Q&A
12:37 PM | 14-02-2020

Am having menstrual cycle for every 21 days.. Is it normal?

Post as Anonymous User
4 Answers

01:08 PM | 17-02-2020

Hello,

The menstrual cycle occurs in every woman every month. It occurs every month in 21-35 days and lasts for 3-7days. So, if a woman is having a cycle of 21 days then it is considered to be normal and if a woman is having a cycle of 35 days every time then it is also normal. Similarly, if a woman's period lasts 2 days, then also it is normal and if it lasts for 7 days then it is also normal.
So, this is the normal range about the menses and hence if you get your every month in 21days then it is normal.

Parameters to decide the menstrual abnormalities 

  • Abdominal pain- if someone experience excessive pain associated with periods then it is abnormal.
  • Abnormal bleeding- if someone bleeds in between the periods then it is abnormal.
  • Flow- if the blood flow is more or less than the normal i.e.more or less than 150ml.

Reasons for menstrual abnormalities 

  • Stress
  • Pelvic inflammatory disease. 
  • Uterine fibroids.
  • Premature ovarian failure 
  • Polycystic ovarian syndrome 
  • Pregnancy
  • Extreme weight loss
  • Heavy exercises 

Things to do to maintain normal menstrual cycle:

  • Have healthy food.
  • Avoid stress.
  • Have a natural plant-based raw food.
  • Avoid milk products 
  • Avoid animal foods.
  • Take proper sleep.
  • Meditate daily.

Thank you.



01:08 PM | 17-02-2020

Hello User,

Yes, a cycle of 20-40 days is considered to be normal, but what is concern worthy is whether your flow is normal or how much is the discomfort during this phase? The main thing to pay attention is how healthy you feel as this is just a physiological process. As our body is constructed in a simple and natural manner, the treatment should also be very natural. This factor is also highly dependent on heredity so you can ask your mother or sister how their cycle was.

Disease of the reproductive system starts with the high fat and chemical-based diet we are loading our gastrointestinal tract with. Any disease can make you pre-dispose to another, because of your lifestyle continuation, if you take care of your lifestyle at this moment, then there are definite chances that you get yourself treated well and your menstrual cycle will be healthy.

In any case, the cure remains the same, which is a holistic cure in nature's way.

Eat:

  • Start with food items like jaggery, dates, sprouts, green leafy vegetables which help in increasing iron content which helps in regularising menstrual cycle to give out an adequate amount of blood during that phase.
  • Vitamin C addition helps in easy-iron absorption, for example adding lemon in dals. Vitamin C keeps our cells activated.
  • Include one fruit like apple, papaya or a banana a day to have a healthy GUT.
  • You can also have cinnamon water, empty stomach as it helps in insulin sensitivity. Insulin sensitivity helps us in treating menstrual issues if you have any.

Exercise:

  • Sleep on your back, raise one leg and start rotating in a circular motion for 5 times and place it back, repeat the same with the other leg. This will elevate your uterine muscles.
  • Squats are another exercise to improve uterine health. Do it 15-20 times at one time.
  • Sit and take 10-15 long deep breaths from the abdomen, to release all the toxicity from the body, helping us to gain back our normal hormone cycle.

Meditation:

While sleeping, take a bowl of water. Put two-three essential oil drops like lavender or orange and inhale it. It will help in calming nerves and automatically our body will start getting the rhythm back. Listen to music for 15 minutes by closing your eyes and deep breathing, this will help in treating stress.

Sleep:

Sleep should be of 7-8 hours, sound. This will help in releasing all stress and treat all the issues in a healthy manner. It is time to get yourself healthy and wise.

Hopefully, these suggestions will be helpful

Thank you.



02:37 PM | 14-02-2020

हेलो,

कारण - मासिक धर्म में रक्त का स्त्राव  कम या ज्यादा हो सकता है। आमतौर में हर 21 से 35 दिनों की अवधि के चक्र हो सकता है। सामान्यतः माहवारी में रक्त स्त्राव दो से सात दिनों तक हो सकता है।

पाचन तंत्र के स्वस्थ ना रहने पर इसका बहाव कम या ज्यादा हो सकता है।  खुराक में सुधार इसमें सुधार कर सकता है। पेट साफ होने के लिए जैसे फाइबर युक्त भोजन आवश्यक है उसी तरीके से पीरियड्स को खुलासा होने के लिए फाइबर युक्त भोजन की जरूरत पड़ती है।

समाधान- गहरे हरे रंग के पत्तों का जूस बहुत ही लाभदायक होगा जैसे पालक धनिया का पत्ता पुदीने का पत्ता कड़ी पत्ता बेलपत्र दूब घास इस तरीके के पत्तों को 20 से 25 ग्राम धोकर पीसकर 200ml पानी मिलाकर पिए बिना खाने पीने से ज्यादा लाभ होगा छानकर भी पी सकते हैं।

दौड़ लगाई दौड़ लगाने से रक्त का संचार अच्छा होता है या फिर तेज चाल में चले।

खाना खाने से एक घंटे पहले नाभि के ऊपर गीला सूती कपड़ा लपेट कर रखें या खाना के 2 घंटे बाद भी ऐसा कर सकते हैं।

मेरुदंड स्नान के लिए अगर टब ना हो तो एक मोटा तौलिया गीला कर लें बिना निचोरे उसको बिछा लें और अपने मेरुदंड को उस स्थान पर रखें।

मेरुदंड (स्पाइन) सीधा करके बैठें। हमेशा इस बात ध्यान रखें और हफ़्ते में 3 दिन मेरुदंड का स्नान करें। 

जीवन शैली - जीवन शैली-  1आकाश तत्व - एक खाने से दुसरे खाने के बीच में अंतराल (gap) रखें।

फल के बाद 3 घंटे, सलाद के बाद 5 घंटे, और पके हुए खाने के बाद 12 घंटे का (gap) रखें।

2.वायु तत्व - प्राणायाम करें, आसन करें। दौड़ लगाएँ।

3.अग्नि - सूर्य की रोशनी लें।

4.जल - अलग अलग तरीक़े का स्नान करें। मेरुदंड स्नान, हिप बाथ, गीले कपड़े की पट्टी से पेट की गले और सर की 20 मिनट के लिए सेक लगाए। 

स्पर्श थरेपी करें। मालिश के ज़रिए भी कर सकते है।

कपूर मिश्रित नारियल तेल से पेट पर घड़ी की सीधी दिशा (clockwise) में और घड़ी की उलटी दिशा (anti clockwise)में मालिश करें। नरम हाथों से बिल्कुल भी प्रेशर नहीं दें।

5.पृथ्वी - सुबह खीरा 1/2 भाग धनिया पत्ती (10 ग्राम) पीस लें, 100 ml पानी मिला कर पीएँ। यह juice आप कई प्रकार के ले सकते हैं। पेठे (ashguard ) का जूस लें और कुछ नहीं लेना है। नारियल पानी भी ले सकते हैं। पालक  पत्ते धो कर पीस कर 100ml पानी डाल पीएँ। दुब घास 25 ग्राम पीस कर छान कर 100 ml पानी में मिला कर पीएँ। कच्चे सब्ज़ी का जूस आपका मुख्य भोजन है। 2 घंटे बाद फल नाश्ते में लेना है।

फल को चबा कर खाएँ। इसका juice ना लें। फल सूखे फल नाश्ते में लें।

दोपहर के खाने में सलाद नट्स और अंकुरित अनाज के साथ  सलाद में हरे पत्तेदार सब्ज़ी को डालें और नारियल पीस कर मिलाएँ। कच्चा पपीता 50 ग्राम कद्दूकस करके डालें। कभी सीताफल ( yellow pumpkin)50 ग्राम ऐसे ही डालें। कभी सफ़ेद पेठा (ashgurd) 30 ग्राम कद्दूकस करके डालें। ऐसे ही ज़ूकीनी 50 ग्राम डालें।कद्दूकस करके डालें।कभी काजू बादाम अखरोट मूँगफली भिगोए हुए पीस कर मिलाएँ। 

लाल, हरा, पीला शिमला मिर्च 1/4 हिस्सा हर एक का मिलाएँ। लें। बिना नींबू और नमक के लें। स्वाद के लिए नारियल और herbs मिलाएँ।

रात के खाने में इस अनुपात से खाना खाएँ 2 कटोरी सब्ज़ी के साथ 1कटोरी चावल या 1रोटी लेएक बार पका हुआ खाना रात को 7 बजे से पहले लें।

6.सेंधा नमक केवल एक बार पके हुए खाने में लें। जानवरों से उपलब्ध होने वाले भोजन वर्जित हैं।

तेल, मसाला, और गेहूँ से परहेज़ करेंगे तो अच्छा होगा। चीनी के जगह गुड़ लें।

7.एक नियम हमेशा याद रखें ठोस(solid) खाने को चबा कर तरल (liquid) बना कर खाएँ। तरल  को मुँह में घूँट घूँट पीएँ। खाना ज़मीन पर बैठ कर खाएँ। खाते वक़्त ना तो बात करें और ना ही TV और mobile को देखें।ठोस  भोजन के तुरंत बाद या बीच बीच में जूस या पानी ना लें। भोजन हो जाने के एक घंटे बाद तरल पदार्थ ले सकते हैं।

हफ़्ते में एक दिन उपवास करें। शाम तक केवल पानी लें, प्यास लगे तो ही पीएँ। शाम 5 बजे नारियल पानी और रात 8 बजे सलाद लें।

8.उपवास के अगले दिन किसी प्राकृतिक चिकित्सक के देख रेख में टोना लें। जिससे आँत की प्रदाह को शांत किया जा सके। एनिमा किट मँगा लें। यह किट ऑनलाइन मिल जाएगा। इससे 200ml पानी गुदाद्वार से अंदर डालें और प्रेशर आने पर मल त्याग करें। ऐसा दिन में दो बार करना है अगले 21 दिनों के लिए। ये करना है ताकि शरीर में मोजुद विषाणु निष्कासित हो जाये। इसके बाद हफ़्ते में केवल एक बार लेना है उपवास के अगले दिन। टोना का फ़ायदा तभी होगा जब आहार शुद्धि करेंगे।

धन्यवाद।

रूबी, 

प्राकृतिक जीवनशैली प्रशिक्षिका व मार्गदर्शिका (Nature Cure Guide & Educator)



01:09 PM | 17-02-2020

Normally, a menstrual cycle is counted from the first day of a period to the first day of the next. On average, a menstrual cycle lasts for 28 days, but this can vary from woman to woman and month to month. Your periods are still considered regular if they come every 24 to 38 days. Various factors influence these and mainly the lifestyle you lead has a greater impact on this. Your periods are considered irregular if the time between periods keeps changing and your periods come earlier or later.

Some of the simple natural remedies or tips could help you bring it to normal if at all there is a slight abnormality in the cycle, namely:

  1. Practising yoga could be helpful to bring normalcy in the cycles and keep you in optimum health
  2. Always maintain a healthy weight. Changes in your weight can affect your periods. Avoid junk food, artificial food, sugared drinks which could impact the normalcy.
  3. Exercising regularly could be beneficial to regulate various systems of the body.
  4. Spice things up with ginger. Consuming ginger tea could be beneficial.
  5. Add some cinnamon. Cinnamon has various therapeutic properties to bring it to normal.
  6. Get your daily dose of vitamins through green leafy vegetables, cereals, grains, nuts and sunlight. 
  7. Eat pineapple. The enzyme bromelain present in the pineapple has an influence on the female reproductive hormones.

Scan QR code to download Wellcure App
Wellcure
'Come-In-Unity' Plan