Loading...

Q&A
12:33 PM | 03-07-2020

My tummy looks enlarged what is it?

The answers posted here are for educational purposes only. They cannot be considered as replacement for a medical 'advice’ or ‘prescription’. ...The question asked by users depict their general situation, illness, or symptoms, but do not contain enough facts to depict their complete medical background. Accordingly, the answers provide general guidance only. They are not to be interpreted as diagnosis of health issues or specific treatment recommendations. Any specific changes by users, in medication, food & lifestyle, must be done through a real-life personal consultation with a licensed health practitioner. The views expressed by the users here are their personal views and Wellcure claims no responsibility for them.

Read more
Post as Anonymous User
4 Answers

01:23 PM | 06-07-2020

Hello User,

  • Tracking your menstrual cycle would be healthier, in this case, to differentiate between the two. If you have missed out on periods.
  • If you are confused about it after getting your periods and want to differentiate then, pregnancy tummy starts getting visible in the 4th month as our fetus size increases before that it is difficult to tract the pregnancy through the abdominal range.
  • The next thing is in early pregnancy the growth is seen through pelvis whereas belly fat is spread over the whole abdomen. 

So on the time range, you can easily differentiate between the two easily. 

Thank you



01:21 PM | 06-07-2020

Hello,

For some women, it is difficult to differentiate between the belly fat or pregnancy tummy.
Belly fat results due to high fat intake and it is not associated with any other symptoms whereas pregnancy is associated with some other symptoms.
Symptoms that a woman may experience if she is pregnant are as follows- 

  • Fatigue is a common symptom of early pregnancy. 
  • Nausea and vomiting occur in early pregnancy which may start in 2 to 8 weeks after conception. 
  • In pregnancy, bowel moves less frequently and the woman may experience constipation. 
  • The feeling of dizziness is also common in pregnancy. 
  • You may also experience some changes in the skin around the nipples if you are pregnant. The skin around the nipples become darker.

If you are not experiencing these symptoms, then that means you are not pregnant and you just have a fat belly.

Thank you 



12:19 PM | 06-07-2020

हेलो,
कारण - प्रेगनेंट प्रेगनेंसी टेस्ट करा लेने से पता लग जाएगा कि प्रेगनेंसी है या नहीं। साथ ही अगर मासिक धर्म 3 से 4 महीने तक लगातार नहीं आ रहा है तो यह भी एक सूचक हो सकता है गर्भावस्था धारण करने का इस स्थिति में पेट का फूलना सकारात्मक है। किंतु अगर प्रेगनेंसी नहीं है और पेट फुला हुआ है इसका मतलब कि शरीर में मल फंसा हुआ है मल का निष्कासन ठीक प्रकार से नहीं हो रहा है गैस के वजह से भी पेट फूल जाता है। अगर गर्भावस्था नहीं है और पेट फुला हुआ है तो खराब हाजमा का सूचक है और इस पर काम करना आवश्यक है। दोनों ही परिस्थिति में प्राकृतिक चिकित्सा पद्धति से आपको लाभ मिलेगा।गर्भावस्था के समय भी अगर पेट में अम्ल की मात्रा अधिक होती है और पेट साफ नहीं रहता है तो काफी परेशानी का सामना करना पड़ता है तो उस कारण से भी अगर प्राकृतिक चिकित्सा पद्धति को अभी ही अपना ले तो मां और बच्चे दोनों के स्वास्थ्य के लिए अच्छा होगा।

समाधान - 1. चार भिंडी को लंबा काटकर एक गिलास पानी में डाल दें और सुबह खाली पेट नेचुरल मोशन होने से पहले उसको पी लें। पीते वक्त इस बात का ध्यान रखें कि पानी को मुंह में रख रख केपीए।2. सूर्य की रोशनी में 20 मिनट का स्नान सूर्य की रोशनी से करें 5 मिनट सामने 5 मिनट पीछे 5 मिनट दाएं 5 मिनट बाएं भाग में धूप लगाएं। धूप लेट कर लेना चाहिए धूप की रोशनी लेते वक्त सर और आपको किसी सूती कपड़े से ढक ले। सूर्य नारी मंद होने पर  इन्फेक्शन अधिक होता है अतः आप जब भी सोए अपना दायां भाग ऊपर करके सोए। 

3. प्रतिदिन अपने पेट पर खाने से 1 घंटे पहले या खाना खाने के 2 घंटे बाद गीले मोटे तौलिए को लपेटे एक तौलिया गिला करके उसको निचोड़ लें और हूं उस तौलिए को 20 मिनट तक अपने पेट पर लपेटकर रखें ऐसा करने से आपका पाचन तंत्र दुरुस्त होगा।

4. हर 3 घंटे में लंबा गहरा श्वास अंदर लें उसको थोड़ी देर रोकें और फिर सांस को खाली करें। खाली करने के बाद फिर से रुके और फिर लंबा गहरा सांस ले। यह एक चक्र है ऐसा दिन में 10 चक्र करें केवल एक शर्त का पालन करें जब आप लंबा गहरा सांस ले रहे हैं तो अपनी रीढ़ की हड्डी को सीधा रखें ऐसा करने से आपके शरीर में ऑक्सीजन की मात्रा का बढ़ेगी और ऑक्सीजन का संचार सुचारू रूप से हो पाएगा।

5.सुबह खीरा 1/2 भाग धनिया पत्ती (10 ग्राम) पीस लें, 100 ml पानी मिला कर पीएँ। यह juice आ कई प्रकार के ले सकते हैं। पेठे (ashguard ) का जूस लें और कुछ नहीं लेना है। नारियल पानी भी ले सकते हैं। पालक  पत्ते धो कर पीस कर 100ml पानी डाल पीएँ। दुब घास 25 ग्राम पीस कर छान कर 100 ml पानी में मिला कर पीएँ। कच्चे सब्ज़ी का जूस आपका मुख्य भोजन है। 2 घंटे बाद फल नाश्ते में लेना है। 

फल को चबा कर खाएँ। इसका juice ना लें। फल सूखे फल नाश्ते में लें।

दोपहर के खाने में सलाद नट्स और अंकुरित अनाज के साथ  सलाद में हरे पत्तेदार सब्ज़ी को डालें और नारियल पीस कर मिलाएँ। कच्चा पपीता 50 ग्राम कद्दूकस करके डालें। कभी सीताफल ( yellow pumpkin)50 ग्राम ऐसे ही डालें। कभी सफ़ेद पेठा (ashgurd) 30 ग्राम कद्दूकस करके डालें। ऐसे ही ज़ूकीनी 50 ग्राम डालें।कद्दूकस करके डालें।कभी काजू बादाम अखरोट मूँगफली भिगोए हुए पीस कर मिलाएँ। 

लाल, हरा, पीला शिमला मिर्च 1/4 हिस्सा हर एक का मिलाएँ। लें। बिना नींबू और नमक के लें। स्वाद के लिए नारियल और herbs मिलाएँ।

रात के खाने में इस अनुपात से खाना खाएँ 2 कटोरी सब्ज़ी के साथ 1कटोरी चावल या 1रोटी लेएक बार पका हुआ खाना रात को 7 बजे से पहले लें।

6. एक नियम हमेशा याद रखें ठोस(solid) खाने को चबा कर तरल (liquid) बना कर खाएँ। तरल  को मुँह में घूँट घूँट पीएँ। खाना ज़मीन पर बैठ कर खाएँ। खाते वक़्त ना तो बात करें और ना ही TV और mobile को देखें।ठोस  भोजन के तुरंत बाद या बीच बीच में जूस या पानी ना लें। भोजन हो जाने के एक घंटे बाद तरल पदार्थ ले सकते हैं।

हफ़्ते में एक दिन उपवास करें। शाम तक केवल पानी लें, प्यास लगे तो ही पीएँ। शाम 5 बजे नारियल पानी और रात 8 बजे सलाद लें।

7. उपवास के अगले दिन किसी प्राकृतिक चिकित्सक के देख रेख में टोना लें। जिससे आँत की प्रदाह को शांत किया जा सके। एनिमा किट मँगा लें। यह किट ऑनलाइन मिल जाएगा। इससे 200ml पानी गुदाद्वार से अंदर डालें और प्रेशर आने पर मल त्याग करें। ऐसा दिन में दो बार करना है अगले 21 दिनों के लिए। ये करना है ताकि शरीर में मोजुद विषाणु निष्कासित हो जाये। इसके बाद हफ़्ते में केवल एक बार लेना है उपवास के अगले दिन। टोना का फ़ायदा तभी होगा जब आहार शुद्धि करेंगे।

धन्यवाद।

रूबी, 

प्राकृतिक जीवनशैली प्रशिक्षिका व मार्गदर्शिका (Nature Cure Guide & Educator)



12:10 PM | 06-07-2020

Namaste!

Thanks for sharing your query with us. Enlarged tummy could be gue digestive issues and gas formation. Gastric problems occur due to unnatural lifestyle choices (wrong food habits, lack of rest, stress, etc.), there is improper digestion of food and accumulation of toxins. Nature Cure identifies the root cause of most diseases as TOXAEMIA - accumulation of un-eliminated toxins within the body.  This toxic overload may affect different organs in different individuals and hence the variation in symptoms and diseases. This toxic overload often leads to health issues like gastric problems and these can be reversed by adopting a natural lifestyle.

You can explore our Nature-Nurtures Program that helps you in making the transition, step by step. Our Natural Health Coach will look into your daily routine in a comprehensive way and give you an action plan. She/he will guide you on a diet, sleep, exercise, stress to correct your existing routine & make it in line with Natural Laws.

We would also like to guide you to real-life natural healing stories of people who cured digestive issues health, simply & naturally.

Wishing you good health!

Team Wellcure


Scan QR code to download Wellcure App
Wellcure
'Come-In-Unity' Plan











Whoops, looks like something went wrong.