Q&A
10:07 AM | 18-02-2020

I am posting this question on behalf of my spouse, I live in Europe and my parents live in India. Due to one of my parents illness, I keep travelling to India when I am needed. Since 4 years, I kind of developed anxiety and I am always worried about my family. I have always acidity and also have gas problem. Recently I experience bad breath problem too. I am following vegan diet since more than 4 years now. Could you please guide me, how can I get rid of Acidity, gas and bad breath problem?


The answers posted here are for educational purposes only. They cannot be considered as replacement for a medical 'advice’ or ‘prescription’. ...The question asked by users depict their general situation, illness, or symptoms, but do not contain enough facts to depict their complete medical background. Accordingly, the answers provide general guidance only. They are not to be interpreted as diagnosis of health issues or specific treatment recommendations. Any specific changes by users, in medication, food & lifestyle, must be done through a real-life personal consultation with a licensed health practitioner. The views expressed by the users here are their personal views and Wellcure claims no responsibility for them.

Read more
Post as Anonymous User
3 Answers

02:22 PM | 18-02-2020

Hello, Bhagyashri (For your spouse),

We can understand that it becomes really difficult to leave you anxious when you have to handle everything alone, it can make you worry bout things which are sometimes not even relevant. If you are having thoughts that do not allow you to grow and achieve things, obviously they should be replaced with an abundant positivity.

The best advice when suffering from anxiety is taking a natural way to treat it. Going the natural way will only help in treating both mental and physical issue but will also help in preventing it. As the stressors in today's lifestyle have increased be it for a person working at home or corporate lifestyle everything needs to be tackled in a healthy manner. A lifestyle filled with green vegetables, fruits, exercise, and meditation.

With the following advice, we are sure you will be able to treat everything in a holistic way.

Eat:

Start the day with two-three glasses of warm water, this will help in flushing out the toxins and improve the state of metabolism by increasing it. The next thing is the inclusion of vegetable juice in your breakfast as this will help in giving the right amount of energy for the day. Going for a head massage, daily at night massage the head with coconut oil and aloe vera gel, this will help in soothing the nerves and reduce the episode of anxiety.

  • Keep at least two hours gap between your food and your sleep timing at night.
  • Having tomatoes with black pepper an hour before a meal is helpful.
  • You can also choose to have vegetable juice in your breakfast to give your stomach relief.
  • Stay hydrated.
  • The best thing is to have a good amount of raw vegetable in your diet.
  • Chew mint leaves, 2-3 after your meals.

Exercise:

Taking a brisk walk in the early morning sun rays helps in treating all the problems, as the sun helps in treating the mood and freshen us for the whole day. Early morning walk is recommendable. Suryanamaskar will help in treating the mental issues and will help in dealing with all problems, 12 sets a day is recommendable. If you are a beginner start with 6 and increase it. Work out routine like Zumba, aerobics which are normally dance-based will also help in enhancing your mood and make you feel refreshed for the day and treat anxiety which is due to health.

Meditation:

Stop using the gadget on hour before sleep, you can use a fragrant diffuser where you can use essential oils and then with the smell itself you will start feeling calm. Take 10 long deep breaths, and allowing your body to relax, any thought which comes let it go do not resist. Saying the affirmation, I am healthy and happy" release each breath. This will help a lot in calming you. Communicating with like-minded people always help, going to in groups make us not only share or idea and thoughts but motivate and learn something new.

Sleep:

The sleep is a very important part of treating any mental symptom, sleep cycle of 90 minutes should be completed in order to get a sound body. This sleep cycle should be repeated 5 times. This makes 7-8 hours of healthy sleep. This will make your body and mind strong and refreshing.

Hopefully, these suggestions will help.

Thank you



10:01 PM | 19-02-2020

All health problems are related. I can very well understand how health concerns of near and dear ones impact us.

Just a vegan diet is not enough. Follow an oil-free, low fat, gluten-free, high raw whole food plant-based diet. Make use of the recipes on this website.

You can also use hydrotherapy techniques like abdomen wet pack, spinal bath for relieving stress and getting rid of stomach issues.

Accepting things as they are and realizing that everything is subjected to impermanence is the key to peace.

 



02:20 PM | 18-02-2020

हेलो,

कारण - खाना जो देर तक पचता नहीं है और शरीर के अंदर काफी लंबे समय तक सड़ रहा होता है उसके वजह से आंतों में यह संक्रमण होता है। गैस बनता है। बदबूदार सांसों के लिए आंतों का संक्रमण ही कारक है। अम्ल की अधिकता के कारण ब्रेन में ऑक्सीजन नहीं पहुंच पा रहा है रक्त का संचार ठीक प्रकार से नहीं हो पा रहा है जिसके कारण मानसिक विकार  उत्पन्न हो रहा है। आहार शुद्धि और प्राकृतिक जीवन शैली को अपनाकर इस समस्या सेे  छुटकारा पाया जा सकता है।

समाधान- 1. जितना हो सके कच्चे हरे पत्तों का जूस छानकर पिए। जैसे पालक, दूब घास, बेलपत्र, धनिया पत्ता, तुलसी का पत्ता इन्हें अलग-अलग टाइम पर पीसकर 200ml पानी मिलाकर छानकर पीएं खाली पेट इन पत्तों का जूस बहुत ही ज्यादा लाभदायक होता है। यह रक्त को शुद्ध करेगा।

 2. 20 मिनट सूर्य की रोशनी में अपने शरीर को रखें सिर और आंख को किसी सूती कपड़े से ढक करके 5 मिनट बैक 5 मिनट फ्रंट 5 मिनट लेफ्ट 5 मिनट राइट साइड धूप लगाए। धूप लेट कर लगाने से ज्यादा फायदा करता है।

ऐसा करने से शरीर में पल रहे विषाणु मूर्छित हो जाएंगे।

 3. पेट के ऊपर एक गिला कपड़ा लपेट कर रखें 20 मिनट तक उसको लपेटे रखें इससे आंत को ठंडक पहुंचेगी और विषाक्त कणों को निष्कासन में मदद मिलेगा।

4. हर 3 घंटे में लंबा गहरा श्वास अंदर लें उसको थोड़ी देर रोकें और फिर सांस को खाली करें। खाली करने के बाद फिर से रुके और फिर लंबा गहरा सांस ले। यह एक चक्र है ऐसा दिन में 10 चक्र करें केवल एक शर्त का पालन करें जब आप लंबा गहरा सांस ले रहे हैं तो अपनी रीढ़ की हड्डी को सीधा रखें ऐसा करने से आपके शरीर में ऑक्सीजन की मात्रा का बढ़ेगी और ऑक्सीजन का संचार सुचारू रूप से हो पाएगा।

जीवन शैली - 1. आकाश तत्व - एक खाने से दुसरे खाने के बीच में अंतराल (gap) रखें।

फल के बाद 3 घंटे, सलाद के बाद 5 घंटे, और पके हुए खाने के बाद 12 घंटे का (gap) रखें।

2.वायु तत्व - प्राणायाम करें, आसन करें। दौड़ लगाएँ।

3.अग्नि - सूर्य की रोशनी लें।

4.जल - अलग अलग तरीक़े का स्नान करें। मेरुदंड स्नान, हिप बाथ, गीले कपड़े की पट्टी से पेट की गले और सर की 20 मिनट के लिए सेक लगाए। 

स्पर्श थरेपी करें। मालिश के ज़रिए भी कर सकते है।

तिल के तेल रीढ़ की हड्डी पर घड़ी की सीधी दिशा (clockwise) में और घड़ी की उलटी दिशा (anti clockwise)में मालिश करें। नरम हाथों से बिल्कुल भी प्रेशर नहीं दें।

5.पृथ्वी - सुबह खीरा 1/2 भाग धनिया पत्ती (10 ग्राम) पीस लें, 100 ml पानी मिला कर पीएँ। यह juice आप कई प्रकार के ले सकते हैं। पेठे (ashguard ) का जूस लें और कुछ नहीं लेना है। नारियल पानी भी ले सकते हैं। पालक  पत्ते धो कर पीस कर 100ml पानी डाल पीएँ। दुब घास 25 ग्राम पीस कर छान कर 100 ml पानी में मिला कर पीएँ। कच्चे सब्ज़ी का जूस आपका मुख्य भोजन है। 2 घंटे बाद फल नाश्ते में लेना है। 

फल को चबा कर खाएँ। इसका juice ना लें। फल सूखे फल नाश्ते में लें।

दोपहर के खाने में सलाद नट्स और अंकुरित अनाज के साथ  सलाद में हरे पत्तेदार सब्ज़ी को डालें और नारियल पीस कर मिलाएँ। कच्चा पपीता 50 ग्राम कद्दूकस करके डालें। कभी सीताफल ( yellow pumpkin)50 ग्राम ऐसे ही डालें। कभी सफ़ेद पेठा (ashgurd) 30 ग्राम कद्दूकस करके डालें। ऐसे ही ज़ूकीनी 50 ग्राम डालें।कद्दूकस करके डालें।कभी काजू बादाम अखरोट मूँगफली भिगोए हुए पीस कर मिलाएँ। 

लाल, हरा, पीला शिमला मिर्च 1/4 हिस्सा हर एक का मिलाएँ। लें। बिना नींबू और नमक के लें। स्वाद के लिए नारियल और herbs मिलाएँ।

रात के खाने में इस अनुपात से खाना खाएँ 2 कटोरी सब्ज़ी के साथ 1कटोरी चावल या 1रोटी लेएक बार पका हुआ खाना रात को 7 बजे से पहले लें।

6. एक नियम हमेशा याद रखें ठोस(solid) खाने को चबा कर तरल (liquid) बना कर खाएँ। तरल  को मुँह में घूँट घूँट पीएँ। खाना ज़मीन पर बैठ कर खाएँ। खाते वक़्त ना तो बात करें और ना ही TV और mobile को देखें।ठोस  भोजन के तुरंत बाद या बीच बीच में जूस या पानी ना लें। भोजन हो जाने के एक घंटे बाद तरल पदार्थ ले सकते हैं।

हफ़्ते में एक दिन उपवास करें। शाम तक केवल पानी लें, प्यास लगे तो ही पीएँ। शाम 5 बजे नारियल पानी और रात 8 बजे सलाद लें।

7. उपवास के अगले दिन किसी प्राकृतिक चिकित्सक के देख रेख में टोना लें। जिससे आँत की प्रदाह को शांत किया जा सके। एनिमा किट मँगा लें। यह किट ऑनलाइन मिल जाएगा। इससे 200ml पानी गुदाद्वार से अंदर डालें और प्रेशर आने पर मल त्याग करें। ऐसा दिन में दो बार करना है अगले 21 दिनों के लिए। ये करना है ताकि शरीर में मोजुद विषाणु निष्कासित हो जाये। इसके बाद हफ़्ते में केवल एक बार लेना है उपवास के अगले दिन। टोना का फ़ायदा तभी होगा जब आहार शुद्धि करेंगे।

धन्यवाद।

रूबी, 

प्राकृतिक जीवनशैली प्रशिक्षिका व मार्गदर्शिका (Nature Cure Guide & Educator)


Scan QR code to download Wellcure App
Wellcure
'Come-In-Unity' Plan