Q&A
10:09 AM | 20-02-2020

I 32 years old lady, last 8 months I'm trying for pregnancy but till now I could not conceive, I have thyroid prob I take Thyronom 50, tab regularly. I also have right ovarian cyst, from 2006 I take medicine Novelon & Femilon for controlling cyst , but for last one year I stopped to intake Femilon, for pregnancy. Pls suggest me how do I get pregnant?


The answers posted here are for educational purposes only. They cannot be considered as replacement for a medical 'advice’ or ‘prescription’. ...The question asked by users depict their general situation, illness, or symptoms, but do not contain enough facts to depict their complete medical background. Accordingly, the answers provide general guidance only. They are not to be interpreted as diagnosis of health issues or specific treatment recommendations. Any specific changes by users, in medication, food & lifestyle, must be done through a real-life personal consultation with a licensed health practitioner. The views expressed by the users here are their personal views and Wellcure claims no responsibility for them.

Read more
Post as Anonymous User
3 Answers

09:02 PM | 21-02-2020

Hello Moumita Roya,

We can understand the kind of anxiety you might be suffering from right now at this stage but do not worry as, if you pay attention to your lifestyle and habits you will surely be treated well.

Cyst and thyroid both are interconnected, because of thyroid gland's action has an important role to play on ovarian, uterine and placental tissue that is why there is an episode of ovarian cysts. During thyroid problem, it is the whole menstrual cycle which gets disturbed. Make sure to take the required measures to treat the main cause of thyroid, you will surely conceive and in a natural way, it can be helped.

With the following advice keep a track of your ovulation cycle it is also important.

Eat:

Start the day with having two-three glasses of warm water, this will help in flushing out all the toxins from the body. Include vegetable juices in the breakfast which are light in nature.

Consume food that is oil-free, avoid any kind of milk products and packaged food items. Make sure you have two hours gap between your meals and sleep time.

  • Vitamin A rich sources like spinach, sweet potatoes, carrots are very good for treating hypothyroid.
  • Beetroot is a very healthy source of folic acid, which helps in conceiving and treating hypothyroidism.
  • Turmeric and green chilies are found to be effective on thyroid function, due to anti-inflammatory action. You can have turmeric in your food or just take warm water and add half a teaspoon of turmeric drink it after an hour of your afternoon meal. You can use green chillies as a part of your meal in case you find them pungent.

Exercise:

  • Sleep on back, raise one leg and start rotating in a circular motion for 5 times and place it back, repeat the same with another leg. This will elevate your uterine muscles.
  • Squats are another exercise to improve uterine health. Do it 15-20 times at one time.
  • Sit and take 10-15 long deep breaths from the abdomen, to release all the toxicity.
  • Start with Suryanamaskar, 12 sets daily, if a beginner starts with 6 and slow postures with each breath.
  • Cobra pose in yoga poses which helps in treating the blood circulation of the pelvic region.
  • Go for a brisk walk in the sun, the sun will help in increasing both blood and oxygen supply of the body.

Meditation:

While sleeping, take a bowl of water. Put two-three essential oil drops like lavender or orange and inhale it. It will help in calming nerves. Listen to music for 15 minutes by closing your eyes and deep breathing, this will help in treating stress.

15 minutes relaxation session is important before sleep. The power of visualization is very important, imagine your body uterus to be healthy and ready for your little one to enter. This will help you a lot. Pelvic massages are also very healthy in this case, massage with coconut or almond oil.

Sleep:

A sound sleep should be of 7-8 hours. This will help in releasing all stress and treat all the issues in a healthy manner. It is time to get yourself healthy and wise. A sound sleep of 7-8 hours is considered to be healthy and helps us a lot in treating all kinds of problems.

Hopefully, these suggestions will be helpful.

Thank you



04:13 PM | 21-02-2020

Hi Moumita

I can completely empathize with your situation. I was also in a similar boat a few years ago, struggling with health & struggling to conceive. Shifting to a natural lifestyle helped me a lot. It involved making changes in diet, working towards my emotional health & incorporating all elements of nature. I'll be happy to help you through Wellcure's Nature Nurtures Program. You can read more about it here. If you have any queries, pls write to me at anchal.kapur@wellcure.com.

In the meanwhile, you can read my health journey - My Triumph Over Ulcerative Colitis & Infertility

Wish you the best of health.

Regds
Anchal



11:29 AM | 21-02-2020

हेलो - 
कारण - थायराइड एक एंडोक्राइन ग्रंथि है जो ट्राईआयोडोथायरोनिन (टी3) और थायरोक्सिन (टी4) नामक दो हार्मोन बनाती है। इन हार्मोनों का उत्‍पादन और स्राव थायराइड-स्टिमुलेटिंग हार्मोन (टीएसएच) द्वारा नियंत्रित किया जाता है। टीएसएच पिट्यूटरी में बनता है जिसके स्राव को थायराइड रिलीज करने वाले हार्मोन या टीआरएच द्वारा नियंत्रित किया जाता है। ये हार्मोन शरीर की सामान्‍य चयापचय प्रक्रिया के लिए जिम्‍मेदार होते हैं।

ओवेरियन सिस्ट, अंडाशय में बनने वाले सिस्ट होते हैं जो बंद थैलीनुमा (sac like) आकृति के होते हैं और उनमें तरल पदार्थ भरा होता है। हार्मोन के असंतुलन से ऐसा होता है।

यह दोनों समस्या के कारण प्राकृतिक रूप से आप कंसीव नहीं कर पा रही हैं। दवाइयों का भी बुरा असर आपके स्वास्थ्य पर पड़ रहा है और यह भी कंसीव नहीं कर पाने का एक मुख्य कारक है तो पहले इन दो बीमारी जिसकी वजह से आप दवाई ले रही हैं इसको ठीक करें। उसके बाद नेचुरली कंसीव कर सकेंगे।

यह खराब हाजमा की निशानी है। हाजमा खराब होने पर शरीर में अम्ल की अधिकता होती है जो कि हमारे हार्मोन को असंतुलित करने के लिए मुख्य कारक है इसके अलावा शरीर में अत्यधिक गर्मी हो जाती है शरीर में जो मिनरल्स हमारे सपोर्ट के लिए है वह संक्रमित होकर गांठ के रूप में एकत्रित हो जाते हैं इस समस्या का निदान प्राकृतिक चिकित्सा पद्धति को अपनाकर किया जा सकता है।

समाधान- 1. गहरे हरे रंग के पत्तों का जूस बहुत ही लाभदायक होगा जैसे पालक धनिया का पत्ता पुदीने का पत्ता कड़ी पत्ता बेलपत्र दूब घास इस तरीके के पत्तों को 20 से 25 ग्राम धोकर पीसकर 200ml पानी मिलाकर पिए बिना खाने पीने से ज्यादा लाभ होगा छानकर भी पी सकते हैं।

दौड़ लगाई: दौड़ लगाने से रक्त का संचार अच्छा होता है या फिर तेज चाल में चले।

2. खाना खाने से एक घंटे पहले नाभि के ऊपर गीला सूती कपड़ा लपेट कर रखें या खाना के 2 घंटे बाद भी ऐसा कर सकते हैं।

मेरुदंड स्नान के लिए अगर टब ना हो तो एक मोटा तौलिया गीला कर लें बिना निचोरे उसको बिछा लें और अपने मेरुदंड को उस स्थान पर रखें।

मेरुदंड (स्पाइन) सीधा करके बैठें। हमेशा इस बात ध्यान रखें और हफ़्ते में 3 दिन मेरुदंड का स्नान करें।

 3. गर्भाशय पर (mud) पैक लगाएं 20 मिनट बाद इसे साफ कर ले इससे सिस्ट प्राकृतिक रूप से ठीक हो जाएगा किसी भी दवा की आवश्यकता नहीं है।

थायराइड के लिए गले पर खीरे और नीम के पत्ते का पेस्ट लगाएं।इससे आपका थायराइड प्राकृतिक रूप से ठीक हो जाएगा। थायराइड में उज्जाई प्राणायाम बहुत ही लाभदायक होता है तो आप प्रतिदिन 10 मिनट तक उज्जाई प्राणायाम करें।

जीवन शैली - जीवन शैली-  1आकाश तत्व - एक खाने से दुसरे खाने के बीच में अंतराल (gap) रखें।

फल के बाद 3 घंटे, सलाद के बाद 5 घंटे, और पके हुए खाने के बाद 12 घंटे का (gap) रखें।

2.वायु तत्व - प्राणायाम करें, आसन करें। दौड़ लगाएँ।

3.अग्नि - सूर्य की रोशनी लें।

4.जल - अलग अलग तरीक़े का स्नान करें। मेरुदंड स्नान, हिप बाथ, गीले कपड़े की पट्टी से पेट की गले और सर की 20 मिनट के लिए सेक लगाए। 

स्पर्श थरेपी करें। मालिश के ज़रिए भी कर सकते है।

कपूर मिश्रित नारियल तेल से पेट पर घड़ी की सीधी दिशा (clockwise) में और घड़ी की उलटी दिशा (anti clockwise)में मालिश करें। नरम हाथों से बिल्कुल भी प्रेशर नहीं दें।

5.पृथ्वी - सुबह खीरा 1/2 भाग धनिया पत्ती (10 ग्राम) पीस लें, 100 ml पानी मिला कर पीएँ। यह juice आप कई प्रकार के ले सकते हैं। पेठे (ashgourd ) का जूस लें और कुछ नहीं लेना है। नारियल पानी भी ले सकते हैं। पालक  पत्ते धो कर पीस कर 100ml पानी डाल पीएँ। दुब घास 25 ग्राम पीस कर छान कर 100 ml पानी में मिला कर पीएँ। कच्चे सब्ज़ी का जूस आपका मुख्य भोजन है। 2 घंटे बाद फल नाश्ते में लेना है।

फल को चबा कर खाएँ। इसका juice ना लें। फल सूखे फल नाश्ते में लें।

दोपहर के खाने में सलाद नट्स और अंकुरित अनाज के साथ  सलाद में हरे पत्तेदार सब्ज़ी को डालें और नारियल पीस कर मिलाएँ। कच्चा पपीता 50 ग्राम कद्दूकस करके डालें। कभी सीताफल ( yellow pumpkin)50 ग्राम ऐसे ही डालें। कभी सफ़ेद पेठा (ashgurd) 30 ग्राम कद्दूकस करके डालें। ऐसे ही ज़ूकीनी 50 ग्राम डालें।कद्दूकस करके डालें।कभी काजू बादाम अखरोट मूँगफली भिगोए हुए पीस कर मिलाएँ। 

लाल, हरा, पीला शिमला मिर्च 1/4 हिस्सा हर एक का मिलाएँ। लें। बिना नींबू और नमक के लें। स्वाद के लिए नारियल और herbs मिलाएँ।

रात के खाने में इस अनुपात से खाना खाएँ 2 कटोरी सब्ज़ी के साथ 1कटोरी चावल या 1रोटी लेएक बार पका हुआ खाना रात को 7 बजे से पहले लें।

6.सेंधा नमक केवल एक बार पके हुए खाने में लें। जानवरों से उपलब्ध होने वाले भोजन वर्जित हैं।

तेल, मसाला, और गेहूँ से परहेज़ करेंगे तो अच्छा होगा। चीनी के जगह गुड़ लें।

7.एक नियम हमेशा याद रखें ठोस(solid) खाने को चबा कर तरल (liquid) बना कर खाएँ। तरल  को मुँह में घूँट घूँट पीएँ। खाना ज़मीन पर बैठ कर खाएँ। खाते वक़्त ना तो बात करें और ना ही TV और mobile को देखें।ठोस  भोजन के तुरंत बाद या बीच बीच में जूस या पानी ना लें। भोजन हो जाने के एक घंटे बाद तरल पदार्थ ले सकते हैं।

हफ़्ते में एक दिन उपवास करें। शाम तक केवल पानी लें, प्यास लगे तो ही पीएँ। शाम 5 बजे नारियल पानी और रात 8 बजे सलाद लें।

8.उपवास के अगले दिन किसी प्राकृतिक चिकित्सक के देख रेख में टोना लें। जिससे आँत की प्रदाह को शांत किया जा सके। एनिमा किट मँगा लें। यह किट ऑनलाइन मिल जाएगा। इससे 200ml पानी गुदाद्वार से अंदर डालें और प्रेशर आने पर मल त्याग करें। ऐसा दिन में दो बार करना है अगले 21 दिनों के लिए। ये करना है ताकि शरीर में मोजुद विषाणु निष्कासित हो जाये। इसके बाद हफ़्ते में केवल एक बार लेना है उपवास के अगले दिन। टोना का फ़ायदा तभी होगा जब आहार शुद्धि करेंगे।

 

 

धन्यवाद।

रूबी, 

प्राकृतिक जीवनशैली प्रशिक्षिका व मार्गदर्शिका (Nature Cure Guide & Educator

 


Scan QR code to download Wellcure App
Wellcure
'Come-In-Unity' Plan