Q&A
03:11 PM | 13-01-2020

How can I increase haemoglobin content in blood naturally? Doctors have prescribed iron and folic acid tablets. Are there any natural remedies?

Post as Anonymous User
6 Answers

06:45 PM | 15-01-2020

Consuming dates, jaggery, sprouts, legumes, and green leafy vegetables have iron content in a good amount. Adding Vitamin C  with food items rich in iron, for example, add lemon to your legumes will help in iron absorption in your diet.

Thank you



07:32 PM | 13-01-2020

Dear health seeker, 

In basic nature cure, we try to raise the overall health of the patient  for us there is no disease only diminished health level which can be reversed back to health and normalcy, loss of haemoglobin or lack of it can be  brought back to not only normalcy but your general health level would be  much better ." Ill can be well, well can become better, and better still better ".

  • The major issue with our sisters and mothers is that they have little or no exposure to the sun, which is the sole provider of vitamin D, so very essential for raising the haemoglobin count 
  • Therefore  bask in the sun daily for at least 30 to 40 minutes  wearing white cotton clothes to allow the rays to interact with the ergesterol of the skin and provide vitamin D
  • Drink  a glass of carrots and beetroot juice twice 
  • Include lots of green leafy vegetables cooked conservatively without oil spices and condiments 
  • Eat   seasonal of fruits, dates  figs and  iron-rich sugar cane juice and other fruits juices, in limited quantities so as not to topple the vitality 
  • Have abdominal wet pack for 20 minutes twice 
  • Put on cotton clothes 
  • Do not use any soap which washes away the ergosterol,  instead of a bath with some herbal preparation, reetha , besan shikakai etc. 

With this natural program, your haemoglobin level will normalize and you will be pretty healthy again 

Wishing you all the health 

V.S.Pawar                                      Member Indian institute of natural therapeutics 

 



11:12 AM | 17-01-2020

Hi,

We would like to guide you to the following resources:

  1. Read answers to a previous query related to haemoglobin, here
  2. Read this article - Deficiency: a nature's explanation

Making lifestyle changes to align with Natural Laws will help you reclaim your health. You can explore our Nature-Nurtures Program that helps you in making the transition, step by step. Our Natural Health Coach can look into your routine in a comprehensive way and give you an action plan. We will guide you



11:06 AM | 17-01-2020

Hi, 

  • Hemoglobin (HB)  is an important component present in the blood.  Which helps to carry oxygen throughout the body. 
  • Normal range is 14-18 g/dl in male and 12-16 d/dl in Women. 
  • Decreased HB level leads to weakness, fatigue, headaches and leads to anaemia.
  • It's advised to take natural food items which are rich in iron,  vitamin B and vitamins C which are having a vital role in haemoglobin production.
  • Take iron-rich vegetables like spinach,  asparagus, drumstick leaves, fenugreek leaves, beetroot etc. 
  • Take fruits like dates, pomegranate, apricot, papaya, berries etc. 
  • Dry fruits like almonds, pumpkin seeds, dried beans, sesame seeds etc. 
  • Take vitamin C rich food items like Amla, oranges, lemon etc. 
  • Folic acid rich food items like green leafy vegetables, sprouts, bananas, peanuts and broccoli.
  • Avoid tea and coffee which contains tannins.
  • Avoid fatty and spicy food items.

Namasthe!

 



07:18 PM | 13-01-2020

हेलो,

कारण -लाल रक्त कोशिकाओं का क्षय अम्ल की अधिकता और ऑक्सिजन की कमी के कारण होता है। हमारे शरीर का बनावट इस तरीक़े से है कि कोई भी विटामिन की कमी नहीं हो सकती है। शरीर में  अम्ल अधिक होने से ऐसा होता है। जो भी खाना देर तक पचता नहीं हैं वह शरीर के ऊर्जा को अधिक ख़र्च करता है। शरीर में अधिक अम्ल बनाता है जो की शरीर में मौजूद विटामिन पर एक आवरण बना लेता है जैसे संघनन की क्रिया से पानी का भाँप बादल बन जाता है आसमान में तो सूर्य को भी छुपा देता है। 

प्राकृतिक जीवन शैली अपनाकर शरीर की अम्ल के मात्रा को कम करें रक्त कोशिकाएँ बढ़ने लगेगी।

समाधान - प्रतिदिन चुकन्दर 25g + पान का पत्ता 1/2 को डाल कर पीस लें। 150ml पानी डाल कर बिना छाने पीएँ।

सूर्य नमस्कार करें। पवन मुक्त आसन करें।

सूर्य उदय के एक घंटे बाद या सूर्य अस्त के एक घंटे पहले का धूप शरीर को ज़रूर लगाएँ। सर और आँख को किसी सूती कपड़े से ढक कर। जब भी लेंटे अपना दायाँ भाग ऊपर करके लेटें ताकि आपकी सूर्य नाड़ी सक्रिय रहे।

सुबह खीरे का जूस लें, खीरा 1/2 भाग + धनिया पत्ती (10 ग्राम) पीस लें, 100 ml पानी मिला कर पीएँ। यह juice आप कई प्रकार के ले सकते हैं। पेठे (ashguard ) का जूस लें और कुछ नहीं लेना है। नारियल पानी भी ले सकते हैं। बेल का पत्ता 8 से 10 पीस कर I100ml पानी में मिला कर पीएँ। खीरा 1/2 भाग + धनिया पत्ती (10 ग्राम) पीस लें, 100 ml पानी में मिला कर पीएँ। बेल पत्ता 8 से 10 पीस कर 100 ml पानी में मिला कर लें। दुब घास 25 ग्राम पीस कर छान कर 100 ml पानी में मिला कर पीएँ। सब्ज़ी का जूस आपका मुख्य भोजन है। जो की आपको ज़बर्दस्त फ़ायदा करेगा। 2 घंटे बाद फल नाश्ते में लेना है। फल को चबा कर खाएँ। इसका juice ना लें।

जीवन शैली - आकाश तत्व - एक खाने से दुसरे खाने के बीच में अंतराल (gap) रखें।

फल के बाद 3 घंटे, सलाद के बाद 5 घंटे, और पके हुए खाने के बाद 12 घंटे का (gap) रखें।

वायु तत्व - प्राणायाम करें, आसन करें। दौड़ लगाएँ।

अग्नि - सूर्य की रोशनी लें।

जल - अलग अलग तरीक़े का स्नान करें। मेरुदंड स्नान, हिप बाथ, गीले कपड़े की पट्टी से पेट की गले और सर की 20 मिनट के लिए सेक लगाए। 

स्पर्श थरेपी करें। मालिश के ज़रिए भी कर सकते है। नारियल तेल से

घड़ी की सीधी दिशा (clockwise) में और घड़ी की उलटी दिशा (anti clockwise)में मालिश करें। नरम हाथों से बिल्कुल भी प्रेशर नहीं दें।

पृथ्वी - कच्चे सब्ज़ी का जूस आपका मुख्य भोजन है। 2 घंटे बाद फल नाश्ते में लेना है। 

फल को चबा कर खाएँ। इसका juice ना लें। फल + सूखे फल नाश्ते में लें।

दोपहर के खाने में सलाद + नट्स और अंकुरित अनाज के साथ लें। सलाद में हरे पत्तेदार सब्ज़ी को डालें और नारियल पीस कर मिलाएँ। कच्चा पपीता 50 ग्राम कद्दूकस करके डालें। कभी सीताफल ( yellow pumpkin)50 ग्राम ऐसे ही डालें। कभी सफ़ेद पेठा (ashgurad) 30 ग्राम कद्दूकस करके डालें। ऐसे ही ज़ूकीनी 50 ग्राम डालें।कद्दूकस करके डालें।कभी काजू बादाम अखरोट मूँगफली भिगोए हुए पीस कर मिलाएँ। लाल, हरा, पीला शिमला मिर्च 1/4 हिस्सा हर एक का मिलाएँ। बिना नींबू और नमक के लें। स्वाद के लिए नारियल और herbs मिलाएँ।

रात के खाने में इस अनुपात से खाना खाएँ 2 कटोरी सब्ज़ी के साथ 1कटोरी चावल या 1रोटी लें। एक बार पका हुआ खाना रात को 7 बजे से पहले लें।ओ

सेंधा नमक केवल एक बार पके हुए खाने में लें। जानवरों से उपलब्ध होने वाले भोजन वर्जित हैं।

तेल, मसाला, और गेहूँ से परहेज़ करेंगे तो अच्छा होगा। चीनी के जगह गुड़ लें।

एक नियम हमेशा याद रखें ठोस(solid) खाने को चबा कर तरल (liquid) बना कर खाएँ। तरल  को मुँह में घूँट घूँट पीएँ। खाना ज़मीन पर बैठ कर खाएँ। खाते वक़्त ना तो बात करें और ना ही TV और mobile को देखें।ठोस  भोजन के तुरंत बाद या बीच बीच में जूस या पानी ना लें। भोजन हो जाने के एक घंटे बाद तरल पदार्थ  ले सकते हैं।

हफ़्ते में एक दिन उपवास करें। शाम तक केवल पानी लें, प्यास लगे तो ही पीएँ। शाम 5 बजे नारियल पानी और रात 8 बजे सलाद लें।

उपवास के अगले दिन किसी प्राकृतिक चिकित्सक के देख रेख में टोना लें। जिससे आँत की प्रदाह को शांत किया जा सके। एनिमा किट मँगा लें। यह किट ऑनलाइन मिल जाएगा। इससे 200ml पानी गुदाद्वार से अंदर डालें और प्रेशर आने पर मल त्याग करें। ऐसा दिन में दो बार करना है अगले 21 दिनों के लिए। ये करना है ताकि शरीर में मोजुद विषाणु निष्कासित हो जाये। इसके बाद हफ़्ते में केवल एक बार लेना है उपवास के अगले दिन। टोना का फ़ायदा तभी होगा जब आहार शुद्धि करेंगे।

धन्यवाद।

रूबी, 

प्राकृतिक जीवनशैली प्रशिक्षिका व मार्गदर्शिका (Nature Cure Guide & Educator)



07:17 PM | 13-01-2020

Haemoglobin is one of the many contributors to a healthy body function. There are various other contributors in the blood, bones, tissues etc. Everything is made up of cells across the body. All cells have similar needs and excrete similarly. So how can you make sure that you eat something that will only increase haemoglobin and not create excess in something else? How can you make sure the body channels the tablets or chemicals to make the deficit only? Are we so smart as humans to know exactly what happens with things you put inside the mouth? Body is a black box. What goes in, can only be studied based on symptoms and not based on tracing the food through the GI tract / across the body and if it makes haemoglobin. Even if it does based on medicines, overtime the reason that it became deficit will surface again to create a deficit. Will you continue to take medicines always and keep the numbers of the reports happy?

My mother was anaemic all her life and the reason given by doctors was that her red blood cells had a different shape by birth. Sounds weird to me. But this went on for all her life until she turned vegan around 2016 or so. She is 65 now. She has changed her lifestyle to a vegan lifestyle, switched her cooked to whole food millets and rice. No sugar maida etc. She does not take dairy. She was already regular in yoga and pranayama, but these food changes made drastic changes in her conditions. We also realised that her haemoglobin count became Normal and also good enough to donate blood.

Some of the key changes that will help

  • Remove all animal-derived foods like dairy eggs meat fish
  • Remove sugar maida processed and packed foods
  • Remove refined oils and foods containing refined oils
  • Take only fruits for breakfast till 12 pm
  • Consume green juice upon waking
  • Every 15 days fasting on juices or fruits or full raw
  • Yoga and pranayama.
  • Switch to oil-free cooking

Thanks and in 3-5 months it will become normal unless I don’t know about other complications you are suffering from.

If you want to reach me and go through a guided step by step relief from all your problems, then click here to reach me

https://rzp.io/l/1LR1mH1

Be blessed

Smitha Hemadri (educator of natural healing practices)


Wellcure
'Come-In-Unity' Plan