Q&A
11:54 AM | 27-12-2019

I am 43 years old male suffering from tsh thyroid. Stimulating hormone levels high to 18 to 30 to 45. How to control tsh to normal levels, I have single kidney functioning in my body. Can you pls give natural remedy?


The answers posted here are for educational purposes only. They cannot be considered as replacement for a medical 'advice’ or ‘prescription’. ...The question asked by users depict their general situation, illness, or symptoms, but do not contain enough facts to depict their complete medical background. Accordingly, the answers provide general guidance only. They are not to be interpreted as diagnosis of health issues or specific treatment recommendations. Any specific changes by users, in medication, food & lifestyle, must be done through a real-life personal consultation with a licensed health practitioner. The views expressed by the users here are their personal views and Wellcure claims no responsibility for them.

Read more
Post as Anonymous User
4 Answers

07:38 PM | 27-12-2019

The only way to control the TSH levels is to adapt to a healthy lifestyle, with the start of exercising daily can help in regularising the mechanism of hormonal functions. With the inclusion of dietary substances mentioned below, it can be helped with both kidney functioning and hormonal balance. 

1. Include seeds in the diet, this helps in both the functions, kidney and thyroid as it helps in giving body required vitamins.

2. Nuts have the appropriate amount of fats, the grease will help in dealing with easy functioning.

3. Vitamin C high in an anti-oxidant reaction which helps in both anti-radical reaction, the thyroid mechanism becomes smoother with the action of Vitamin C.

Thank you



03:37 PM | 30-12-2019

Hi.

You can control TSH by proper diet and by practising specific Yogasanas.

To control TSH level naturally stick with a healthy diet and physical activities like walking, jogging, swimming and Yoga etc.

To be avoided:

  • Avoid coffee and tea.
  • Avoid fatty,  fried and preserved food items. 
  • Avoid goitrogenic foods, like cabbage,  broccoli, cauliflower,  sweet potatoes, peach, strawberry etc. 
  • Avoid stress by doing Yoga and meditation.

To be followed:

  • Maintain a healthy weight helps to control and maintain TSH and prevent thyroid disorders.
  • Include gluten-free grains and seeds in diet, brown rice, chia seeds, flax seeds and quinoa. 
  • Take regular sleep of 7-8 hrs. 
  • Maintain a low carbohydrate diet.
  • Regular neck exercise helps for the normal function of thyroid gland.
  • Practice asana especially Sarvangasana, sethu bandhasana, Halasana, dhanurasana, bhujangasan, matsyasana, matsyendrasana chakrasana. 
  • Practice pranayam like nadi shuddhi,  Ujjayi and Bhramari. 

Namasthe!



02:51 PM | 31-12-2019

Dear health seeker Sudheer, your health issues of thyroid can be radically cured by following a hygienic lifestyle wherein you will have to leave alone the foods and habits that have landed you in this condition, Secondly, as per your narrative you only have one kidney functioning that too is a cause of concern and implies that you have to be extra careful about your lifestyle which should from hereon be highly disciplined to the core. 
      Let me tell you that there is no disease only lower level of health which can be reversed back to health provided you follow the eternal laws of nature governing our organism and what are these laws.?

please follow as under:- 
 Out of the four eliminating organs viz, skin, bowels, urine and breathing, health of skin plays very important role in eliminating laid down toxins in the body and if the health of the skin is sluggish it means elimination is lagging behind, and will ultimately result in many health issues over a long period, pimples are also an aftermath of sluggish skin health. All-out efforts to be taken to make all the eliminating organs work at the optimum, for as to achieve please follow as under:- 

  1. .Ensure to eat only when sufficient true hunger is there to digest the food eaten. We must eat to live and not live to eat. 
  2. As a  start, drink any alkaline juice either of the following, ash gourd, bilva patra, banana pith. 
  3. Sunbathing in the early morning sun for  25 minutes, followed by a spinal bath or full bath. 
  4. Some simple yogic asanas. 
  5. A  wet pack over the abdomen for 20 minutes. 
  6. Fruit salads or vegetable salads for breakfast. 
  7. Conservatively cooked vegetables and raw salads with enough coconut scrappings in lunch. 
  8. Fruit juice at or around 4 PM if there's a sufficiency of hunger, if not then avoid. 
  9. Conservatively cooked vegetables plus one or two roti or small quantity of rice in dinner. 
  10. Abdomen wet pack for 20 minutes twice in the day. 
  11.  Needless to mention that avoid all enervating foods tea and coffee, processed, manufactured, preserved foods, all animal products flesh foods, etc.and stop using any medication forthwith. 
  12. Apply a wet pack over and around your neck, and some neck exercises will prove to be very helpful in riding over your TSH, thyroid gland problems. 

     V.S.Pawar   Member Indian institute of natural therapeutics.    



08:54 PM | 27-12-2019

हेलो,

कारण- थाइरॉड और किड्नी की समस्या का मूल कारण ख़राब हाज़मा है। शरीर में अम्ल की अधिकता के कारण थाइरॉड ग्लैंड में दोष उत्पन्न होता है। 

खाने में नमक मात्रा को कम करें। रक्त के संचार को ठीक रखें जिससे की किड्नी पर प्रेशर ना पड़े।ऐसा आहार शुद्धि और जीवन शैली में परिवर्तन करके बहुत आसानी से किया जा सकता है।

समाधान - उज्जायी प्राणायाम करें। 

गले पर खीरा और नीम के पत्ते पेस्ट लगाएँ। 20 मिनट के बाद साफ़ कर लें। इससे थाइरॉड ठीक होगा।

लंबा गहरा स्वाँस अंदर भरें और रुकें। इसके बाद फिर पूरे तरीक़े से स्वाँस को ख़ाली करें, रुकें, फिर स्वाँस अंदर भरें। ये एक चक्र हुआ। ऐसे 10 चक्र एक समय पर करना है। ये दिन में चार बार करें। 

खाना खाने से एक घंटे पहले नाभि के ऊपर गीला सूती कपड़ा लपेट कर रखें या खाना के 2 घंटे बाद भी ऐसा कर सकते हैं। 

नीम के पत्ते का पेस्ट अपने नाभि पर रखें। 20मिनट तक रख कर साफ़ कर लें। ऐसा करने से 

हाज़मा को ठीक होगा।

मेरुदंड स्नान के लिए अगर टब ना हो तो एक मोटा तौलिया गीला कर लें बिना निचोरे उसको बिछा लें और अपने मेरुदंड को उस स्थान पर रखें।

मेरुदंड (स्पाइन) सीधा करके बैठें। हमेशा इस बात ध्यान रखें और हफ़्ते में 3 दिन मेरुदंड का स्नान करें। 

किड्नी को स्वास्थ देगा। रक्त संचार को ठीक कर देगा। 

जीवन शैली-  1आकाश तत्व - एक खाने से दुसरे खाने के बीच में अंतराल (gap) रखें।

फल के बाद 3 घंटे, सलाद के बाद 5 घंटे, और पके हुए खाने के बाद 12 घंटे का (gap) रखें।

2.वायु तत्व - प्राणायाम करें, आसन करें। दौड़ लगाएँ।

3.अग्नि - सूर्य की रोशनी लें।

4.जल - अलग अलग तरीक़े का स्नान करें। मेरुदंड स्नान, हिप बाथ, गीले कपड़े की पट्टी से पेट की गले और सर की 20 मिनट के लिए सेक लगाए। 

स्पर्श थरेपी करें। मालिश के ज़रिए भी कर सकते है। नारियल तेल से

घड़ी की सीधी दिशा (clockwise) में और घड़ी की उलटी दिशा (anti clockwise)में मालिश करें। नरम हाथों से बिल्कुल भी प्रेशर नहीं दें।

5.पृथ्वी - सुबह खीरा 1/2 भाग + धनिया पत्ती (10 ग्राम) पीस लें, 100 ml पानी मिला कर पीएँ। यह juice आप कई प्रकार के ले सकते हैं। पेठे (ash guard ) का जूस लें और कुछ नहीं लेना है। नारियल पानी भी ले सकते हैं। पालक  पत्ते धो कर पीस कर 100ml पानी डाल पीएँ। दुब घास 25 ग्राम पीस कर छान कर 100 ml पानी में मिला कर पीएँ। कच्चे सब्ज़ी का जूस आपका मुख्य भोजन है। 2 घंटे बाद फल नाश्ते में लेना है।  फल को चबा कर खाएँ। इसका juice ना लें। फल + सूखे फल नाश्ते में लें।

दोपहर के खाने में सलाद + नट्स और अंकुरित अनाज के साथ  सलाद में हरे पत्तेदार सब्ज़ी को डालें और नारियल पीस कर मिलाएँ। कच्चा पपीता 50 ग्राम कद्दूकस करके डालें। कभी सीताफल ( yellow pumpkin)50 ग्राम ऐसे ही डालें। कभी सफ़ेद पेठा (ash guard) 30 ग्राम कद्दूकस करके डालें। ऐसे ही ज़ूकीनी 50 ग्राम डालें।कद्दूकस करके डालें।कभी काजू बादाम अखरोट मूँगफली भिगोए हुए पीस कर मिलाएँ। लाल, हरा, पीला शिमला मिर्च 1/4 हिस्सा हर एक का मिलाएँ। लें। बिना नींबू और नमक के लें। स्वाद के लिए नारियल और herbs मिलाएँ।

रात के खाने में इस अनुपात से खाना खाएँ 2 कटोरी सब्ज़ी के साथ 1कटोरी चावल या 1रोटी लेएक बार पका हुआ खाना रात को 7 बजे से पहले लें।

6.सेंधा नमक केवल एक बार पके हुए खाने में लें। जानवरों से उपलब्ध होने वाले भोजन वर्जित हैं।

तेल, मसाला, और गेहूँ से परहेज़ करेंगे तो अच्छा होगा। चीनी के जगह गुड़ लें।

7.एक नियम हमेशा याद रखें ठोस(solid) खाने को चबा कर तरल (liquid) बना कर खाएँ। तरल  को मुँह में घूँट घूँट पीएँ। खाना ज़मीन पर बैठ कर खाएँ। खाते वक़्त ना तो बात करें और ना ही TV और mobile को देखें।ठोस  भोजन के तुरंत बाद या बीच बीच में जूस या पानी ना लें। भोजन हो जाने के एक घंटे बाद तरल पदार्थ  ले सकते हैं।

हफ़्ते में एक दिन उपवास करें। शाम तक केवल पानी लें, प्यास लगे तो ही पीएँ। शाम 5 बजे नारियल पानी और रात 8 बजे सलाद लें।

8.उपवास के अगले दिन किसी प्राकृतिक चिकित्सक के देख रेख में टोना लें। जिससे आँत की प्रदाह को शांत किया जा सके। एनिमा किट मँगा लें। यह किट ऑनलाइन मिल जाएगा। इससे 200ml पानी गुदाद्वार से अंदर डालें और प्रेशर आने पर मल त्याग करें। ऐसा दिन में दो बार करना है अगले 21 दिनों के लिए। ये करना है ताकि शरीर में मोजुद विषाणु निष्कासित हो जाये। इसके बाद हफ़्ते में केवल एक बार लेना है उपवास के अगले दिन। टोना का फ़ायदा तभी होगा जब आहार शुद्धि करेंगे।

धन्यवाद।

रूबी, 

प्राकृतिक जीवनशैली प्रशिक्षिका व मार्गदर्शिका (Nature Cure Guide & Educator)


Scan QR code to download Wellcure App
Wellcure
'Come-In-Unity' Plan