Q&A
05:17 PM | 16-11-2019

How do I cure epididymo orchitis?


Post as Anonymous User
5 Answers

10:56 AM | 18-11-2019

Epididymal orchitis is a condition where the testicles get enlarged in shape at the same time there is excruciating pain, redness and swelling due to the inflammation. This inflammatory condition can be helped with both diet and auxiliary treatment. The most difficult thing to deal here is the excruciating pain this condition is causing which does not allow us to our day to day activity. This condition can be easily dealt at your home.

Auxillary treatment:

  1. Use a thin cloth and wrap ice with it, do cold fomentation thrice a day. This will improve your state.
  2. Try to elevate your scrotum with the briefs which are fit snuggly this will give you comfort.
  3. Rest and avoid sweat getting accumulated in the area.

Anti-inflammatory Diet:

The anti-inflammatory diet includes, turmeric, ginger, garlic and nuts like almonds, including them in your daily routine shall be proved beneficial to you.

Thank you

 

 



12:15 PM | 03-12-2019

नमस्ते,

एपीडिडायमो ऑर्काइटिस अण्डकोषों का संक्रमण है, इसमें अंडकोष में सूजन के साथ-साथ दर्द होता है। 

 एपिडीडाइमो ऑर्काइटिस के लक्षण- 

आपके अण्डकोषों में दर्द, सूजन और कोमलता अंडकोश की केवल एक तरफ प्रभावित होता है|

पहले दर्द में एक वृषण के पीछे सबसे अधिक दर्द होता है| कुछ घंटों के भीतर दर्द फैलता है, जैसे-.

1- पूरे वृषण में|

2. ओवरलाइन अंडोराटम|

3. दर्द के कारण लंगड़ा चलना या चलने में असमर्थता|

4. दर्दनाक क्षेत्र में लालिमा और गर्मी महसूस होना|

5. जलन जब आप पेशाब करें|

6. अण्डकोषों में पानी तरल पदार्थ का एक संग्रह|

7. पेशाब के दौरान बुखार, ठंड लगना और जलन|

 

आपको निम्नलिखित चीजों का पालन करना चाहिए-

  •  नींद -रात्रि में 7 से 8 घंटे की नींद अवश्य लें, इससे शरीर से दूषित पदार्थ बाहर निकलता है कोशिकाओं की मरम्मत होती है।
  • सूर्योदय के पश्चात कम से कम 45 मिनट धूप मेंं रहे इससे शरीर में विटामिन डी की आपूर्ति होती है शरीर की समस्त अंतः स्रावी ग्रंथियां सुचारू रूप से अपना कार्य करती हैं।
  •  प्रतिदिन प्रातः गुनगुने पानी ,नींबू एवं शहद का सेवन करें इससे शरीर में अम्ल एवं क्षार का संतुलन बना रहता है, आंंत की दीवारें फैलती हैं, शरीर से दूषित पदार्थ बाहर निकलते हैं जिससे क्रमांक कुंचन गति सुचारू रूप से होती है।
  •  प्रतिदिन पालक ,चुकंदर ,नारियल पानी या आंवले के जूस का सेवन करें इससे शरीर में अम्ल एवं क्षार का संतुलन बना रहता है ,शरीर के सभी अंग सुचारू रूप से अपना कार्य करते हैं, अंडकोष में सूजन धीरे-धीरे कम होने लगती है।
  •  प्रतिदिन भोजन में 50% ताजे मौसमी फल 35% हरी पत्तेदार सब्जियां 10% साबुत अंकुरित अनाज, 5% सूखे मेवे का सेवन खूब चबा चबाकर करें, यह हल्के एवं सुपाच्य होते  हैं, संतुलित मात्रा में शरीर को पोषण प्राप्त होता है, अंग सुचारू रूप से अपना कार्य करते हैं।
  • प्यास लगने पर मिट्टी के घड़े में रखे हुए जल को बैठकर धीरे-धीरे सेवन करें इससे शरीर को पर्याप्त मात्रा में जल की आपूर्ति होती है ,शरीर के सभी अंग सुचारू रूप से अपना कार्य करते हैं।
  •  सप्ताह में कम से कम 1 दिन उपवास रहें इससे शरीर से दूषित पदार्थ बाहर निकलते हैं, पाचन अंगों को आराम मिलता है ।
  • . अदरक के 10-20 मिलीलीटर रस में दो चम्मच शहद मिलाकर पीने से अण्डकोष की बढ़त्तोरी समाप्त हो जाती है, अदरक  में anti inflammatory गुण होते हैं जो दर्द व सूजन में आराम करेगा। 
  • 10-10 ग्राम जीरा और अजवायन पानी में पीसकर थोड़ा गर्मकर अण्डकोष पर लेप करने से अण्डकोष का बढ़ना एवं दर्द  रुक जाता है। 
  •  बर्फ के कुछ टुकड़े सूती कपड़े लपेट कर बांध लें उससे धीरे धीरे अंडकोष की सिकाई करें दर्द व सूजन में आराम मिलेगा।
  • प्रतिदिन सुगंधित पुष्पों से युक्त बगीचे में प्रसन्न होकर नंगे पाव टहलें, मन शांत एवं तनाव मुक्त  रहता है। 

निषेध -जानवरों से प्राप्त भोज्य पदार्थ, चाय ,काफी, चीनी ,मिठाईयां ,नमक, नमकीन, ठंडे पेय पदार्थ, डिब्बाबंद भोज्य पदार्थ ,रात्रि जागरण ,क्रोध, ईर्ष्या , चिंता ,तनाव सोने से 2 घंटे पहले मोबाइल, टेलीविजन ,कंप्यूटर का प्रयोग।



12:13 PM | 03-12-2019

Epididymo orchitis is a condition of an inflammation of the testis and or epididymis. The general causes are

  • surgery .. where a catheter is inserted into urinary bladder 
  • general bacterial infection other infection which may be sexually transmitted infection. 
  • Trauma

 

symptoms

 

  • Since it is an inflammation there would be pain swelling redness 
  • and since if it due to infection there would be discharge fever etc

 Through the following natural ways, this problem can be treated.

 

  •  Application of ice pack to the area would relieve pain
  •  Application of wet cloth to the region would cool down the inflammation. 
  • Take rest Have plenty of fruits and vegetables so that you may get a lot of vitamins and minerals thereby the inflammation and infection would get corrected. 
  • Fasting with fruit juices or on raw vegetable/fruit diet whole day also would help the body to get cured itself. 

Avoid

 

  • Dairy products 
  • Smoking and alcohol 
  • Spicy foods. 

 Disclaimer
This is a general Recommendation only as the severity of your problem is not known. These treatments should be taken only on consultation with your doctor and this is for education purpose only. 

 



10:55 AM | 18-11-2019

हेलो,

कारण - Epididymitis-orchitis), अण्डकोषों की सूजन है, एपिडीडिमिस अण्डकोषों की पीठ पर कुंडली ट्यूब है| ज्यादातर मामलों में, संक्रमण इस सूजन का कारण बनता है|

ऑर्काइटिस अण्डकोषों का संक्रमण है, यह एपिडाइडाइमाइटिस से बहुत कम है ऑर्काइटिस आमतौर पर रक्त के माध्यम से वृषण के माध्यम से फैलता है| विषाणु आमतौर पर संक्रमण का कारण होता है|

 ई कोलाई जैसे आंतों के बैक्टीरिया, अक्सर एपिडिडाइमाइटिस का कारण होता है| बैक्टीरिया मूत्राशय या मूत्र पथ में कुछ अन्य क्षेत्रों से यात्रा करते हैं|

कई मामलों में, जन्म से संबंधित असामान्यता मूत्र पथ की संरचना या कार्य को प्रभावित करती है| ये असामान्यताएं मूत्र पथ के संक्रमण (यूटीआई) के जोखिम को बढ़ाती हैं| यूटीआई अंततः एपिडीडिमिस तक फैल सकता है|

शरीर में अम्ल की अधिकता से कोई भी संक्रमण होता है।

समाधान -  एक टब में पानी भरें। 500ml नीम के पत्तों का रस डालें और उसमें 20 मिनट के लिए बैठें।सुप्त मत्स्येन्द्रासन, धनुरासन, गोमुख आसन करें।

पश्चिमोत्तानासन, अर्धमत्स्येन्द्रासन, शवासन करें।

अनुलोम विलोम, भ्रामरी प्राणायाम करें।

10% कच्चे हरे पत्ते और सब्ज़ी का जूस बिना नमक निम्बू के लेना है।30% कच्चे सब्ज़ी का सलाद बिना नमक निम्बू के लेना है।10% ताज़ा नारियल सलाद में मिला कर लेना है। 20% फल को लें। पके हुए खाने को केवल एक बार खाएँ नमक भी केवल एक बार पके हुए खाने लें। पके हुए खाने में सब्ज़ी भाँप में पके हों और तेल घी रहित होना चाहिए सब्ज़ी की मात्रा 20% और millet या अनाज की मात्रा 10% हो। 

जीवन शैली -  आकाश तत्व - एक खाने से दुसरे खाने के बीच में अंतराल (gap) रखें।

फल के बाद 3 घंटे, सलाद के बाद 5 घंटे, और पके हुए खाने के बाद 12 घंटे का (gap) रखें।

वायु तत्व - प्राणायाम करें, आसन करें। दौड़ लगाएँ।

अग्नि - सूर्य की रोशनी लें।

जल - अलग अलग तरीक़े का स्नान करें। मेरुदंड स्नान, हिप बाथ, गीले कपड़े की पट्टी से पेट की गले और सर की 20 मिनट के लिए सेक लगाए। 

स्पर्श थरेपी करें। मालिश के ज़रिए भी कर सकते है। नारियल तेल से

घड़ी की सीधी दिशा (clockwise) में और घड़ी की उलटी दिशा (anti clockwise)में मालिश करें। नरम हाथों से बिल्कुल भी प्रेशर नहीं दें।

पृथ्वी - सुबह खीरे का जूस लें, खीरा 1/2 भाग + धनिया पत्ती (10 ग्राम) पीस लें, 100 ml पानी मिला कर पीएँ। यह juice आप कई प्रकार के ले सकते हैं। पेठे (ashguard ) का जूस लें और कुछ नहीं लेना है। नारियल पानी भी ले सकते हैं। बेल का पत्ता 8 से 10 पीस कर I100ml पानी में मिला कर पीएँ। खीरा 1/2 भाग + धनिया पत्ती (10 ग्राम) पीस लें, 100 ml पानी में मिला कर पीएँ। बेल पत्ता 8 से 10 पीस कर 100 ml पानी में मिला कर लें। दुब घास 25 ग्राम पीस कर छान कर 100 ml पानी में मिला कर पीएँ। कच्चे सब्ज़ी का जूस आपका मुख्य भोजन है। 2 घंटे बाद फल नाश्ते में लेना है। 

फल को चबा कर खाएँ। इसका juice ना लें। फल + सूखे फल नाश्ते में लें।

दोपहर के खाने में सलाद + नट्स और अंकुरित अनाज के लें। बिना नींबू और नमक के लें। स्वाद के लिए नारियल और herbs मिलाएँ।

रात के खाने में इस अनुपात से खाना खाएँ 2 कटोरी सब्ज़ी के साथ 1कटोरी चावल या 1रोटी लें। एक बार पका हुआ खाना रात को 7 बजे से पहले लें।ओ

सेंधा नमक केवल एक बार पके हुए खाने में लें। जानवरों से उपलब्ध होने वाले भोजन वर्जित हैं।

तेल, मसाला, और गेहूँ से परहेज़ करेंगे तो अच्छा होगा। चीनी के जगह गुड़ लें।

एक नियम हमेशा याद रखें ठोस(solid) खाने को चबा कर तरल (liquid) बना कर खाएँ। तरल  को मुँह में घूँट घूँट पीएँ। खाना ज़मीन पर बैठ कर खाएँ। खाते वक़्त ना तो बात करें और ना ही TV और mobile को देखें।ठोस  भोजन के तुरंत बाद या बीच बीच में जूस या पानी ना लें। भोजन हो जाने के एक घंटे बाद तरल पदार्थ  ले सकते हैं।

हफ़्ते में एक दिन उपवास करें। शाम तक केवल पानी लें, प्यास लगे तो ही पीएँ। शाम 5 बजे नारियल पानी और रात 8 बजे सलाद लें।

उपवास के अगले दिन किसी प्राकृतिक चिकित्सक के देख रेख में टोना लें। जिससे आँत की प्रदाह को शांत किया जा सके। एनिमा किट मँगा लें। यह किट ऑनलाइन मिल जाएगा। इससे 200ml पानी गुदाद्वार से अंदर डालें और प्रेशर आने पर मल त्याग करें। ऐसा दिन में दो बार करना है अगले 21 दिनों के लिए। ये करना है ताकि शरीर में मोजुद विषाणु निष्कासित हो जाये। इसके बाद हफ़्ते में केवल एक बार लेना है उपवास के अगले दिन। टोना का फ़ायदा तभी होगा जब आहार शुद्धि करेंगे।

धन्यवाद।

रूबी, 

प्राकृतिक जीवनशैली प्रशिक्षिका व मार्गदर्शिका (Nature Cure Guide & Educator)

 



10:55 AM | 18-11-2019

The inflammation is caused majorly due to a sluggish lymphatics and accumulation of toxins in the lymph nodes of the testicles. The cause is the same. Your body needs to start becoming more alkaline and get flushed as much as possible to reverse this condition. Should be ok within a month imo if lifestyle suggested is followed with discipline.

Immediately:- 

  1. Switch to only fruit and vegetable juices for 3 days. Can include tender coconut, sugarcane juice too. Pulp free. Drink when hungry and urinate as much as possible even if it’s painful. Over time it will reduce
  2. Keep a wet cloth on the scrotum and change every hour and continue to keep it wet. Continue this wet pack for 3-4 hrs daily or more
  3. After 3 days of juicing, add fruits for lunch and one green leaves smoothie of palak mint coriander chopped 3 cups and add a vegetable juice like cucumber and have once daily.

Like this stay on only raw for 10-15 days with 2-3 lts of juice and 1 meal fruits and 1 green smoothie 

Your problem should reduce in 15 days and then to avoid further complications and aid further cleanup of the body follow the following lifestyle for your whole life

Follow this :-

Morning on empty stomach 

  • Celery juice 500 ml filtered / ash gourd juice/cucumber juice/ Green juice with any watery vegetable like ashgourd /cucumber/ridge gourd/bottle gourd /carrot/beet with ginger and lime filtered/ tender coconut water or more pure veggie juice 

Afternoon from 12 :-  

  • A bowl of fruits - don’t mix melons and other fruits. Eat melons alone. Eat citrus alone 
  • Followed by a bowl of veg salad
  • Dinner 2-3 hrs before sleep with Gluten free, oilfree unpolished grains or dals 30% and 70% veggies. 
  • Please take enema for 30 days with Luke warm water and then slowly reduce the freq. this is not a substitute for daily nature call . Consult an expert as needed 
  • Include some exercises that involves moving all your parts ( neck , shoulder, elbows, wrist , hip bending twisting , squats, knees, ankles ) along with the 1 hr of workout when possible 
  • See if u can go to the morning sun for sometime in a day 30 mins atleast. 
  • Ensure that you are asleep between 10-2 which is when the body needs deep sleep. 

What to Avoid :- 

  • Avoid refined oils, fried food, packaged ready to eat foods, dairy in any form including ghee, refined salt and sugar, gluten, refined oils, meat, eggs, fish, coffee, tea, alcohol, oils in any form
  • Avoid mental stress by not thinking about things you cannot control. The present is inevitable. Future can be planned. Stay happy. Happiness is only inside yourself. The world around you is a better place if you learn to stay happy inside yourself. Reach us if you need more help in this area. Emotional stress can cascade the effects. Thank your body and love it

Be blessed. 

Smitha Hemadri (educator of natural healing practices)

 

 


Wellcure
'Come-In-Unity' Plan