Q&A
10:10 AM | 20-02-2020

How to stop runny nose?


The answers posted here are for educational purposes only. They cannot be considered as replacement for a medical 'advice’ or ‘prescription’. ...The question asked by users depict their general situation, illness, or symptoms, but do not contain enough facts to depict their complete medical background. Accordingly, the answers provide general guidance only. They are not to be interpreted as diagnosis of health issues or specific treatment recommendations. Any specific changes by users, in medication, food & lifestyle, must be done through a real-life personal consultation with a licensed health practitioner. The views expressed by the users here are their personal views and Wellcure claims no responsibility for them.

Read more
Post as Anonymous User
3 Answers

08:21 PM | 21-02-2020

Hello Ramesh,

These reactions are generally a defense reaction of our body in order to throw things out, and it becomes a sign that there is some problem with the body. The chronic diet of high fat and sedentary lifestyle is the cause of runny nose as this makes our immunity vulnerable with the accumulation of the toxins. The new-age corporate glass building is a new hub of all the diseases to enter as with air conditions we lock our space with altered air supply rather than natural places and this inhibits our healthy growth.

What makes a major difference is by changing lifestyles, that we are not only curing the disease at this stage but also preventing it.

Now let us understand what changes we can make:

Eat:

The first thing in the morning is to start your day with something light in nature and easy to digest is what your breakfast should be because they are the kind of nutrients that get absorbed easily. Even the early morning ritual should include consumption of two-three glasses of warm water will help in flushing out all the toxins. The ideal diet would be to depend on fruits and raw vegetable intake at least for one month and refrain from something which is oil-based. Have fruit salad in the afternoon time and vegetable salad as evening snack this will be light on your stomach.

  • Consume Vitamin C rich food as it builds up immunity at the same time clear our airway like mosumbi, oranges, lemon, sprouts, cabbage, capsicum, etc. 
  • Drink plenty of water.
  • Have mulethi: Add one teaspoon of mulethi with one teaspoon of honey, make a paste of it and this should be taken three times a day. One hour before and one hour after it avoid consuming anything this will aid.
  • Have ginger lemon tea, with one inch of ginger and teaspoon of lemon which will help in treating any respiratory organ issue. 

Exercise:

  • Pranayam helps in treating all the respiratory problems.
  • A brisk walk in early morning sun from 30-45 minutes, helps in treating your body to its level best. Sun is a great source of Vitamin D that is why walking in the sun and connecting with the sun also help in activating our cells and rejuvenate us for the whole day.

Meditation:

In any kind of disease, stress comes complementary to it, but with our assurance and positive attitude, we can treat anything. The best thing to start with is breathing mindfully before sleep with the help of music to stay positive.

In a room take a bowl of water and add two-three drops of orange or lavender essential oils this will help in soothing you and the aroma will relax you and keep you away from any kind of disease.

Essential oil like eucalyptus inhaled during the episode of the runny nose by putting two-three drops on your handkerchief will help a lot in treating the episode.

A positive attitude will help you to deal with everything in life.

Sleep:

Sleeping for at least 7-8 hours is really helpful in dealing with any problem, sleep is our body's natural response and helps the body to heal. Sleep relaxes the muscles and strengthens our body. During sleep, our body goes into a repair mechanism where it heals thy self.

Hopefully, these suggestions will help you.

Thank you.



08:57 PM | 20-02-2020

हेलो,
कारण - नाक बहने की समस्या तब होती है, जब साइनस या नाक के वायुमार्गों में बलगम की मात्रा ज्यादा बढ़ जाती है। साइनस एक प्रकार की गुहा होती है जो चेहरे की हड्डियों के पीछे होती है और नाक के मार्गों से जुड़ी होती है, इसमें बलगम इकट्ठा होता है। शरीर में बलगम का उत्पादन बढ़ना जुकाम, वायरस या एलर्जी पैदा करने वाले पदार्थों का शरीर में हमला करने के कारण होता है।
शरीर में अम्ल की अधिकता होने पर शरीर के अंदर ऑक्सीजन की कमी हो जाती है ठीक उसी प्रकार जैसे कि हवा में पॉल्यूशन से वातावरण दूषित होता है उसी तरीके से शरीर के अंदर अम्ल की अधिकता से शरीर के अंदर मौजूद ऑक्सीजन प्रभावित होता है। पाचन तंत्र को स्वस्थ रखकर ऑक्सीजन के लेबल को बढ़ाया जा सकता है आहार शैली और जीवनशैली में परिवर्तन लाना आवश्यक है।

इस समस्या से कभी मैं  भी परेशान थी और यह समस्या जिस तरीके से ठीक हुआ वह मैं आपसे शेयर करने जा रही हूं।

समाधान- 1. लंबा गहरा सांस अंदर ले रुके थोड़ी देर 10 गिनने तक फिर सांस को खाली करें खाली करने के बाद 10 गिनने तक रुके फिर लंबा गहरा सांस अंदर खींचें यह प्रक्रिया एक चक्र हुआ ऐसा 10 चक्र करें एक बार में और ऐसा दिन में तीन से चार बार करें बस इस बात का ध्यान रखें कि जब आप यह प्रक्रिया कर रहे हो तो आपकी रीढ़ की हड्डी सीधी होनी चाहिए।

2. गहरे हरे रंग के पत्तों का जूस खाली पेट ले उसके 2 घंटे बाद फल का सेवन करें और उसके तीन से 3:30 घंटे बाद फिर से गाजर या चुकंदर का जूस लें ऐसा करने से शरीर पूरी तरीके से साफ हो सकेगा।

3. सूर्य की रोशनी जहां है वहां अंधेरा नहीं है उसी तरीके से जहां स्वास्थ्य है वहां रोग नहीं रह सकता सूर्य की रोशनी का हमारे आंतरिक शरीर पर बहुत ही गहरा प्रभाव पड़ता है।

सूर्य की रोशनी में 5 मिनट सीधा 5 मिनट उल्टा 5 मिनट या 5 मिनट बाया लेटे सर और आपको किसी सूती कपड़े से ढक कर यह 20 से 25 मिनट सूर्य की रोशनी लेने से शरीर अंदर से रोग मुक्त होगा।

4. मेरुदंड स्नान के लिए अगर टब ना हो तो एक मोटा तौलिया गीला कर लें बिना निचोरे उसको बिछा लें और अपने मेरुदंड को उस स्थान पर रखें।

मेरुदंड (स्पाइन) सीधा करके बैठें। हमेशा इस बात ध्यान रखें और हफ़्ते में 3 दिन मेरुदंड का स्नान करें। 

जीवन शैली - 1. आकाश तत्व - एक खाने से दुसरे खाने के बीच में अंतराल (gap) रखें।

फल के बाद 3 घंटे, सलाद के बाद 5 घंटे, और पके हुए खाने के बाद 12 घंटे का (gap) रखें।

2.वायु तत्व - प्राणायाम करें, आसन करें। दौड़ लगाएँ।

3.अग्नि - सूर्य की रोशनी लें।

4.जल - अलग अलग तरीक़े का स्नान करें। मेरुदंड स्नान, हिप बाथ, गीले कपड़े की पट्टी से पेट पर, गले और सर की 20 मिनट के लिए सेक लगाए। 

स्पर्श थरेपी करें। मालिश के ज़रिए भी कर सकते है।

तिल के तेल से गले  पर घड़ी की सीधी दिशा (clockwise) में और घड़ी की उलटी दिशा (anti clockwise)में मालिश करें। नरम हाथों से बिल्कुल भी प्रेशर नहीं दें।

5.पृथ्वी - सुबह खीरा 1/2 भाग धनिया पत्ती (10 ग्राम) पीस लें, 100 ml पानी मिला कर पीएँ। यह juice आप कई प्रकार के ले सकते हैं। पेठे (ashguard ) का जूस लें और कुछ नहीं लेना है। नारियल पानी भी ले सकते हैं। पालक  पत्ते धो कर पीस कर 100ml पानी डाल पीएँ। दुब घास 25 ग्राम पीस कर छान कर 100 ml पानी में मिला कर पीएँ। कच्चे सब्ज़ी का जूस आपका मुख्य भोजन है। 2 घंटे बाद फल नाश्ते में लेना है। 

फल को चबा कर खाएँ। इसका juice ना लें। फल सूखे फल नाश्ते में लें।

दोपहर के खाने में सलाद नट्स और अंकुरित अनाज के साथ  सलाद में हरे पत्तेदार सब्ज़ी को डालें और नारियल पीस कर मिलाएँ। कच्चा पपीता 50 ग्राम कद्दूकस करके डालें। कभी सीताफल ( yellow pumpkin)50 ग्राम ऐसे ही डालें। कभी सफ़ेद पेठा (ashgurd) 30 ग्राम कद्दूकस करके डालें। ऐसे ही ज़ूकीनी 50 ग्राम डालें।कद्दूकस करके डालें।कभी काजू बादाम अखरोट मूँगफली भिगोए हुए पीस कर मिलाएँ। 

लाल, हरा, पीला शिमला मिर्च 1/4 हिस्सा हर एक का मिलाएँ। लें। बिना नींबू और नमक के लें। स्वाद के लिए नारियल और herbs मिलाएँ।

रात के खाने में इस अनुपात से खाना खाएँ 2 कटोरी सब्ज़ी के साथ 1कटोरी चावल या 1रोटी लेएक बार पका हुआ खाना रात को 7 बजे से पहले लें।

6.सुबह खीरा 1/2 भाग धनिया पत्ती (10 ग्राम) पीस लें, 100 ml पानी मिला कर पीएँ। यह juice आप कई प्रकार के ले सकते हैं। पेठे (ashguard ) का जूस लें और कुछ नहीं लेना है। नारियल पानी भी ले सकते हैं। पालक  पत्ते धो कर पीस कर 100ml पानी डाल पीएँ। दुब घास 25 ग्राम पीस कर छान कर 100 ml पानी में मिला कर पीएँ। कच्चे सब्ज़ी का जूस आपका मुख्य भोजन है। 2 घंटे बाद फल नाश्ते में लेना है। 

फल को चबा कर खाएँ। इसका juice ना लें। फल सूखे फल नाश्ते में लें।

दोपहर के खाने में सलाद नट्स और अंकुरित अनाज के साथ  सलाद में हरे पत्तेदार सब्ज़ी को डालें और नारियल पीस कर मिलाएँ। कच्चा पपीता 50 ग्राम कद्दूकस करके डालें। कभी सीताफल ( yellow pumpkin)50 ग्राम ऐसे ही डालें। कभी सफ़ेद पेठा (ashgurd) 30 ग्राम कद्दूकस करके डालें। ऐसे ही ज़ूकीनी 50 ग्राम डालें।कद्दूकस करके डालें।कभी काजू बादाम अखरोट मूँगफली भिगोए हुए पीस कर मिलाएँ। 

लाल, हरा, पीला शिमला मिर्च 1/4 हिस्सा हर एक का मिलाएँ। लें। बिना नींबू और नमक के लें। स्वाद के लिए नारियल और herbs मिलाएँ।

रात के खाने में इस अनुपात से खाना खाएँ 2 कटोरी सब्ज़ी के साथ 1कटोरी चावल या 1रोटी लेएक बार पका हुआ खाना रात को 7 बजे से पहले लें।

7.एक नियम हमेशा याद रखें ठोस(solid) खाने को चबा कर तरल (liquid) बना कर खाएँ। तरल  को मुँह में घूँट घूँट पीएँ। खाना ज़मीन पर बैठ कर खाएँ। खाते वक़्त ना तो बात करें और ना ही TV और mobile को देखें।ठोस  भोजन के तुरंत बाद या बीच बीच में जूस या पानी ना लें। भोजन हो जाने के एक घंटे बाद तरल पदार्थ ले सकते हैं।

हफ़्ते में एक दिन उपवास करें। शाम तक केवल पानी लें, प्यास लगे तो ही पीएँ। शाम 5 बजे नारियल पानी और रात 8 बजे सलाद लें।

8. उपवास के अगले दिन किसी प्राकृतिक चिकित्सक के देख रेख में टोना लें। जिससे आँत की प्रदाह को शांत किया जा सके। एनिमा किट मँगा लें। यह किट ऑनलाइन मिल जाएगा। इससे 200ml पानी गुदाद्वार से अंदर डालें और प्रेशर आने पर मल त्याग करें। ऐसा दिन में दो बार करना है अगले 21 दिनों के लिए। ये करना है ताकि शरीर में मोजुद विषाणु निष्कासित हो जाये। इसके बाद हफ़्ते में केवल एक बार लेना है उपवास के अगले दिन। टोना का फ़ायदा तभी होगा जब आहार शुद्धि करेंगे।

 

धन्यवाद।

रूबी, 

प्राकृतिक जीवनशैली प्रशिक्षिका व मार्गदर्शिका (Nature Cure Guide & Educator)



08:37 PM | 20-02-2020

Stopping a running nose is like opening the doors for many serious issues in future. What comes out during this time? Excess mucus. Why does the body have excess mucus? To protect itself from acidic metabolic waste.

https://www.wellcure.com/body-wisdom/1/do-you-know-about-the-body-s-acid-alkaline-balance

Mucus is one of the bodies protective mechanisms to trap viruses and other irritants that are entering the body. However, in places where the mucus must not be present if you can start accumulating, it can be very hard for the internal organs like the lungs to breathe. We eliminate healthy mucus when we have a cold and cough. This is bodies natural response to eliminating the virus and accumulation in the body. However, mucus starts getting excessively produced in the internal organs such as the gut, the intestinal walls the lungs where it is unnecessary when you eat foods that produce excess mucus. Excess mucus putrifies and hardens overtime and refuses to leave the body in all the attempts that the body makes. Such is the time when you will have also have breathing issues. The major root causes of all your problems is having animal foods such as dairy, eggs, meat, fish. So the elimination of these foods it’s self will ensure that the body makes way to clean itself. Secondly, other foods that contribute to such issues are excess grains, sugar, excess jaggery, the food with excess spices.  Medicines/suppressors are also alien to the body and the effort of suppression of the mucus from coming out leads to further deterioration and worsens the breathing issues and other respiratory issues.

When you have excess mucus this also affects the GUT and feeling of hunger reduces. Food does not make a person lose or gain weight. The body sheds the excess toxins when it gets digestive rest. So you will continue to have cold till your body feels you have toxins to shed in the form of cold. Once you stop adding toxin causing foods, the cold will also stop when the tank is over.

The only way to permanently get relief from these issues is to follow a whole food plant-based lifestyle with each food coming only from plants. Gluten here is an exception that you will have to make although it comes from plants we will still have to remove it from our diet. Gluten is present in wheat, maida, barley, oats and all the Rawa that is made from wheat. Do not attempt to eat any of the bakery products which are loaded with transfat. Oil and any greasy foods must be absolutely removed from the diet.

Once you feel better join a yoga class and learn yoga and pranayama and practitioners.

To help you address a runny nose,

1) Switch to a full juice diet for 1-2 days. If you feel like eating, have fruits only. Keeping your stomach free from digestion will heal you faster.

2) Gargle with turmeric and salt for 5-6 times daily to help you manage sore throats

3) Rest as much as possible

4) Avoid dairy, eggs, meat fish and any animal products forever

5) Avoid processed foods like fried, refined oils, sugars, outside ready-made fake foods

This will ensure that your running nose does not prolong for days together. When the body's attempt to clean finishes, it will stop. For reasons stated above, I suggest that you dont attempt to stop it.

This is a journey for your reading for a long term cure

MIne - http://www.wellcure.com/health-journeys/37/my-body-won-me-freedom-from-allergies-and-respiratory-issues

My kids - http://www.wellcure.com/health-journeys/52/healing-my-kids-skin-respiratory-issues-through-a-natural-plant-based-diet

My friend's daughter - http://www.wellcure.com/health-journeys/58/my-daughter-s-liberation-from-asthma-through-natural-healing

Thanks to let me know if you have any questions

Be blessed

Smitha Hemadri (Holistic lifestyle coach)


Scan QR code to download Wellcure App
Wellcure
'Come-In-Unity' Plan