Q&A
03:47 PM | 14-08-2019

What should i do to avoid body pain


Post as Anonymous User
7 Answers

10:23 PM | 14-08-2019

Hi Alok,

Pain is the result of accumulation of toxins in the body which results due to an improper lifestyle. 
Pay attention to your lifestyle and eating habits. 

Wake up early in the morning and sleep early.
Do some exercises and yoga.

Avoid dairy products like ghee,milk,paneer,curd.
Avoid animal products like meat. It is not meant for our human digestive system and hence leads to the accumulation of toxins. 

Always have plant based foods in your meals. 

Have fresh homemade fruit juices. 
 



10:22 PM | 14-08-2019

Reduce cooked food to only once a day. Rest of the day eat fruits or salads.

Minimum of one hour sunshine everyday

Sleep early

Intermittent fasting - 14 hours gap between dinner and next day breakfast.

Eat only when hungry

These should help you a lot.

08:58 AM | 15-08-2019

Thanks❤

Reply


09:48 AM | 15-08-2019

Regularly practice trifingur mudra through Google
Clean your gut twice a day
Take lot of water early morning
Two glass of water after each half an hour during the day
Avoid tea or tale lemon ginger or Tulsi tea.



09:48 AM | 15-08-2019

Body pain and fatigue is caused due excess of oxidative stress, caused by too much of free radicals and a lack of antioxidants, vitamins, macro and micro minerals, leading to more inflammation and lack of the essential nutrients to combat the inflammation. 
       So , naturally you have to follow a healthy diet packed with these nutrients, so that you get a balance of potassium and sodium, calcium and magnesium, omega 6's and omega 3's, along with this you can add herbs which contain a lot of antioxidants.
         Also remember ,we are living in the 21st, century were the soil is depleted of its minerals due to the use of artificial fertilizers, wrong agricultural techniques, lack of water and global warming. Now you need to eat 10apples to get the same nutrition, which was got from one apple 100years back, also they are loaded with waxes and pesticide residues. However healthy you may eat, you may still lack the essential nutrients the body requires, this doesn't mean you can eat a traditional Indian food and also junk food. 
        Try to grow your own fruits and vegetables organically or by a method called biodynamic farming(Google to see what it is)
        Drink daily, turmeric tea ,early in the morning. To 500ml of water, add one teasspoon full of turmeric powder, half a teaspoon of ground black pepper simmer it for 5-10minutes, cool and the squeeze a lemon and drink it, you can have this tea before going to sleep too. Can add a some honey if you wish. Black pepper is a must, because it improves the bioavailability of curcumin by 2000%.
       Yoga, and other exercises are part of the program and also good sleep.
       Best wishes.



10:23 PM | 14-08-2019

Yoga and stretching



10:22 PM | 14-08-2019

नमस्ते

 

शरीर में अम्लीयता अधिक होने से यह समस्या होती है।आपके शरीर में excess प्रोटीन बन रहा या जमा है। आपका पाचन तंत्र (digestive system) प्रोटीन को पचा नहीं पा रहा है।अपच (undigested) प्रोटीन के वजह से आपके शरीर में 

परेशानी हो रही है। आप प्रोटीन युक्त भोजन से परहेज़ करें।जानवरों से उपलब्ध होने वाले भोजन वर्जित हैं।

इस बीमारी का मूल कारण हाज़मा और क़ब्ज़ है।

शरीर पाँच तत्व से बना हुआ है प्रकृति की ही तरह।

आकाश, वायु, अग्नि, जल, पृथ्वी ये पाँच तत्व आपके शरीर में रोज़ खुराक की तरह जाना चाहिए।

पृथ्वी और शरीर का बनावट एक जैसा 70% पानी से भरा हुआ। पानी जो कि फल, सब्ज़ी से मिलता है।

1 आकाश तत्व- एक खाने से दूसरे खाने के बीच में विराम दें। रोज़ाना 15 घंटे का उपवास करें जैसे रात का भोजन 7 बजे तक कर लिया और सुबह का नाश्ता 9 बजे लें।

2 वायु तत्व- लंबा गहरा स्वाँस अंदर भरें और रुकें फिर पूरे तरीक़े से स्वाँस को ख़ाली करें रुकें फिर स्वाँस अंदर भरें ये एक चक्र हुआ। ऐसे 10 चक्र एक टाइम पर करना है। ये दिन में चार बार करें।

खुली हवा में बैठें या टहलें।

3 अग्नि तत्व- सूर्य उदय के एक घंटे बाद या सूर्य अस्त के एक घंटे पहले का धूप शरीर को ज़रूर लगाएँ। सर और आँख को किसी सूती कपड़े से ढक कर। जब भी लेंटे अपना दायाँ भाग ऊपर करके लेटें ताकि आपकी सूर्य नाड़ी सक्रिय रहे।

4 जल तत्व- खाना खाने से एक घंटे पहले नाभि के ऊपर गीला सूती कपड़ा लपेट कर रखें और खाना के 2 घंटे बाद भी ऐसा करें।

दर्द वाले जगह पर धनिया + खीरा का पेस्ट लगाएँ 20 मिनट के लिए। दिन में दो बार तिल के तेल से घड़ी की सीधी दिशा (clockwise) में

और घड़ी की उलटी दिशा (anti clockwise)में मालिश करें। नरम हाथों से बिल्कुल भी प्रेशर नहीं दें।

 

आइए प्राकृतिक जीवन शैली में हम 5 प्रकार के आहार से अवगत हों।1 घंटे बाद तरल पदार्थ (liquid) ले सकते हैं।

नीम के पत्ते का पेस्ट अपने नाभि पर रखें। 20मिनट तक रख कर साफ़ कर लें।

मेरुदंड स्नान के लिए अगर टब ना हो तो एक मोटा तौलिया गीला कर लें बिना निचोरे उसको बिछा लें और अपने मेरुदंड को उस स्थान पर रखें।

मेरुदंड (स्पाइन) सीधा करके बैठें। हमेशा इस बात ध्यान रखें और हफ़्ते में 3 दिन मेरुदंड का स्नान करें। 

5 पृथ्वी- सब्ज़ी, सलाद, फल, मेवे, आपका मुख्य आहार होगा। आप सुबह सफ़ेद पेठे 20ग्राम पीस कर 100 ml पानी में मिला कर पीएँ। 2 घंटे बाद फल नाश्ते में लेना है।

दोपहर में 12 बजे फिर से इसी जूस को लें। इसके एक घंटे बाद खाना खाएँ।शाम को 5 बजे सफ़ेद पेठे (ashguard) 20 ग्राम पीस कर 100 ml पानी मिला। 2घंटे तक कुछ ना लें। रात के सलाद में हरे पत्तेदार सब्ज़ी को डालें। कच्चा पपीता 50 ग्राम कद्दूकस करके डालें। कभी सीताफल ( yellow pumpkin)50 ग्राम ऐसे ही डालें। कभी सफ़ेद पेठा (ashgurad) 30 ग्राम कद्दूकस करके डालें। ऐसे ही ज़ूकीनी 50 ग्राम डालें।कद्दूकस करके डालें। ताज़ा नारियल पीस कर मिलाएँ। कभी काजू बादाम अखरोट मूँगफली भिगोए हुए पीस कर मिलाएँ। रात का खाना 8 बजे खाएँ

लाल, हरा, पीला शिमला मिर्च 1/4 हिस्सा हर एक का मिलाएँ। इसे बिना नमक के खाएँ। नमक सेंधा ही प्रयोग करें। नमक की मात्रा dopahar के खाने में भी बहुत कम लें। सब्ज़ी पकने बाद उसमें नमक नमक पका कर या अधिक खाने से शरीर में (fluid)  की कमी हो जाती है। एक नियम हमेशा याद रखें ठोस (solid) खाने को चबा कर तरल (liquid) बना कर खाएँ। तरल (liquid) को मुँह में घूँट घूँट पीएँ। खाना ज़मीन पर बैठ कर खाएँ। खाते वक़्त ना तो बात करें और ना ही TV और mobile को देखें। ठोस (solid) भोजन के तुरंत बाद या बीच बीच में जूस या पानी ना लें। भोजन हो जाने के एक घंटे बाद तरल पदार्थ (liquid) ले सकते हैं।

ऐसा करने से हाज़मा कभी ख़राब नहीं होगा।

जानवरों से उपलब्ध होने वाले भोजन वर्जित हैं।

तेल, मसाला, और गेहूँ से परहेज़ करेंगे तो अच्छा होगा।

हफ़्ते में एक दिन उपवास करें। शाम तक केवल पानी लें, प्यास लगे तो ही पीएँ। शाम 5 बजे नारियल पानी और रात 8 बजे सलाद लें।

Anima किट online से मँगा लें। 15 दिनों तक टोना (anima)लें। सादा पानी 100ml गुदा द्वार से अंदर डालें और प्रेशर आने पर मल का त्याग करें।ये ज़रूरी है बहुत सालों के विषाक्त (toxic) कणों बाहर निकालने के लिए क्योंकि जब तक पुरानी चीज़ जाएगी नहीं तो नई चीज़ आ नहीं सकती।

धन्यवाद।

रूबी, Ruby

प्राकृतिक जीवनशैली शिक्षिका (Nature Cure Educator)



10:22 PM | 14-08-2019

Pains are a sign of body working on fixing things that are wrong in that area. Repair work will be happening. You can apply a cold wet cloth for few hrs with frequent rinsing and reapplication. This will help in ease of pain. 

Switch to a whole food plant based diet and remove all animal products for preventing such long term pains in future. Knees and such pains indicate that your skeletal structure is wreaking due to a high diet high in animal based food. 

 

Hope this clarifies 

Be blessed 

Smitha Hemadri ( Educator of natural healing practices)


Wellcure
'Come-In-Unity' Plan