Loading...

Welcome to Wellcure: We help you live a disease free and medicine free life

Q&A
11:48 AM | 19-11-2020

How to cure dysentery without medication. Please answer.

The answers posted here are for educational purposes only. They cannot be considered as replacement for a medical 'advice’ or ‘prescription’. ...The question asked by users depict their general situation, illness, or symptoms, but do not contain enough facts to depict their complete medical background. Accordingly, the answers provide general guidance only. They are not to be interpreted as diagnosis of health issues or specific treatment recommendations. Any specific changes by users, in medication, food & lifestyle, must be done through a real-life personal consultation with a licensed health practitioner. The views expressed by the users here are their personal views and Wellcure claims no responsibility for them.

Read more
Post as Anonymous User
3 Answers

12:04 PM | 24-11-2020

हेलो,
कारण -- जब आपका भोजन पचने के लिए छोटी आंत में पहुंचता है। देर तक पाचन क्रिया ना होनेेेे की वजह से इन्फ्लेमेशन उत्पन्न होता है जिसके कारण डिसेंट्रीी होती है। पेट को ठंडक पहुंचातेे ही डिसेंट्रीीी की समस्या  ठीक होो जाती है।

प्राकृतिक चिकित्सा पद्धति में इसका समाधान है।

समाधान - 1. पके हुए केले का सूप बनाकर पीए। पके हुए केले के सूप को छान कर ठंडा कर कर पिए।  पेट पर खीरे और नीम का पेस्ट लगाएं 20 मिनट बाद इसे साफ कर ले।

2. सूर्य की रोशनी में 20 मिनट का स्नान सूर्य की रोशनी से करें 5 मिनट सामने 5 मिनट पीछे 5 मिनट दाएं 5 मिनट बाएं भाग में धूप लगाएं। धूप लेट कर लेना चाहिए धूप की रोशनी लेते वक्त सर और आपको किसी सूती कपड़े से ढक ले। सूर्य नारी मंद होने पर  इन्फेक्शन अधिक होता है अतः आप जब भी सोए अपना दायां भाग ऊपर करके सोए। 

3. प्रतिदिन अपने पेट पर खाने से 1 घंटे पहले या खाना खाने के 2 घंटे बाद गीले मोटे तौलिए को लपेटे एक तौलिया गिला करके उसको निचोड़ लें और हूं उस तौलिए को 20 मिनट तक अपने पेट पर लपेटकर रखें ऐसा करने से आपका पाचन तंत्र दुरुस्त होगा।

4. हर 3 घंटे में लंबा गहरा श्वास अंदर लें उसको थोड़ी देर रोकें और फिर सांस को खाली करें। खाली करने के बाद फिर से रुके और फिर लंबा गहरा सांस ले। यह एक चक्र है ऐसा दिन में 10 चक्र करें केवल एक शर्त का पालन करें जब आप लंबा गहरा सांस ले रहे हैं तो अपनी रीढ़ की हड्डी को सीधा रखें ऐसा करने से आपके शरीर में ऑक्सीजन की मात्रा का बढ़ेगी और ऑक्सीजन का संचार सुचारू रूप से हो पाएगा।

5.सुबह खीरा 1/2 भाग धनिया पत्ती (10 ग्राम) पीस लें, 100 ml पानी मिला कर पीएँ। यह juice आ कई प्रकार के ले सकते हैं। पेठे (ashguard ) का जूस लें और कुछ नहीं लेना है। नारियल पानी भी ले सकते हैं। पालक  पत्ते धो कर पीस कर 100ml पानी डाल पीएँ। दुब घास 25 ग्राम पीस कर छान कर 100 ml पानी में मिला कर पीएँ। कच्चे सब्ज़ी का जूस आपका मुख्य भोजन है। 2 घंटे बाद फल नाश्ते में लेना है। 

फल को चबा कर खाएँ। इसका juice ना लें। फल सूखे फल नाश्ते में लें।

दोपहर के खाने में सलाद नट्स और अंकुरित अनाज के साथ  सलाद में हरे पत्तेदार सब्ज़ी को डालें और नारियल पीस कर मिलाएँ। कच्चा पपीता 50 ग्राम कद्दूकस करके डालें। कभी सीताफल ( yellow pumpkin)50 ग्राम ऐसे ही डालें। कभी सफ़ेद पेठा (ashgurd) 30 ग्राम कद्दूकस करके डालें। ऐसे ही ज़ूकीनी 50 ग्राम डालें।कद्दूकस करके डालें।कभी काजू बादाम अखरोट मूँगफली भिगोए हुए पीस कर मिलाएँ। 

 

लाल, हरा, पीला शिमला मिर्च 1/4 हिस्सा हर एक का मिलाएँ। लें। बिना नींबू और नमक के लें। स्वाद के लिए नारियल और herbs मिलाएँ।

रात के खाने में इस अनुपात से खाना खाएँ 2 कटोरी सब्ज़ी के साथ 1कटोरी चावल या 1रोटी लेएक बार पका हुआ खाना रात को 7 बजे से पहले लें।

6. एक नियम हमेशा याद रखें ठोस(solid) खाने को चबा कर तरल (liquid) बना कर खाएँ। तरल  को मुँह में घूँट घूँट पीएँ। खाना ज़मीन पर बैठ कर खाएँ। खाते वक़्त ना तो बात करें और ना ही TV और mobile को देखें।ठोस  भोजन के तुरंत बाद या बीच बीच में जूस या पानी ना लें। भोजन हो जाने के एक घंटे बाद तरल पदार्थ ले सकते हैं।

हफ़्ते में एक दिन उपवास करें। शाम तक केवल पानी लें, प्यास लगे तो ही पीएँ। शाम 5 बजे नारियल पानी और रात 8 बजे सलाद लें।

7. उपवास के अगले दिन किसी प्राकृतिक चिकित्सक के देख रेख में टोना लें। जिससे आँत की प्रदाह को शांत किया जा सके। एनिमा किट मँगा लें। यह किट ऑनलाइन मिल जाएगा। इससे 200ml पानी गुदाद्वार से अंदर डालें और प्रेशर आने पर मल त्याग करें। ऐसा दिन में दो बार करना है अगले 21 दिनों के लिए। ये करना है ताकि शरीर में मोजुद विषाणु निष्कासित हो जाये। इसके बाद हफ़्ते में केवल एक बार लेना है उपवास के अगले दिन। टोना का फ़ायदा तभी होगा जब आहार शुद्धि करेंगे।

धन्यवाद।

रूबी, 

प्राकृतिक जीवनशैली प्रशिक्षिका व मार्गदर्शिका (Nature Cure Guide & Educator)



12:21 PM | 27-11-2020

Hello,

Dysentery is an intestinal infection that causes severe diarrhoea with blood. In some cases, mucus may be found in the stool. This usually lasts for 3 to 7 days. Other symptoms may include nausea, vomiting, abdominal cramps, fever, dehydration, etc. 
Dehydration usually results due to poor hygiene. 
Maintaining proper hygiene is very essential and along with that, here are some tips that need to be followed-

Diet

  • Start the day with a glass of warm water as this will help to flush the toxins out of the body. 
  • Drink two glasses of freshly prepared orange juice daily.
  • Make a shake with pomegranate skin and consume it.
  • Drink lemon juice.
  • Eat a lot of bananas. This will help in soft and normal stools.
  • Drink green tea.
  • Drink boiled water.

Things to avoid- 

  • Avoid sharing things with others like utensils, your towel, etc.
  • Always wash your hands before having food.
  • Avoid street foods.
  • Avoid packaged, preserved and processed foods. 

Yoga

  • Practice tada asana, trikona asana, gomukha asana and paschimottan asana.
  • Do pranayam regularly, specially anulom-vilom and kapalbhati pranayam. 

Sleep

Sleeping pattern is very important for a healthy body. So, take a proper quality sleep for atleast 7-8hours daily. Sleep early at night at around 10pm and also wake up early in the morning at around 6am. 

Read books before sleeping and avoid using electronic devices 1hour before sleeping. 

 Thank you 



12:20 PM | 27-11-2020

Add fibers to diet
Avoid constipation take lots of fluids
Do hydrotherapy at morning


Scan QR code to download Wellcure App
Wellcure
'Come-In-Unity' Plan