Q&A
10:15 AM | 23-01-2020

I had tennis elbow few months back and was cured after medication from a doctor. But now again I got the same problem. Should I consult the doctor again or should I try the same medication as before?


The answers posted here are for educational purposes only. They cannot be considered as replacement for a medical 'advice’ or ‘prescription’. ...The question asked by users depict their general situation, illness, or symptoms, but do not contain enough facts to depict their complete medical background. Accordingly, the answers provide general guidance only. They are not to be interpreted as diagnosis of health issues or specific treatment recommendations. Any specific changes by users, in medication, food & lifestyle, must be done through a real-life personal consultation with a licensed health practitioner. The views expressed by the users here are their personal views and Wellcure claims no responsibility for them.

Read more
Post as Anonymous User
4 Answers

07:52 PM | 24-01-2020

Suppressing a problem with chemicals is not always the solution. The solution is to get to the root cause of tennis elbow and address it. If you had done that, you would not have faced the same issue.

Bone weakness has become a common ailment. Almost all the ladies beyond 35years of age have leg pains, knee pains, heel pains. All these are due to the eroding of calcium in the bones. Where is all the calcium going? Did your body stop making it? No, your body is continuing to make it, but your acidic lifestyle is sucking the calcium to maintain homeostasis in your body because calcium is a great antacid. This continues to get worse if you don't change the foods you consume and how you live.

My own mom has suffered this a lot and is now pain-free only because she has changed her lifestyle.

Foods like milk, dead animal tissue, eggs, fish, grains, beans, etc are acid dominate foods that mean more inflammation in the body. Inflammation is simply just a reaction caused by acid accumulation in the body. Over time, this accumulation leads to systemic acidosis and inflammation in the body.

If you eat foods that are alkaline such as fruits, veggies, and greens, they clean the body and promote the detoxification process then you can avoid creating a problem where the body is forced to rob calcium from bones.

In addition to this, expose yourself to plenty of sunlight daily. Sun energy helps to make vitamin D and promotes the healthy production of essential minerals needed in the body.

Avoid all animal foods especially stay miles away from all forms of dairy, refined sugar, processed junk, fried foods, gluten, oil, etc.  all of these add to the acidity already in the body.

Slowly as the problem starts healing once you are following a disciplined plant-based lifestyle, then start functional exercises to strengthen the arms in addition to the overall body.

If you want to reach me and go through a guided step by step relief from all your problems, then reach me.

Be blessed

Smitha Hemadri (educator of natural healing practices)



10:20 AM | 24-01-2020

Hi. We would like to guide you to a few resources - 

  1. Read this blog - Do you understand pain?

  2. Real-life natural healing stories of people who cured their aches & pains just by following Natural Laws.

Adopting a natural lifestyle will help you in reclaiming your health. You can explore our Nature-Nurtures Program that helps you in making the transition, step by step. 



10:19 AM | 24-01-2020

Dear health seeker Maria, 
Let me explain to you that any medicine has no beneficial effect on our body, they may afford a semblance of relief, for the time being. As per your narrative, our stand is vindicated, that after a temporary relief your tennis elbow is again troubling you. All medicines are inimical hazardous and have many sides and after-effects. There is no safe drug in the entire universe, so please don't be under the impression that drugs can treat your tennis elbow. You will have to obey the eternal laws governing our organism for the relief from your affliction. Follow program be followed:--

 

  1. Ensure to eat only when sufficient true hunger is there to digest the food eaten. We must eat to live and not live to eat 
  2. As a  start, drink any alkaline juice either of the following, ashgourd, bilva patra  banana pith. 100 ml .
  3. Sun bathing in early morning sun for  25 minutes, followed by a spinal bath or  full bath
  4. Some simple  yogic  aasanas 
  5. A  wet  pack over the abdomen for 20 minutes 
  6. Fruit salads or  vegetables salads in  breakfast 
  7. Conservatively  cooked  vegetables and  raw  salads with  enough  coconut scrappings in lunch 
  8. Fruit juice at or around 4 PM if  there's a sufficiency of hunger, if not then avoid
  9. Conservatively cooked vegetables plus one or two roti or small quantity of rice in dinner 
  10. Weather permitting (if you are from south where the climate is warm) you must give a head wash of a bucket full of cold water to disperse the heat in the head. At least wash your face up to years 2 or three times a day with cold water. 
  11. Needless to  mention that  avoid all  enervating foods tea and  coffee, processed, manufactured, preserved foods, habits, eschew food supplements, tonics, calcium tablets, synthetic vitamins, medicines 

All your health issues will be radically cured within a short period 

V.S.Pawar            Member Indian institute of natural therapeutics 

    



02:38 PM | 23-01-2020

हेलो,

कारण - कोई भी ऐसा काम करने से जिसमें आपकी कलाई का प्रयोग बार-बार होता है, आपको टेनिस एल्बो की समस्या हो सकती है। जैसे हथौड़े या पेचकस का अधिक इस्तेमाल करना, पेंटिंग करना आदि। ऐसा माना जाता है कि ये समस्या खेलने वाले लोगों को ही प्रभावित करती है, लेकिन ये सच नहीं है। हालांकि, टेनिस खेलने पर आपको अपनी कलाई को इस तरीके से बार-बार घुमाना पड़ता है, जिससे टेनिस एल्बो की समस्या हो सकती है। इसके अलावा किसी चीज को कसकर पकड़ने या ज्यादा दबाने के कारण भी ये समस्या हो सकती है।  दवाइयों के प्रयोग से दर्द में आराम होगा मगर मूलकारण पर काम नहीं हो पाएगा तो इलाज अधूरा रहेगा। दर्द का मूलकारण शरीर में अम्ल अधिकता है। शरीर के अम्ल को कम करने के लिए आहार शुद्धि और जीवन शैली में परिवर्तन करें।

समाधान - गैर-आक्रामक चिकित्सीय उपचारों प्रयोग से लाभ होगा। जो खींचने के अभ्यास, मालिश तकनीक, नम गर्मी और बर्फ पैक थेरेपी

है।दर्द को दूर करने के लिये हर 1-2 घंटे में 20 मिनट की बर्फ से सिकाई करनी चाहिये। बर्फ को हमेशा किसी कपड़े में लपेट कर लगाना चाहिये।

खाना खाने से एक घंटे पहले नाभि के ऊपर गीला सूती कपड़ा लपेट कर रखें या खाना के 2 घंटे बाद भी ऐसा कर सकते हैं।

नीम के पत्ते का पेस्ट अपने दर्द वाले स्थान पर रखें। 20मिनट तक रख कर साफ़ कर लें। 

मेरुदंड स्नान के लिए अगर टब ना हो तो एक मोटा तौलिया गीला कर लें बिना निचोरे उसको बिछा लें और अपने मेरुदंड को उस स्थान पर रखें।

मेरुदंड (स्पाइन) सीधा करके बैठें। हमेशा इस बात ध्यान रखें।

जीवन शैली-  1आकाश तत्व - एक खाने से दुसरे खाने के बीच में अंतराल (gap) रखें।

फल के बाद 3 घंटे, सलाद के बाद 5 घंटे, और पके हुए खाने के बाद 12 घंटे का (gap) रखें।

2.वायु तत्व - प्राणायाम करें, आसन करें। दौड़ लगाएँ।

3.अग्नि - सूर्य की रोशनी लें।

4.जल - अलग अलग तरीक़े का स्नान करें। मेरुदंड स्नान, हिप बाथ, गीले कपड़े की पट्टी से पेट की गले और सर की 20 मिनट के लिए सेक लगाए। 

स्पर्श थरेपी करें। मालिश के ज़रिए भी कर सकते है। नारियल तेल से

घड़ी की सीधी दिशा (clockwise) में और घड़ी की उलटी दिशा (anti clockwise)में मालिश करें। नरम हाथों से बिल्कुल भी प्रेशर नहीं दें।

5.पृथ्वी - सुबह खीरा 1/2 भाग + धनिया पत्ती (10 ग्राम) पीस लें, 100 ml पानी मिला कर पीएँ। यह juice आप कई प्रकार के ले सकते हैं। पेठे (ashguard ) का जूस लें और कुछ नहीं लेना है। नारियल पानी भी ले सकते हैं। पालक  पत्ते धो कर पीस कर 100ml पानी डाल पीएँ। दुब घास 25 ग्राम पीस कर छान कर 100 ml पानी में मिला कर पीएँ। कच्चे सब्ज़ी का जूस आपका मुख्य भोजन है। 2 घंटे बाद फल नाश्ते में लेना है। 

फल को चबा कर खाएँ। इसका juice ना लें। फल + सूखे फल नाश्ते में लें।

दोपहर के खाने में सलाद + नट्स और अंकुरित अनाज के साथ  सलाद में हरे पत्तेदार सब्ज़ी को डालें और नारियल पीस कर मिलाएँ। कच्चा पपीता 50 ग्राम कद्दूकस करके डालें। कभी सीताफल ( yellow pumpkin)50 ग्राम ऐसे ही डालें। कभी सफ़ेद पेठा (ashgurd) 30 ग्राम कद्दूकस करके डालें। ऐसे ही ज़ूकीनी 50 ग्राम डालें।कद्दूकस करके डालें।कभी काजू बादाम अखरोट मूँगफली भिगोए हुए पीस कर मिलाएँ। 

लाल, हरा, पीला शिमला मिर्च 1/4 हिस्सा हर एक का मिलाएँ। लें। बिना नींबू और नमक के लें। स्वाद के लिए नारियल और herbs मिलाएँ।

रात के खाने में इस अनुपात से खाना खाएँ 2 कटोरी सब्ज़ी के साथ 1कटोरी चावल या 1रोटी लेएक बार पका हुआ खाना रात को 7 बजे से पहले लें।

6.सेंधा नमक केवल एक बार पके हुए खाने में लें। जानवरों से उपलब्ध होने वाले भोजन वर्जित हैं।

तेल, मसाला, और गेहूँ से परहेज़ करेंगे तो अच्छा होगा। चीनी के जगह गुड़ लें।

7.एक नियम हमेशा याद रखें ठोस(solid) खाने को चबा कर तरल (liquid) बना कर खाएँ। तरल  को मुँह में घूँट घूँट पीएँ। खाना ज़मीन पर बैठ कर खाएँ। खाते वक़्त ना तो बात करें और ना ही TV और mobile को देखें।ठोस  भोजन के तुरंत बाद या बीच बीच में जूस या पानी ना लें। भोजन हो जाने के एक घंटे बाद तरल पदार्थ  ले सकते हैं।

हफ़्ते में एक दिन उपवास करें। शाम तक केवल पानी लें, प्यास लगे तो ही पीएँ। शाम 5 बजे नारियल पानी और रात 8 बजे सलाद लें।

8.उपवास के अगले दिन किसी प्राकृतिक चिकित्सक के देख रेख में टोना लें। जिससे आँत की प्रदाह को शांत किया जा सके। एनिमा किट मँगा लें। यह किट ऑनलाइन मिल जाएगा। इससे 200ml पानी गुदाद्वार से अंदर डालें और प्रेशर आने पर मल त्याग करें। ऐसा दिन में दो बार करना है अगले 21 दिनों के लिए। ये करना है ताकि शरीर में मोजुद विषाणु निष्कासित हो जाये। इसके बाद हफ़्ते में केवल एक बार लेना है उपवास के अगले दिन। टोना का फ़ायदा तभी होगा जब आहार शुद्धि करेंगे।

धन्यवाद।

रूबी, 

प्राकृतिक जीवनशैली प्रशिक्षिका व मार्गदर्शिका (Nature Cure Guide & Educator)


Scan QR code to download Wellcure App
Wellcure
'Come-In-Unity' Plan