Q&A
01:49 PM | 05-02-2020

I am 24 years old. I suffered from typhoid for a month and lost more than 6 kgs. Can you please suggest me diet or tips to become healthier?

The answers posted here are for educational purposes only. They cannot be considered as replacement for a medical 'advice’ or ‘prescription’. ...The question asked by users depict their general situation, illness, or symptoms, but do not contain enough facts to depict their complete medical background. Accordingly, the answers provide general guidance only. They are not to be interpreted as diagnosis of health issues or specific treatment recommendations. Any specific changes by users, in medication, food & lifestyle, must be done through a real-life personal consultation with a licensed health practitioner. The views expressed by the users here are their personal views and Wellcure claims no responsibility for them.

Read more
Post as Anonymous User
3 Answers

06:48 PM | 05-02-2020

Hello User,

As typhoid makes our body immunity low and makes us vulnerable, there is always a chance to rise in health. With nature's cure we can help you in getting your ideal health back. As your body was vulnerable to typhoid before, there are high chances that you were in that state that toxins were accumulated in the body and which made sure you were a suspect to get diseased.

So now that the analysis says that your typhoid is out, we have to treat your body at both physical and mental levels. A lifestyle change is what is recommended and we will be helping you with that.

Here are the few things you need to start with:

Eat:

A diet rich in Vitamin C is needed to get cured in this state, vitamin C acts over our body's immunity to make it stronger. Sources of Vitamin C are lemon, oranges, sweet potatoes, sprouts, cabbage, capsicum. Anti-oxidants are free radicals present in the body to help in protecting immunity, berries are a good source of anti-oxidants, strawberries, mulberries, oranges are a good source of anti-oxidants.

Start your day with a glass of warm water which helps in flushing out of all toxins, this is a very good way of making our body's metabolism work smoothly for the whole day.

A glass of vegetable juice like carrot, cucumbers, green leafy vegetables, bottle guard are another good source of having a power-packed day with good energy.

It would be good to avoid milk and milk products at this stage.

Exercise:

A brisk walk in the early morning sun is essential as it helps in creating the needed rejuvenation of the cells. Make sure you go for a brisk walk for 30-45 minutes.

Another thing is Suryanamaskar, it has actions over all the muscles which helps in treating the body completely.  12 sets of Surya namaskar is recommended, if you are a beginner starts with six then slowly increase. 

Meditation:

A 15-minute deep relaxation before you sleep will help in calming all the nerves and make you feel good and stressfree. As you breathe deep long breaths, imagine yourself to have a happy healthy body.

Sleep:

A habit of sound sleep is what will help in getting back your health back when you sleep to make sure you keep your phone away from you. This will make sure no radiations are passing. 

Sleep helps in keeping the body fresh and provide the muscles with good health.

Hopefully, this will help you

Thank you



06:42 PM | 05-02-2020

Hi,

Only a healthy gut would help in the absorption of whatever nutrition is consumed through healthy food. It is therefore extremely important that your gut is healthy by removing all the old toxins and waste materials that would have accumulated over a period of time either due to medication, supplements, wrong lifestyle, eating habits. To achieve this avoid overload of toxins and heavy acidic foods like those from animal and dairy foods, packed, processed and highly fried and sugary foods.

Consider the following changes:

  • Include fresh fruits and raw vegetables as a part of your daily regime. All micronutrients are provided which are essential in many biochemical activities of the body.
  • Avoid all animal foods, dairy, packed, processed, oily and sugary foods. They are empty calories, provide no nutrition to the body. All these create a toxic load on the system and make elimination and absorption difficult.
  • Avoid caffeine and tobacco whether in tea, coffee, alcohol, smoking or even chocolates. They all cut down your appetite and lead to other health consequences.
  • Try including nut and seeds. Nutmilk, coconuts, avocados provide you with all the essential fats. Recipes are available on this platform for nut milk:
  • https://www.wellcure.com/recipes/54/coconut-milk-your-easy-and-healthful-replacement-to-dairy-milk.
  • Physical activity is important as it releases good hormones in the body. In a relaxed state, the body is able to function better.
  • Proper rest and sleep are vital. This helps the body repair and rejuvenate.
  • Regular elimination of bowels from the body is essential. Only when old waste materials are removed can the body focus on absorbing the new.
  • Exposure to sunshine and nature. A calm and peaceful mind will have a healthy gut.
  • Regular deep breathing is helpful in reducing stress hormones in the body. Avoid anxiety and worry. This constantly raises the stress hormones in the body and the body cannot perform its functions optimally.
  • Gratitude is very important. It is important to thank your body as it is constantly working and trying to always maintain a balance. Absorption of nutrients happens only when you maintain a happy mind.

Kindly read the blog

https://www.wellcure.com/body-wisdom/363/healthy-weight-gain-on-a-plant-based-lifestyle

Wishing you Good Health Always!

Thank you

Regards



06:38 PM | 05-02-2020

हेलो,
कारण - टाइफाइड का जीवाणु मनुष्यों के आंतों और रक्तप्रवाह में रहता है। यह एक संक्रमित व्यक्ति के मल के सीधे संपर्क में आने से मनुष्यों में फैलता है। इस संक्रमण के कारण तेजी से वजन घटता है। दोषपूर्ण  भोजन और जल इसके मुख्य कारक है। आंत के साफ ना रहने की स्थिति में ही होता है। कोई भी संक्रमण शरीर में तभी फैलता है जब उसको शरीर के अंदर अम्लीय पोषण मिलता है। आंत के स्वस्थ ना रहने पर यह आसानी से पूरे शरीर को संक्रमित कर देता है। प्राकृतिक जीवन शैली को अपनाकर बहुत ही जल्दी स्वास्थ्य लाभ पाया जा सकता है।

समाधान- 1. जितना हो सके कच्चे हरे पत्तों का जूस छानकर पिए जैसे पालक, दूब घास, बेलपत्र, धनिया पत्ता, तुलसी का पत्ता इन्हें अलग-अलग टाइम पर पीसकर 200ml पानी मिलाकर छानकर पीएं खाली पेट इन पत्तों का जूस बहुत ही ज्यादा लाभदायक होता है। यह रक्त को शुद्ध करेगा।

 2. 20 मिनट सूर्य की रोशनी में अपने शरीर को रखें सिर और आंख को किसी सूती कपड़े से ढक करके 5 मिनट बैक 5 मिनट फ्रंट 5 मिनट लेफ्ट 5 मिनट राइट साइड धूप लगाए। धूप लेट कर लगाने से ज्यादा फायदा करता है।

ऐसा करने से शरीर में पल रहे विषाणु मूर्छित हो जाएंगे।

 3. पेट के ऊपर एक गिला कपड़ा लपेट कर रखें 20 मिनट तक उसको लपेटे रखें इससे आंत को ठंडक पहुंचेगी और विषाक्त कणों को निष्कासन में मदद मिलेगा।

4. हर 3 घंटे में लंबा गहरा श्वास अंदर लें उसको थोड़ी देर रोकें और फिर सांस को खाली करें। खाली करने के बाद फिर से रुके और फिर लंबा गहरा सांस ले। यह एक चक्र है ऐसा दिन में 10 चक्र करें केवल एक शर्त का पालन करें जब आप लंबा गहरा सांस ले रहे हैं तो अपनी रीढ़ की हड्डी को सीधा रखें ऐसा करने से आपके शरीर में ऑक्सीजन की मात्रा का बढ़ेगी और ऑक्सीजन का संचार सुचारू रूप से हो पाएगा। ऑक्सीजन का पर्याप्त मात्रा विषाणु को वृद्धि होने में रुकावट पैदा करता है।

जीवन शैली - 1. आकाश तत्व - एक खाने से दुसरे खाने के बीच में अंतराल (gap) रखें।

फल के बाद 3 घंटे, सलाद के बाद 5 घंटे, और पके हुए खाने के बाद 12 घंटे का (gap) रखें।

2.वायु तत्व - प्राणायाम करें, आसन करें। दौड़ लगाएँ।

3.अग्नि - सूर्य की रोशनी लें।

4.जल - अलग अलग तरीक़े का स्नान करें। मेरुदंड स्नान, हिप बाथ, गीले कपड़े की पट्टी से पेट की गले और सर की 20 मिनट के लिए सेक लगाए। 

स्पर्श थरेपी करें। मालिश के ज़रिए भी कर सकते है।

तिल के तेल रीढ़ की हड्डी पर घड़ी की सीधी दिशा (clockwise) में और घड़ी की उलटी दिशा (anti clockwise)में मालिश करें। नरम हाथों से बिल्कुल भी प्रेशर नहीं दें।

5.पृथ्वी - सुबह खीरा 1/2 भाग धनिया पत्ती (10 ग्राम) पीस लें, 100 ml पानी मिला कर पीएँ। यह juice आप कई प्रकार के ले सकते हैं। पेठे (ash guard ) का जूस लें और कुछ नहीं लेना है। नारियल पानी भी ले सकते हैं। पालक  पत्ते धो कर पीस कर 100ml पानी डाल पीएँ। दुब घास 25 ग्राम पीस कर छान कर 100 ml पानी में मिला कर पीएँ। कच्चे सब्ज़ी का जूस आपका मुख्य भोजन है। 2 घंटे बाद फल नाश्ते में लेना है। फल को चबा कर खाएँ। इसका juice ना लें। फल सूखे फल नाश्ते में लें।

दोपहर के खाने में सलाद नट्स और अंकुरित अनाज के साथ  सलाद में हरे पत्तेदार सब्ज़ी को डालें और नारियल पीस कर मिलाएँ। कच्चा पपीता 50 ग्राम कद्दूकस करके डालें। कभी सीताफल ( yellow pumpkin)50 ग्राम ऐसे ही डालें। कभी सफ़ेद पेठा (ash guard) 30 ग्राम कद्दूकस करके डालें। ऐसे ही ज़ूकीनी 50 ग्राम डालें।कद्दूकस करके डालें।कभी काजू बादाम अखरोट मूँगफली भिगोए हुए पीस कर मिलाएँ। लाल, हरा, पीला शिमला मिर्च 1/4 हिस्सा हर एक का मिलाएँ। लें। बिना नींबू और नमक के लें। स्वाद के लिए नारियल और herbs मिलाएँ।

रात के खाने में इस अनुपात से खाना खाएँ 2 कटोरी सब्ज़ी के साथ 1कटोरी चावल या 1रोटी लेएक बार पका हुआ खाना रात को 7 बजे से पहले लें।

6. एक नियम हमेशा याद रखें ठोस(solid) खाने को चबा कर तरल (liquid) बना कर खाएँ। तरल  को मुँह में घूँट घूँट पीएँ। खाना ज़मीन पर बैठ कर खाएँ। खाते वक़्त ना तो बात करें और ना ही TV और mobile को देखें।ठोस  भोजन के तुरंत बाद या बीच बीच में जूस या पानी ना लें। भोजन हो जाने के एक घंटे बाद तरल पदार्थ ले सकते हैं।

हफ़्ते में एक दिन उपवास करें। शाम तक केवल पानी लें, प्यास लगे तो ही पीएँ। शाम 5 बजे नारियल पानी और रात 8 बजे सलाद लें।

7. उपवास के अगले दिन किसी प्राकृतिक चिकित्सक के देख रेख में टोना लें। जिससे आँत की प्रदाह को शांत किया जा सके। एनिमा किट मँगा लें। यह किट ऑनलाइन मिल जाएगा। इससे 200ml पानी गुदाद्वार से अंदर डालें और प्रेशर आने पर मल त्याग करें। ऐसा दिन में दो बार करना है अगले 21 दिनों के लिए। ये करना है ताकि शरीर में मोजुद विषाणु निष्कासित हो जाये। इसके बाद हफ़्ते में केवल एक बार लेना है उपवास के अगले दिन। टोना का फ़ायदा तभी होगा जब आहार शुद्धि करेंगे।

धन्यवाद।

रूबी, 

प्राकृतिक जीवनशैली प्रशिक्षिका व मार्गदर्शिका (Nature Cure Guide & Educator)

 


Scan QR code to download Wellcure App
Wellcure
'Come-In-Unity' Plan