Loading...

Welcome to Wellcure: We help you live a disease free and medicine free life

Q&A
08:36 PM | 28-05-2020

I had two miscarriage in the past, I had asherman syndrome disease due to d & c. After laproscopy my periods are normal for Past 6 months I m trying to conceive but not successful. Please advise.


The answers posted here are for educational purposes only. They cannot be considered as replacement for a medical 'advice’ or ‘prescription’. ...The question asked by users depict their general situation, illness, or symptoms, but do not contain enough facts to depict their complete medical background. Accordingly, the answers provide general guidance only. They are not to be interpreted as diagnosis of health issues or specific treatment recommendations. Any specific changes by users, in medication, food & lifestyle, must be done through a real-life personal consultation with a licensed health practitioner. The views expressed by the users here are their personal views and Wellcure claims no responsibility for them.

Read more
Post as Anonymous User
4 Answers

10:14 AM | 30-05-2020

Hello Khushbu B.

Due to disease in our reproductive system, our body becomes insulin resistant due to the action pancreas which releases insulin becomes sluggish. The lifestyle which is filled with complex food items, a sedentary lifestyle, and toxic food habits lead to hampering our normal physiological cycle. Though after the reproductive cycle getting disturbed and dilatation and cure stage happening the uterus becomes susceptible to various problems.

Taking a step holistically increases our metabolization and helps in strengthening our body.

Eat:

Starting your day with something light in nature and easy to digest is what your breakfast should be. Even the early morning ritual should include consumption of two-three glasses of warm water will help in flushing out all the toxins.

  • Have two dates very time with your breakfast to increase the iron content and one glass of jaggery water with one tablespoon of lemon.
  • Beetroot is a very good source of folic acid that has them with your salad an hour before a meal, folic acid increases the rate of conceiving.
  • Spinach and tomato juice is also a good idea for increasing folic acid content.

Exercise:

  • Surynamakar helps in increasing the blood circulation doing 12 sets will help, start with 6 if you are a beginner.
  • Squats help in strengthening your uterine muscle, 10-15 times at one time will help in increasing uterus muscle tonicity.
  • Cobra pose helps increase blood circulation in the pelvic region.
  • A brisk walk in early morning sun from 30-45 minutes, helps in treating your body to its level best.

Meditation:

In any kind of disease, stress comes complementary to it, but with our assurance and positive attitude, we can treat anything. The best thing to start with is breathing mindfully before sleep with the help of music to stay positive. A positive attitude will help you to deal with everything in life.15-minute relaxing meditation with the help of light music before sleep will help you in relaxing.

Pelvic massages are very helpful in conceiving, massage your pelvic region with coconut or almond oil for 10-15 minutes to increase the conceiving rate.

Sleep:

Sleeping for at least 7-8 hours is helpful in dealing with any problem, sleep is our body's natural response and helps the body to heal. Sleep relaxes the muscles and strengthens our body.

Hopefully, these suggestions will help you

Thank you.



11:02 AM | 29-05-2020

Dear Khushbu,

We totally understand your concern about not being able to conceive. At Wellcure, it is our endeavour to help people know and find hope in the body's natural self-healing powers! To begin with, try to understand the Nature Cure perspective.

In Nature Cure approach the body is seen as a whole unit and therefore any health issue is concerned with the overall functioning and internal state of balance. Owing to wrong lifestyle choices, toxins get accumulated in the body. Nature has equipped us with the measures of eliminating the toxins on a regular basis - through breathing, stool, urine, sweat, mucus depositions in nose, eyes and genitals etc. However, when the elimination is inefficient there is toxic overload, which further leads to an imbalance in the body sometimes causing hormonal imbalance. Hormones play a crucial role in regulating the female reproductive system and when their balance is disrupted it often becomes the root cause of most women's health issues, even infertility.

One can reverse this state of imbalance by getting back in sync with the Natural Laws of living. You can explore our Nature-Nurtures Program that helps you in making the transition, step by step. Our Natural Health Coach will look into your daily routine in a comprehensive way and give you an action plan. She/he will guide you on diet, sleep, exercise, stress to correct your existing routine & make it in line with Natural Laws. 

We encourage you to take charge of your health. Read Women’s Health stories in our Journeys section, especially this one - My triumph over ulcerative colitis & infertility 

Hope this helps! 

Team Wellure



04:32 PM | 24-11-2020

Namaskar!

You may want to explore Wellcure's upcoming program:

Join Anchal Kapur for a unique group program, the first in India - Boost Fertility Naturally. She overcame her infertility by adopting Nature Cure. No pills, no medical bills, no anxiety about the outcome! Isn't nature's way simple & effective? Starts on 25th Nov, Wed.

Team Wellcure



10:14 AM | 30-05-2020

हेलो,
कारण -  गर्भाशय ग्रीवा आपस में चिपकने के स्थिति को आशरमेंन  कहा जाता है। एक छोटे सेे शल्य प्रक्रिया माध्यम से इसको ठीक या जानेे के बाद गर्भ धारण ना कर पाने की समस्या अस्थाई है खानपान में सुधार जीवनशैली में परिवर्तन सकारात्मक सोच आपको प्राकृतिक रूप से गर्भधारण करने में मदद करेगी।

समाधान- 1.  दौड़ लगाएं, योनिबंध आसन, मर्जारी आसन, योग निद्रा, गोमुख आसन और आजपाजाप क्रिया करें।

2. सूर्य की रोशनी में 20 मिनट का स्नान सूर्य की रोशनी से करें 5 मिनट सामने 5 मिनट पीछे 5 मिनट दाएं 5 मिनट बाएं भाग में धूप लगाएं।दुख हमेशा लेट कर लेना चाहिए धूप की रोशनी लेते वक्त सर और आपको किसी सूती कपड़े से ढक ले। सूर्य नारी मंद होने पर  इन्फेक्शन अधिक होता है अतः आप जब भी सोए अपना दायां भाग ऊपर करके सोए। 

3. प्रतिदिन अपने पेट पर खाने से 1 घंटे पहले या खाना खाने के 2 घंटे बाद गीले मोटे तौलिए को लपेटे एक तौलिया गिला करके उसको निचोड़ लें और हूं उस तौलिए को 20 मिनट तक अपने पेट पर लपेटकर रखें ऐसा करने से आपका पाचन तंत्र दुरुस्त होगा।

अलग अलग तरीक़े का स्नान करें। मेरुदंड स्नान, हिप बाथ, गीले कपड़े की पट्टी से पेट की गले और सर की 20 मिनट के लिए से लगाए। 

हफ्ते में तीन दिन हिप बाथ लेते समय संकुचन क्रिया करें।

गर्भाशय पर प्रति दिन (mud pack) लगाएं। या खीरा और एलोवेरा पल्प का पेस्ट लगाएं। 20 मिनट बाद लगा रहने फिर सादे पानी से साफ कर लें। 

4. हर 3 घंटे में लंबा गहरा श्वास अंदर लें उसको थोड़ी देर रोकें और फिर सांस को खाली करें। खाली करने के बाद फिर से रुके और फिर लंबा गहरा सांस ले। यह एक चक्र है ऐसा दिन में 10 चक्र करें केवल एक शर्त का पालन करें जब आप लंबा गहरा सांस ले रहे हैं तो अपनी रीढ़ की हड्डी को सीधा रखें ऐसा करने से आपके शरीर में ऑक्सीजन की मात्रा का बढ़ेगी और ऑक्सीजन का संचार सुचारू रूप से हो पाएगा।

स्पर्श थरेपी करें। मालिश के ज़रिए भी कर सकते है।

तिल के तेल रीढ़ की हड्डी पर घड़ी की सीधी दिशा (clockwise) में और घड़ी की उलटी दिशा (anti clockwise)में मालिश करें। नरम हाथों से बिल्कुल भी प्रेशर नहीं दें।

5.खीरा 1/2 भाग धनिया पत्ती (10 ग्राम) पीस लें, 100 ml पानी मिला कर पीएँ। यह juice आप कई प्रकार के ले सकते हैं। पेठे (ashguard ) का जूस लें और कुछ नहीं लेना है। नारियल पानी भी ले सकते हैं। पालक  पत्ते धो कर पीस कर 100ml पानी डाल पीएँ। दुब घास 25 ग्राम पीस कर छान कर 100 ml पानी में मिला कर पीएँ। कच्चे सब्ज़ी का जूस आपका मुख्य भोजन है। 2 घंटे बाद फल नाश्ते में लेना है। 

फल को चबा कर खाएँ। इसका juice ना लें। फल सूखे फल नाश्ते में लें।

दोपहर के खाने में सलाद नट्स और अंकुरित अनाज के साथ  सलाद में हरे पत्तेदार सब्ज़ी को डालें और नारियल पीस कर मिलाएँ। कच्चा पपीता 50 ग्राम कद्दूकस करके डालें। कभी सीताफल ( yellow pumpkin)50 ग्राम ऐसे ही डालें। कभी सफ़ेद पेठा (ashgurd) 30 ग्राम कद्दूकस करके डालें। ऐसे ही ज़ूकीनी 50 ग्राम डालें।कद्दूकस करके डालें।कभी काजू बादाम अखरोट मूँगफली भिगोए हुए पीस कर मिलाएँ। 

लाल, हरा, पीला शिमला मिर्च 1/4 हिस्सा हर एक का मिलाएँ। लें। बिना नींबू और नमक के लें। स्वाद के लिए नारियल और herbs मिलाएँ।

रात के खाने में इस अनुपात से खाना खाएँ 2 कटोरी सब्ज़ी के साथ 1कटोरी चावल या 1रोटी लेएक बार पका हुआ खाना रात को 7 बजे से पहले लें।

6. एक नियम हमेशा याद रखें ठोस(solid) खाने को चबा कर तरल (liquid) बना कर खाएँ। तरल  को मुँह में घूँट घूँट पीएँ। खाना ज़मीन पर बैठ कर खाएँ। खाते वक़्त ना तो बात करें और ना ही TV और mobile को देखें।ठोस  भोजन के तुरंत बाद या बीच बीच में जूस या पानी ना लें। भोजन हो जाने के एक घंटे बाद तरल पदार्थ ले सकते हैं।

हफ़्ते में एक दिन उपवास करें। शाम तक केवल पानी लें, प्यास लगे तो ही पीएँ। शाम 5 बजे नारियल पानी और रात 8 बजे सलाद लें।

7. उपवास के अगले दिन किसी प्राकृतिक चिकित्सक के देख रेख में टोना लें। जिससे आँत की प्रदाह को शांत किया जा सके। एनिमा किट मँगा लें। यह किट ऑनलाइन मिल जाएगा। इससे 200ml पानी गुदाद्वार से अंदर डालें और प्रेशर आने पर मल त्याग करें। ऐसा दिन में दो बार करना है अगले 21 दिनों के लिए। ये करना है ताकि शरीर में मोजुद विषाणु निष्कासित हो जाये। इसके बाद हफ़्ते में केवल एक बार लेना है उपवास के अगले दिन। टोना का फ़ायदा तभी होगा जब आहार शुद्धि करेंगे।

धन्यवाद।

रूबी, 

प्राकृतिक जीवनशैली प्रशिक्षिका व मार्गदर्शिका (Nature Cure Guide & Educator)

 


Scan QR code to download Wellcure App
Wellcure
'Come-In-Unity' Plan