Loading...

Welcome to Wellcure: We help you live a disease free and medicine free life

Q&A
10:41 AM | 12-11-2020

I am suffering from frozen shoulder,i tried many exercises,help me!


The answers posted here are for educational purposes only. They cannot be considered as replacement for a medical 'advice’ or ‘prescription’. ...The question asked by users depict their general situation, illness, or symptoms, but do not contain enough facts to depict their complete medical background. Accordingly, the answers provide general guidance only. They are not to be interpreted as diagnosis of health issues or specific treatment recommendations. Any specific changes by users, in medication, food & lifestyle, must be done through a real-life personal consultation with a licensed health practitioner. The views expressed by the users here are their personal views and Wellcure claims no responsibility for them.

Read more
Post as Anonymous User
2 Answers

11:08 AM | 13-11-2020

Hello Shaila,

Frozen shoulder is the common name for the adhesive capsulitis, which is a shoulder condition that limits your range of motion. When the tissues in your shoulder joint become thicker and tighter, scar tissue develops overtime. As a result, your shoulder joint doesn't have enough space to.rotate properly. Common symptoms include pain, swelling and stiffness. It is more common between the age of 40 to 60 years.
Here are some home remedies that will help you to manage frozen shoulder.

Pendulum stretch 

Stand up and relax your shoulders and let the affected arm hang down. Swing in the arm gently in circular motions for about 10 times in each direction. Slowly increase your speed everyday and add more repetitions of the exercise. You can also add a little weight on the hand to promote healing.

Armpit stretch 

Place your affected arm on a shelf of the height till your chest region. Slightly bend and strengthen your knees to stretch the armpit. Try bending your knees deeper as your shoulder heels.

Towel stretch 

Take a small towel and hold one side of it. Bring the towel towards your back and grab the opposite end with your other hand. Pull one arm upward and the other downwards. Do this exercise everyday for 10 - 20 minutes.

Finger walk

Stand in front of a wall with your fingertips placed on the wall at your waist level. Keep your arm slightly bent. Slowly and steadily place your fingers upwards on the wall as much as you can by not providing too much strain on your shoulder. Perform this exercise 10 - 20 times a day.

Cross body reach

Use your unaffected arm and with it lift your affected arm from the elbow. 
Bring the affected arm to cross your body and stretch the arm comfortably 15 - 20 seconds. Do this exercise for 10 - 20 minutes every day. Stretch the arm more and more daily.

Diet

A correct diet is also important to prevent the accumulation of toxins in the body. So, have only plant-based natural foods in your diet and include fresh, seasonal and locally available fruits and vegetables. 

Thank you 



11:29 AM | 16-11-2020

हेलो,
कारण - कंधे की अकड़न (Frozen shoulder/ फ्रोजन शोल्डर) या कंधे के जोड़ में दर्द की समस्या को एडहेसिव कैप्सूलाइटिस (Adheshive Capsulitis) भी कहा जाता है। इस समस्या में कंधे के जोड़ के आसपास के ऊतकों में सूजन हो जाती है और वो अकड़ जाते हैं, जिससे कंधे को हिलाने में परेशानी और दर्द होता है। कंधे की अकड़न की समस्या आपके एक या दोनों कंधों को प्रभावित कर सकती है। इसका मूल कारण खराब हाजमा के वजह से अमल की अधिकता है।


समाधान- 1. दीवार की ओर चेहरा करके खड़े हो जाएं। प्रभावित हाथ की उंगलियों को कमर के पास से दीवार पर ऊपर की ओर बढ़ाएं। 

इस दौरान धीरे-धीरे उंगलियों को दीवार पर ऐसे घुमाएं जैसे मकड़ी चलती है। उंगलियों को ऊपर तक ले जाने के बाद वापस नीचे लाएं। 

इस एक्सरसाइज में कंधे की मांसपेशियों की जगह केवल हांथों की उंगलियां काम करनी चाहिए। 

इस अभ्यास को 10 से 20 बार करें।

2.एक गर्म सेक  15 मिनट के लिए दिन में कई बार अपने कंधे पर रखें, फिर 15 मिनट के लिए दिन में कई बार कंधे पर एक normal water से सके लगाएं। फिर 20 मिनट के लिए खीरे और नीम के पत्तों का पेस्ट लगाएं।

 कंधे को सहारा देने के लिए एक गोफन (shoulder sling) का उपयोग करें। इससे आपकी परेशानी कम हो सकती है। अपनी पीठ के पीछे करीब तीन फुट लंबे तौलिए के एक छोर को पकड़ें और अपने दूसरे हाथ से इसके दूसरे छोर को पकड़ें।  

भुजा का प्रयोग करते हुए, बिना दर्द वाले हाथ को ऊपर की ओर खींचें। इससे फ्रोजन शोल्डर वाला हाथ अपने आप ही ऊपर की ओर खिंचने लगेगा। 

इसके बाद प्रभावित हाथ से टॉवल को वापस नीचे खींचें और इस प्रक्रिया को 10 से 20 बार करें।

3. सूर्य के रोशनी शरीर में लेट कर लगाएं। सिर और आंख को सूती कपड़ा से ढक लें। ऐसा 20 मिनट करें। सूर्य उदय के एक घंटे बाद का धूप या सूर्य अस्त के एक घंटे 1 का धूप बहुत अच्छा होता मगर धूप यदि सिर और आंख को ढक कर लें तो किसी भी वक़्त धूप ले सकते हैं।

4. हर 3 घंटे में लंबा गहरा श्वास अंदर लें उसको थोड़ी देर रोकें और फिर सांस को खाली करें। खाली करने के बाद फिर से रुके और फिर लंबा गहरा सांस ले। यह एक चक्र है ऐसा दिन में 10 चक्र करें केवल एक शर्त का पालन करें जब आप लंबा गहरा सांस ले रहे हैं तो अपनी रीढ़ की हड्डी को सीधा रखें ऐसा करने से आपके शरीर में ऑक्सीजन की मात्रा का बढ़ेगी और ऑक्सीजन का संचार सुचारू रूप से हो पाएगा।

5. नाश्ते में केवल मौसम के फल केवल एक प्रकार के लें।

 दोपहर में सलाद बिना नमक नीबू के लें।

सलाद को अकेले पूर्ण खुराक के रूप में लें। उसके साथ या बाद में पका हुए भोजन को ग्रहण ना करें। सलाद का पाचन समय 5 घंटा है तो पांच घंटे के बाद रात का भोजन लें।

रात के भोजन में 70% सब्जी डालें और 30% अनाज या millet लें। पका हुआ भोजन 35 साल से ऊपर के सभी व्यक्ति को दिन में केवल एक बार पका हुआ भोजन का सेवन करना चाहिए। यदि स्वास्थ में किसी प्रकार का कमी हो तो एक वक़्त का पका हुआ भोजन भी नहीं लेना उत्तम होता है। नारियल पानी भी ले सकते हैं। पालक  पत्ते धो कर पीस कर 100ml पानी डाल पीएँ। दुब घास 25 ग्राम पीस कर छान कर 100 ml पानी में मिला कर पीएँ। कच्चे सब्ज़ी का जूस आपका मुख्य भोजन है। 2 घंटे बाद फल नाश्ते में लेना है। 

फल को चबा कर खाएँ। इसका juice ना लें। फल सूखे फल नाश्ते में लें।

दोपहर के खाने में सलाद नट्स और अंकुरित अनाज के साथ  सलाद में हरे पत्तेदार सब्ज़ी को डालें और नारियल पीस कर मिलाएँ। कच्चा पपीता 50 ग्राम कद्दूकस करके डालें। कभी सीताफल ( yellow pumpkin)50 ग्राम ऐसे ही डालें। कभी सफ़ेद पेठा (ashgurd) 30 ग्राम कद्दूकस करके डालें। ऐसे ही ज़ूकीनी 50 ग्राम डालें।कद्दूकस करके डालें।कभी काजू बादाम अखरोट मूँगफली भिगोए हुए पीस कर मिलाएँ। 

लाल, हरा, पीला शिमला मिर्च 1/4 हिस्सा हर एक का मिलाएँ। लें। बिना नींबू और नमक के लें। स्वाद के लिए नारियल और herbs मिलाएँ।

रात के खाने में इस अनुपात से खाना खाएँ 2 कटोरी सब्ज़ी के साथ 1कटोरी चावल या 1रोटी ले।

 ये जीवन शैली में अनिवार्य रूप से उतारने से स्वास्थ उत्तम होता है।

5. पानी को या जूस को मुंह में घूंट भर कर रखे फिर घूंट को अंदर लें इससे आपका मुंह का लार जूस में मिल कर सुपाच्य प्रोटीन का निर्माण करता है जो कि शरीर की जरूरत है।

फल या सलाद को खूब चबा कर खाएं। ऐसा करने से शरीर 

को इन के पोषक तत्व ठीक प्रकार से मिल पाते हैं। फल और सलाद ठीक प्रकार से चबाने से हमारा लार उसके साथ मिलकर के कई विटामिन और कई मिनरल्स खुद से क्रिएट करता है जो कि हमारे शरीर का अहम घटक है।

6. हफ्ते में एक दिन उपवास करने से शरीर को मौका मिल जाता है स्वता ही पूरे शरीर की आंतरिक सफाई का जो कि शरीर को स्वस्थ रखने के लिए अहम भूमिका निभाता है।

उपवास का मतलब यह है कि आपका 2 बार का भोजन ना लें जैसे सुबह का नाश्ता दोपहर का खाना ना लेकर सीधा शाम को ले या हो सके तो पूरे दिन का उपवास रखें शाम को भी कुछ ना ले। 

7. उपवास के अगले दिन किसी प्राकृतिक चिकित्सक के देख रेख में टोना लें। जिससे आँत की प्रदाह को शांत किया जा सके। एनिमा किट मँगा लें। यह किट ऑनलाइन मिल जाएगा। इससे 200ml पानी गुदाद्वार से अंदर डालें और प्रेशर आने पर मल त्याग करें। ऐसा दिन में दो बार करना है अगले 21 दिनों के लिए। ये करना है ताकि शरीर में मोजुद विषाणु निष्कासित हो जाये। इसके बाद हफ़्ते में केवल एक बार लेना है उपवास के अगले दिन। टोना का फ़ायदा तभी होगा जब आहार शुद्धि करेंगे। ऐसा करने से दर्द में तुरंत आराम होगा। दर्द की स्थिति में एनिमा कई बार लिया जा सकता है।

धन्यवाद।

रूबी, 

प्राकृतिक जीवनशैली प्रशिक्षिका व मार्गदर्शिका (Nature Cure Guide & Educator)


Scan QR code to download Wellcure App
Wellcure
'Come-In-Unity' Plan