Q&A
01:39 PM | 25-11-2019

My cousin is suffering from mouth ulcer. Any remedy for the same?


Post as Anonymous User
7 Answers

09:17 PM | 03-12-2019

Hlw

Mouth ulcers are caused by various reasons like deficiency of vitamin b, any stomach related problems, constipation, eating of more spicy food, etc 

These ulcers can easily heal by home remedies which you can easily do at your home like 

  1. Chew Tulsi leaves and chameli leaves early morning. 
  2. Drink lukewarm water with lemon. 
  3. Drink aloe vera juice empty stomach it's good in healing properties. 
  4. Use aamla powder it's rich in vitamin c, good for the stomach. 
  5. Have a good amount of water daily. 
  6. Avoid spicy food, oily items, and outside food items. 
  7. Use turmeric powder for fast healing. 

Thanks 



08:31 PM | 25-11-2019

Mouth ulcers are caused as a form of inflammation of the mucous membrane of the oral cavity. This mucous membrane is the sensitive layer inside the mouth that is vulnerable to body heat, injuries or deficiency of Vitamin B that is why it is very important to keep vitamin B system in check as the deficiency may lead to recurrent canker sores.

These sores can be easily healed by following the correct diet and regime.

  • Munching on fruit and vegetable helps in strong dental and oral health as it gives enough vitamins and minerals to deal with the deficiency.
  • Continue eating seeds which are again a rich source of minerals and will help in dealing with mouth ulcers caused due to deficiencies.
  • Chew your food for a lot of time as the stimulation of digestive enzymes helps in reducing the episodes of mouth ulcers.

Home remedies to treat Mouth ulcers:

  • Applying honey on the affected area helps in reducing the effects of mouth ulcers.
  • Green vegetables are a rich source of Vitamin B this helps in reducing the episode of ulcers. Make spinach tomato juice to correct the acid-alkaline balance for better effects.
  • Coconut oil again helps in reducing the effects of the sores.
  • Having orange juice which is rich in Vitamin C also helps in dealing with mouth ulcers effectively.

Thank you.

 



07:35 PM | 03-12-2019

Hi 

Mouth ulcer occurs due to stress, lack of sleep, any stomach disorder, vitamin B and folic acid deficiency, intake of more spicy food items, improper oral hygiene, any food allergies.

It may be indicative of any stomach issues like IBS, Ulcer like peptic/gastric prolonged and frequent mouth ulcers to be observed and take care of properly.

Body heat due to the accumulation of phlegm and internal heat causes mouth ulcers. The heat production and over mucus, dampness, and wind leads to the occurrence of mouth ulcers. To remove the body heat, ulcers and access occur

  • To avoid take proper food at regular timings- Helps to avoid over secretion of digestive juices, improper food timing leads to disturbance in gastric secretion. 
  • Include more fruits and vegetables in your diet.  Especially green leafy vegetables- Vitamin C and Vitamin B complex helps to cure mouth ulcers.
  • Vitamin C rich fruits and vegetables are more effective.
  • Drink plenty of water. Keep your body hydrated. 
  • Apply honey in the affected area or mix turmeric honey it will help to reduce inflammation and aids in fast healing.
  • Swish/ gargle aloe Vera juice 2-3 times will help to treat mouth ulcer. Drinking aloe Vera juice on an empty stomach also more beneficial due to its anti-inflammatory and pain-relieving properties.
  • Chew few Tulsi leaves daily in the Morning and drink Lukewarm water.
  • Chewing fenugreek leaves also helps to heal mouth ulcers.
  • Rinse mouth with lukewarm saltwater helps to maintain oral hygiene and reduces pain and infection.
  • Consume overnight soaked dry fruits and nuts rich in antioxidants and essential fatty acids. 
  • Do regular yoga and physical exercises to keep your metabolism and absorption of proper nutrition helps to eliminate toxins properly. 
  • Do Sheetali and Sitkari pranayam. To reduce burning sensation and promote healing of mouth ulcer. 

Namasthe!



07:32 PM | 27-11-2019

नमस्ते,

भोजन में अधिकतर अम्लीय पदार्थ के सेवन की वजह से इनका पाचन, अवशोषण एवं मल का निष्कासन सुचारू रूप से नहीं होता जिससे दूषित पदार्थ आंत में ही सड़ने लगते हैं जिससे पाचन संबंधी समस्याएं उत्पन्न होती हैं, परिणाम स्वरूप मुंह में छाले दृष्टिगोचर होते हैं।

अधिक मात्रा में एंटीबॉयोटिक का इस्तेमाल करने से हमारी आंतों में लाभदायक कीटाणुओं की संख्या घट जाती है। नतीजतन मुँह में छाले पैदा हो जाते हैं। 

यदि दाँत आड़े-तिरछे, नुकीले या आधे टूटे हुए हैं और इसकी वजह से वे जीभ या मुँह में  चुभते हैं या उनसे लगातार रगड़ लगती रहती है, तो वहाँ छाले उत्पन्न हो जाते हैं। 

आपको निम्नलिखित जीवनशैली का पालन करना चाहिए-

  • नींद- रात्रि में 7 से 8 घंटे के लिए दवाई इससे शरीर से दूषित पदार्थ बाहर निकलते हैं, कोशिकाओं की टूट-फूट की मरम्मत होती है!
  •  प्रतिदिन प्रातः गुनगुने पानी , नींबू एवं शहद का सेवन करें इससे शरीर में अम्ल एवं क्षार का संतुलन बना रहता है।
  •  प्रतिदिन पालक, नारियल पानी ,संतरा या अनार के जूस का सेवन करें इससे शरीर में अम्ल एवं क्षार का संतुलन बना रहता है, दूषित पदार्थ बाहर निकलते हैं।
  • प्रारंभ में तीन से चार दिन उपवास रहें इससे शरीर से दूषित पदार्थ बाहर निकलते हैं, पाचन अंगों को आराम मिलता है।
  • दिनभर में दो बार छाले पर शहद लगाएं,शहद में एंटी-माइक्रोबियल गुण होते हैं , यह न सिर्फ छाले को ठीक कर सकता है, बल्कि छाले के जलन से भी त्वचा को आराम देगा,इसके लगातार उपयोग से छाले जल्दी ठीक हो सकते हैं।
  • दिनभर में हर एक घंटे में नारियल तेल को छाले पर लगाएं,नारियल का तेल अच्छा एंटीमाइक्रोबियल एजेंट है, इसमें ट्राइग्लिसराइड्स होता है, जो लॉरिक एसिड  और ओलिक एसिड की तरह काम करता है। ये दोनों एसिड वायरस को मार सकते हैं और छाले को जल्दी ठीक करते हैं।

 निषेध- जानवरों से प्राप्त भोज्य पदार्थ ,चाय ,काफी, चीनी ,मिठाईयां ,ठंडे पेय पदार्थ ,नशीली वस्तुएं ,गुटखा पान मसाला।



08:38 PM | 25-11-2019

Kindly remove dairy ( even powder milk is milk in another form, ghee, paneer, butter, curd ), sugar, and meat from ur lifestyle. Ulcers are the elimination of an acidic stomach and inefficiently digested meal over long periods of time. Possible constipation might also be there. An unclean gut ( stomach- rectum) is a big reason for mouth ulcers. U have to remove animal products immediately, reduce oils or avoid cooking with it.

Mouth ulcers are a mirror reflection of your GUT health. The cleaner your GUT, the cleaner is the health of your mouth / the smell, etc. The more acidic the gut, then ulcers tend to keep coming. It’s a way to eliminate the pus from the body. If you are a non-vegan who consumes animal products, that’s your first step - avoid consuming any food that has an ingredient that came from an animal ( dairy, meat, eggs, fish, and honey ), remove sugar, maida, wheat, corn, and soy. Avoid fermented foods for few months.

Gargle the mouth with ash gourd juice 3-4 times a day. If this is not available then cucumber juice can be used to gargle or rinse the mouth. If you see the Durva grass or the one they use for Ganesh Pooja, u can grind and use that for rinsing mouth too. Saltwater rinsing is also going to help. This is only for the relief of pains of the ulcers. Overtime focus on consumption of raw food to reduce or prevent ulcers. Avoid caffeine and tea.

Start having a big glass of cucumber juice in the morning upon waking daily with some lemon juice in it and then followed by a big bowl of fruits.

Apply a cold wet towel on ur abdomen for 20 mins per day.

Be blessed

Smitha Hemadri ( Educator of natural healing practices)



08:29 PM | 25-11-2019

हेलो,

कारण - पुराने क़ब्ज़, तीखा खानपान, रोग प्रतिरोधक क्षमता प्रणाली में गड़बड़ी और विटामिन और मिनरलस की कमी के कारण ऐसा हो सकता है।

समाधान - पिसा हुआ अमरूद के पत्ते को मुँह में 20 मिनट के लिए रखें।

शीतलि प्राणायाम करें, अनुलोम विलोम करें।

खाना खाने से एक घंटे पहले नाभि के ऊपर गीला सूती कपड़ा लपेट कर रखें या खाना के 2 घंटे बाद भी ऐसा कर सकते हैं।

नीम के पत्ते का पेस्ट अपने नाभि पर रखें। 20मिनट तक रख कर साफ़ कर लें।

जीवन शैली-  1आकाश तत्व - एक खाने से दुसरे खाने के बीच में अंतराल (gap) रखें।

फल के बाद 3 घंटे, सलाद के बाद 5 घंटे, और पके हुए खाने के बाद 12 घंटे का (gap) रखें।

2.वायु तत्व - प्राणायाम करें, आसन करें। दौड़ लगाएँ।

3.अग्नि - सूर्य की रोशनी लें।

4.जल - अलग अलग तरीक़े का स्नान करें। मेरुदंड स्नान, हिप बाथ, गीले कपड़े की पट्टी से पेट की गले और सर की 20 मिनट के लिए सेक लगाए। 

स्पर्श थरेपी करें। मालिश के ज़रिए भी कर सकते है। नारियल तेल से

घड़ी की सीधी दिशा (clockwise) में और घड़ी की उलटी दिशा (anti clockwise)में मालिश करें। नरम हाथों से बिल्कुल भी प्रेशर नहीं दें।

5.पृथ्वी - सुबह खीरा 1/2 भाग + धनिया पत्ती (10 ग्राम) पीस लें, 100 ml पानी मिला कर पीएँ। यह juice आप कई प्रकार के ले सकते हैं। पेठे (ash guard ) का जूस लें और कुछ नहीं लेना है। नारियल पानी भी ले सकते हैं। पालक  पत्ते धो कर पीस कर 100ml पानी डाल पीएँ। दुब घास 25 ग्राम पीस कर छान कर 100 ml पानी में मिला कर पीएँ। कच्चे सब्ज़ी का जूस आपका मुख्य भोजन है। 2 घंटे बाद फल नाश्ते में लेना है। फल को चबा कर खाएँ। इसका juice ना लें। फल + सूखे फल नाश्ते में लें।

दोपहर के खाने में सलाद + नट्स और अंकुरित अनाज के साथ  सलाद में हरे पत्तेदार सब्ज़ी को डालें और नारियल पीस कर मिलाएँ। कच्चा पपीता 50 ग्राम कद्दूकस करके डालें। कभी सीताफल ( yellow pumpkin)50 ग्राम ऐसे ही डालें। कभी सफ़ेद पेठा (ash guard) 30 ग्राम कद्दूकस करके डालें। ऐसे ही ज़ूकीनी 50 ग्राम डालें।कद्दूकस करके डालें।कभी काजू बादाम अखरोट मूँगफली भिगोए हुए पीस कर मिलाएँ। लाल, हरा, पीला शिमला मिर्च 1/4 हिस्सा हर एक का मिलाएँ। लें। बिना नींबू और नमक के लें। स्वाद के लिए नारियल और herbs मिलाएँ।

रात के खाने में इस अनुपात से खाना खाएँ 2 कटोरी सब्ज़ी के साथ 1कटोरी चावल या 1रोटी लेएक बार पका हुआ खाना रात को 7 बजे से पहले लें।

6.सेंधा नमक केवल एक बार पके हुए खाने में लें। जानवरों से उपलब्ध होने वाले भोजन वर्जित हैं।

तेल, मसाला, और गेहूँ से परहेज़ करेंगे तो अच्छा होगा। चीनी के जगह गुड़ लें।

7.एक नियम हमेशा याद रखें ठोस(solid) खाने को चबा कर तरल (liquid) बना कर खाएँ। तरल  को मुँह में घूँट घूँट पीएँ। खाना ज़मीन पर बैठ कर खाएँ। खाते वक़्त ना तो बात करें और ना ही TV और mobile को देखें।ठोस  भोजन के तुरंत बाद या बीच बीच में जूस या पानी ना लें। भोजन हो जाने के एक घंटे बाद तरल पदार्थ  ले सकते हैं।

हफ़्ते में एक दिन उपवास करें। शाम तक केवल पानी लें, प्यास लगे तो ही पीएँ। शाम 5 बजे नारियल पानी और रात 8 बजे सलाद लें।

8.उपवास के अगले दिन किसी प्राकृतिक चिकित्सक के देख रेख में टोना लें। जिससे आँत की प्रदाह को शांत किया जा सके। एनिमा किट मँगा लें। यह किट ऑनलाइन मिल जाएगा। इससे 200ml पानी गुदाद्वार से अंदर डालें और प्रेशर आने पर मल त्याग करें। ऐसा दिन में दो बार करना है अगले 21 दिनों के लिए। ये करना है ताकि शरीर में मोजुद विषाणु निष्कासित हो जाये। इसके बाद हफ़्ते में केवल एक बार लेना है उपवास के अगले दिन। टोना का फ़ायदा तभी होगा जब आहार शुद्धि करेंगे।

धन्यवाद।

रूबी, 

प्राकृतिक जीवनशैली प्रशिक्षिका व मार्गदर्शिका (Nature Cure Guide & Educator)



05:09 PM | 25-11-2019

Hi. Please follow the thread to a previous query regarding mouth ulcers where many users have shared their inputs. Click here.

Regards
Team Wellcure


Wellcure
'Come-In-Unity' Plan