Loading...

Welcome to Wellcure: We help you live a disease free and medicine free life

Q&A
11:28 AM | 01-12-2020

Hello, my grandfather is 87 is years old. He is diabetic patient. From past 3 to 4 days my grandfather is losing his eye sight. His vision is getting blurry. Same happened 1 month ago but he was later able to see. But same thing is happening now. We are not able to detect the cause. His sugar level is also normal. We got it checked. Can anyone help and tell me why his vision is getting blurry and dark. Can anyone suggest any home remedies.

The answers posted here are for educational purposes only. They cannot be considered as replacement for a medical 'advice’ or ‘prescription’. ...The question asked by users depict their general situation, illness, or symptoms, but do not contain enough facts to depict their complete medical background. Accordingly, the answers provide general guidance only. They are not to be interpreted as diagnosis of health issues or specific treatment recommendations. Any specific changes by users, in medication, food & lifestyle, must be done through a real-life personal consultation with a licensed health practitioner. The views expressed by the users here are their personal views and Wellcure claims no responsibility for them.

Read more
Post as Anonymous User
3 Answers

10:41 AM | 02-12-2020

Hello,

Diabetes can lead to blurry vision in several ways.In some cases, it's a minor problem that can be resolved by stabilizing your blood sugar. Other times, it's a sign of something more serious.
Diabetes refers to a complex metabolic condition in which your body either can't produce insulin, doesn't produce enough insulin, or simply can't use insulin efficiently. 
Blurry vision can be a sign that your glucose levels are not in the range - either high or low. Longer term causes of blurry vision can include diabetic retinopathy, a term that describes retinal disorders caused by diabetes, including proliferative retinopathy. 
Here are some tips to follow for better eye health.

Amla juice

Amla is very good for eyes and has a good amount of required nutrients. Daily intake of amla juice in the morning will be beneficial for the eyes of the patient suffering from diabetic retinopathy. Amla juice should be taken on an empty stomach so that it cleanse the entire body system. Amla juice has beven proved very beneficial for the eyes as it increases the quality of eye vision. Amla contains Vitamin A and C in a high amount which are very good for the eyes as they improve eyesight. 

Sandalwood paste local application 

You will find some releif by applying sandalwood paste on the eyelids. Sandalwood is being used as a pain releif and inflammatory skin diseases medicine in India. The paste should be put on after closing the eyelids properly.

Bottle guard juice

Bottle guard juice is high in vitamin C which is instrumental in improving the eyesight of the person and is beneficial for diabetic retinopathy. People who have bottle guard juice twice a week are found to have significant improvement in the eyesight. Bottle guard juice should be consumed every morning on an empty stomach for maximum benefit.

Have fenugreek seeds

Fenugreek seeds are very effective in controlling cholesterol levels in the body which is very much necessary for a person suffering from diabetic retinopathy. Apart from cholesterol, fenugreek seeds are useful in maintaining good health of other vital organs like kidney, liver, heart, etc and it must be included in the diet.

Sleep

Sleeping pattern is essential for maintaining the circadian rhythm which in turn effects the whole metabolism of the body. So, take a proper sleep of atleast 7-8hours daily. Sleep early at night at around 10pm and also wake up early in the morning at around 6am. 

Thank you 

06:13 PM | 02-12-2020

Thank you dear. God bless you.

Reply


01:23 PM | 04-12-2020

हेलो,
कारण - तीन-चार दिन से आंखों की रोशनी अचानक कम होने या नहीं दिखना यह शरीर में ऑक्सीजन के लेवल कम होने को दर्शाता है। आँखों में प्रदाह (inflammation) के वजह से ऐसा हो सकता है।आँखों की समस्या मिनरल की कमी को दर्शाता है।आँखों का व्यायाम करें। प्राकृतिक चिकित्सा पद्धति के अनुसार शुगर खराब हाजमा का निशानी है। लंबे समय तक दवाई खाने की वजह से वह भी हमारे आंखों को नुकसान पहुंचा सकताा है। आहट शैली और जीवन शैली में बदलाव करेंगे तो शुगर भीी बिना दवाई के ठीक कर सकते हैं। सााथ ही आंखों का भी इलाज हो जाएगा।

1. आँखों को दाएँ से बाएँ और बाएँ से दाएँ करें गर्दन हिलाएँ नहीं। 5 बार करें फिर आँख बंद करें। अब आँखों को ऊपर से नीचे और नीचे से ऊपर करें गर्दन को हिलाना नहीं है। 5 बार करें फिर आँख बंद करें।घड़ी की सीधी दिशा (clockwise) मेंऔर घड़ी की उलटी दिशा (anti clockwise)में घुमाएँ फिर आँखों को बंद कर के आराम दें। 5 बार करें फिर आँख बंद करें। जल्दी जल्दी आँखों को खोलें बंद करें 5 बार फिर आँख को बंद कर के खोले अब त्राटक क्रिया करें।अपने नाक के सीधी दिशा में एक मोमबत्ती जलाएँ। एक हाथ की दूरी रखें अब उस लो को देखें 5 मिनट तक फिर देखें फिर आँख बंद करके आराम करें। ऐसा दिन में दो बार करें। उसके आँख पर गुलाब जल की गीली पट्टी रखें। उसके ऊपर खीरा और धनिया पत्ता का पेस्ट रखें। 20मिनट बाद हटा लें। 

खाना खाने से एक घंटे पहले नाभि के ऊपर गीला सूती कपड़ा लपेट कर रखें या खाना के 2 घंटे बाद भी ऐसा कर सकते हैं।

मेरुदंड (स्पाइन) सीधा करके बैठें। हमेशा इस बात ध्यान रखें और हफ़्ते में 3 दिन मेरुदंड का स्नान करें। मेरुदंड स्नान के लिए अगर टब ना हो तो एक मोटा तौलिया गीला कर लें बिना निचोरे उसको बिछा लें और अपने मेरुदंड को उस स्थान पर रखें। 

सर पर सूती कपड़ा बाँध कर उसके ऊपर खीरा और मेहंदी या करी पत्ते का पेस्ट लगाएँ,नाभि पर खीरा का पेस्ट लगाएँ।पैरों को 20 मिनट के लिए सादे पानी से भरे किसी बाल्टी या टब में डूबो कर रखें।

2. खानपान में मुख्य रूप से गहरे हरे रंग के पत्तों का जूस बहुत ही फायदेमंद होता है। गहरे हरे रंग के पत्तों में क्लोरोफिल होता है और ऑक्सीजन की संचार में यह बहुत ही मददगार साबित होता है।

3. मेरुदंड स्नान काफी लाभकारी होता है यह हमारे स्नायु तंत्र को स्वस्थ रखता है । एक मोटा तोलिया लेकर उसको भिगो दें बिना निचोड़े योगा मैट पर बिछाए और उसके ऊपर कमर से लेकर के कंधे तक का हिस्सा रखें। उस गीले तौलिए पर रहे 20 मिनट के बाद इसको हटा दें। ऐसा करने से आप का मेरुदंड में ब्लड और ऑक्सीजन का सरकुलेशन ठीक हो जाएगा। जो कि हमारे सिर के नसों से कनेक्टेड रहता है।

4. लंबा गहरा श्वास अंदर लें रुको थोड़ी देर सांस को पूरी तरीके से खाली करें और फिर रुके थोड़ी देर ऐसा करने से आपके शरीर में ऑक्सीजन का सरकुलेशन ठीक हो जाएगा ऑक्सीजन की मात्रा ठीक हो जाएगी। सूर्य नमस्कार 10 बार करें सूर्य नमस्कार बहुत ही उपयोगी है हमारे सिर के हिस्से में रक्त संचार के लिए। पवनमुक्तासन अम्ल को कम करेगा शरीर में अम्ल के कम होने से सिर में ऑक्सीजन और रक्त का संचार होगा।

5. पृथ्वी - सुबह खीरा 1/2 भाग धनिया पत्ती (10 ग्राम) पीस लें, 100 ml पानी मिला कर पीएँ। यह juice आप कई प्रकार के ले सकते हैं। पेठे (ashguard ) का जूस लें और कुछ नहीं लेना है। नारियल पानी भी ले सकते हैं। पालक  पत्ते धो कर पीस कर 100ml पानी डाल पीएँ। दुब घास 25 ग्राम पीस कर छान कर 100 ml पानी में मिला कर पीएँ। कच्चे सब्ज़ी का जूस आपका मुख्य भोजन है। 2 घंटे बाद फल नाश्ते में लेना है।  फल को चबा कर खाएँ। इसका juice ना लें। फल सूखे फल नाश्ते में लें। दोपहर के खाने में सलाद नट्स और अंकुरित अनाज के साथ  सलाद में हरे पत्तेदार सब्ज़ी को डालें और नारियल पीस कर मिलाएँ। कच्चा पपीता 50 ग्राम कद्दूकस करके डालें। कभी सीताफल ( yellow pumpkin)50 ग्राम ऐसे ही डालें। कभी सफ़ेद पेठा (ashgurd) 30 ग्राम कद्दूकस करके डालें। ऐसे ही ज़ूकीनी 50 ग्राम डालें।कद्दूकस करके डालें।कभी काजू बादाम अखरोट मूँगफली भिगोए हुए पीस कर मिलाएँ।  लाल, हरा, पीला शिमला मिर्च 1/4 हिस्सा हर एक का मिलाएँ। लें। बिना नींबू और नमक के लें। स्वाद के लिए नारियल और herbs मिलाएँ। रात के खाने में इस अनुपात से खाना खाएँ 2 कटोरी सब्ज़ी के साथ 1कटोरी चावल या 1रोटी लेएक बार पका हुआ खाना रात को 7 बजे से पहले लें।

6.एक नियम हमेशा याद रखें ठोस(solid) खाने को चबा कर तरल (liquid) बना कर खाएँ। तरल  को मुँह में घूँट घूँट पीएँ। खाना ज़मीन पर बैठ कर खाएँ। खाते वक़्त ना तो बात करें और ना ही TV और mobile को देखें।ठोस  भोजन के तुरंत बाद या बीच बीच में जूस या पानी ना लें। भोजन हो जाने के एक घंटे बाद तरल पदार्थ ले सकते हैं। हफ़्ते में एक दिन उपवास करें। शाम तक केवल पानी लें, प्यास लगे तो ही पीएँ। शाम 5 बजे नारियल पानी और रात 7 बजे सलाद लें।

7. उपवास के अगले दिन किसी प्राकृतिक चिकित्सक के देख रेख में टोना लें। जिससे आँत की प्रदाह को शांत किया जा सके। एनिमा किट मँगा लें। यह किट ऑनलाइन मिल जाएगा। इससे 200ml पानी गुदाद्वार से अंदर डालें और प्रेशर आने पर मल त्याग करें। ऐसा दिन में दो बार करना है अगले 21 दिनों के लिए। ये करना है ताकि शरीर में मोजुद विषाणु निष्कासित हो जाये। इसके बाद हफ़्ते में केवल एक बार लेना है उपवास के अगले दिन। टोना का फ़ायदा तभी होगा जब आहार शुद्धि करेंगे।

धन्यवाद।

रूबी, 

प्राकृतिक जीवनशैली प्रशिक्षिका व मार्गदर्शिका (Nature Cure Guide & Educator)

02:31 PM | 08-12-2020

Thanks madam.

Reply


12:01 PM | 03-12-2020

Thank you so much dear. I am glad that you replied. God bless you. 


Scan QR code to download Wellcure App
Wellcure
'Come-In-Unity' Plan