Q&A
09:46 AM | 14-01-2020

How to treat Foliculatits behind forehead?


Post as Anonymous User
3 Answers

08:09 PM | 14-01-2020

Application of tea tree oil on the affected area helps, use it thrice a day.

Thank you



08:08 PM | 14-01-2020

हेलो,

कारण - फोलिक्युलाईटिस एक प्रकार से त्वचा संबंधी समस्या है, जिसमें बालों की रोम में सूजन आ जाती है। बैक्टीरियल या फंगल इन्फेक्शन के कारण होती है। इस बीमारी की शुरुआता में बालों की रोम के आसपास छोटे लाल रंग के दाने या सफेद पस वाले मुंहासे होने लगते हैं। यह संक्रमण फैलने लगता है और इससे ठीक न होने वाले पपड़ीदार छाले बनने लगते हैं।त्वचा हमारे शरीर का सहज ज़रिया है अम्ल (acid) को प्रतिबिम्बित करने का। शरीर (elimination)निष्कासन की प्रक्रिया में लगा है। हम उसको आहार शुद्धि से मदद करें।

समाधान - 1. खीरा+एलोवेरा का पल्प का पेस्ट वंहा लगाएँ जंहा परेशानी है।  20मिनट के लिए लगाएँ।2. त्वचा को गुलाब जल + बेसन और हल्दी से साफ़ करें। साबुन या कोई भी क्रीम का प्रयोग बंद कर दें।3. नहाने के पानी में ख़ुशबू वाले फूलों का रस मिलाएँ। नींबू या पुदीना का रस मिला सकते हैं।खाना खाने से एक घंटे पहले नाभि के ऊपर गीला सूती कपड़ा लपेट कर रखें या खाना के 2 घंटे बाद भी ऐसा कर सकते हैं।

4. मेरुदंड (स्पाइन) सीधा करके बैठें। हमेशा इस बात ध्यान रखें। हफ़्ते में 3 दिन मेरुदंड का स्नान करें। मेरुदंड स्नान के लिए अगर टब ना हो तो एक मोटा तौलिया गीला कर लें बिना निचोरे उसको बिछा लें।अपने मेरुदंड को उस पर रखें।

5. नहाने के पानी में ख़ुशबू वाले फूलों का रस मिलाएँ। नींबू या पुदीना का रस मिला सकते हैं। नीम का रस भी बहुत फ़ायदा करेगा।बार बार कुछ भी खाने से बचे फल के बाद 3 घंटे का अंतराल (gap) रखें। क्षार (alkaline) जूस के बाद 1घंटे का अंतराल रखें। कच्चे सब्ज़ियों के सलाद के बाद 5 घंटे का अंतराल रखें। अनाज और पकी हुई सब्ज़ी अगर तेल रहित (oil free) के बाद 8 घंटे का तेल घी का प्रयोग किया गया हो तो 12 से 13 घंटे का अंतराल रखें। रोज़ाना 15 घंटे का उपवास करें जैसे रात का भोजन 7 बजे तक कर लिया और सुबह का नाश्ता 9 बजे लें। 

6. त्वचा या शरीर के किसी भी हिस्से को स्वस्थ प्रदान करने के लिए ज़रूरी है।

सुबह लंबा गहरा स्वाँस अंदर भरें और रुकें फिर पूरे तरीक़े से स्वाँस को ख़ाली करें रुकें फिर स्वाँस अंदर भरें ये एक चक्र हुआ। ऐसे 10 चक्र एक टाइम पर करना है। ये दिन में चार बार करें।

7.  सूर्य उदय के एक घंटे बाद या सूर्य अस्त के एक घंटे पहले का धूप शरीर को ज़रूर लगाएँ। सर और आँख को किसी सूती कपड़े से ढक कर। जब भी लेंटे अपना दायाँ भाग ऊपर करके लेटें ताकि आपकी सूर्य नाड़ी सक्रिय रहे।

8. सुबह ख़ाली पेट आधा खीरा 5 पुदीने या करी पत्ते के साथ पिस कर उसमें 100ml पानी मिला कर पिएँ। यह juice आप कई प्रकार के ले सकते हैं। पेठे (ashguard ) का जूस लें और कुछ नहीं लेना है। नारियल पानी भी ले सकते हैं। पालक  पत्ते धो कर पीस कर 100ml पानी डाल पीएँ। दुब घास 25 ग्राम पीस कर छान कर 100 ml पानी में मिला कर पीएँ। जूस को मुँह में रख कर एक बार सहज स्वाँस लें फिर घूँट अंदर लें।

2 घंटे बाद कोई भी एक तरीक़े का फल नाश्ते में लें।फल को ठीक से चबा कर खाएँ। कोई नमक या चाट मसला या चीनी, दूध मिक्स ना करें। 

दोपहर 12 बजे सफ़ेद पेठे (ashguard) 20 ग्राम पीस 100ml पानी मिला कर लें।

नमक सेंधा ही प्रयोग करें। नमक की पके हुए खाने में भी बहुत कम लें। सब्ज़ी पकने बाद उसमें नमक डालें। नमक पका कर या अधिक खाने से शरीर में (fluid)  की कमी हो जाती।

सलाद दोपहर 1बजे बिना नमक के खाएँ तो अच्छा होगा क्योंकि नमक सलाद के गुणों को कम कर देता है। 

सलाद में हरे पत्तेदार सब्ज़ी को डालें और नारियल पीस कर मिलाएँ। कच्चा पपीता 50 ग्राम कद्दूकस करके डालें। कभी सीताफल ( yellow pumpkin)50 ग्राम ऐसे ही डालें। कभी सफ़ेद पेठा (ashg uard) 30 ग्राम कद्दूकस करके डालें। ऐसे ही ज़ूकीनी 50 ग्राम डालें।कद्दूकस करके डालें।कभी काजू बादाम अखरोट मूँगफली भिगोए हुए पीस कर मिलाएँ। लाल, हरा, पीला शिमला मिर्च 1/4 हिस्सा हर एक का मिलाएँ। शाम 5 बजे नारियल पानी लें।रात के खाने में इस अनुपात से खाना खाएँ 2 कटोरी सब्ज़ी के साथ 1कटोरी चावल या 1रोटी लें। रात 8 बजे के बाद कुछ ना खाएँ, 12 घंटे का (gap) अंतराल रखें। 8बजे रात से 8 बजे सुबह तक कुछ नहीं खाना है।

9.एक नियम हमेशा याद रखें ठोस(solid) खाने को चबा कर तरल (liquid) बना कर खाएँ। तरल  को मुँह में घूँट घूँट पीएँ। खाना ज़मीन पर बैठ कर खाएँ। खाते वक़्त ना तो बात करें और ना ही TV और mobile को देखें।ठोस  भोजन के तुरंत बाद या बीच बीच में जूस या पानी ना लें। भोजन हो जाने के एक घंटे बाद तरल पदार्थ  ले सकते हैं।जानवरों से उपलब्ध होने वाले भोजन वर्जित हैं। तेल, मसाला, और गेहूँ से परहेज़ करेंगे तो अच्छा होगा। चीनी के जगह गुड़ लें। हफ़्ते में एक दिन उपवास करें। शाम तक केवल पानी लें, प्यास लगे तो ही पीएँ। शाम 5 बजे नारियल पानी और रात 8 बजे सलाद लें।

10. उपवास के अगले दिन किसी प्राकृतिक चिकित्सक के देख रेख में टोना लें। जिससे आँत की प्रदाह को शांत किया जा सके। एनिमा किट मँगा लें। यह किट ऑनलाइन मिल जाएगा। इससे 200ml पानी गुदाद्वार से अंदर डालें और प्रेशर आने पर मल त्याग करें। ऐसा दिन में दो बार करना है अगले 21 दिनों के लिए। ये करना है ताकि शरीर में मोजुद विषाणु निष्कासित हो जाये। इसके बाद हफ़्ते में केवल एक बार लेना है उपवास के अगले दिन। टोना का फ़ायदा तभी होगा जब आहार शुद्धि करेंगे।धन्यवाद।

रूबी, 

प्राकृतिक जीवनशैली प्रशिक्षिका व मार्गदर्शिका (Nature Cure Guide & Educator)



08:07 PM | 14-01-2020

Folliculitis ( Follicle + 'itis' ) is a relatively common skin disorder caused by inflammation and infection in the hair follicles.

Few other variations are alopecia too again related to the skin and hair follicles.

The dominance of negative cooked foods, dairy, meat, eggs, fish, etc will tax the skin. So when the body is overloaded with toxins, skin as an excretory organ will be asked to do more work than it can handle. Other channels might either be blocked or sluggish. Hence the skin. When the body is exceedingly acidic from accumulated wastes, the lymphatic system tries to eliminate it via the skin. The virus comes to eat rotting foods in the body. Although everyone breathes pathogens daily, people who have infections, only means that the body is polluted beyond control.

1) Wear clothes of loose cotton where skin can breathe and light can enter.

2) Remove or avoid touching any chemicals and use chemical-free items http://www.wellcure.com/recipes/455/natural-moisturiser.

http://www.wellcure.com/recipes/163/healthy-and-natural-hair-washuse this for the body too. Take bath only with cold water the head alone in all weathers. And Lukewarm for the body in cold weather.

3)Sunbath for 1 hr. in the early morning first rays of the Sun.

4) Avoid all forms of plastic usage in foods, microwaves, Teflon, aluminum, and such things, avoid all forms of cosmetics. Just plain water wash and my body wash will do which is what I do too. I have healed from urticaria a similar skin condition.

5) Coming to diet - You need to flood your body with tender coconut water/veg juices for all your day until the boils come down and itching also reduces. Stay on only fruits and juices after 3 days. Fast on liquids for one full day every week. Switch to juices upon waking followed by fruits for breakfast and raw salads for lunch. Dinner 2-3 hrs. before bed cooked with millets made oil-free and gluten-free. Avoid all forms of cooked salt oil for 6-8 weeks for all the raw food for complete cleansing of the system. Avoid itching. Switch to liquids when it is unbearable. That’s your mantra on skin issues.

You must say goodbye to all forms of animal products- dairy, meat, eggs, fish, sugar, wheat, maida, oil outside, packed foods, fried food, etc. So remember you can’t have food in functions when your healing. Once completely healed, you still cannot have animal products wheat, fried and sugar. These were the reasons for your condition - slow poisons.

6) Water enema can be taken daily until you heal. Buy a kit and look for videos and do it daily after your morning potty. Consult an expert as needed

7)You can use some coconut oil and apply a wet thick cloth in places where you think u can’t bear.

8) Get off all forms of suppressions and instead switch to juices for the whole day when the eliminations are severe. You have to learn to heal with the above only and trust the body. Suppressors are enemies of the body.

9) You have to develop a positive attitude for everyone around you. You cannot have hatred in your heart. It literally burns u. You have to listen to people like bk Shivani / Sadguru / Louise hay and such people and remove all negativity and burden you are carrying. Learn to live like flowing water. Forgive everyone around you.

10) Yoga and majorly pranayama is a must to make your cells breathe.

If you need to consult with me personally, reach me here -https://rzp.io/l/1LR1mH1

Be blessed.

Smitha Hemadri (educator of natural healing practices)

10:31 AM | 15-01-2020

Thankyou

Reply

Wellcure
'Come-In-Unity' Plan