Q&A
10:01 AM | 09-01-2020

I have been having intermittent ear pain in and around my ears for more than a month. I consulted an ENT doctor, who asked me to get a CT SCAN done. The report was normal. I was asked to consult a neurologist. He told me that the pain was due to stress and prescribed me mild sedatives following which the pain stopped for 10 days. But, since past 3 to 4 days, the pain has again reappeared. Any help?


Post as Anonymous User
5 Answers

09:34 PM | 09-01-2020

Hello Rajeshwari,

Now that we are sure that the reason is Stress, let us deal with it. With Stress, it becomes important to find out the cause. Time management or priority basis issue which can be resolved simply. With diet and exercise both, you can simply deal with stress.

Meditation aids in stress management. The best way to start meditation is listening to music which will help in building concentration and relax your muscles. There are deep relaxation techniques also available which calms you down. Walking on grass barefoot helps a lot in relieving the muscles of your legs.

Essential Oils like lavender, lime, and orange, inhaling them thrice a day will assist you to better health.

Thank you



07:39 PM | 14-01-2020

Don't lose heart. Possible initial stages of TMJ. The temporomandibular joint is the area just in front of your ear, where the lower jaw connects to the side of your skull. The joint comprises a complex system of muscles, ligaments, bones and cartilage discs that act together as a hinge and enable you to move your lower jaw forward, backward and side-to-side. Any situation that causes the jaw to malfunction is got its name, and its symptoms can carry discomfort to the ear canal.TMJ ear pain might be a dull, ongoing irritation or it could be a sharp pain. It may even cause minor spasms in some of the muscles that comprise your face around the ears. Although this pain affects the tissues covering the joint just around your ear, you might also feel it in the surrounding facial area along the side of your head, neck, temple, cheek, lower jaw, and teeth.

Spasms happen in the muscles in any part of the body. Pains in the cervical discs also happen for the same reason. When the nerve force electrical signals get exposed to the muscles, then spasms and sharp pains can occur. Tissues and muscles become weaker majorly in joints because of possible inflammation.

Inflammation happens because of the acidic lifestyle consisting of dairy, eggs, meat, fish, processed and refined foods. Anything that is not fruit, veggies, or greens make the body acidic. To protect itself from that, the body goes through all kinds of circus and mitigation steps to manage which leads to inflammation.

Lead a healthy plant-based lifestyle with full raw foods for 10-15 days with lots of fluids and then add only cooked for dinner without oil and gluten. You must be fine in a month or two with lesser episodes as time progresses.

If you need to consult with me personally, reach me here -https://rzp.io/l/1LR1mH1

Be blessed.

Smitha Hemadri (educator of natural healing practices)



06:13 PM | 10-01-2020

I would like to know more. 



05:41 PM | 10-01-2020

हेलो,

कारण - म्यूकुस के कारण कान का दर्द हो सकता है।

शरीर में अम्ल की अधिकता संक्रमण और दर्द कारण है। प्राकृतिक जीवन शैली अपनाने से ये ठीक हो जाएगा।

समाधान - अनुलोम विलोम, भ्रामरी प्राणायाम करें।

सूर्य नमस्कार 5 बार करें। दुध या दुध से बना कोई चीज़ ना लें।

 नीम के पत्ते का और खीरा पेस्ट अपने पेट पर रखें। 20मिनट तक रख कर साफ़ कर लें।

नीम के तेल को कान में ड्रोपर के मदद से डालें।

जीवन शैली-  1आकाश तत्व - एक खाने से दुसरे खाने के बीच में अंतराल (gap) रखें।

फल के बाद 3 घंटे, सलाद के बाद 5 घंटे, और पके हुए खाने के बाद 12 घंटे का (gap) रखें।

2.वायु तत्व - प्राणायाम करें, आसन करें। दौड़ लगाएँ।

3.अग्नि - सूर्य की रोशनी लें।

4.जल - अलग अलग तरीक़े का स्नान करें। मेरुदंड स्नान, हिप बाथ, गीले कपड़े की पट्टी से पेट की गले और सर की 20 मिनट के लिए सेक लगाए। 

स्पर्श थरेपी करें। मालिश के ज़रिए भी कर सकते है। नारियल तेल से

घड़ी की सीधी दिशा (clockwise) में और घड़ी की उलटी दिशा (anti clockwise)में मालिश करें। नरम हाथों से बिल्कुल भी प्रेशर नहीं दें।

5.पृथ्वी - सुबह खीरा 1/2 भाग + धनिया पत्ती (10 ग्राम) पीस लें, 100 ml पानी मिला कर पीएँ। यह juice आप कई प्रकार के ले सकते हैं। पेठे (ash guard ) का जूस लें और कुछ नहीं लेना है। नारियल पानी भी ले सकते हैं। पालक  पत्ते धो कर पीस कर 100ml पानी डाल पीएँ। दुब घास 25 ग्राम पीस कर छान कर 100 ml पानी में मिला कर पीएँ। कच्चे सब्ज़ी का जूस आपका मुख्य भोजन है। 2 घंटे बाद फल नाश्ते में लेना है। फल को चबा कर खाएँ। इसका juice ना लें। फल + सूखे फल नाश्ते में लें।

दोपहर के खाने में सलाद + नट्स और अंकुरित अनाज के साथ  सलाद में हरे पत्तेदार सब्ज़ी को डालें और नारियल पीस कर मिलाएँ। कच्चा पपीता 50 ग्राम कद्दूकस करके डालें। कभी सीताफल ( yellow pumpkin)50 ग्राम ऐसे ही डालें। कभी सफ़ेद पेठा (ash guard) 30 ग्राम कद्दूकस करके डालें। ऐसे ही ज़ूकीनी 50 ग्राम डालें।कद्दूकस करके डालें।कभी काजू बादाम अखरोट मूँगफली भिगोए हुए पीस कर मिलाएँ। लाल, हरा, पीला शिमला मिर्च 1/4 हिस्सा हर एक का मिलाएँ। लें। बिना नींबू और नमक के लें। स्वाद के लिए नारियल और herbs मिलाएँ।

रात के खाने में इस अनुपात से खाना खाएँ 2 कटोरी सब्ज़ी के साथ 1कटोरी चावल या 1रोटी लेएक बार पका हुआ खाना रात को 7 बजे से पहले लें।

6.सेंधा नमक केवल एक बार पके हुए खाने में लें। जानवरों से उपलब्ध होने वाले भोजन वर्जित हैं।

तेल, मसाला, और गेहूँ से परहेज़ करेंगे तो अच्छा होगा। चीनी के जगह गुड़ लें।

7.एक नियम हमेशा याद रखें ठोस(solid) खाने को चबा कर तरल (liquid) बना कर खाएँ। तरल  को मुँह में घूँट घूँट पीएँ। खाना ज़मीन पर बैठ कर खाएँ। खाते वक़्त ना तो बात करें और ना ही TV और mobile को देखें।ठोस  भोजन के तुरंत बाद या बीच बीच में जूस या पानी ना लें। भोजन हो जाने के एक घंटे बाद तरल पदार्थ  ले सकते हैं।

हफ़्ते में एक दिन उपवास करें। शाम तक केवल पानी लें, प्यास लगे तो ही पीएँ। शाम 5 बजे नारियल पानी और रात 8 बजे सलाद लें।

8.उपवास के अगले दिन किसी प्राकृतिक चिकित्सक के देख रेख में टोना लें। जिससे आँत की प्रदाह को शांत किया जा सके। एनिमा किट मँगा लें। यह किट ऑनलाइन मिल जाएगा। इससे 200ml पानी गुदाद्वार से अंदर डालें और प्रेशर आने पर मल त्याग करें। ऐसा दिन में दो बार करना है अगले 21 दिनों के लिए। ये करना है ताकि शरीर में मोजुद विषाणु निष्कासित हो जाये। इसके बाद हफ़्ते में केवल एक बार लेना है उपवास के अगले दिन। टोना का फ़ायदा तभी होगा जब आहार शुद्धि करेंगे।

धन्यवाद।

रूबी, 

प्राकृतिक जीवनशैली प्रशिक्षिका व मार्गदर्शिका (Nature Cure Guide & Educator)



04:34 PM | 09-01-2020

Dear Rajeshwari

As per Nature Cure, your permanent solution lies in solving the problem at its root cause. Medicines only suppress symptoms and that’s why disease returns when you stop medicines. 

We suggest you make lifestyle changes to align with Natural Laws. You can explore our Nature-Nurtures Program that helps you in making the transition, step by step. Our Natural Health Coach can look into your routine in a comprehensive way and give you an action plan. We will guide you on diet, sleep, exercise, stress to correct your existing routine & make it in line with Natural Laws. Please let us know if you are keen to explore. 

Regds
Team Wellcure 


Wellcure
'Come-In-Unity' Plan