Q&A
09:56 AM | 23-12-2019

Hi, I am suffering from IBS, frequently bowel movement and also have piles fissure and epilepsy. What should I do? R

The answers posted here are for educational purposes only. They cannot be considered as replacement for a medical 'advice’ or ‘prescription’. ...The question asked by users depict their general situation, illness, or symptoms, but do not contain enough facts to depict their complete medical background. Accordingly, the answers provide general guidance only. They are not to be interpreted as diagnosis of health issues or specific treatment recommendations. Any specific changes by users, in medication, food & lifestyle, must be done through a real-life personal consultation with a licensed health practitioner. The views expressed by the users here are their personal views and Wellcure claims no responsibility for them.

Read more
Post as Anonymous User
2 Answers

08:46 PM | 24-12-2019

हेलो,

कारण - इर्रिटेबल बाउल सिंड्रोम (आईबीएस) एक आम विकार है, जो बड़ी आंत (कोलन) को प्रभावित करता है। यह आमतौर पर ऐंठन, पेट दर्द, सूजन, गैस, दस्त और कब्ज का कारण बनता है। 

आहार, जीवन शैली और तनाव के प्रबंधन (व्यवस्थित करना) द्वारा अपने लक्षणों को नियंत्रित कर सकते हैं।

शरीर में अम्ल की अधिकता से दिमाग में ऑक्सिजन की कमी हो जाती जो मिरगी के दौड़े का कारक बनता है। आहार शुद्धि से फ़ायदा होगा।

फल, कच्चे सब्ज़ी का सलाद और जूस पाइल्स और फ़िशर में भी फ़ायदा पहुँचाएगा।

समाधान - 1. ज्यादातर वयस्क अपनी छाती से सांस लेते हैं। लेकिन जब आप अपने डायाफ्राम से सांस लेते हैं, तो शान्ति का अनुभव करते हैं। डायाफ्राम एक मांसपेशी है, जो आपकी छाती को पेट से अलग करती है। श्वास अंदर लेते वक़्त अपने पेट को फूलने दें। जब आप सांस छोड़ते हैं, तो आपका पेट स्वभाविक रूप से सिकुड़ जाता है। गहरी सांस लेने से आपके पेट की मांसपेशियों को आराम मिलता है, जिससे आंत्र गतिविधि (Bowel activity) अधिक सामान्य हो सकती है।

2. खाना खाने से एक घंटे पहले नाभि के ऊपर गीला सूती कपड़ा लपेट कर रखें और खाना के 2 घंटे बाद भी ऐसा करना है।

मेरुदंड स्नान के लिए अगर टब ना हो तो एक मोटा तौलिया गीला कर लें बिना निचोरे उसको बिछा लें और अपने मेरुदंड को उस स्थान पर रखें।

मेरुदंड (स्पाइन) सीधा करके बैठें। हमेशा इस बात ध्यान रखें और हफ़्ते में 3 दिन मेरुदंड का स्नान करें। 

3. सर पर सूती कपड़ा बाँध कर उसके ऊपर खीरा और मेहंदी या करी पत्ते का पेस्ट लगाएँ,नाभि पर खीरा का पेस्ट लगाएँ।पैरों को 20 मिनट के लिए सादे पानी से भरे किसी बाल्टी या टब में डूबो कर रखें।

जीवन शैली-  1आकाश तत्व - एक खाने से दुसरे खाने के बीच में अंतराल (gap) रखें।

फल के बाद 3 घंटे, सलाद के बाद 5 घंटे, और पके हुए खाने के बाद 12 घंटे का (gap) रखें।

2.वायु तत्व - प्राणायाम करें, आसन करें। दौड़ लगाएँ।

3.अग्नि - सूर्य की रोशनी लें।

4.जल - अलग अलग तरीक़े का स्नान करें। मेरुदंड स्नान, हिप बाथ, गीले कपड़े की पट्टी से पेट की गले और सर की 20 मिनट के लिए सेक लगाए। 

स्पर्श थरेपी करें। मालिश के ज़रिए भी कर सकते है। नारियल तेल से

घड़ी की सीधी दिशा (clockwise) में और घड़ी की उलटी दिशा (anti clockwise)में मालिश करें। नरम हाथों से बिल्कुल भी प्रेशर नहीं दें।

5.पृथ्वी - सुबह खीरा 1/2 भाग + धनिया पत्ती (10 ग्राम) पीस लें, 100 ml पानी मिला कर पीएँ। यह juice आप कई प्रकार के ले सकते हैं। पेठे (ash guard ) का जूस लें और कुछ नहीं लेना है। नारियल पानी भी ले सकते हैं। पालक  पत्ते धो कर पीस कर 100ml पानी डाल पीएँ। दुब घास 25 ग्राम पीस कर छान कर 100 ml पानी में मिला कर पीएँ। कच्चे सब्ज़ी का जूस आपका मुख्य भोजन है। 2 घंटे बाद फल नाश्ते में लेना है। फल को चबा कर खाएँ। इसका juice ना लें। फल + सूखे फल नाश्ते में लें।

दोपहर के खाने में सलाद + नट्स और अंकुरित अनाज के साथ  सलाद में हरे पत्तेदार सब्ज़ी को डालें और नारियल पीस कर मिलाएँ। कच्चा पपीता 50 ग्राम कद्दूकस करके डालें। कभी सीताफल ( yellow pumpkin)50 ग्राम ऐसे ही डालें। कभी सफ़ेद पेठा (ash guard) 30 ग्राम कद्दूकस करके डालें। ऐसे ही ज़ूकीनी 50 ग्राम डालें।कद्दूकस करके डालें।कभी काजू बादाम अखरोट मूँगफली भिगोए हुए पीस कर मिलाएँ। लाल, हरा, पीला शिमला मिर्च 1/4 हिस्सा हर एक का मिलाएँ। लें। बिना नींबू और नमक के लें। स्वाद के लिए नारियल और herbs मिलाएँ।

रात के खाने में इस अनुपात से खाना खाएँ 2 कटोरी सब्ज़ी के साथ 1कटोरी चावल या 1रोटी लेएक बार पका हुआ खाना रात को 7 बजे से पहले लें।

6.सेंधा नमक केवल एक बार पके हुए खाने में लें। जानवरों से उपलब्ध होने वाले भोजन वर्जित हैं।

तेल, मसाला, और गेहूँ से परहेज़ करेंगे तो अच्छा होगा। चीनी के जगह गुड़ लें।

7.एक नियम हमेशा याद रखें ठोस(solid) खाने को चबा कर तरल (liquid) बना कर खाएँ। तरल  को मुँह में घूँट घूँट पीएँ। खाना ज़मीन पर बैठ कर खाएँ। खाते वक़्त ना तो बात करें और ना ही TV और mobile को देखें।ठोस  भोजन के तुरंत बाद या बीच बीच में जूस या पानी ना लें। भोजन हो जाने के एक घंटे बाद तरल पदार्थ  ले सकते हैं।

हफ़्ते में एक दिन उपवास करें। शाम तक केवल पानी लें, प्यास लगे तो ही पीएँ। शाम 5 बजे नारियल पानी और रात 8 बजे सलाद लें।

8.उपवास के अगले दिन किसी प्राकृतिक चिकित्सक के देख रेख में टोना लें। पाइल्स और फ़िशर ठीक होने पर tona लें। जिससे आँत की प्रदाह को शांत किया जा सके। एनिमा किट मँगा लें। यह किट ऑनलाइन मिल जाएगा। इससे 200ml पानी गुदाद्वार से अंदर डालें और प्रेशर आने पर मल त्याग करें। ऐसा दिन में दो बार करना है अगले 21 दिनों के लिए। ये करना है ताकि शरीर में मोजुद विषाणु निष्कासित हो जाये। इसके बाद हफ़्ते में केवल एक बार लेना है उपवास के अगले दिन। टोना का फ़ायदा तभी होगा जब आहार शुद्धि करेंगे।

धन्यवाद।

रूबी, 

प्राकृतिक जीवनशैली प्रशिक्षिका व मार्गदर्शिका (Nature Cure Guide & Educator)



05:26 PM | 23-12-2019

Hi. In Natural Living, all health issues have one underlying cause - toxaemia. Accumulation of toxins in the body leads to disease. Why are toxins created? Toxins are created in the body by 2 ways:

  • Through metabolism: Just as an industrial machine releases smoke when it is manufacturing a product, every action of the body, big or small, leads to release of toxic waste. You raise a finger, waste will be produced. You blink your eyes, waste will be produced. You walk, you talk, you think, any activity that your body does, internally or externally, produces waste.

  • Through the food we eat: Every time we eat something, it leaves a residue after being processed in the body. This residue is either alkaline or acidic in nature. Acidic residue is toxic & primarily comes from foods such as milk & milk products, non veg, refined foods such as oil, salt & sugar; packaged foods that use artificial agents & preservatives, junk food & grains.

Toxic waste must be removed from the body by the elimination channels: bowels, bladder, lungs, skin. While elimination is a routine function of the body, certain activities can lead to a buildup of toxic wastes in our body. For eg: Lack of sleep, stress, anger & negative emotions, unhealthy foods, wrong eating times etc.

Hence, if you wish you to get relief from your health issues, you must address the root cause. We suggest you take a personal consultation with our Natural Health Coach who can understand your background better & suggest you the way forward. You can explore our Nature-Nurtures Program for the same.  

 

Regds

Team Wellcure


Scan QR code to download Wellcure App
Wellcure
'Come-In-Unity' Plan