Q&A
11:44 AM | 29-04-2020

Hi! I m 27 yrs old. As it is month of Ramadan I m fasting in afternoon time I experience pain below the belly button for some time may be for 1 hr, its not constant. Can anyone plz tell me the cause for it and any remedies. I experience only while I m fasting,not otherwise.


The answers posted here are for educational purposes only. They cannot be considered as replacement for a medical 'advice’ or ‘prescription’. ...The question asked by users depict their general situation, illness, or symptoms, but do not contain enough facts to depict their complete medical background. Accordingly, the answers provide general guidance only. They are not to be interpreted as diagnosis of health issues or specific treatment recommendations. Any specific changes by users, in medication, food & lifestyle, must be done through a real-life personal consultation with a licensed health practitioner. The views expressed by the users here are their personal views and Wellcure claims no responsibility for them.

Read more
Post as Anonymous User
3 Answers

08:02 PM | 29-04-2020

Hello Fatima,

As you are fasting your body is going under a healing state, it is time to integrate all your attention towards your conscious body and all it to heal.

During this type of episode, you can make sure to put a cold ice pack as it will help in dilating the blood vessels in the area and allow your blood circulation to increase which in turn will heal its own self.

Some Fast tips:

1. As we do not drink water during fasting we should make sure to have plenty of it before and after sunrise and sunset.

2. Never skip your pre-dawn meal as it gives glucose to your body for the whole day.

3. Avoid having high indulgence food with high fat and sugars during iftaari keep it light so that nutrients are absorbed well. You can utilise Vitamin C rich diet for your gut problems with fruits sources like oranges and mosumbi.

These tips will ensure that you have a healthy Ramadaan and you would be glowing till Eid.

Hopefully, this suggestion will help you.

Thank you.



01:29 PM | 01-07-2020

Hello Fatima,

Whenever we do fast, our body gets the time for healing the cells and tissues of the body. However, some people experience pain and discomfort due to the accumulation of toxins. 

What to do?

  • Water is very essential for the body but during the fast, we don't take water. So, drink lots of water before starting your fast.
  • Drink freshly prepared homemade fruit juices before fasting. This will provide energy during breakfast. 
  • Take a towel and dip it in cold water. Put this towel on your stomach. This will help to improve blood circulation.
  • Have an adequate sleep of at least 7-8 hours daily. Sleep early at night and also wake up early in the morning. 
  • Have Vitamin C rich drinks before fasting like drink lemon juice or orange juice or amla juice. 
  • Don't skip a meal before starting your fast.

Thank you 



03:19 PM | 29-04-2020

हेलो,
कारण - रमजान का महीना चल रहा है और आप फास्टिंग करते हैं। जब हम उपवास करते हैं तो हमारे शरीर को मौका मिल जाता है उस जगह पर करेक्शन करने का जहां प्रॉब्लम है। आंतों में इन्फ्लेमेशन है जिसकी वजह से आपको पेट के निचले हिस्से में कभी-कभी दर्द महसूस हो रहा है और वह तभी होता है। जब आप फास्टिंग करते हैं। तो इसका मतलब है।  शरीर को मौका मिल जाता है। सेल्फ मैकेनिज्म के जरिए शरीर शरीर के उस हिस्से को स्वास्थ्य प्रदान करने की कोशिश करता है जहां कोई समस्या हो रही है। प्राकृतिक चिकित्सा पद्धति में बहुुत सारे उपाय है जिससे आप अपने को स्वस्थ रख सकते हैं।

समाधान- 1. जितना हो सके कच्चे हरे पत्तों का जूस छानकर पिए। जैसे पालक, दूब घास, बेलपत्र, धनिया पत्ता, तुलसी का पत्ता इन्हें अलग-अलग टाइम पर पीसकर 200ml पानी मिलाकर छानकर पीएं खाली पेट इन पत्तों का जूस बहुत ही ज्यादा लाभदायक होता है। यह रक्त को शुद्ध करेगा। आंतों के इन्फ्लेमेशन को दूर करेगा।

 2. 20 मिनट सूर्य की रोशनी में अपने शरीर को रखें सिर और आंख को किसी सूती कपड़े से ढक करके 5 मिनट बैक 5 मिनट फ्रंट 5 मिनट लेफ्ट 5 मिनट राइट साइड धूप लगाए। धूप लेट कर लगाने से ज्यादा फायदा करता है।

ऐसा करने से शरीर में पल रहे विषाणु मूर्छित हो जाएंगे।

 3. पेट के ऊपर एक गिला कपड़ा लपेट कर रखें 20 मिनट तक उसको लपेटे रखें इससे आंत को ठंडक पहुंचेगी और विषाक्त कणों को निष्कासन में मदद मिलेगा।

4. हर 3 घंटे में लंबा गहरा श्वास अंदर लें उसको थोड़ी देर रोकें और फिर सांस को खाली करें। खाली करने के बाद फिर से रुके और फिर लंबा गहरा सांस ले। यह एक चक्र है ऐसा दिन में 10 चक्र करें केवल एक शर्त का पालन करें जब आप लंबा गहरा सांस ले रहे हैं तो अपनी रीढ़ की हड्डी को सीधा रखें ऐसा करने से आपके शरीर में ऑक्सीजन की मात्रा का बढ़ेगी और ऑक्सीजन का संचार सुचारू रूप से हो पाएगा।

5. फल को चबा कर खाएँ। इसका juice ना लें। फल सूखे फल नाश्ते में लें।

मुख्य भोजन सलाद नट्स और अंकुरित अनाज के साथ  सलाद में हरे पत्तेदार सब्ज़ी को डालें और नारियल पीस कर मिलाएँ। कच्चा पपीता 50 ग्राम कद्दूकस करके डालें। कभी सीताफल ( yellow pumpkin)50 ग्राम ऐसे ही डालें। कभी सफ़ेद पेठा (ashgurd) 30 ग्राम कद्दूकस करके डालें। ऐसे ही ज़ूकीनी 50 ग्राम डालें।कद्दूकस करके डालें।कभी काजू बादाम अखरोट मूँगफली भिगोए हुए पीस कर मिलाएँ। 

लाल, हरा, पीला शिमला मिर्च 1/4 हिस्सा हर एक का मिलाएँ। लें। बिना नींबू और नमक के लें। स्वाद के लिए नारियल और herbs मिलाएँ।

 खाने को इस अनुपात से खाना खाएँ 2 कटोरी सब्ज़ी के साथ 1कटोरी चावल या 1रोटी लेएक बार पका हुआ खाना रात को 7 बजे से पहले लें।

6. एक नियम हमेशा याद रखें ठोस(solid) खाने को चबा कर तरल (liquid) बना कर खाएँ। तरल  को मुँह में घूँट घूँट पीएँ। खाना ज़मीन पर बैठ कर खाएँ। खाते वक़्त ना तो बात करें और ना ही TV और mobile को देखें।ठोस  भोजन के तुरंत बाद या बीच बीच में जूस या पानी ना लें। भोजन हो जाने के एक घंटे बाद तरल पदार्थ ले सकते हैं।

हफ़्ते में एक दिन उपवास करें। शाम तक केवल पानी लें, प्यास लगे तो ही पीएँ। शाम 5 बजे नारियल पानी और रात 8 बजे सलाद लें।

7.  किसी प्राकृतिक चिकित्सक के देख रेख में टोना लें। जिससे आँत की प्रदाह को शांत किया जा सके। एनिमा किट मँगा लें। यह किट ऑनलाइन मिल जाएगा। इससे 200ml पानी गुदाद्वार से अंदर डालें और प्रेशर आने पर मल त्याग करें। ऐसा दिन में दो बार करना है अगले 21 दिनों के लिए। ये करना है ताकि शरीर में मोजुद विषाणु निष्कासित हो जाये। इसके बाद हफ़्ते में केवल एक बार लेना है उपवास के अगले दिन। टोना का फ़ायदा तभी होगा जब आहार शुद्धि करेंगे।

 

धन्यवाद।

रूबी, 

प्राकृतिक जीवनशैली प्रशिक्षिका व मार्गदर्शिका (Nature Cure Guide & Educator)

 


Scan QR code to download Wellcure App
Wellcure
'Come-In-Unity' Plan