Q&A
12:02 PM | 06-02-2020

I'm 21 years old suffering from scanty periods for last 2 years. What to do?

The answers posted here are for educational purposes only. They cannot be considered as replacement for a medical 'advice’ or ‘prescription’. ...The question asked by users depict their general situation, illness, or symptoms, but do not contain enough facts to depict their complete medical background. Accordingly, the answers provide general guidance only. They are not to be interpreted as diagnosis of health issues or specific treatment recommendations. Any specific changes by users, in medication, food & lifestyle, must be done through a real-life personal consultation with a licensed health practitioner. The views expressed by the users here are their personal views and Wellcure claims no responsibility for them.

Read more
Post as Anonymous User
4 Answers

10:04 PM | 06-02-2020

Hello User,

If we put in the definition of medical science having a flow from 2-5 days is completely normal. If it is according to the genetic issues, like your mother and sisters have been having the same flow then there is nothing to be concerned about. 

There is a chance that it might be genetically connected as your mother and sister must have to go through the same kind of flow. The next thing is that your hemoglobin might be less in the quantity that is why your body has this as a defense mechanism to control.

In any case, the cure remains the same, which is a holistic cure in nature's way. 

Eat:

  • Start with food items like jaggery, dates, sprouts, green leafy vegetables which help in increasing iron content as well as regularise our menstrual cycle.
  • Vitamin C addition helps in easy-iron absorption, for example adding lemon in dals.
  • Include one fruit like apple, papaya, a banana a day to have a healthy GUT.
  • Eating methi seeds with warm water also helps in healthy periods.
  • You can also have cinnamon water, empty stomach as it helps in insulin sensitivity. 

Exercise:

  • Sleep on your back, raise your one leg and start rotating in a circular motion for 5 times and place it back, repeat the same with another leg. This will elevate your uterine muscles.
  • Squats are another exercise to improve uterine health. Do it 15-20 times at one time.
  • Sit and take 10-15 long deep breaths from the abdomen, to release all the toxicity.

Meditation:

As you have mentioned about stress, while sleeping, take a bowl of water. Put two-three essential oil drops like lavender or orange and inhale it. It will help in calming nerves and discomfort during periods.

Listen to music for 15 minutes by closing your eyes and deep breathing, this will help in treating stress.

Sleep:

Sleep should be of 7-8 hours, sound. This will help in releasing all stress and treat all the issues in a healthy manner. It is time to get yourself healthy and wise.

Hopefully, these suggestions will be helpful

Thank you



07:31 PM | 17-02-2020

Hello,

The normal range for periods is 2-5days and the normal quantity for blood flow is 150ml.
If the flow is less than this, then it is considered as scanty flow. 

Reasons for or causes of scanty periods

  • Stress.
  • Lack of nutritional and balanced diet. 
  • Genetical cause.
  • Lack of rest or sleep.
  • Certain medications. 
  • Improper routine. 

Diet

  • Have a balanced diet daily.
  • Drink freshly prepared fruit juices. 
  • Drink coconut water. 
  • Include nuts, sprouts, beans in your diet.
  • Have only plant-based natural foods. 
  • Have fresh fruits and green leafy vegetables. 
  • Have whole grains like barley, millets, oats. 

Exercise or yoga

  • Always start your day by doing some physical activity. 
  • You can do jogging, skipping or a simple brisk walk of 30 min.
  • Perform yoga like gomukha asana, bhujanga asana,hala asana.
  • Also do some pranayam like kapalbhati pranayam,bhramri pranayam .
  • Do these yoga, exercise, and pranayama early morning. 

To Avoid

  • Avoid sleeping late at night as it disturbs circadian rhythm. 
  • Don't sleep till late in the morning also.
  • Don't eat spicy, oily, packaged and processed foods. 
  • Avoid white sugar, maida.
  • Avoid tea and coffee. 
  • Avoid dairy foods. 
  • Avoid animal products. 
  • Avoid carbonated drinks. 

Thank you 



12:25 PM | 17-02-2020

Scanty menses or insufficient periods can occur normally at the extreme periods of the reproductive life that is, either just after puberty or just before menopause. the reason might be due to ovulation is irregular at this time, and the endometrial lining fails to develop normally. But normal problems at other times can also cause scanty blood flow during the menstrual cycle.

Some of the simple natural remedies or tips could help you bring it to normal if at all there is a slight abnormality in the cycle, namely

  1. Practice yoga could be helpful to bring normalcy in the cycles and keep you in optimum health
  2. Always maintain a healthy weight. Changes in your weight can affect your periods. Avoid junk foods, artificial foods, sugared drinks which could impact the normalcy
  3. Exercise regularly could be beneficial to regulate various systems of the body
  4. Spice things up with ginger. Consuming ginger tea could be benficial ...
  5. Add some cinnamon. Cinnamam has various therapeutic properties to bring it to normal...
  6. Get your daily dose of vitamins through green leafy vegetables, cereals, grains, nuts and sunlight. ...
  7. Eat pineapple. The enzyme bromelin present in the pineapple has an influence on the female reproductive hormones.


10:09 PM | 06-02-2020

हेलो,
कारण - मासिक धर्म में रक्त का स्त्राव  कम या ज्यादा हो सकता है। आमतौर में हर 21 से 35 दिनों की अवधि के चक्र हो सकता है। सामान्यतः माहवारी में रक्त स्त्राव दो से सात दिनों तक हो सकता है।

हार्मोन में संतुलन ना होना, गर्भ निरोधक दवाईयों का सेवन

पाचन तंत्र के स्वस्थ ना रहने पर इसका बहाव कम या ज्यादा हो सकता है।  खुराक में सुधार इसमें सुधार कर सकता है। पेट साफ होने के लिए जैसे फाइबर युक्त भोजन आवश्यक है उसी तरीके से पीरियड्स को खुलासा होने के लिए फाइबर युक्त भोजन की जरूरत पड़ती है।

समाधान- गहरे हरे रंग के पत्तों का जूस बहुत ही लाभदायक होगा जैसे पालक धनिया का पत्ता पुदीने का पत्ता कड़ी पत्ता बेलपत्र दूब घास इस तरीके के पत्तों को 20 से 25 ग्राम धोकर पीसकर 200ml पानी मिलाकर पिए बिना खाने पीने से ज्यादा लाभ होगा छानकर भी पी सकते हैं।

दौड़ लगाई दौड़ लगाने से रक्त का संचार अच्छा होता है या फिर तेज चाल में चले।

खाना खाने से एक घंटे पहले नाभि के ऊपर गीला सूती कपड़ा लपेट कर रखें या खाना के 2 घंटे बाद भी ऐसा कर सकते हैं।

मेरुदंड स्नान के लिए अगर टब ना हो तो एक मोटा तौलिया गीला कर लें बिना निचोरे उसको बिछा लें और अपने मेरुदंड को उस स्थान पर रखें।

मेरुदंड (स्पाइन) सीधा करके बैठें। हमेशा इस बात ध्यान रखें और हफ़्ते में 3 दिन मेरुदंड का स्नान करें। 

जीवन शैली - जीवन शैली-  1आकाश तत्व - एक खाने से दुसरे खाने के बीच में अंतराल (gap) रखें।

फल के बाद 3 घंटे, सलाद के बाद 5 घंटे, और पके हुए खाने के बाद 12 घंटे का (gap) रखें।

2.वायु तत्व - प्राणायाम करें, आसन करें। दौड़ लगाएँ।

3.अग्नि - सूर्य की रोशनी लें।

4.जल - अलग अलग तरीक़े का स्नान करें। मेरुदंड स्नान, हिप बाथ, गीले कपड़े की पट्टी से पेट की गले और सर की 20 मिनट के लिए सेक लगाए। 

स्पर्श थरेपी करें। मालिश के ज़रिए भी कर सकते है।

कपूर मिश्रित नारियल तेल से पेट पर घड़ी की सीधी दिशा (clockwise) में और घड़ी की उलटी दिशा (anti clockwise)में मालिश करें। नरम हाथों से बिल्कुल भी प्रेशर नहीं दें।

5.पृथ्वी - सुबह खीरा 1/2 भाग धनिया पत्ती (10 ग्राम) पीस लें, 100 ml पानी मिला कर पीएँ। यह juice आप कई प्रकार के ले सकते हैं। पेठे (ashguard ) का जूस लें और कुछ नहीं लेना है। नारियल पानी भी ले सकते हैं। पालक  पत्ते धो कर पीस कर 100ml पानी डाल पीएँ। दुब घास 25 ग्राम पीस कर छान कर 100 ml पानी में मिला कर पीएँ। कच्चे सब्ज़ी का जूस आपका मुख्य भोजन है। 2 घंटे बाद फल नाश्ते में लेना है।फल को चबा कर खाएँ। इसका juice ना लें। फल सूखे फल नाश्ते में लें।

दोपहर के खाने में सलाद नट्स और अंकुरित अनाज के साथ  सलाद में हरे पत्तेदार सब्ज़ी को डालें और नारियल पीस कर मिलाएँ। कच्चा पपीता 50 ग्राम कद्दूकस करके डालें। कभी सीताफल ( yellow pumpkin)50 ग्राम ऐसे ही डालें। कभी सफ़ेद पेठा (ash guard) 30 ग्राम कद्दूकस करके डालें। ऐसे ही ज़ूकीनी 50 ग्राम डालें।कद्दूकस करके डालें।कभी काजू बादाम अखरोट मूँगफली भिगोए हुए पीस कर मिलाएँ। लाल, हरा, पीला शिमला मिर्च 1/4 हिस्सा हर एक का मिलाएँ। लें। बिना नींबू और नमक के लें। स्वाद के लिए नारियल और herbs मिलाएँ।

रात के खाने में इस अनुपात से खाना खाएँ 2 कटोरी सब्ज़ी के साथ 1कटोरी चावल या 1रोटी लेएक बार पका हुआ खाना रात को 7 बजे से पहले लें।

6.सेंधा नमक केवल एक बार पके हुए खाने में लें। जानवरों से उपलब्ध होने वाले भोजन वर्जित हैं।

तेल, मसाला, और गेहूँ से परहेज़ करेंगे तो अच्छा होगा। चीनी के जगह गुड़ लें।

7.एक नियम हमेशा याद रखें ठोस(solid) खाने को चबा कर तरल (liquid) बना कर खाएँ। तरल  को मुँह में घूँट घूँट पीएँ। खाना ज़मीन पर बैठ कर खाएँ। खाते वक़्त ना तो बात करें और ना ही TV और mobile को देखें।ठोस  भोजन के तुरंत बाद या बीच बीच में जूस या पानी ना लें। भोजन हो जाने के एक घंटे बाद तरल पदार्थ ले सकते हैं।

हफ़्ते में एक दिन उपवास करें। शाम तक केवल पानी लें, प्यास लगे तो ही पीएँ। शाम 5 बजे नारियल पानी और रात 8 बजे सलाद लें।

8.उपवास के अगले दिन किसी प्राकृतिक चिकित्सक के देख रेख में टोना लें। जिससे आँत की प्रदाह को शांत किया जा सके। एनिमा किट मँगा लें। यह किट ऑनलाइन मिल जाएगा। इससे 200ml पानी गुदाद्वार से अंदर डालें और प्रेशर आने पर मल त्याग करें। ऐसा दिन में दो बार करना है अगले 21 दिनों के लिए। ये करना है ताकि शरीर में मोजुद विषाणु निष्कासित हो जाये। इसके बाद हफ़्ते में केवल एक बार लेना है उपवास के अगले दिन। टोना का फ़ायदा तभी होगा जब आहार शुद्धि करेंगे।

धन्यवाद।

रूबी, 

प्राकृतिक जीवनशैली प्रशिक्षिका व मार्गदर्शिका (Nature Cure Guide & Educator)

 

 


Scan QR code to download Wellcure App
Wellcure
'Come-In-Unity' Plan