Q&A
05:45 PM | 13-11-2019

My mom has a problem of liver fatty.... What to do?


Post as Anonymous User
7 Answers

10:07 AM | 14-11-2019

Hi! Suggest you go through answers to a similar query here.



12:16 PM | 02-12-2019

Fatty Liver Fatty liver is commonly seen in people who are alcoholic but it is now increasingly seen in people who are non-alcoholic but obese.
 In Fatty Liver, there would be more fat that would be present in the liver cells and this may cause hepatomegaly or increase in the size of the liver. These non-alcoholic fatty liver (NAFL) more probably occurs in people who are

  •  Obese 
  •  Who are suffering from Diabetes 
  • Old age 

 And the Risk factors for the people to get fatty liver are for those who have or suffering from the following factors

  • High cholesterol 
  •  High triglycerides 
  • Diabetes 
  • Hypothyroidism  
  • Polycystic ovarian disease.
  • Any metabolic disorders.

 Mostly in early stages there won’t be any symptoms. But a few like 
 

  • Fatigues.
  • pain in right side of the abdomen may be present

Some of the Natural remedies are

  • Reduce weight 
  •  Have more of natural fresh fruits and raw vegetables which aid the body in healing. 
  •  Do exercise/yoga regularly 
  •  Take sunbath/steam bath/sauna bath to reduce body weight regularly weekly once. 
  • Take full mud bath if possible 15 days once. 
  •  Apply a wet cloth /mud pack over the abdomen in empty stomach as this may help in preventing further damage.

 Avoid these things

  • High carbohydrate diet 
  •  Spicy foods 
  •  Tea 
  • Sweets 
  • Alcohol and smoking 
  •  Sedentary life style .

Disclaimer
This is a general Recommendation only as the severity of your problem is not known. These treatments should be taken only on consultation with your doctor and this is for education purpose only.



06:15 PM | 14-11-2019

Most of the foods that we typically eat are acid-forming.   

https://www.wellcure.com/body-wisdom/1/do-you-know-about-the-body-s-acid-alkaline-balance

Any acidity causes heat and inflammation throughout the body. Fats/lipids produced by the liver starts sticking to the walls of the internals to buffer this inflammation from touching the walls directly. This overtime creates fat layers causing fatty liver/ stones. Cholesterol is the common lipid that does this job and your blood cholesterol also shows a rise in such conditions. When ur tissues are acidic and thus inflame the liver gets overactive and keeps producing lipids to fight its effects. The nutrition starts sticking together or coagulating or clumping in the body and also the blood of the body is acidic.

 Another reason for a fatty liver is the constant consumption of oils/animal meats/eggs/fish/dairy. 

Consume a whole food plant-based lifestyle with high raw and this will reduce over tim You can’t detox the liver rapidly.

Follow this:-

Morning on an empty stomach 

- 500ml filtered / ash gourd juice/cucumber juice. 

- Followed by Green juice or fruit /  any watery vegetable like ash gourd /cucumber/ridge gourd/bottle gourd/carrot/ beet with ginger and lime filtered  

- More hunger - tender coconut water or more pure  juice 

Afternoon from 12:-  

- A bowl of fruits - don’t mix melons and other fruits. Eat melons alone. Eat citrus alone 

- Followed by a bowl of veg salad if needed or more fruits are fine.

- Dinner 2-3 hrs before sleep with Gluten-free - millets rice quinoa, oil free unpolished grains or dals 30% and 70% veggies

- Include some exercises that involve moving all your parts (neck, shoulder, elbows, wrist, hip bending twisting, squats, knees, ankles). Join a yoga or gym and sweat out. We need to eliminate via skin also 

- See if u can go to the morning sun for sometime in a day 30 mins at least. It’s v imp for healing 

- Ensure that you are deep asleep between 10-2 which is when the body needs deep sleep. 

- Place a wet cloth on your tummy for 30 mins daily if time permits to improve the blood circulation in the gut and heal faster 

What to Avoid:- 

- Avoid refined oils, fried food, packaged ready to eat foods, dairy in any form including ghee, refined salt, and sugar, gluten, refined oils, cooking with oil

- Avoid mental stress by not thinking about things you cannot control. The present is inevitable. The future can be planned. Stay happy. Happiness is only inside yourself. The world around you is a better place if you learn to stay happy inside yourself. Reach us if you need more help in this area. Emotional stress can cascade the effects. Thank your body and love it.

Thanks do let me know if you have any questions.

Be blessed

Smitha Hemadri (educator of natural healing practices)



04:17 PM | 14-11-2019

हेलो,

 

कारण- लिवर (जिगर) हमारे शरीर का एक मुख्य आंतरिक अंग होता है, जो शरीर की सबसे बड़ी ग्रंथि और दूसरा सबसे बड़ा अंग होता है। लिवर पित्त का निर्माण करता है, जो वसा के टूटने में मदद करता है। यह रक्त के डिटाक्सिफिकैशन में भी मदद करता है। एक सामान्य लिवर में कुछ फैट ज़रूर होता है, लेकिन कभी-कभी लिवर की कोशिकाओं में अनावश्यक फैट की मात्रा बढ़ जाती है। ख़राब पाचन क्रिया के कारण ये रोग होता है। जिसे आम तौर पर फैटी लिवर के नाम से जाना जाता है। 

समाधान - सुप्त मत्स्येन्द्रासन, धनुरासन

पश्चिमोत्तानासन, अर्धमत्स्येन्द्रासन, शवासन करें।

रात कि 10 से 4 की नींद जरूर लें।

10% कच्चे हरे पत्ते और सब्ज़ी का जूस बिना नमक निम्बू के लेना है।30% कच्चे सब्ज़ी का सलाद बिना नमक निम्बू के लेना है।10% ताज़ा नारियल सलाद में मिला कर लेना है। 20% फल को लें। पके हुए खाने को केवल एक बार खाएँ नमक भी केवल एक बार पके हुए खाने लें। पके हुए खाने में सब्ज़ी भाँप में पके हों और तेल घी रहित होना चाहिए सब्ज़ी की मात्रा 20% और millet या अनाज की मात्रा 10% हो।  वर्षों से जमी टॉक्सिन को निकालना ज़रूरी है। किसी प्राकृतिक चिकित्सक के देख रेख में पहली बार लें। एनिमा किट मँगा लें । यह किट ऑनलाइन मिल जाएगा। इससे 100ml पानी गुदाद्वार से अंदर डालें और प्रेशर आने पर मल त्याग करें। ऐसा दिन में एक बार करना है अगले 21 दिनों के लिए। ये करना है ताकि शरीर में उपस्थित विषाणु निष्कासित हो जाये।

आपका मुख्य आहार ये हुआ तो बहुत अच्छा हो जाएगा।

1 आकाश तत्व- एक खाने से दूसरे खाने के बीच में विराम दें। रोज़ाना 15 घंटे का उपवास करें जैसे रात का भोजन 7 बजे तक कर लिया और सुबह का नाश्ता 9 बजे लें।

2 वायु तत्व- लंबा गहरा स्वाँस अंदर भरें और रुकें। इसके बाद फिर पूरे तरीक़े से स्वाँस को ख़ाली करें, रुकें, फिर स्वाँस अंदर भरें। ये एक चक्र हुआ। ऐसे 10 चक्र एक समय पर करना है। ये दिन में चार बार करें। खुली हवा में बैठें या टहलें।

3 अग्नि तत्व- सूर्य उदय के एक घंटे बाद या सूर्य अस्त के एक घंटे पहले का धूप शरीर को ज़रूर लगाएँ। सर और आँख को किसी सूती कपड़े से ढक कर। जब भी लेंटे अपना दायाँ भाग ऊपर करके लेटें ताकि आपकी सूर्य नाड़ी सक्रिय रहे।

4 जल तत्व- खाना खाने से एक घंटे पहले नाभि के ऊपर गीला सूती कपड़ा लपेट कर रखें या खाना के 2 घंटे बाद भी ऐसा कर सकते हैं।

नीम के पत्ते का पेस्ट अपने नाभि पर रखें। 20मिनट तक रख कर साफ़ कर लें। मेरुदंड स्नान के लिए अगर टब ना हो तो एक मोटा तौलिया गीला कर लें बिना निचोरे उसको बिछा लें और अपने मेरुदंड को उस स्थान पर रखें।

मेरुदंड (स्पाइन) सीधा करके बैठें। हमेशा इस बात ध्यान रखें और हफ़्ते में 3 दिन मेरुदंड का स्नान करें। 

5 पृथ्वी- सब्ज़ी, सलाद, फल, मेवे, आपका मुख्य आहार होगा। आप सुबह खीरे का जूस लें, खीरा 1/2 भाग धनिया पत्ती (10 ग्राम) पीस लें, 100 ml पानी मिला कर पीएँ। यह juice आप कई प्रकार के ले सकते हैं। पेठे (ashguard ) का जूस लें और कुछ नहीं लेना है। नारियल पानी भी ले सकते हैं। बेल का पत्ता 8 से 10 पीस कर I100ml पानी में मिला कर पीएँ। खीरा 1/2 भाग धनिया पत्ती (10 ग्राम) पीस लें, 100 ml पानी में मिला कर पीएँ। बेल पत्ता 8 से 10 पीस कर 100 ml पानी में मिला कर लें। दुब घास 25 ग्राम पीस कर छान कर 100 ml पानी में मिला कर पीएँ। सब्ज़ी का जूस आपका मुख्य भोजन है। जो की आपको ज़बर्दस्त फ़ायदा करेगा। 2 घंटे बाद फल नाश्ते में लेना है। फल को चबा कर खाएँ। इसका juice ना लें।

दोपहर में 12 बजे फिर से कच्चे सब्ज़ी जूस को लें। इसके एक घंटे बाद खाना खाएँ।शाम को 5 बजे सफ़ेद पेठे (ashguard) 20 ग्राम पीस कर 100 ml पानी मिला। 2 घंटे तक कुछ ना लें। रात के सलाद में हरे पत्तेदार सब्ज़ी को डाले। ताज़ा नारियल मिलाएँ। कच्चा पपीता 50 ग्राम कद्दूकस करके डालें। कभी सीताफल ( yellow pumpkin)50 ग्राम ऐसे ही डालें। कभी सफ़ेद पेठा (ashgurad) 30 ग्राम कद्दूकस करके डालें। ऐसे ही ज़ूकीनी 50 ग्राम डालें।कद्दूकस करके डालें।कभी काजू बादाम अखरोट मूँगफली भिगोए हुए पीस कर मिलाएँ। मुली, गाजर, चुकंदर इनमे से कोई एक सब्ज़ी मिलाएँ।

सलाद का 10% अंकुरित अनाज का हो।

लाल, हरा, पीला शिमला मिर्च 1/4 हिस्सा हर एक का मिलाएँ। इसे बिना नमक के खाएँ, बहुत फ़ायदा होगा। रात का खाना 8 बजे खाएँ। एक नियम हमेशा याद रखें ठोस (solid) खाने को चबा कर तरल (liquid) बना कर खाएँ। तरल (liquid) को मुँह में घूँट घूँट पीएँ। खाना ज़मीन पर बैठ कर खाएँ। खाते वक़्त ना तो बात करें और ना ही TV और mobile को देखें। ठोस (solid) भोजन के तुरंत बाद या बीच बीच में जूस या पानी ना लें। भोजन हो जाने के एक घंटे बाद तरल पदार्थ (liquid) ले सकते हैं। ऐसा करने से हाज़मा कभी ख़राब नहीं होगा। जानवरों से उपलब्ध होने वाले भोजन छोड़ने से ज़्यादा लाभ होगा।

तेल, मसाला, और गेहूँ से परहेज़ करेंगे तो अच्छा होगा। 

धन्यवाद।

रूबी, 

 

प्राकृतिक जीवनशैली प्रशिक्षिका व मार्गदर्शिका (Nature Cure Guide & Educator)

 



10:05 AM | 14-11-2019

Hi,

These days many individuals suffer from the issues of fatty liver. Kindly donot worry, it can be solved by lifestyle changes. The liver is responsible for the removal of toxic waste from the body, so the body can work efficiently. Wrong eating habits like excessive intake of alcohol, fried foods, excess processed foods, etc, lead to excess fat, which the body is unable to get rid of. This leads to excess fat deposits in the liver which leads to a fatty liver.

Short term measures

  • Include plenty of raw fruits and vegetables in your regime. They have plenty of fibre, phytonutrients, antioxidants, vitamins & minerals required for various body functions.
  • Consume only fruits till afternoon. The body is in elimination mode, so it is better to support it, and fruits are the best way to do this.
  • Avoid all fried and oily foods. Cook without oil.
  • Do not use animal products, including dairy. If consuming alcohol, please stop immediately.
  • Do not use any packed, processed, sugary foods. All these create an overload on the liver to get rid of the toxins created by these foods.

The above-mentioned foods which are recommended to avoid create free radicals and are an overload to the system. Instead eat mostly raw and minimum cooked, easily digestible foods.

Lifestyle change

  • Physical activity for atleast 30 mins, everyday.
  • Manage stress and sleep. Body repairs and heals itself during this phase.
  • Chew your food slowly and mindfully. Your digestion process begins in the mouth.
  • Avoid the use of unnecessary over the counter medications.

Apart from this, you could read below the journey of Mr. Manoj as to how he healed himself naturally.

Nature helped me get rid of psoriasis thyroid fatty liver

Wishing you Good Health Always!

Thank you

Regards

 

 

 



10:03 AM | 14-11-2019

Hi,  

Please ask your mother to change her lifestyle and some diet modification. Strictly stick to natural way if living. 

For your information fatty liver is of two types they are as follows,

  1. Alcohol induced fatty liver-due to alcohol consumption.
  2. Nonalcoholic fatty liver disease-due to improper lifestyle.

Nonalcoholic fatty liver disease is most commonly diagnosed in those who are obese or sedentary and those who eat a highly processed,preserved food items.

  • Sticking to a healthy, plant-based diet and making regular exercise and yoga as a routine will help.

The following remedies are more beneficial:

  • Ash gourd bottle gourd juice daily 
  • Lemon Juice Honey: Drinking lemon-infused water every day can maintain the C-Vitamin levels in the body, which can help in detoxification.
  • Boil some water pinch of Turmeric ginger and lemon drink Warm.
  • Turmeric is a natural cure for fatty liver, for its effectiveness in killing fat cells and deposits. Curcumin, found in Turmeric is proven to be effective in treating the non-alcoholic steatohepatitis (NASH). Use turmeric as a tea or a detox drink with lemon and ginger.
  • Indian Gooseberry or Amla a rich source of Vitamin C, it can cure many ailments of the Liver. This anti-oxidant fruit helps in cleansing the liver of toxins and protecting it from further damage.
  • Chew a few pieces of Amla first thing in the morning and swallow the juice/ 1 tbsp of Amla juice with warm water in the morning.
  • 1-2 Cinnamon sticks boil in water Wait for 2-3 minutes and strain, Serve it hot.

Naturopathic management:

  • Neutral hipbath
  • Cold compress/ cold abdomen pack
  • Gastro hepatic pack 15-20 mins 
  • Mild abdominal massage 

Lifestyle Changes

  • Drink plenty of water.
  • Losing weight/ Prevent weight gain (in case of overweight) to prevent Fatty Liver, keep a check on your calorie intake count.
  • Eating a healthy diet rich in fruits and vegetables can ensure the liver health.
  • Exercising for at least 30 minutes a day.
  • Consume Vitamin E and anti-oxidants rich diet.
  • Avoid tea, coffee, alcohol and other aerate carbonated beverages.
  • Consume wheat grass juice in the morning also more beneficial.
  • Avoid fatty, oily, spicy food items.

Get well naturally!!

Namasthe!



12:19 PM | 03-12-2019

नमस्ते,

लिवर हमारे शरीर का एक प्रमुख अंग है। यह हमारे शरीर में भोजन पचाने से लेकर पित्त बनाने तक का काम करता है। लिवर शरीर को संक्रमण से लड़ने, रक्त शर्करा या ब्लड शुगर को नियंत्रित रखने, शरीर से विषैले पदार्थो को निकालने, फैट को कम करने और प्रोटीन बनाने में महत्वपूर्ण भूमिका अदा करता है। अत्यधिक मात्रा में खाने, शराब पीने और अनुचित मात्रा में फैट युक्त भोजन करने से फैटी लिवर जैसे रोग लिवर में होने की संभावना होती है।

कारण-

एक्ट्रा कैलोरी- खाने में एक्ट्रा कैलोरी वाले आहार का अधिक उपयोग लिवर में वसा का निर्माण करता है। लिवर में वसा की यही अधिकता फैटी लिवर की समस्या को जन्म देती है।

लिवर की कार्यक्षमता कम होना- फैटी लिवर होने के प्रमुख कारणों में यह वजह काफी अहम है। जब किसी कारण से लिवर की प्रक्रिया प्रभावित हो जाती है, तो वह वसा को तोड़ने की प्रक्रिया को अंजाम नहीं दे पाता। फलस्वरूप लिवर में अतरिक्त वसा का जमाव होने लगता है। इस कारण फैटी लिवर की समस्या पैदा हो जाती है।

विशेष बीमारियां- मोटापा, डायबिटीज और हाई-ट्राइग्लिसराइड्स (खून में पाया जाने वाला एक प्रकार का फैट) जैसी समस्याएं लिवर संबधी जोखिमों को बढ़ाने का कारण बनती हैं। नजीतन इन स्थितियों में फैटी लिवर होने की संभावना अत्यधिक प्रबल हो जाती है।

तेजी से वजन घटाना- कई लोग तेजी से वजन घटाने के चक्कर में फैटी लिवर की समस्या को न्योता दे जाते हैं। कारण यह है कि लिवर पाचन प्रक्रिया में प्रमुख भूमिका निभाता है। जरूरी आहार न मिल पाने की स्थिति में लिवर की प्रक्रिया प्रभावित होती है। फलस्वरूप लिया जाने वाला आहार सीधे वसा के रूप में लिवर में जमा होने लगता है।

लक्षण-

  • पेट के पास के ऊपरी हिस्से में दर्द
  • वजन में गिरावट
  • कमजोरी महसूस करना
  • आँखों और त्वचा में पीलापन दिखाई देना
  • भोजन सही प्रकार से हजम नहीं होना चाहिए जिसके कारण एसिडिटी का होना
  • पेट में सूजन होना

आपको निम्नलिखित जीवन शैली का पालन करना चाहिए-

  •  नींद -रात्रि में 7 से 8 घंटे की नींद अवश्य लें, इससे शरीर से दूषित पदार्थ बाहर निकलता है कोशिकाओं की मरम्मत होती है।
  • यदि आपके पास सूर्योदय के समय पर्याप्त समय नहीं है तो आप सूर्यास्त से 1 घंटे पहले 45 मिनट धूप मेंं रहे इससे शरीर में विटामिन डी की आपूर्ति होती है शरीर की समस्त अंतः स्रावी ग्रंथियां सुचारू रूप से अपना कार्य करती हैं।
  •  प्रतिदिन प्रातः गुनगुने पानी ,नींबू एवं शहद का सेवन करें इससे शरीर में अम्ल एवं क्षार का संतुलन बना रहता है, आंंत की दीवारें फैलती हैं, शरीर से दूषित पदार्थ बाहर निकलते हैं जिससे क्रमांक कुंचन गति सुचारू रूप से होती है।
  •  प्रतिदिन टमाटर, नींबू ,संतरे ,या आंवले के जूस का सेवन करें इससे शरीर में अम्ल एवं क्षार का संतुलन बना रहता है ,शरीर के सभी अंग सुचारू रूप से अपना कार्य करते हैं,  लिवर के फैट को कम करने में सहायक है।
  •  प्रतिदिन भोजन में 50% ताजे मौसमी फल 35% हरी पत्तेदार सब्जियां 10% साबुत अंकुरित अनाज, 5% सूखे मेवे का सेवन खूब चबा चबाकर करें, यह हल्के एवं सुपाच्य होते  हैं, संतुलित मात्रा में शरीर को पोषण प्राप्त होता है, अंग सुचारू रूप से अपना कार्य करते हैं.।
  • प्यास लगने पर मिट्टी के घड़े में रखे हुए जल को बैठकर धीरे-धीरे सेवन करें इससे शरीर को पर्याप्त मात्रा में जल की आपूर्ति होती है ,शरीर के सभी अंग सुचारू रूप से अपना कार्य करते हैं।
  •  सप्ताह में कम से कम 1 दिन उपवास रहें इससे शरीर से दूषित पदार्थ बाहर निकलते हैं, पाचन अंगों को आराम मिलता है , शरीर या लीवर में स्थित अतिरिक्त वसा कम होती है।
  • आंवला में भरपूर मात्रा में एन्टी-ऑक्सिडेंट और विटामिन सी होता है जो लिवर की कार्यप्रणाली को ठीक करता है। आँवला का सेवन करने से लिवर से हानिकारक विषाक्त तत्व निकल जाता है। इसके लिए रोजाना 3-4 कच्चे आँवला का सेवन करें।
  •  दिन में कम से कम 2 बार गुनगुने पानी में नींबू मिलाकर पिए,नींबू में सिट्रिक एसिड प्रचुर मात्रा में पाया जाता है, जो एक कारगर एंटीऑक्सीडेंट है। शोधकर्ताओं के मुताबिक नींबू में पाया जाने वाला यह गुण फैटी लिवर के दौरान होने वाली ऑक्सीडेशन प्रक्रिया को रोकने का काम करता है। इसलिए ऐसा कहा जा सकता है कि फैटी लीवर का इलाज करने के लिए नींबू का नियमित प्रयोग किया जा सकता है।
  • प्रतिदिन सुगंधित पुष्पों से युक्त बगीचे में प्रसन्न होकर नंगे पाव टहलें, मन शांत एवं तनाव मुक्त  रहता है। 

 

निषेध -जानवरों से प्राप्त भोज्य पदार्थ ,चाय ,काफी, चीनी ,मिठाईयां ,नमक, नमकीन, ठंडे पेय पदार्थ, डिब्बाबंद भोज्य पदार्थ ,रात्रि जागरण ,क्रोध, ईर्ष्या , चिंता ,तनाव सोने से 2 घंटे पहले मोबाइल, टेलीविजन ,कंप्यूटर का प्रयोग।


Wellcure
'Come-In-Unity' Plan