fats / lipids produced by the liver starts sticking to the walls of the internals to buffer this inflammation from touching the walls directly. This overtime creates fat layers causing fatty liver/ stones. Cholestrol is the common lipid that does this job and your blood cholestrol also shows a rise in such conditions. When ur tissues are acidic and thus inflammed the liver gets over active and keeps producing lipids to fight it effects. The nutrition starts sticking together or coagulating or clumping  in the body and also the blood of the body is acidic. 

Another reason for a fatty liver is the constant consumption of oils / animal meats / eggs / fish / dairy. 

 

Consume a whole food plant based lifestyle with high raw and this will reduce overtime . You can’t detox the liver rapidly.

 

Follow this :-

Morning on empty stomach 

 

- 500ml filtered / ash gourd juice / cucumber juice 

 

- Followed by Green juice or fruit /  any watery vegetable like ashgourd / cucumber / ridge gourd / bottle gourd / carrot / beet with ginger and lime filtered  

 

- More hunger - tender coconut water or more pure  juice 

 

Afternoon from 12 :-  

- A bowl of fruits - don’t mix melons and other fruits. Eat melons alone. Eat citrus alone 

 

- Followed by a bowl of veg salad if needed or more fruits are fine.

 

- Dinner 2-3 hrs before sleep with Gluten free - millets rice quinoa , oilfree unpolished grains or dals 30% and 70% veggies

 

- Include some exercises that involves moving all your parts ( neck , shoulder, elbows, wrist , hip bending twisting , squats, knees, ankles ) . Join a yoga or gym and sweat out. We need to eliminate via skin also 

 

- See if u can go to the morning sun for sometime in a day 30 mins atleast. It’s v imp for healing 

 

- Ensure that you are deep asleep between 10-2 which is when the body needs deep sleep. 

 

- Place a wet cloth on your tummy for 30 mins daily if time permits to improve the blood circulation in the gut and heal faster 

 

What to Avoid :- 

- Avoid refined oils, fried food , packaged ready to eat foods, dairy in any form including ghee, refined salt and sugar , gluten , refined oils , coooking with oil

 

- Avoid mental stress by not thinking about things you cannot control. Present is inevitable. Future can be planned. Stay happy. Happiness is only inside yourself . The world around you is a better place if you learn to stay happy inside yourself. Reach us if you need more help in this area. Emotional stress can cascade the effects. Thank your body and love it.

 

Thanks to let me know if you have any questions

Be blessed

 

 

Smitha Hemadri (educator of natural healing practices)



11:09 AM | 01-11-2019

हेलो,

 

कारण - फैटी लिवर एक reversible condition है जो अपने जीने के ढंग और तौर-तरीकों को बदल कर सही की जा सकती है।

fatty liver disease (hepatic steatosis) हो सकती है. अधिक मात्रा में फैट या वसा का होना लिवर की normal functioning को प्रभावित कर देता है और तब यह आपकी खायी-पी हुई चीजों को ठीक से प्रोसेस नहीं कर पाता है. इसी को फैटी लिवर डिजीज कहते हैं।

जो भी भोजन करते हैं उससे कार्बोहाइड्रेट, प्रोटीन, फैट, विटामिन और मिनरल्स जैसे पोषक तत्वों को प्रोसेस करने का काम लिवर ही करता है। अगर लिवर ठीक से काम ना करे तो शरीर का मेटाबोलिक बैलेंस भी गड़बड़ हो जाता है।

जब बॉडी बहुत अधिक फैट बनाती है या बने हुए फैट को तेजी से मेटाबोलाइज नहीं कर पाती है. ऐसा होने पर जो excess fat होता है वह liver cells में इकठ्ठा हो जाता है और इस तरह से व्यक्ति को फैटी लिवर की बीमारी हो जाती है।

समाधान - शारीरिक और मानसिक क्रिया में संतुलन बनाए। दौड़ लगाएँ।सुप्त मत्स्येन्द्रासन, धनुरासन

पश्चिमोत्तानासन, अर्धमत्स्येन्द्रासन, शवासन करें।

10% कच्चे हरे पत्ते और सब्ज़ी का जूस बिना नमक निम्बू के लेना है।30% कच्चे सब्ज़ी का सलाद बिना नमक निम्बू के लेना है।10% ताज़ा नारियल सलाद में मिला कर लेना है। 20% फल को लें। पके हुए खाने को केवल एक बार खाएँ नमक भी केवल एक बार पके हुए खाने लें। पके हुए खाने में सब्ज़ी भाँप में पके हों और तेल घी रहित होना चाहिए सब्ज़ी की मात्रा 20% और millet या अनाज की मात्रा 10% हो।  खाना खाने से एक घंटे पहले नाभि के ऊपर गीला सूती कपड़ा लपेट कर रखें और खाना के 2 घंटे बाद भी ऐसा करना है।

मेरुदंड स्नान के लिए अगर टब ना हो तो एक मोटा तौलिया गीला कर लें बिना निचोरे उसको बिछा लें और अपने मेरुदंड को उस स्थान पर रखें।

मेरुदंड (स्पाइन) सीधा करके बैठें। हमेशा इस बात ध्यान रखें और हफ़्ते में 3 दिन मेरुदंड का स्नान करें। 

 

जीवन शैली - आकाश तत्व - एक खाने से दुसरे खाने के बीच में अंतराल (gap) रखें।

फल के बाद 3 घंटे, सलाद के बाद 5 घंटे, और पके हुए खाने के बाद 12 घंटे का (gap) रखें।

वायु तत्व - प्राणायाम करें, आसन करें। दौड़ लगाएँ।

अग्नि - सूर्य की रोशनी लें।

जल - अलग अलग तरीक़े का स्नान करें। मेरुदंड स्नान, हिप बाथ, गीले कपड़े की पट्टी से पेट की गले और सर की 20 मिनट के लिए सेक लगाए। 

स्पर्श थरेपी करें। मालिश के ज़रिए भी कर सकते है। नारियल तेल से

घड़ी की सीधी दिशा (clockwise) में और घड़ी की उलटी दिशा (anti clockwise)में मालिश करें। नरम हाथों से बिल्कुल भी प्रेशर नहीं दें।

पृथ्वी - सुबह खीरे का जूस लें, खीरा 1/2 भाग + धनिया पत्ती (10 ग्राम) पीस लें, 100 ml पानी मिला कर पीएँ। यह juice आप कई प्रकार के ले सकते हैं। पेठे (ashguard ) का जूस लें और कुछ नहीं लेना है। नारियल पानी भी ले सकते हैं। बेल का पत्ता 8 से 10 पीस कर I100ml पानी में मिला कर पीएँ। खीरा 1/2 भाग + धनिया पत्ती (10 ग्राम) पीस लें, 100 ml पानी में मिला कर पीएँ। बेल पत्ता 8 से 10 पीस कर 100 ml पानी में मिला कर लें। दुब घास 25 ग्राम पीस कर छान कर 100 ml पानी में मिला कर पीएँ। कच्चे सब्ज़ी का जूस आपका मुख्य भोजन है। 2 घंटे बाद फल नाश्ते में लेना है। 

फल को चबा कर खाएँ। इसका juice ना लें। फल + सूखे फल नाश्ते में लें।

दोपहर के खाने में सलाद + नट्स और अंकुरित अनाज के लें। बिना नींबू और नमक के लें। स्वाद के लिए नारियल और herbs मिलाएँ।

रात के खाने में इस अनुपात से खाना खाएँ 2 कटोरी सब्ज़ी के साथ 1कटोरी चावल या 1रोटी लें। एक बार पका हुआ खाना रात को 7 बजे से पहले लें।ओ

सेंधा नमक केवल एक बार पके हुए खाने में लें। जानवरों से उपलब्ध होने वाले भोजन वर्जित हैं।

तेल, मसाला, और गेहूँ से परहेज़ करेंगे तो अच्छा होगा। चीनी के जगह गुड़ लें।

एक नियम हमेशा याद रखें ठोस(solid) खाने को चबा कर तरल (liquid) बना कर खाएँ। तरल  को मुँह में घूँट घूँट पीएँ। खाना ज़मीन पर बैठ कर खाएँ। खाते वक़्त ना तो बात करें और ना ही TV और mobile को देखें।ठोस  भोजन के तुरंत बाद या बीच बीच में जूस या पानी ना लें। भोजन हो जाने के एक घंटे बाद तरल पदार्थ  ले सकते हैं।

हफ़्ते में एक दिन उपवास करें। शाम तक केवल पानी लें, प्यास लगे तो ही पीएँ। शाम 5 बजे नारियल पानी और रात 8 बजे सलाद लें।

उपवास के अगले दिन किसी प्राकृतिक चिकित्सक के देख रेख में टोना लें। जिससे आँत की प्रदाह को शांत किया जा सके। एनिमा किट मँगा लें। यह किट ऑनलाइन मिल जाएगा। इससे 200ml पानी गुदाद्वार से अंदर डालें और प्रेशर आने पर मल त्याग करें। ऐसा दिन में दो बार करना है अगले 21 दिनों के लिए। ये करना है ताकि शरीर में मोजुद विषाणु निष्कासित हो जाये। इसके बाद हफ़्ते में केवल एक बार लेना है उपवास के अगले दिन। टोना का फ़ायदा तभी होगा जब आहार शुद्धि करेंगे।

धन्यवाद।

रूबी, 

प्राकृतिक जीवनशैली प्रशिक्षिका व मार्गदर्शिका (Nature Cure Guide & Educator)

 


Wellcure
'Come-In-Unity' Plan