Q&A
03:09 PM | 16-11-2019

Hi, I got miscarriage in 8 month of pregnancy when I did torch test I found Rubella infection. Dr. Said miscarriage happen due to this infection. Now what should I do? When can I plan my next pregnancy?


Post as Anonymous User
3 Answers

09:23 AM | 18-11-2019

हेलो,

कारण - रुबेला एक संक्रामक रोग है। जो जीन्स रुबिवायरस के वायरस द्वारा होता है। हालांकि रुबेला को कभी-कभी “जर्मन खसरा” भी कहते हैं।

गर्भपात एक पीड़ा दायक घटना है जो शरीर मानसिक और शारीरिक रूप से कमज़ोर करती है।

शरीर में कोई संक्रमण तभी होता जब की शरीर को पोषक तत्व की कमी से गुज़रना पड़ता है। शरीर में अम्ल की अधिकता हो जाती है। इस स्तिथि में सेल्फ़ हीलिंग मैकनिज्म ठीक से काम नहीं करता है।

समाधान -  भ्रामरी प्राणायाम,ताड़ासन, नटराजासन

वृक्षासन,हस्तपादासन, सर्वांगासन, हलासन, पवन-मुक्तासन, अनुलोम-विलोम प्राणायाम करें।

प्रतिदिन आप ख़ुद को प्यार दें अपने बारे में 10 अच्छी बातें कोरे काग़ज़ पर लिख कर और प्रकृति को अपने होने का धन्यवाद दें।

मानसिक समस्या भी इसी शरीर की समस्या है सब कुछ इस बात पर निर्भर करता है कि हम किसी भी परिस्थिति में सकारात्मक सोंच रखते हैं या नकारात्मक।

प्राकृतिक जुड़ाव आपको सकारात्मक सोंच प्रदान करेंगी क्योंकि प्राकृतिक जीवन शैली अपने आप में पूर्ण भी है और जीवंत भी है। पाँच तत्व से प्रकृति चल रही है और उसी पाँच तत्व से हमारा शरीर चल रहा है।

 एक खाने से दूसरे खाने के बीच में विराम दें। रोज़ाना 15 घंटे का उपवास करें जैसे रात का भोजन 7 बजे तक कर लिया और सुबह का नाश्ता 9 बजे लें। वाद्य यंत्र शास्त्री संगीत (instrumental classical music)सुनें।

लंबा गहरा स्वाँस अंदर भरें और रुकें फिर पूरे तरीक़े से स्वाँस को ख़ाली करें रुकें फिर स्वाँस अंदर भरें ये एक चक्र हुआ। ऐसे 10 चक्र एक टाइम पर करना है। ये दिन में चार बार करें।

अपने कमरे में ख़ुशबू दार फूलों को रखें।

सूर्य उदय के एक घंटे बाद या सूर्य अस्त के एक घंटे पहले का धूप शरीर को ज़रूर लगाएँ। सर और आँख को किसी सूती कपड़े से ढक कर। जब भी लेंटे अपना दायाँ भाग ऊपर करके लेटें ताकि आपकी सूर्य नाड़ी सक्रिय रहे।

आकाश तत्व - एक खाने से दुसरे खाने के बीच में अंतराल (gap) रखें।

फल के बाद 3 घंटे, सलाद के बाद 5 घंटे, और पके हुए खाने के बाद 12 घंटे का (gap) रखें।

वायु तत्व - प्राणायाम करें, आसन करें। दौड़ लगाएँ।

अग्नि - सूर्य की रोशनी लें।

जल - अलग अलग तरीक़े का स्नान करें। मेरुदंड स्नान, हिप बाथ, गीले कपड़े की पट्टी से पेट की गले और सर की 20 मिनट के लिए सेक लगाए। 

स्पर्श थरेपी करें। मालिश के ज़रिए भी कर सकते है। नारियल तेल से

घड़ी की सीधी दिशा (clockwise) में और घड़ी की उलटी दिशा (anti clockwise)में मालिश करें। नरम हाथों से बिल्कुल भी प्रेशर नहीं दें।

पृथ्वी - सुबह खीरे का जूस लें, खीरा 1/2 भाग + धनिया पत्ती (10 ग्राम) पीस लें, 100 ml पानी मिला कर पीएँ। यह juice आप कई प्रकार के ले सकते हैं। पेठे (ashguard ) का जूस लें और कुछ नहीं लेना है। नारियल पानी भी ले सकते हैं। बेल का पत्ता 8 से 10 पीस कर I100ml पानी में मिला कर पीएँ। खीरा 1/2 भाग + धनिया पत्ती (10 ग्राम) पीस लें, 100 ml पानी में मिला कर पीएँ। बेल पत्ता 8 से 10 पीस कर 100 ml पानी में मिला कर लें। दुब घास 25 ग्राम पीस कर छान कर 100 ml पानी में मिला कर पीएँ। कच्चे सब्ज़ी का जूस आपका मुख्य भोजन है। 2 घंटे बाद फल नाश्ते में लेना है। 

फल को चबा कर खाएँ। इसका juice ना लें। फल + सूखे फल नाश्ते में लें।

दोपहर के खाने में सलाद + नट्स और अंकुरित अनाज के लें। बिना नींबू और नमक के लें। स्वाद के लिए नारियल और herbs मिलाएँ।

रात के खाने में इस अनुपात से खाना खाएँ 2 कटोरी सब्ज़ी के साथ 1कटोरी चावल या 1रोटी लें। एक बार पका हुआ खाना रात को 7 बजे से पहले लें।ओ

सेंधा नमक केवल एक बार पके हुए खाने में लें। जानवरों से उपलब्ध होने वाले भोजन वर्जित हैं।

तेल, मसाला, और गेहूँ से परहेज़ करेंगे तो अच्छा होगा। चीनी के जगह गुड़ लें।

एक नियम हमेशा याद रखें ठोस(solid) खाने को चबा कर तरल (liquid) बना कर खाएँ। तरल  को मुँह में घूँट घूँट पीएँ। खाना ज़मीन पर बैठ कर खाएँ। खाते वक़्त ना तो बात करें और ना ही TV और mobile को देखें।ठोस  भोजन के तुरंत बाद या बीच बीच में जूस या पानी ना लें। भोजन हो जाने के एक घंटे बाद तरल पदार्थ  ले सकते हैं।

हफ़्ते में एक दिन उपवास करें। शाम तक केवल पानी लें, प्यास लगे तो ही पीएँ। शाम 5 बजे नारियल पानी और रात 8 बजे सलाद लें।

उपवास के अगले दिन किसी प्राकृतिक चिकित्सक के देख रेख में टोना लें। जिससे आँत की प्रदाह को शांत किया जा सके। एनिमा किट मँगा लें। यह किट ऑनलाइन मिल जाएगा। इससे 200ml पानी गुदाद्वार से अंदर डालें और प्रेशर आने पर मल त्याग करें। ऐसा दिन में दो बार करना है अगले 21 दिनों के लिए। ये करना है ताकि शरीर में मोजुद विषाणु निष्कासित हो जाये। इसके बाद हफ़्ते में केवल एक बार लेना है उपवास के अगले दिन। टोना का फ़ायदा तभी होगा जब आहार शुद्धि करेंगे।

धन्यवाद।

रूबी, 

प्राकृतिक जीवनशैली प्रशिक्षिका व मार्गदर्शिका (Nature Cure Guide & Educator)



07:30 PM | 03-12-2019

To start with you should consult your gynecologist and know whether you are free from infection completely. Once you are completely free from infection. It is time to give your self a complete time to understand yourself. Whenever we are taking a step towards pregnancy you should at least start planning for three months with a diet and quality of lifestyle need to improve. A day filled with meditation, exercise and nutrition-rich food should be your priority.

Start your day with positive affirmation and 15 minutes positive meditation exercises. Include 45 minutes of brisk walking with a set of squats and Surya-namaskar and tone your body. Include a glass of vegetable juice like spinach, tomatoes, beetroot, coriander, bottle guard which will help in reviving your day.

Read books that enhance your mental strength and positivity. Continue your day with some nuts and dry fruits and keep the body hydrated with 3-4 liters of water consumption. When the mind, body, and soul are in co-ordination you will be ready for your pregnancy and increase your positive energy. A healthy mother will give birth to a healthy baby.

Thank you



07:28 PM | 03-12-2019

I am sorry for your loss. It's a very disturbing incident indeed.

Rubella, commonly known as German measles, is an infection that affects the skin and lymph nodes. It is named after a virus. Rubella is serious in pregnant women because of the effect it can have on an unborn child.

Viruses typically attack the body that is compromised and is not functioning effectively. Causes can be plenty. We have cases who have gone through a healthy pregnancy without any complications. So when we ask why did your body become host to a virus, the answer will be because the virus had its favorite foods to eat in the body - anything that the body could not expel. A virus needs a host to survive.

Animal protein and plant protein from meat, dairy, eggs fish and grains that do not get digested, become the cause of excess mucus buildup in the tissues and cavities of the body. This mucus build-up, with the trapped proteins, fills
interstitial areas as well as lymph nodes, sinus cavities, brain, lungs, and many other organs. The more animal protein you fill in your body, the more we open the invitation to the parasite kingdom - virus, bacteria, worms which typically love to feed on remains of the animal protein digestion.

To avoid similar issues in the future, you must clean the system thoroughly and flush the parasites out of the system by making your body highly alkaline. It is quite possible that similar issues can reoccur if you don't take precautions now. It is not about how long you can wait for the next pregnancy. It is how clean you become and then think of your baby in my opinion. Your reproductive system is doing its job, it will continue to do. The infection-causing lifestyle has to be changed today to change the future.

An alkaline raw diet till dinner with a whole food plant-based, glutenfree, oil-free dinner can help your baby in the future also. Your compromised body will transmit the infection to the child causing congenital issues too.

Morning on an empty stomach:

  • Celery juice 500 ml filtered / ash gourd juice/cucumber juice/ green juice with any watery vegetable like ash gourd /cucumber/ridge gourd/bottle gourd/carrot./ beet with ginger and lime filtered/ tender coconut water or more pure veggie juice.

Ensure for the whole day you drink 2-3 liters of pure liquids from plain water, fruits, vegetables, greens, and tender coconut sugarcane juices.

Afternoon from 12:-

  • A bowl of fruits - don’t mix melons and other fruits. Eat melons alone. Eat citrus fruits alone.

  • Followed by a bowl of vegetable salad.

  • Dinner 2-3 hrs before sleep with gluten-free, unpolished grains, cooked oil-free.

  • Please take enema for 30 days with lukewarm water and then slowly reduce the freq. this is not a substitute for a daily nature call. Consult an expert as needed.

  • Include some exercises that involve moving all your parts ( eyes, neck , shoulder, elbows, wrist, hip bending, twisting, squats, knees, ankles). This will help move the lymphatic system.

  • See if u can go to the morning sun for sometime in a day for 30 mins at least.

  • Ensure that you are asleep between 10-2 which is when the body needs deep sleep. You need a lot of rest to heal your eyes. Avoid a lot of screen time

What to Avoid - these foods cause inflation in the body

  • Avoid refined oils, fried food, packaged ready to eat foods, dairy in any form including ghee, refined salt, and sugar, gluten, refined oils, coffee, tea, alcohol, using oils in cooking.

  • Food touching Teflon, plastic, aluminum, copper. Use clay / cast iron / steel / glass.

  • Avoid mental stress by not thinking about things you cannot control. The present is inevitable. The future can be planned. Stay happy. Happiness is only inside yourself. The world around you is a better place if you learn to stay happy inside yourself. Reach us if you need more help in this area. Emotional stress can cascade the effects. Thank your body and love it. Letting go and surrendering to the universe is the key to tap the subconscious.

Be blessed.

Smitha Hemadri (educator of natural healing practices)


Wellcure
'Come-In-Unity' Plan