Loading...

Q&A
12:33 PM | 14-05-2020

While eating food sometimes the food gets stuck in my throat Please advice.


The answers posted here are for educational purposes only. They cannot be considered as replacement for a medical 'advice’ or ‘prescription’. ...The question asked by users depict their general situation, illness, or symptoms, but do not contain enough facts to depict their complete medical background. Accordingly, the answers provide general guidance only. They are not to be interpreted as diagnosis of health issues or specific treatment recommendations. Any specific changes by users, in medication, food & lifestyle, must be done through a real-life personal consultation with a licensed health practitioner. The views expressed by the users here are their personal views and Wellcure claims no responsibility for them.

Read more
Post as Anonymous User
3 Answers

04:55 PM | 14-05-2020

Hello Dilip Sharma,

The most common cause of dysphagia is Indigestion.

Regular consumption of fatty diet and highly spiced food leads to indigestion, which causes constipation. Toxins are the primary cause of gastric trouble. Our sedentary lifestyle also plays a role in this picture. What needs to be taken care of now is the fact that a major change in lifestyle and diet will be the cure of the problem.

In digestive problems with the consumption of this kind of food, the problem is, from the oesophagus to rectum everything is disturbed. The toxins are in the body, call it stomach ulcers or gastritis, they relate to the same cause. With a healthy change in routine, by changing lifestyles, we are not only curing the disease at this stage but also preventing future relapses.

Now let us understand what changes we can do:

Eat:

Starting your day with something light in nature and easy to digest is what your breakfast should be. Even the early morning ritual should include consumption of two-three glasses of warm water will help in flushing out all the toxins.

  1. Including fiber-rich food item that helps in adding bulk to the stools, for example having apples, bananas, nuts, etc. which have a good amount of fibre in them will help.
  2. Have one tomato with black pepper in the evening time, an hour before dinner.
  3. During evening time, take an inch of ginger and boil in two cups of water with half a teaspoon of turmeric and honey. This will help in beating inflammation caused by indigestion.

Exercise:

  • Sitting in the position of Vajraasana will help in the treatment of indigestion. After your meals, practice this pose for better digestion and easy stools.
  • A brisk walk in early morning sun from 30-45 minutes helps in treating your body to its level best.

Meditation:

In any kind of disease, stress comes complementary to it, but with our assurance and positive attitude, we can treat anything. The best thing to start with is breathing mindfully before sleep with the help of music to stay positive.

A positive attitude will help you to deal with everything in life.

Sleep:

Sleeping for at least 7-8 hours is really helpful in dealing with any problem, sleep is our body's natural response and helps the body to heal. Sleep relaxes the muscles and strengthens our body.

Hopefully, these suggestions will help you

Thank you.



12:14 PM | 15-05-2020

Hello Dilip,

Difficulty in swallowing is known as dysphagia. It may not be due to a disease. It may occur due to large bites of food, dry mouth, swallowing while talking or laughing, improper chewing, foods that are too hot.
 Apart from such occasional swallowing difficulty reasons, the following reasons are possible -

  • Poorly coordinated contractions of oesophagus. 
  • When the lower esophageal sphincter doesn't relax properly to let the food enter the stomach 
  • Partially blockage of the throat due to a foreign particle. 
  • Damage to the oesophageal tissues due to stomach acid backing up as in GERD.
  • Improper digestion because of having more sticky and fatty foods.
  • Aging.

Diet

  • Avoid fatty foods and extra sticky foods.
  • Avoid nicotine and alcoholic beverages completely. 
  • Avoid tea, coffee, and other caffeinated drinks. 
  • Eat plant-based natural foods.
  • Have sufficient water intake during the day.
  • Avoid spicy, oily, processed, and packaged foods.

Exercise 

  • Perform suryanamaskar daily as it will help to improve the blood circulation. 
  • Perform neck early to relax the muscles and make them more flexible. 
  • Do bhujanga asana ,paschimottan asana.

Pranayam

  • Perform bhramri pranayam and ujjayi pranayam. The vibrations generated while doing these pranayamas will help in removing the foreign particles from the neck.

General precautions 

  • Eat small bites.
  • Have small meals instead of having 3 large meals.
  • Chew slowly and properly. 
  • Keep your throat hydrated. 
  • Don't talk or laugh while eating.
  • Maintain a proper posture while eating.

Thank you 



04:50 PM | 14-05-2020

हेलो,
कारण - खाना चबाकर नहीं खाने से खाना गले में अटक सकता है। खाना चबाकर इसलिए भी खाना चाहिए ताकि आपका लार उसके साथ अच्छी तरीके से मिक्स हो जाए। लार लैक्सेटिव होता है वह खाना को अंदर जाने में मदद करता है।  वह पाचन क्रिया में भी मदद पहुंचाता है। लार तभी निकलता है जब आप अपने खाने को अच्छी तरीके से चबा चबा कर खाते हैं। सॉलिड जो भी हो वह मुंह में इतना चबाया जाना चाहिए ताकि वह लिक्विड हो जाए और लिक्विड जो भी हो उसको मुंह में इतना देर होल्ड किया जाना चाहिए ताकि वह  आपके लार  के साथ मिलकर पेट तक पहुंचे। यही कारण है  आप जब कभी हड़बड़ी में या जल्दबाजी में खाना खा रहे हैं तो आपके गले में फंस जाता है। सुखा खानाा खाने से बचें। ऐसा आहार आपका मुख्य आहार हो जिसमें रस, फाइबर और जीवन हो। प्राकृतिक चिकित्सा पद्धति को अपना कर पूर्ण लाभ उठाया जा सकता है।
समाधान - 1. चार भिंडी को लंबा काटकर एक गिलास पानी में डाल दें और सुबह खाली पेट नेचुरल मोशन होने से पहले उसको पी लें। पीते वक्त इस बात का ध्यान रखें कि पानी को मुंह में रख रख के पिए।
जीवन शैली - 1. आकाश तत्व - एक खाने से दुसरे खाने के बीच में अंतराल (gap) रखें। फल के बाद 3 घंटे, सलाद के बाद 5 घंटे, और पके हुए खाने के बाद 12 घंटे का (gap) रखें।

2.वायु तत्व - प्राणायाम करें, आसन करें। दौड़ लगाएँ।

3.अग्नि - सूर्य की रोशनी लें।

4.जल - अलग अलग तरीक़े का स्नान करें। मेरुदंड स्नान, हिप बाथ, गीले कपड़े की पट्टी से पेट की गले और सर की 20 मिनट के लिए सेक लगाए। स्पर्श थरेपी करें। मालिश के ज़रिए भी कर सकते है। तिल के तेल रीढ़ की हड्डी पर घड़ी की सीधी दिशा (clockwise) में और घड़ी की उलटी दिशा (anti clockwise) में मालिश करें। नरम हाथों से बिल्कुल भी प्रेशर नहीं दें।

5.पृथ्वी - सुबह खीरा 1/2 भाग, धनिया पत्ती (10 ग्राम) पीस लें, 100 ml पानी मिला कर पीएँ। यह juice आप कई प्रकार के ले सकते हैं। पेठे (ashgourd) का जूस लें और कुछ नहीं लेना है। नारियल पानी भी ले सकते हैं। पालक  पत्ते धो कर पीस कर 100ml पानी डाल पीएँ। दुब घास 25 ग्राम पीस कर छान कर 100 ml पानी में मिला कर पीएँ। कच्चे सब्ज़ी का जूस आपका मुख्य भोजन है। 2 घंटे बाद फल नाश्ते में लेना है। फल को चबा कर खाएँ। इसका juice ना लें। फल, सूखे फल नाश्ते में लें।

दोपहर के खाने में सलाद नट्स और अंकुरित अनाज के साथ  सलाद में हरे पत्तेदार सब्ज़ी को डालें और नारियल पीस कर मिलाएँ। कच्चा पपीता 50 ग्राम कद्दूकस करके डालें। कभी सीताफल (yellow pumpkin) 50 ग्राम ऐसे ही डालें। कभी सफ़ेद पेठा (ashgourd) 30 ग्राम कद्दूकस करके डालें। ऐसे ही ज़ूकीनी 50 ग्राम डालें।कद्दूकस करके डालें। कभी काजू, बादाम, अखरोट, मूँगफली भिगोए हुए पीस कर मिलाएँ। लाल, हरा, पीला शिमला मिर्च 1/4 हिस्सा हर एक का मिलाएँ। लें। बिना नींबू और नमक के लें। स्वाद के लिए नारियल और herbs मिलाएँ।

रात के खाने में इस अनुपात से खाना खाएँ 2 कटोरी सब्ज़ी के साथ 1कटोरी चावल या 1रोटी लेएक बार पका हुआ खाना रात को 7 बजे से पहले लें।

6. एक नियम हमेशा याद रखें ठोस (solid) खाने को चबा कर तरल (liquid) बना कर खाएँ। तरल  को मुँह में घूँट घूँट पीएँ। खाना ज़मीन पर बैठ कर खाएँ। खाते वक़्त ना तो बात करें और ना ही TV और mobile को देखें।ठोस  भोजन के तुरंत बाद या बीच बीच में जूस या पानी ना लें। भोजन हो जाने के एक घंटे बाद तरल पदार्थ ले सकते हैं।

हफ़्ते में एक दिन उपवास करें। शाम तक केवल पानी लें, प्यास लगे तो ही पीएँ। शाम 5 बजे नारियल पानी और रात 8 बजे सलाद लें।

7. उपवास के अगले दिन किसी प्राकृतिक चिकित्सक के देख रेख में टोना लें। जिससे आँत की प्रदाह को शांत किया जा सके। एनिमा किट मँगा लें। यह किट ऑनलाइन मिल जाएगा। इससे 200ml पानी गुदाद्वार से अंदर डालें और प्रेशर आने पर मल त्याग करें। ऐसा दिन में दो बार करना है अगले 21 दिनों के लिए। ये करना है ताकि शरीर में मोजुद विषाणु निष्कासित हो जाये। इसके बाद हफ़्ते में केवल एक बार लेना है उपवास के अगले दिन। टोना का फ़ायदा तभी होगा जब आहार शुद्धि करेंगे।

धन्यवाद।

रूबी, 

प्राकृतिक जीवनशैली प्रशिक्षिका व मार्गदर्शिका (Nature Cure Guide & Educator)


Scan QR code to download Wellcure App
Wellcure
'Come-In-Unity' Plan











Whoops, looks like something went wrong.