Q&A
09:54 AM | 20-01-2020

Whenever I eat any spicy, even medium spicy food, I get cuts on my tongue, all over & it takes minimum 4/5 days to heal. Why it is so and what is the remedy?


The answers posted here are for educational purposes only. They cannot be considered as replacement for a medical 'advice’ or ‘prescription’. ...The question asked by users depict their general situation, illness, or symptoms, but do not contain enough facts to depict their complete medical background. Accordingly, the answers provide general guidance only. They are not to be interpreted as diagnosis of health issues or specific treatment recommendations. Any specific changes by users, in medication, food & lifestyle, must be done through a real-life personal consultation with a licensed health practitioner. The views expressed by the users here are their personal views and Wellcure claims no responsibility for them.

Read more
Post as Anonymous User
4 Answers

02:08 PM | 27-01-2020

You might be suffering from Vitamin deficiency which might be causing more prone to aberrations whenever you eat spicy or hot food. These aberrations could lead to mouth ulcers. Mouth ulcers are medically known as Canker sores. These are characterised by small, painful lesions in the oral cavity, on your gums or tongue. As a result, daily activities like eating, drinking, and talking might be uncomfortable. Women, adolescents and people with the previous history are more prone to these lesions. These ulcers are not contagious and it is explained as the body’s natural process to eliminate toxins through these ulcers which elicits the philosophy in Naturopathy. The process of healing takes place on its own would take approximately a week to 10 days to cure completely. Some of the commonest reasons are the use of some medications in excess quantity or lack of sleep and increased stress could also contribute to the causes.

Some home remedies to manage this condition might be,

  1. Saltwater Gargling – A glass of warm salt water gargling could bring down the irritation on an immediate basis. This could be practised 4-5 times on a daily basis until the ulcers are healed
  2. Application of Coconut Oil – Application of coconut oil over the affected areas could give an immediate analgesic effect and bring down the pain and irritation.
  3. Chewing tender guava or mango leaves – This is a herbal remedy which could be useful to cure it.
  4. Coldwater gargling – Coldwater gargling could numb your oral cavity and could act as analgesic. Even ice application could give you a more effective way to manage pain
  5. Diet – A bland diet that is not oily, spicy, salty and hot could make way to the faster healing process. Consume foods rich in Vit C like orange or lemon as a fruit or in juice form. Also one might have a glass of rice starch made from red rice which could also suffice the Vit B Complex requirements.
  6. Reduce stress and have a proper sleep – If at all if you have a habit of working in the odd hours and if you weren’t able to sleep properly in the last few days it is very essential that you have enough sleep in order to reduce stress.


12:19 PM | 27-01-2020

Possibly you are developing a geographical tongue. Due to the weakness in toxins draining from your head region, the tongue has become weak. Secondly, due to constant exposure to acidic foods which affects everyone, your tongue being weak, has been impacted and is being targeted for eliminations.

Stick to juices/ fruits/ vegetables for the whole day and have only less spicy gluten-free, oil-free cooked food for dinner. Having only one cooked will reduce the load of toxicity on your system. Avoid dairy, eggs, meat, fish, refined sugar, oils, ghee, processed junk, gluten. 

Rinse your mouth with ashgourd juice 2-3 times daily for 1 minute. Brush twice daily and floss. 

Expose yourself to the morning sun for few mins

Be blessed 

Smitha Hemadri ( Holistic lifestyle coach) 

12:24 PM | 27-01-2020

Where to get ashgourd juice from? Any reliable brand ?

Reply
Smitha Hemadri

01:02 PM | 27-01-2020

If you have a cold press juicer at home, then chop it and put it inside that juicer and extract the juice. Never buy outside juices

Smitha Hemadri

01:01 PM | 27-01-2020

Rasneet, Buy an ashgourd, chop the white pulp into pieces and mixie it. Then strain it using a strainer and juice is ready. We must always rely on our own home made juices for healing.




11:06 AM | 23-01-2020

हेलो,

कारण - मिर्च मसालों का खाना जीभ को बार बार ज़ख़्मी कर रहा है। मतलब पहले से हो शरीर में अम्ल की मात्रा अधिक है। उसपे मिर्च मसाले से युक्त भोजन   और भी अम्लीयता को बढ़ाती है जो की जीभ के लार ग्रंथि को नुक़सान पहुँचा रही है लार से जीभ को सुरक्षा मिलता है लार पर्याप्त मात्रा में नहीं बनने के स्तिथि में जीभ कट जाती है। शरीर में लार मिनरल से बनता है। अम्ल की अधिकता होने पर लार का क्षय होता है।

आहार शुद्धि और जीवन शैली में परिवर्तन कर पुर्ण स्वास्थ पाएँ।

समाधान - खाने में नमक की मात्रा कम करें जिससे लार अधिक बने।

लंबा गहरा स्वाँस अंदर भरें और रुकें। इसके बाद फिर पूरे तरीक़े से स्वाँस को ख़ाली करें, रुकें, फिर स्वाँस अंदर भरें। ये एक चक्र हुआ। ऐसे 10 चक्र एक समय पर करना है। ये दिन में चार बार करें। खुली हवा में बैठें या टहलें।

शारीरिक और मानसिक क्रिया में संतुलन बनाए। दौड़ लगाएँ।उज्जायी प्राणायाम करें।सुप्त मत्स्येन्द्रासन, धनुरासन, शीतलि प्राणायाम करें।

पश्चिमोत्तानासन, अर्धमत्स्येन्द्रासन, शवासन करें।

खाना खाने से एक घंटे पहले नाभि के ऊपर गीला सूती कपड़ा लपेट कर रखें या खाना के 2 घंटे बाद भी ऐसा कर सकते हैं।

नीम के पत्ते का पेस्ट अपने नाभि पर रखें। 20मिनट तक रख कर साफ़ कर लें। मेरुदंड स्नान के लिए अगर टब ना हो तो एक मोटा तौलिया गीला कर लें बिना निचोरे उसको बिछा लें और अपने मेरुदंड को उस स्थान पर रखें।

मेरुदंड (स्पाइन) सीधा करके बैठें। हमेशा इस बात ध्यान रखें।

जीवन शैली-  1आकाश तत्व - एक खाने से दुसरे खाने के बीच में अंतराल (gap) रखें।

फल के बाद 3 घंटे, सलाद के बाद 5 घंटे, और पके हुए खाने के बाद 12 घंटे का (gap) रखें।

2.वायु तत्व - प्राणायाम करें, आसन करें। दौड़ लगाएँ।

3.अग्नि - सूर्य की रोशनी लें।

4.जल - अलग अलग तरीक़े का स्नान करें। मेरुदंड स्नान, हिप बाथ, गीले कपड़े की पट्टी से पेट की गले और सर की 20 मिनट के लिए सेक लगाए। 

स्पर्श थरेपी करें। मालिश के ज़रिए भी कर सकते है। नारियल तेल से

घड़ी की सीधी दिशा (clockwise) में और घड़ी की उलटी दिशा (anti clockwise)में मालिश करें। नरम हाथों से बिल्कुल भी प्रेशर नहीं दें।

5.पृथ्वी - सुबह खीरा 1/2 भाग + धनिया पत्ती (10 ग्राम) पीस लें, 100 ml पानी मिला कर पीएँ। यह juice आप कई प्रकार के ले सकते हैं। पेठे (ashguard ) का जूस लें और कुछ नहीं लेना है। नारियल पानी भी ले सकते हैं। पालक  पत्ते धो कर पीस कर 100ml पानी डाल पीएँ। दुब घास 25 ग्राम पीस कर छान कर 100 ml पानी में मिला कर पीएँ। कच्चे सब्ज़ी का जूस आपका मुख्य भोजन है। 2 घंटे बाद फल नाश्ते में लेना है। 

फल को चबा कर खाएँ। इसका juice ना लें। फल + सूखे फल नाश्ते में लें।

दोपहर के खाने में सलाद + नट्स और अंकुरित अनाज के साथ  सलाद में हरे पत्तेदार सब्ज़ी को डालें और नारियल पीस कर मिलाएँ। कच्चा पपीता 50 ग्राम कद्दूकस करके डालें। कभी सीताफल ( yellow pumpkin)50 ग्राम ऐसे ही डालें। कभी सफ़ेद पेठा (ashgurd) 30 ग्राम कद्दूकस करके डालें। ऐसे ही ज़ूकीनी 50 ग्राम डालें।कद्दूकस करके डालें।कभी काजू बादाम अखरोट मूँगफली भिगोए हुए पीस कर मिलाएँ। 

लाल, हरा, पीला शिमला मिर्च 1/4 हिस्सा हर एक का मिलाएँ। लें। बिना नींबू और नमक के लें। स्वाद के लिए नारियल और herbs मिलाएँ।

रात के खाने में इस अनुपात से खाना खाएँ 2 कटोरी सब्ज़ी के साथ 1कटोरी चावल या 1रोटी लेएक बार पका हुआ खाना रात को 7 बजे से पहले लें।

6.सेंधा नमक केवल एक बार पके हुए खाने में लें। जानवरों से उपलब्ध होने वाले भोजन वर्जित हैं।

तेल, मसाला, और गेहूँ से परहेज़ करेंगे तो अच्छा होगा। चीनी के जगह गुड़ लें।

7.एक नियम हमेशा याद रखें ठोस(solid) खाने को चबा कर तरल (liquid) बना कर खाएँ। तरल  को मुँह में घूँट घूँट पीएँ। खाना ज़मीन पर बैठ कर खाएँ। खाते वक़्त ना तो बात करें और ना ही TV और mobile को देखें।ठोस  भोजन के तुरंत बाद या बीच बीच में जूस या पानी ना लें। भोजन हो जाने के एक घंटे बाद तरल पदार्थ  ले सकते हैं।

हफ़्ते में एक दिन उपवास करें। शाम तक केवल पानी लें, प्यास लगे तो ही पीएँ। शाम 5 बजे नारियल पानी और रात 8 बजे सलाद लें।

8.उपवास के अगले दिन किसी प्राकृतिक चिकित्सक के देख रेख में टोना लें। जिससे आँत की प्रदाह को शांत किया जा सके। एनिमा किट मँगा लें। यह किट ऑनलाइन मिल जाएगा। इससे 200ml पानी गुदाद्वार से अंदर डालें और प्रेशर आने पर मल त्याग करें। ऐसा दिन में दो बार करना है अगले 21 दिनों के लिए। ये करना है ताकि शरीर में मोजुद विषाणु निष्कासित हो जाये। इसके बाद हफ़्ते में केवल एक बार लेना है उपवास के अगले दिन। टोना का फ़ायदा तभी होगा जब आहार शुद्धि करेंगे।

धन्यवाद।

रूबी, 

प्राकृतिक जीवनशैली प्रशिक्षिका व मार्गदर्शिका (Nature Cure Guide & Educator)



11:06 AM | 23-01-2020

Dear health seeker Joshi, 
The answer to your question itself is self-evident, all spices, including garlic, are Taamasic foods, heavily acidic in nature and a cause of your discomfort.these are only taste enhancers and have no health value whatsoever and makes the eater, overeat unhygienic foodless foods. In today's scenario, most of the foods eaten are acidic in nature, and if one eats spicy food then it is going to create lots of health issues. Please avoid spicy foods, Healthy living promotes health, and unhealthy lifestyle promotes diseases, it is your choice which way you want to tread the path. 
A RETURN to reason and Nature is long past due. 
   V.S.Pawar     Member Indian institute of natural therapeutics 1980


Scan QR code to download Wellcure App
Wellcure
'Come-In-Unity' Plan