Q&A
12:07 PM | 12-05-2020

My 73 year mother is having her left elbow swollen and it is hurting her. She had no injury and is suffering from osteoporosis. What is best treatment for her?


The answers posted here are for educational purposes only. They cannot be considered as replacement for a medical 'advice’ or ‘prescription’. ...The question asked by users depict their general situation, illness, or symptoms, but do not contain enough facts to depict their complete medical background. Accordingly, the answers provide general guidance only. They are not to be interpreted as diagnosis of health issues or specific treatment recommendations. Any specific changes by users, in medication, food & lifestyle, must be done through a real-life personal consultation with a licensed health practitioner. The views expressed by the users here are their personal views and Wellcure claims no responsibility for them.

Read more
Post as Anonymous User
3 Answers

04:33 PM | 12-05-2020

Hello Jeevan,

With our sedentary lifestyle and fatty diet, our bones which become the weight-bearing joint of our body get extra-loaded and this happens to make our body very weak and vulnerable. In order to protect our body from more damages due to weak bones, we have to protect it with a healthy lifestyle.

The reason our body works in harmony is because of the fact that the fluid is present in the body, this acts as grease in the body which tends to make sure that all the organs have a smooth flow in function. Our bones get minerals because of which you tend to become stronger and the osteoporosis improves.

Eat:

A good amount of water is needed in the body, 5-6 litres of water is at least needed in the body. The blood is there 5-6 litres, so at least that much of water is needed in the body. Start storing the water in copper bottles so as to make sure we get a good amount of copper. Copper is the required mineral which helps in increasing bone density.

Calcium is another mineral which is needed in this stage to make sure our bones are working in harmony. Calcium helps in treating all the disease related to growth and wear tear of our tissues. Good source of calcium are green leafy vegetables because not only they are easily absorbed in the body but also we can rely on the plant vegetables for not producing toxicity in the body. Seeds are another good source of calcium, for example, flax seeds.

When we eat the right kind of food at the right time we make sure that it is easily absorbed.

  • Let us start your day with a good amount of water. 2-3 glasses of warm water help in flushing out the toxins. These toxins which come and make our immunity vulnerable to diseases need to be flushed.
  • Your breakfast should comprise of something light, a fruit bowl and after some time a vegetable juice is easy to digest. This will help in the absorption of nutrients easily.
  • The consumption of seeds after lunch like a mouth freshener is a very good chance of having it.
  • After that, in the evening time, roasted dried fruits, makhanas, corn, sprouts, are a good choice of snacks which helps to give our body required nutrition.
  • Hot fermentation on the elbow helps in dealing with the required swelling. With this nutritional intake, it will improve soon.

Exercise:

A brisk walk is something important in the sun which helps in activating our cells and treat vitamin D deficiency which can help in improving osteoporosis. Due to lockdown, you can also do some stretches in the required sun-filled area to get enough vitamin D. 

Meditation:

  • Practice mindful meditation.
  • Deal with your stress.
  • Allow positivity to be part of your life.

Doing a 15-minute exercise before sleep like deep breathing will help in relaxing your mind, you can use music also for relaxation. A calm mind will lead to a healthier body.

Sleep:

Getting 7-8 hours of sleep is very essential for the body, during sleep our body repairs itself and rejuvenates us for the whole day.

Hopefully, these suggestions will help you.

Thank you.

06:00 PM | 12-05-2020

Thank you sir, for your time. I had a feeling about her vit d deficiency. And hot fermentation would be good also apart from her diet. Thankyou sir

Reply


02:33 PM | 21-05-2020

Namaste!

We understand that it must be hard for your mother to deal with this condition.

Osteoporosis is a condition whereby the bones lose density and become porous. Let us try to understand why that happens.  As per Nature Cure, the human body works towards maintaining its pH or acid-alkaline balance. It functions optimally when the pH of the blood is slightly alkaline (around 7.36-7.42). However, wrong lifestyle choices like unnatural food, overwork without adequate rest, wrong thinking, stress, not taking in enough sunlight and fresh air and sedentary lifestyle, etc. result in a built-up of acidic residues. Body tries to restore the alkalinity of the blood by leaching calcium from bones. This results in bones becoming weak, porous, and prone to fractures. The way to reverse diseases/discomfort is to adopt a natural lifestyle, by bringing it back to the state of balance. A natural lifestyle supports the body by providing the right environment for self-healing. 

We would recommend you to adopt a natural lifestyle. You can explore our Nature-Nurtures program that helps you in making the transition, step by step. Our Natural Health Coach will look into your daily routine in a comprehensive way and give you an action plan. She/he will guide you on the diet, sleep, exercise, stress to correct your existing routine & make it in line with Natural Laws.

You must visit our Journeys section to read real-life natural healing stories of people.

Wishing you good health!

Team Wellcure



04:52 PM | 12-05-2020

हेलो,
कारण - कोहनी का दर्द  और सूजन ज्यादातर मामलों में कोहनी में चोट लगने के कारण ही होता है, लेकिन स्वास्थ्य संबंधी कई स्थितियां भी हैं जो इसका कारण बन सकती हैं। इनमें बर्साइटिस व गठिया आदि शामिल हैं।
शरीर के किसी भी हिस्से में दर्द का मुख्य कारक होता है शरीर में बढ़ा हुआ अम्ल शरीर का हाजमा खराब होने पर हमारे शरीर में अम्ल की अधिकता हो जाती है शरीर में अम्ल की अधिकता होने पर रक्त संचार में कमी आती है और यह दर्द का कारक बनता है। प्राकृतिक चिकित्सा पद्धति को पूर्ण स्वास्थ्य लाभ लेे सकते।

समाधान- 1. ऐसा खाना जो कि देर तक पछता नहीं है उसका त्याग करें। जैसे दूध, गेहूं, मैदा, रिफाइंड नमक और रिफाइंड शुगर और पैकेट फूड।फल, सब्जी, और कच्ची सब्जी का जूस को प्रतिदिन ले। ऐसा करने से पाचन शक्ति मजबूत होगा और आंतों की सफाई हो पाएगी। 

2. सूर्य की रोशनी में 20 मिनट का स्नान सूर्य की रोशनी से करें 5 मिनट सामने, 5 मिनट पीछे, 5 मिनट दाएं, 5 मिनट बाएं भाग में धूप लगाएं। धूप  हमेशा लेट कर लेना चाहिए धूप की रोशनी लेते वक्त सर और आपको किसी सूती कपड़े से ढक ले। सूर्य नारी मंद होने पर  इन्फेक्शन अधिक होता है अतः आप जब भी सोए अपना दायां भाग ऊपर करके सोए। 

3. प्रतिदिन अपने पेट पर खाने से 1 घंटे पहले या खाना खाने के 2 घंटे बाद गीले मोटे तौलिए को लपेटे एक तौलिया गिला करके उसको निचोड़ लें और हूं उस तौलिए को 20 मिनट तक अपने पेट पर लपेटकर रखें ऐसा करने से आपका पाचन तंत्र दुरुस्त होगा। कोहनी पर (mud pack) या खीरा नीम के पत्तों का पेस्ट लगाएं।  20 मिनट बाद इसे साफ कर लें। स्पर्श थरेपी करें। मालिश के ज़रिए भी कर सकते है।

तिल के तेल कोहनी की हड्डी पर घड़ी की सीधी दिशा (clockwise) में और घड़ी की उलटी दिशा (anti clockwise) में मालिश करें। नरम हाथों से बिल्कुल भी प्रेशर नहीं दें।

4. हर 3 घंटे में लंबा गहरा श्वास अंदर लें उसको थोड़ी देर रोकें और फिर सांस को खाली करें। खाली करने के बाद फिर से रुके और फिर लंबा गहरा सांस ले। यह एक चक्र है ऐसा दिन में 10 चक्र करें केवल एक शर्त का पालन करें जब आप लंबा गहरा सांस ले रहे हैं तो अपनी रीढ़ की हड्डी को सीधा रखें ऐसा करने से आपके शरीर में ऑक्सीजन की मात्रा का बढ़ेगी और ऑक्सीजन का संचार सुचारू रूप से हो पाएगा।

5. सुबह खीरा 1/2 भाग, धनिया पत्ती (10 ग्राम) पीस लें, 100 ml पानी मिला कर पीएँ। यह juice आप कई प्रकार के ले सकते हैं। पेठे (ashgourd ) का जूस लें और कुछ नहीं लेना है। नारियल पानी भी ले सकते हैं। पालक  पत्ते धो कर पीस कर 100ml पानी डाल पीएँ। दुब घास 25 ग्राम पीस कर छान कर 100 ml पानी में मिला कर पीएँ। कच्चे सब्ज़ी का जूस आपका मुख्य भोजन है। 2 घंटे बाद फल नाश्ते में लेना है। फल को चबा कर खाएँ। इसका juice ना लें। फल, सूखे फल नाश्ते में लें।

दोपहर के खाने में सलाद नट्स और अंकुरित अनाज के साथ  सलाद में हरे पत्तेदार सब्ज़ी को डालें और नारियल पीस कर मिलाएँ। कच्चा पपीता 50 ग्राम कद्दूकस करके डालें। कभी सीताफल (yellow pumpkin) 50 ग्राम ऐसे ही डालें। कभी सफ़ेद पेठा (ashgourd) 30 ग्राम कद्दूकस करके डालें। ऐसे ही ज़ूकीनी 50 ग्राम डालें।कद्दूकस करके डालें।कभी काजू बादाम अखरोट मूँगफली भिगोए हुए पीस कर मिलाएँ। लाल, हरा, पीला शिमला मिर्च 1/4 हिस्सा हर एक का मिलाएँ। लें। बिना नींबू और नमक के लें। स्वाद के लिए नारियल और herbs मिलाएँ।

रात के खाने में इस अनुपात से खाना खाएँ 2 कटोरी सब्ज़ी के साथ 1कटोरी चावल या 1रोटी लेएक बार पका हुआ खाना रात को 7 बजे से पहले लें।

6. एक नियम हमेशा याद रखें ठोस (solid) खाने को चबा कर तरल (liquid) बना कर खाएँ। तरल  को मुँह में घूँट घूँट पीएँ। खाना ज़मीन पर बैठ कर खाएँ। खाते वक़्त ना तो बात करें और ना ही TV और mobile को देखें।ठोस  भोजन के तुरंत बाद या बीच बीच में जूस या पानी ना लें। भोजन हो जाने के एक घंटे बाद तरल पदार्थ ले सकते हैं। हफ़्ते में एक दिन उपवास करें। शाम तक केवल पानी लें, प्यास लगे तो ही पीएँ। शाम 5 बजे नारियल पानी और रात 8 बजे सलाद लें।

7. उपवास के अगले दिन किसी प्राकृतिक चिकित्सक के देख रेख में टोना लें। जिससे आँत की प्रदाह को शांत किया जा सके। एनिमा किट मँगा लें। यह किट ऑनलाइन मिल जाएगा। इससे 200ml पानी गुदाद्वार से अंदर डालें और प्रेशर आने पर मल त्याग करें। ऐसा दिन में दो बार करना है अगले 21 दिनों के लिए। ये करना है ताकि शरीर में मोजुद विषाणु निष्कासित हो जाये। इसके बाद हफ़्ते में केवल एक बार लेना है उपवास के अगले दिन। टोना का फ़ायदा तभी होगा जब आहार शुद्धि करेंगे।

धन्यवाद।

रूबी, 

प्राकृतिक जीवनशैली प्रशिक्षिका व मार्गदर्शिका (Nature Cure Guide & Educator)


Scan QR code to download Wellcure App
Wellcure
'Come-In-Unity' Plan