Loading...

Q&A
09:48 AM | 25-05-2020

I have been suffering from fibromyalgia since 2015 which puts me in chronic fatigue and pain 24*7 with IBS and low energy. In 2018, I got to know that I am HLA b27 postive and I was diagnosed with ankylosing spondylitis. Immunity is going very low day by day. Also suffering with straightening of cervical lordosis and maxillary sinusitis. Partail bifid spine at L5 and osteophytes are seen in D12 and L1 vertebra. Please suggest me what to do as I have taken so many treatments but nothing worked.


The answers posted here are for educational purposes only. They cannot be considered as replacement for a medical 'advice’ or ‘prescription’. ...The question asked by users depict their general situation, illness, or symptoms, but do not contain enough facts to depict their complete medical background. Accordingly, the answers provide general guidance only. They are not to be interpreted as diagnosis of health issues or specific treatment recommendations. Any specific changes by users, in medication, food & lifestyle, must be done through a real-life personal consultation with a licensed health practitioner. The views expressed by the users here are their personal views and Wellcure claims no responsibility for them.

Read more
Post as Anonymous User
3 Answers

04:30 PM | 25-05-2020

Hello Dev J,

Ankylosing spondylosis is an inflammatory reaction which reduces the flexibility of the spine by fusing the small bones. According to our body, it is a functional change. But the natural cause is accumulation of all toxins. Even with low immunity, you tend to get affected by fibromyalgia. With the continuation of the right diet, your irritable bowel syndrome will also be treated well. 

Our blood starts reacting to the antigens, which are the result of our chronic high fat diet and sedentary lifestyle. Even bad posture is a cause of spondylitis. It is time to make some changes in the lifestyle in order to treat the condition effectively. From neck to the lower back, it has a tendency to make our spine more rigid.

Here are a few guidelines which you can keep in mind in order to heal.

Eat:

• Avoid alcohol.

• Include calcium-rich food and increase vitamin D intake to support bone health.

Practice a diet which is rich in fruits, raw vegetables and whole grains which will help in the treatment of ankylosing spondylosis. Start with oranges, sweet lime, sprouts and sweet potato in order to gain immunity from Vitamin C rich food. 

Limit fats, animal products, processed or mixed foods, and try to drink 8 to 10 glasses of water each day.

Exercise:

  • Daily physical activity is crucial for people with this disease. This can reduce pain and also improve your mobility, posture and helps you maintain your flexibility.
  • Practising good posture can help prevent spinal fusion in a stooped or deformed position. Not everyone will have a fusion in the spine, but practising good posture can help keep your spine in a place that looks and feels better.
  • Posture exercises should be practised daily to have the best impact on cervical to back spine. Sitting on a chair, look on the front, flex your neck downwards bring it to centre, extend upwards bring it to centre. Then slowly rotate. Do this set 10 times in order to increase circulation and your flexibility is maintained.

Massage can help you achieve that perfect mobility despite your disease. Massaging for 15-20 minutes is very important to improve blood circulation in that area. Massage with coconut or almond oil after warming it.

Meditation:

  • Practice mindful meditation.
  • Deal with your stress.
  • Allow positivity to be part of your life.

Doing 15-minute exercise before sleep about deep breathing will help in relaxing your mind, you can use music also for relaxation.

Sleep:

Sleeping for at least 7-8 hours is very important in order to completely relax. In sleep what our body does is go through is the process of repair. Relax your self by taking a water bowl and 2-3 drops of essential oil, like orange and lavender which will help in relaxing the sleep. This will aid in treating any kind of inflammation.

It is time to make ourselves healthier without disease hampering our growth.

Hopefully, these suggestions will help.

Thank you.



04:57 PM | 25-05-2020

 

Hello Dev,

We understand that you must be feeling low right now. But be assured that a lot can be improved in your health condition. 

For this to happen, it is important for you to first understand how Nature Cure works. 

Nature Cure identifies the root cause of most diseases as TOXAEMIA - accumulation of toxins within the body.  While some toxins are an output of metabolism, others are added due unnatural lifestyle – wrong food habits, lack of rest, stress etc. If not eliminated, the toxins get build up and cause diseases. This toxic overload may affect different organs in different individuals and hence the variation in symptoms and diseases.

Our body continuously works towards staying in its natural state of balance or homeostasis. Whenever there is a deviation from this state (due to unnatural lifestyle choices), extensive repair work starts inside the body and is experienced as discomfort or disease at the surface. In that sense, what we perceive as disease is an endeavour of the body to bring back the homeostasis. Nature cure lays emphasis on supporting the body to help maintain/restore homeostasis. How do we do that? By providing the right in terms of food as well as non-food elements (like sleep, exercise, rest etc.)

Adopting a natural lifestyle will help you reclaim your health. You can explore our Nature-Nurtures Program that helps you in making the transition, step by step. We will guide you on diet, sleep, exercise, stress etc. to correct your existing routine & make it in line with Natural Laws.   

To begin with, you may want to explore the following resources to get some direction and motivation.

  • Read real-life natural healing stories of people won over their diseases by following Natural Laws on our health journeys section.

  • You can also go through our body wisdom page to get better informed about the body and the way it works with Natural Laws.

Wishing you good health! 

Regards,

Team Wellcure.



12:49 PM | 25-05-2020

हेलो,
कारण - 1. फाइब्रोमायल्जिया एक तरह का विकार है, जो मांसपेशियों और हड्डियों में दर्द उत्पन्न करता है। इसमें आपको थकान महसूस होती है। इसके अलावा मस्तिष्क और नींद से संबंधित कई मुश्किलें आनी शुरू हो जाती है।
2. अधिकांश स्पॉन्डिलाइटिस से ग्रस्त लोगों में एचएलए-बी 27 (HLA-B27) नामक जीन पाया जाता है। यद्यपि इस जीन वाले लोगों को स्पॉन्डिलाइटिस होने की आशंका अधिक होती है।
एचएलए बी 27 पॉजिटिव का मतलब हमेशा गठिया नहीं होता। शरीर में खराब प्रोटीनों के बनने, शरीर के भीतर के पर्यावरण में बदलाव से हो सकता है।

शरीर के किसी भी हिस्से में दर्द का मुख्य कारक होता है शरीर में बढ़ा हुआ अम्ल शरीर का हाजमा खराब होने पर हमारे शरीर में अम्ल की अधिकता हो जाती है शरीर में अम्ल की अधिकता होने पर रक्त संचार में कमी आती है और यह दर्द का कारक बनता है

3. इरिटेबल बॉवेल मूवमेंट यानी आंतों की खराबी जिसके कारण पेट में दर्द, गैस, दस्‍त, और कब्‍ज होता है।

आईबीएस एक दीर्घकालिक अवस्था है, जिसकी आपको लम्बे समय तक देखभाल करने की आवश्यकता पड़ती है।यह आंतों में इन्फ्लेमेशन के कारण होता है।  खाना जो देर तक पचता नहीं है और शरीर के अंदर काफी लंबे समय तक सड़ रहा होता है उसके वजह से यह संक्रमण होता है। विषाणु को पनपने के लिए शरीर में अम्लीयता होना जरूरी होता है।  लंबे समय तक खराब हाजमा और कब्ज के कारण यह स्थिति उत्पन्न होती है।

4. विटामिन डी 12 की कमी शरीर में अधिक अम्ल होने के कारण है अम्ल अधिक हो तो वह शरीर में मौजूद विटामिन पर एक आवरण बना लेता है जैसे संघनन की क्रिया से पानी का भाँप बादल बन कर आसमान में सूर्य को भी छुपा देता है। 

प्राकृतिक चिकित्सक के देखरेख में प्राकृतिक चिकित्सा पद्धति को अपनाकर आप पूर्ण रूप से स्वास्थ्य पा सकते हैं।

समाधान- 1. जितना हो सके कच्चे हरे पत्तों का जूस छानकर पिए। जैसे पालक, दूब घास, बेलपत्र, धनिया पत्ता, तुलसी का पत्ता इन्हें अलग-अलग टाइम पर पीसकर 200 ml पानी मिलाकर छानकर पीएं खाली पेट इन पत्तों का जूस बहुत ही ज्यादा लाभदायक होता है। यह रक्त को शुद्ध करेगा। आंतों के संक्रमण को दूर करेगा।

2. सूर्य की रोशनी में 20 मिनट का स्नान सूर्य की रोशनी से करें 5 मिनट सामने 5 मिनट पीछे 5 मिनट दाएं 5 मिनट बाएं भाग में धूप लगाएं।दुख हमेशा लेट कर लेना चाहिए धूप की रोशनी लेते वक्त सर और आपको किसी सूती कपड़े से ढक ले। सूर्य नारी मंद होने पर  इन्फेक्शन अधिक होता है अतः आप जब भी सोए अपना दायां भाग ऊपर करके सोए। 

3. प्रतिदिन अपने पेट पर खाने से 1 घंटे पहले या खाना खाने के 2 घंटे बाद गीले मोटे तौलिए को लपेटे एक तौलिया गिला करके उसको निचोड़ लें और हूं उस तौलिए को 20 मिनट तक अपने पेट पर लपेटकर रखें ऐसा करने से आपका पाचन तंत्र दुरुस्त होगा।

अलग अलग तरीक़े का स्नान करें। मेरुदंड स्नान, हिप बाथ, गीले कपड़े की पट्टी से पेट की गले और सर की 20 मिनट के लिए सेक लगाए। 

स्पर्श थरेपी करें। मालिश के ज़रिए भी कर सकते है।

तिल के तेल रीढ़ की हड्डी पर घड़ी की सीधी दिशा (clockwise) में और घड़ी की उलटी दिशा (anti clockwise)में मालिश करें। नरम हाथों से बिल्कुल भी प्रेशर नहीं दें।

4. हर 3 घंटे में लंबा गहरा श्वास अंदर लें उसको थोड़ी देर रोकें और फिर सांस को खाली करें। खाली करने के बाद फिर से रुके और फिर लंबा गहरा सांस ले। यह एक चक्र है ऐसा दिन में 10 चक्र करें केवल एक शर्त का पालन करें जब आप लंबा गहरा सांस ले रहे हैं तो अपनी रीढ़ की हड्डी को सीधा रखें ऐसा करने से आपके शरीर में ऑक्सीजन की मात्रा का बढ़ेगी और ऑक्सीजन का संचार सुचारू रूप से हो पाएगा।

5. सुबह खीरा 1/2 भाग धनिया पत्ती (10 ग्राम) पीस लें, 100 ml पानी मिला कर पीएँ। यह juice आप कई प्रकार के ले सकते हैं। पेठे (ash guard ) का जूस लें और कुछ नहीं लेना है। नारियल पानी भी ले सकते हैं। पालक  पत्ते धो कर पीस कर 100 ml पानी डाल पीएँ। दुब घास 25 ग्राम पीस कर छान कर 100 ml पानी में मिला कर पीएँ। कच्चे सब्ज़ी का जूस आपका मुख्य भोजन है। 2 घंटे बाद फल नाश्ते में लेना है। 

फल को चबा कर खाएँ। इसका juice ना लें। फल सूखे फल नाश्ते में लें।

दोपहर के खाने में सलाद नट्स और अंकुरित अनाज के साथ  सलाद में हरे पत्तेदार सब्ज़ी को डालें और नारियल पीस कर मिलाएँ। कच्चा पपीता 50 ग्राम कद्दूकस करके डालें। कभी सीताफल ( yellow pumpkin)50 ग्राम ऐसे ही डालें। कभी सफ़ेद पेठा (ash guard) 30 ग्राम कद्दूकस करके डालें। ऐसे ही ज़ूकीनी 50 ग्राम डालें।कद्दूकस करके डालें।कभी काजू बादाम अखरोट मूँगफली भिगोए हुए पीस कर मिलाएँ। 

लाल, हरा, पीला शिमला मिर्च 1/4 हिस्सा हर एक का मिलाएँ। लें। बिना नींबू और नमक के लें। स्वाद के लिए नारियल और herbs मिलाएँ।

रात के खाने में इस अनुपात से खाना खाएँ 2 कटोरी सब्ज़ी के साथ 1कटोरी चावल या 1रोटी लेएक बार पका हुआ खाना रात को 7 बजे से पहले लें।

6. एक नियम हमेशा याद रखें ठोस(solid) खाने को चबा कर तरल (liquid) बना कर खाएँ। तरल  को मुँह में घूँट घूँट पीएँ। खाना ज़मीन पर बैठ कर खाएँ। खाते वक़्त ना तो बात करें और ना ही TV और mobile को देखें।ठोस  भोजन के तुरंत बाद या बीच बीच में जूस या पानी ना लें। भोजन हो जाने के एक घंटे बाद तरल पदार्थ ले सकते हैं।

हफ़्ते में एक दिन उपवास करें। शाम तक केवल पानी लें, प्यास लगे तो ही पीएँ। शाम 5 बजे नारियल पानी और रात 8 बजे सलाद लें।

7. उपवास के अगले दिन किसी प्राकृतिक चिकित्सक के देख रेख में टोना लें। जिससे आँत की प्रदाह को शांत किया जा सके। एनिमा किट मँगा लें। यह किट ऑनलाइन मिल जाएगा। इससे 200 ml पानी गुदाद्वार से अंदर डालें और प्रेशर आने पर मल त्याग करें। ऐसा दिन में दो बार करना है अगले 21 दिनों के लिए। ये करना है ताकि शरीर में मोजुद विषाणु निष्कासित हो जाये। इसके बाद हफ़्ते में केवल एक बार लेना है उपवास के अगले दिन। टोना का फ़ायदा तभी होगा जब आहार शुद्धि करेंगे।

धन्यवाद।

रूबी, 

प्राकृतिक जीवनशैली प्रशिक्षिका व मार्गदर्शिका (Nature Cure Guide & Educator)


Scan QR code to download Wellcure App
Wellcure
'Come-In-Unity' Plan











Whoops, looks like something went wrong.