Q&A
10:09 AM | 14-10-2020

Which fruit, vegetable, grain should be avoided in hypothyroidism. I'm 31 yr old female and have many health issues.


The answers posted here are for educational purposes only. They cannot be considered as replacement for a medical 'advice’ or ‘prescription’. ...The question asked by users depict their general situation, illness, or symptoms, but do not contain enough facts to depict their complete medical background. Accordingly, the answers provide general guidance only. They are not to be interpreted as diagnosis of health issues or specific treatment recommendations. Any specific changes by users, in medication, food & lifestyle, must be done through a real-life personal consultation with a licensed health practitioner. The views expressed by the users here are their personal views and Wellcure claims no responsibility for them.

Read more
Post as Anonymous User
3 Answers

11:36 AM | 15-10-2020

Hello Pihuu,

Hypothyroidism is a lifestyle disorder and many people are suffering from this due to an improper lifestyle and wrong eating habits. In this, hormonal balance gets disturbed which lowers the metabolism and leads to other health issues like constipation, no hunger, fatigue, obesity, anaemia etc. Due to lower metabolism, nutrients are not absorbed properly which further leads to other health problems. Since it is a lifestyle disorder, lifestyle and eating habits are needed to be changed.

Reasons for thyroid:

  • Genetic factors. 
  • Environmental factors. 
  • Obesity. 
  • Lack of physical activity. 
  • Stress 
  • Wrong eating habits. 
  • Incorrect sleeping pattern. 

Diet:

  • Eat only plant-based natural raw foods. 
  • Eat fresh fruits like banana, pomegranate, avocado. 
  • Eat fresh green leafy vegetables like spinach, coriander. 
  • Eat salads, steamed sprouts, nuts.
  • Avoid dairy products and animal foods. 
  • Avoid tea and coffee. 
  • Avoid carbonated drinks. 
  • Avoid processed and packaged foods. 
  • Eat whole grains like barley, millets, oats.
  • Drink coconut water. 

Physical activity:

  • Do suryanamaskar daily. 
  • Do gomukha asana, paschimottan asana, padahasta asana, garuda asana daily.
  • Perform pranayam like bhramri pranayam and ujjayi pranayam for benefitting thyroid gland.

Sleep:

Sleeping pattern and quality greatly affects the circadian rhythm and in turn the hormonal balance. So, take a deep sleep of good quality for 77-8 hours daily.  Sleep early at night at around 10 pm and also wake up early in the morning at around 6 am. 

Thank you



02:31 PM | 15-10-2020

हेलो,
कारण -हाइपोथायरायडिज्म होने का कारण को समझ लें। पिट्यूटरी ग्रंथि आपके शरीर में हो रहे हार्मोन के उत्पादन को नियंत्रित करती है। इसका काम थायरॉयड उत्तेजक हार्मोन यानि टीएसएच बनाना होता है, जो थायरॉयड ग्रंथि को यह बताती है कि कितनी मात्रा में थायरॉयड हार्मोन्स (जिन्हें टी3 और टी4 कहा जाता है) बनाने हैं। अगर आपका टीएसएच स्तर असामान्य रूप से बढ़ रहा है, तो  हाइपोथायरायडिज्म से प्रभावित हैं। प्राकृतिक जीवन शैली को अपनाकर इसे पूर्ण रूप से ठीक किया जा सकता है इसको ठीक होने में 8 से 10 महीने का समय लग सकता है।

समाधान - शारीरिक और मानसिक क्रिया में संतुलन बनाए। दौड़ लगाएँ।सुप्त मत्स्येन्द्रासन, धनुरासन

पश्चिमोत्तानासन, अर्धमत्स्येन्द्रासन, शवासन करें।

10% कच्चे हरे पत्ते और सब्ज़ी का जूस बिना नमक निम्बू के लेना है।30% कच्चे सब्ज़ी का सलाद बिना नमक निम्बू के लेना है।10% ताज़ा नारियल सलाद में मिला कर लेना है। 20% फल को लें। पके हुए खाने को केवल एक बार खाएँ नमक भी केवल एक बार पके हुए खाने लें। पके हुए खाने में सब्ज़ी भाँप में पके हों और तेल घी रहित होना चाहिए सब्ज़ी की मात्रा 20% और millet या अनाज की मात्रा 10% हो।  वर्षों से जमी टॉक्सिन को निकालना ज़रूरी है। किसी प्राकृतिक चिकित्सक के देख रेख में पहली बार लें। एनिमा किट मँगा लें । यह किट ऑनलाइन मिल जाएगा। इससे 100ml पानी गुदाद्वार से अंदर डालें और प्रेशर आने पर मल त्याग करें। ऐसा दिन में एक बार करना है अगले 21 दिनों के लिए। ये करना है ताकि शरीर में उपस्थित विषाणु निष्कासित हो जाये।

शरीर पाँच तत्व से बना हुआ है प्रकृति की ही तरह।

आकाश, वायु, अग्नि, जल, पृथ्वी ये पाँच तत्व आपके शरीर में रोज़ खुराक की तरह जाना चाहिए।

पृथ्वी और शरीर का बनावट एक जैसा 70% पानी से भरा हुआ। पानी जो कि फल, सब्ज़ी से मिलता है।

आपका मुख्य आहार ये हुआ तो बहुत अच्छा हो जाएगा।

1 आकाश तत्व- एक खाने से दूसरे खाने के बीच में विराम दें। रोज़ाना 15 घंटे का उपवास करें जैसे रात का भोजन 7 बजे तक कर लिया और सुबह का नाश्ता 9 बजे लें।

2 वायु तत्व- लंबा गहरा स्वाँस अंदर भरें और रुकें। इसके बाद फिर पूरे तरीक़े से स्वाँस को ख़ाली करें, रुकें, फिर स्वाँस अंदर भरें। ये एक चक्र हुआ। ऐसे 10 चक्र एक समय पर करना है। ये दिन में चार बार करें। 

3 अग्नि तत्व- सूर्य उदय के एक घंटे बाद या सूर्य अस्त के एक घंटे पहले का धूप शरीर को ज़रूर लगाएँ। सर और आँख को किसी सूती कपड़े से ढक कर। जब भी लेंटे अपना दायाँ भाग ऊपर करके लेटें ताकि आपकी सूर्य नाड़ी सक्रिय रहे।

4 जल तत्व- खाना खाने से एक घंटे पहले नाभि के ऊपर गीला सूती कपड़ा लपेट कर रखें या खाना के 2 घंटे बाद भी ऐसा कर सकते हैं।

नीम के पत्ते का पेस्ट अपने नाभि पर रखें। 20मिनट तक रख कर साफ़ कर लें। मेरुदंड स्नान के लिए अगर टब ना हो तो एक मोटा तौलिया गीला कर लें बिना निचोरे उसको बिछा लें और अपने मेरुदंड को उस स्थान पर रखें।

मेरुदंड (स्पाइन) सीधा करके बैठें। हमेशा इस बात ध्यान रखें और हफ़्ते में 3 दिन मेरुदंड का स्नान करें। 

5 पृथ्वी- सब्ज़ी, सलाद, फल, मेवे, आपका मुख्य आहार होगा। आप सुबह खीरे का जूस लें, खीरा 1/2 भाग धनिया पत्ती (10 ग्राम) पीस लें, 100 ml पानी मिला कर पीएँ। यह juice आप कई प्रकार के ले सकते हैं। पेठे (ashguard ) का जूस लें और कुछ नहीं लेना है। नारियल पानी भी ले सकते हैं। बेल का पत्ता 8 से 10 पीस कर I100ml पानी में मिला कर पीएँ। दुब घास 25 ग्राम पीस कर छान कर 100 ml पानी में मिला कर पीएँ। सब्ज़ी का जूस आपका मुख्य भोजन है। जो की आपको ज़बर्दस्त फ़ायदा करेगा। 2 घंटे बाद फल नाश्ते में लेना है। फल को चबा कर खाएँ। इसका juice ना लें।

दोपहर में 12 बजे फिर से कच्चे सब्ज़ी जूस को लें। इसके एक घंटे बाद खाना खाएँ।शाम को 5 बजे सफ़ेद पेठे (ashguard) 20 ग्राम पीस कर 100 ml पानी मिला। 2 घंटे तक कुछ ना लें। रात के सलाद में हरे पत्तेदार सब्ज़ी को डाले। ताज़ा नारियल मिलाएँ। रात का खाना 8 बजे खाएँ। लाल, हरा, पीला शिमला मिर्च 1/4 हिस्सा हर एक का मिलाएँ। इसे बिना नमक के खाएँ, बहुत फ़ायदा होगा। पृथ्वी तत्व को शरीर में डालने का एक नियम हमेशा याद रखें ठोस (solid) खाने को चबा कर तरल (liquid) बना कर खाएँ। तरल (liquid) को मुँह में घूँट घूँट पीएँ। खाना ज़मीन पर बैठ कर खाएँ। खाते वक़्त ना तो बात करें और ना ही TV और mobile को देखें। ठोस (solid) भोजन के तुरंत बाद या बीच बीच में जूस या पानी ना लें। भोजन हो जाने के एक घंटे बाद तरल पदार्थ (liquid) ले सकते हैं। ऐसा करने से हाज़मा कभी ख़राब नहीं होगा। जानवरों से उपलब्ध होने वाले भोजन छोड़ने से ज़्यादा लाभ होगा।

तेल, मसाला, और गेहूँ से परहेज़ करेंगे तो अच्छा होगा। 

धन्यवाद।

रूबी, 

प्राकृतिक जीवनशैली प्रशिक्षिका व मार्गदर्शिका (Nature Cure Guide & Educator)



11:42 AM | 14-10-2020

Dear Pihuu,

Thanks for sharing your query with us. Please know that as per nature cure, toxic overload is the root cause of all diseases. Toxins are a byproduct of metabolism and also get added due to wrong lifestyle choices. Nature has equipped us with the measures of eliminating the toxins on a regular basis - through breathing, stool, urine, sweat, mucus depositions in nose, eyes and genitals etc. However, when there is insufficient or faulty elimination, there is a toxic overload in the body. Toxic overload often leads to hormonal imbalance there are issues like thyroid (hypo/hyper). As per nature cure, one can reverse this state of imbalance by getting back in sync with the natural laws of living. 

Adopting a natural lifestyle will help you in reclaiming your health. You can explore our Natural Health Coaching Program that helps you in making the transition, step by step. We will guide you on diet, sleep, exercise, stress etc. to correct your existing routine & make it in line with Natural Laws.   

We would also like to guide you to the following resources to understand more about thyroid & Nature Cure.

  1. Blog - Hypo or hyper thyroid - Correct imbalance naturally

  2. Real-life natural healing stories of people who cured thyroid issues just by following Natural Laws.  

Wishing you good health!

Team Wellcure


Scan QR code to download Wellcure App
Wellcure
'Come-In-Unity' Plan