Loading...

Q&A
12:55 PM | 08-07-2020

From the last week , I'm feeling very tired and level of energy is very low. Feeling to sleep all time. Please tell me the reason and what should I do?


The answers posted here are for educational purposes only. They cannot be considered as replacement for a medical 'advice’ or ‘prescription’. ...The question asked by users depict their general situation, illness, or symptoms, but do not contain enough facts to depict their complete medical background. Accordingly, the answers provide general guidance only. They are not to be interpreted as diagnosis of health issues or specific treatment recommendations. Any specific changes by users, in medication, food & lifestyle, must be done through a real-life personal consultation with a licensed health practitioner. The views expressed by the users here are their personal views and Wellcure claims no responsibility for them.

Read more
Post as Anonymous User
3 Answers

01:07 PM | 09-07-2020

Hello Rajvinder,

Feeling tired, sleeping, lack of energy may be due to the accumulation of toxins and lack of proper nutrition to the body. Deficiency of hemoglobin may also result in a feeling of weakness. A change in dietary habits and lifestyle will help you to lead a healthy life.

Diet to follow- 

  • Start the day with 3 to 4 glasses of warm water in the morning. This will help to flush the toxins out of the body. 
  • Drink Vitamin C rich drinks like lemon juice or orange juice or amla juice as they are rich in antioxidants. 
  • Eat a bowl of sprouts in your breakfast.
  • Drink freshly prepared homemade fruit juices like beetroot juice, pomegranate juice, etc.
  • Drink coconut water. 
  • Have fresh fruits and vegetables. 
  • Drink plenty of water throughout the day. 

Yoga 

Yoga is very important for a healthy body and mind.

  • Do 12 sets of suryanamaskar daily. 
  • Perform pranayam regularly, specially anulom-vilom and kapalbhati pranayam. 
  • Do paschimottan asana, gomukha asana, trikona asana and padahasta asana. 

Sleep

Sleeping is important to relieve the stress which may also lead to weakness and fatigue. Hence, take proper sleep of at least 7-8hours daily. Sleep early at night and also wake up early in the morning.

Thank you 



12:58 PM | 09-07-2020

Hello Rajvinder, 

Due to continuous exposure to complex carbohydrates, you are facing issues. Now, we make sure you get your stomach a relief. Once you get into the habit of light food and light type of food will bring your body to homeostasis. Even getting a good amount of water supply through fruits and vegetables is important to keep your fluid and energy high. 

If your body is getting the right type of food and adequate minerals it will regain its energy and health soon.

The main thing here is, it should be about everything, food, meditation, sleep, and exercise which amalgamate for good health.

Eat:

The first thing in the morning is to start your day with something light in nature. Easy to digest is what your breakfast should be because they are the kind of nutrients that get absorbed easily. Even the early morning ritual should include consumption of two-three glasses of warm water will help in flushing out all the toxins.

The ideal diet would be to depend on fruits and raw vegetable intake for at least one month and refrain from something oil-based.

  • Potassium and sodium-rich diet, this helps in giving a good number of electrolyte. Potassium-rich sources that are easily available are bananas, potatoes, walnuts, coconut water, green leafy vegetable juices, etc.
  • In the case of this episode of low blood pressure or feeling dizzy, have green leafy vegetable juice or coconut water will help in raising blood pressure.

​​Exercise:

  • Pranayam helps in detoxifying the body. Practicing it early morning in an area that has good sunlight will help in improving blood circulation.
  • Suryanamaskar, daily 12 sets will help in increasing the blood circulation of your body.

Meditation:

In any kind of disease, stress comes complementary to it. But with our assurance and positive attitude, we can treat anything. The best thing to start with is breathing mindfully before sleeping with the help of music to stay positive. In a room take a bowl of water and add two-three drops of orange or lavender essential oil.

Use a 15-minute relaxation technique before sleep by hearing a piece of soothing music and deep breathing will help in relaxing the mind.

A positive attitude will help you to deal with everything in life. Meditation practice will help your son to improve and fight any problem in the long run.

Sleep:

Sleeping for at least 7-8 hours is really helpful in dealing with any problem. Sleep is our body's natural response and helps the body to heal. Sleep relaxes the muscles and strengthens our body. During sleep, our body goes into a repair mechanism where it heals itself.

Hopefully, these suggestions will help you.

Thank you.



12:56 PM | 09-07-2020

हेलो,
कारण - पूरे दिन थकान और नींद से बोझिल महसूस करना पाचन क्रिया का स्वास्थ्य खराब होने का सूचक है आपके पाचन तंत्र को इस वक्त एलिमिनेशन ( निष्कासन) असिमिलेशन (हाजमा) दोनों में ही काफी ऊर्जा लगाना पड़ रहा है जिस वजह से आपके शरीर को ऊर्जा की कमी पूर्ति की कमी महसूस हो रही है इसके सपोर्ट के लिए आपको जीवन शैली में कुछ परिवर्तन करना आवश्यक है प्राकृतिक जीवन शैली में यह बहुत ही संस्था से ठीक हो सकता है।

समाधान - 1. चार भिंडी को लंबा काटकर एक गिलास पानी में डाल दें और सुबह खाली पेट नेचुरल मोशन होने से पहले उसको पी लें। पीते वक्त इस बात का ध्यान रखें कि पानी को मुंह में रख रख केपीए।2. सूर्य की रोशनी में 20 मिनट का स्नान सूर्य की रोशनी से करें 5 मिनट सामने 5 मिनट पीछे 5 मिनट दाएं 5 मिनट बाएं भाग में धूप लगाएं। धूप लेट कर लेना चाहिए धूप की रोशनी लेते वक्त सर और आपको किसी सूती कपड़े से ढक ले। सूर्य नारी मंद होने पर  इन्फेक्शन अधिक होता है अतः आप जब भी सोए अपना दायां भाग ऊपर करके सोए। 

3. प्रतिदिन अपने पेट पर खाने से 1 घंटे पहले या खाना खाने के 2 घंटे बाद गीले मोटे तौलिए को लपेटे एक तौलिया गिला करके उसको निचोड़ लें और हूं उस तौलिए को 20 मिनट तक अपने पेट पर लपेटकर रखें ऐसा करने से आपका पाचन तंत्र दुरुस्त होगा।

4. हर 3 घंटे में लंबा गहरा श्वास अंदर लें उसको थोड़ी देर रोकें और फिर सांस को खाली करें। खाली करने के बाद फिर से रुके और फिर लंबा गहरा सांस ले। यह एक चक्र है ऐसा दिन में 10 चक्र करें केवल एक शर्त का पालन करें जब आप लंबा गहरा सांस ले रहे हैं तो अपनी रीढ़ की हड्डी को सीधा रखें ऐसा करने से आपके शरीर में ऑक्सीजन की मात्रा का बढ़ेगी और ऑक्सीजन का संचार सुचारू रूप से हो पाएगा।

5.सुबह खीरा 1/2 भाग धनिया पत्ती (10 ग्राम) पीस लें, 100 ml पानी मिला कर पीएँ। यह juice आ कई प्रकार के ले सकते हैं। पेठे (ashguard ) का जूस लें और कुछ नहीं लेना है। नारियल पानी भी ले सकते हैं। पालक  पत्ते धो कर पीस कर 100ml पानी डाल पीएँ। दुब घास 25 ग्राम पीस कर छान कर 100 ml पानी में मिला कर पीएँ। कच्चे सब्ज़ी का जूस आपका मुख्य भोजन है। 2 घंटे बाद फल नाश्ते में लेना है। 

फल को चबा कर खाएँ। इसका juice ना लें। फल सूखे फल नाश्ते में लें।

दोपहर के खाने में सलाद नट्स और अंकुरित अनाज के साथ  सलाद में हरे पत्तेदार सब्ज़ी को डालें और नारियल पीस कर मिलाएँ। कच्चा पपीता 50 ग्राम कद्दूकस करके डालें। कभी सीताफल ( yellow pumpkin)50 ग्राम ऐसे ही डालें। कभी सफ़ेद पेठा (ashgurd) 30 ग्राम कद्दूकस करके डालें। ऐसे ही ज़ूकीनी 50 ग्राम डालें।कद्दूकस करके डालें।कभी काजू बादाम अखरोट मूँगफली भिगोए हुए पीस कर मिलाएँ। 

लाल, हरा, पीला शिमला मिर्च 1/4 हिस्सा हर एक का मिलाएँ। लें। बिना नींबू और नमक के लें। स्वाद के लिए नारियल और herbs मिलाएँ।

रात के खाने में इस अनुपात से खाना खाएँ 2 कटोरी सब्ज़ी के साथ 1कटोरी चावल या 1रोटी ले। एक बार पका हुआ खाना रात को 7 बजे से पहले लें।

6. एक नियम हमेशा याद रखें ठोस(solid) खाने को चबा कर तरल (liquid) बना कर खाएँ। तरल  को मुँह में घूँट घूँट पीएँ। खाना ज़मीन पर बैठ कर खाएँ। खाते वक़्त ना तो बात करें और ना ही TV और mobile को देखें।ठोस  भोजन के तुरंत बाद या बीच बीच में जूस या पानी ना लें। भोजन हो जाने के एक घंटे बाद तरल पदार्थ ले सकते हैं।

हफ़्ते में एक दिन उपवास करें। शाम तक केवल पानी लें, प्यास लगे तो ही पीएँ। शाम 5 बजे नारियल पानी और रात 8 बजे सलाद लें।

7. उपवास के अगले दिन किसी प्राकृतिक चिकित्सक के देख रेख में टोना लें। जिससे आँत की प्रदाह को शांत किया जा सके। एनिमा किट मँगा लें। यह किट ऑनलाइन मिल जाएगा। इससे 200ml पानी गुदाद्वार से अंदर डालें और प्रेशर आने पर मल त्याग करें। ऐसा दिन में दो बार करना है अगले 21 दिनों के लिए। ये करना है ताकि शरीर में मोजुद विषाणु निष्कासित हो जाये। इसके बाद हफ़्ते में केवल एक बार लेना है उपवास के अगले दिन। टोना का फ़ायदा तभी होगा जब आहार शुद्धि करेंगे।

धन्यवाद।

रूबी, 

प्राकृतिक जीवनशैली प्रशिक्षिका व मार्गदर्शिका (Nature Cure Guide & Educator)


Scan QR code to download Wellcure App
Wellcure
'Come-In-Unity' Plan











Whoops, looks like something went wrong.