Q&A
02:02 PM | 13-08-2019

How to cure piles


Post as Anonymous User
2 Answers

06:50 PM | 13-08-2019


06:50 PM | 13-08-2019

नमस्ते

 

हाज़मा और क़ब्ज़ ही इस बीमारी का मूल कारण है|

नाभि पर धनिया + खीरा का पेस्ट लगाएँ 20 मिनट के लिए| दिन दो बार नाभि पर नारियल के तेल से (clockwise) घड़ी की सीधी दिशा में

और (anti clockwise) घड़ी की उल्टी दिशा में मालिश करें| नरम हाथों से| बिल्कुल भी प्रेशर नहीं देना है।

हमारा शरीर 5 तत्व से बना हुआ है वो पाँच तत्व का सामंजस्य ठीक प्रकार से होते ही शरीर पूर्णतया स्वस्थ हो जाएगा।

1 आकाश तत्व- एक खाने से दूसरे खाने के बीच में विराम दें, रोज़ाना 15 घंटे का उपवास करें जैसे रात का भोजन 7 बजे तक कर लिया और सुबह का नाश्ता 9 बजे लें।

2 वायु तत्व- लंबा गहरा स्वाँस अंदर भरें और रुकें फिर पूरे तरीक़े से स्वाँस को ख़ाली करें रुकें फिर स्वाँस अंदर भरें| ये एक चक्र हुआ ऐसे 10 चक्र एक टाइम पर करना है ये दिन में चार बार करें|

खुले हवा में बैठें या टहलें

3 अग्नि तत्व- सूर्य उदय के एक घंटे बाद या सूर्य अस्त के एक घंटे पहले का धूप शरीर को ज़रूर लगाएँ सर और आँख को किसी सुती कपड़े से ढक कर। जब भी लेंटे अपना दायाँ भाग ऊपर करके लेटें ताकि आपका सूर्य नाड़ी सक्रिय रहे।

4 जल तत्व- खाना खाने से एक घंटे पहले नाभि के ऊपर गिला सूती कपड़ा लपेट कर रखें और खाना के 2 घंटे बाद भी ऐसा करें।

मेरुदंड (स्पाइन) सीधा करके बैठें, हमेशा इस बात ध्यान रखें और हफ़्ते में 3 दिन मेरुदंड का स्नान करें। 

5 पृथ्वी- सब्ज़ी, सलाद, फल, मेवे, आपका मुख्य आहार होगा आप सुबह खीरे का जूस लें, खीरा१/२+धनिया पत्ती पीस लें, १०० ml पानी मिला कर पीएँ, 2 घंटे बाद फल नाश्ते में लेना है।

दोपहर में 12 बजे फिर से इसी जूस को लें और इसके एक घंटे बाद खाना खाएँ। शाम को नारियल पानी लें फिर 2घंटे तक कुछ ना लें। रात के खाने में सलाद बिना नमक के खाएँ। हरे पत्तेदार सब्ज़ी को डालें। ताजे नारियल को पीस कर मिलाएँ।

लाल, हरा, पीला शिमला मिर्च 1/4 हिस्सा हर एक का मिलाएँ। 

जानवरों से उपलब्ध होने वाले भोजन वर्जित हैं।

तेल, मसाला, और गेहूँ से परहेज़ करेंगे तो अच्छा होगा। ठोस(solid) खाने को चबा कर तरल (liquid) बना कर खाएँ। तरल (liquid) को मुँह में घूँट घूँट पीएँ। खाना ज़मीन पर बैठ कर खाएँ। खाते वक़्त ना तो बात करें और ना ही TV और mobile को देखें।ठोस (solid) भोजन के तुरंत बाद या बीच बीच में जूस या पानी ना लें। भोजन हो जाने के एक घंटे बाद तरल पदार्थ (liquid) ले सकते हैं।

ऐसा करने से हाज़मा कभी ख़राब नहीं होगा।

 


Wellcure
'Come-In-Unity' Plan