Loading...

Q&A
02:29 PM | 18-01-2021

How to cure Hepatitis B?


The answers posted here are for educational purposes only. They cannot be considered as replacement for a medical 'advice’ or ‘prescription’. ...The question asked by users depict their general situation, illness, or symptoms, but do not contain enough facts to depict their complete medical background. Accordingly, the answers provide general guidance only. They are not to be interpreted as diagnosis of health issues or specific treatment recommendations. Any specific changes by users, in medication, food & lifestyle, must be done through a real-life personal consultation with a licensed health practitioner. The views expressed by the users here are their personal views and Wellcure claims no responsibility for them.

Read more
Post as Anonymous User
2 Answers

03:15 PM | 19-01-2021

Hello Yaw bentil,

Hepatitis B is caused by the hepatitis B virus (HBV). The virus is transferred from person to person through blood, semen or other body fluids. It doesn't spread through sneezing or coughing.
Common ways by which HBV can spread are 

  • Sharing needles
  • Sexual contact 
  • Accidental needle sticks 
  • Mother to child.

This infection can be short lived or it can be long lasting. Acute hepatitis lasts in less than six months whereas chronic hepatitis lasts for about more than six months. Jaundice, fever, fatigue, body pain, joint pain, etc are all the symptoms of hepatitis B.

A good diet and habits like yoga, regular meditation will help you to achieve a good health. 

Diet

Having correct diet and having food at correct time, both are very essential. A correct diet includes foods which get digested and absorbed easily in the body, so that the nutrients in the food are absorbed and used by the body properly. 

  • Start your day with a glass of water with a few drops of lemon in it. This will help to improve the metabolism. 
  • Eat only plant-based natural foods. 
  • Have a light breakfast. Eat sprouts and fruit juices in your breakfast. 
  • Eat soaked nuts, beans to get easily absorbable nutrients. 
  • Drink coconut water to maintain electrolyte balance.
  • Use cold-pressed oil for cooking or cook oil-free. 
  • Have whole grains like barley, millets, oats.

Foods to avoid- 

  • Avoid dairy products and animal foods as they are not suitable for the human digestive system and results in indigestion issues along with the accumulation of toxins in the body.
  • Avoid all junk foods.
  • Avoid oily, spicy, processed, and packaged food items. 
  • Say no to alcohol and smoking.
  • Avoid tea and coffee. 
  • Say no to carbonated drinks. 

Yoga

Perfmong yoga and other stretching exercises greatly helps to relieve body pain and also helps to improve the digestion. Hence, practice yoga regularly for atleast 20 min. 

  • Do suryanamaskar daily.
  • Perform paschimottan asana and padahasta asana. 
  • Do deep breathing exercises regularly like anulom-vilom and bhastrika pranayam. 
  • Take early morning sunrays daily for atleast 15-20min. 

Meditation 

Meditation has the power to heal everything. It generates positive vibes and energy which helps to cure every tissue and cell of our body.

Practice meditation regularly for about 30min. 

You may also practice bhramri pranayam as it is also a form of meditation. 

Sleep

A correct sleeping pattern is also important as it helps to maintain the circadian rhythm and hence hormonal balances. Also, our body repairs the tissues and cells while we sleep. Hence, it is important to take a good sound sleep.

Take a proper quality sleep for atleast 7-8hours daily. Sleep early at night and also wake up early in the morning. 

Thank you 



01:08 PM | 25-01-2021

हेलो,
कारण - हेपाटाइटिस बी वायरस (HBV) के काऱण होने वाली एक संक्रामक बीमारी है जिसके कारण लीवर में सूजन और जलन पैदा होती है जिसे हेपाटाइटिस कहते हैं। प्राकृतिक चिकित्सा पद्धति के अनुसार जल के चिकित्सा बहुत ही प्रभावीी है।

जीवन शैली - 1. आकाश तत्व - एक खाने से दुसरे खाने के बीच में अंतराल (gap) रखें।

फल के बाद 3 घंटे, सलाद के बाद 5 घंटे, और पके हुए खाने के बाद 12 घंटे का (gap) रखें।

वायु तत्व - प्राणायाम करें, आसन करें। दौड़ लगाएँ।

अग्नि - सूर्य की रोशनी लें।

जल - अलग अलग तरीक़े का स्नान करें। मेरुदंड स्नान, हिप बाथ, गीले कपड़े की पट्टी से पेट की गले और सर की 20 मिनट के लिए सेक लगाए। 

पृथ्वी - कच्चे सब्ज़ी का जूस आपका मुख्य भोजन है। 2 घंटे बाद फल नाश्ते में लेना है। 

फल को चबा कर खाएँ। इसका juice ना लें। फल सूखे फल नाश्ते में लें।

दोपहर के खाने में सलाद नट्स और अंकुरित अनाज के साथ लें। सलाद में हरे पत्तेदार सब्ज़ी को डालें और नारियल पीस कर मिलाएँ। कच्चा पपीता 50 ग्राम कद्दूकस करके डालें। कभी सीताफल ( yellow pumpkin)50 ग्राम ऐसे ही डालें। कभी सफ़ेद पेठा (ashgurad) 30 ग्राम कद्दूकस करके डालें। ऐसे ही ज़ूकीनी 50 ग्राम डालें।कद्दूकस करके डालें।कभी काजू बादाम अखरोट मूँगफली भिगोए हुए पीस कर मिलाएँ। लाल, हरा, पीला शिमला मिर्च 1/4 हिस्सा हर एक का मिलाएँ। बिना नींबू और नमक के लें। स्वाद के लिए नारियल और herbs मिलाएँ।

रात के खाने में इस अनुपात से खाना खाएँ 2 कटोरी सब्ज़ी के साथ 1कटोरी चावल या 1रोटी लें। एक बार पका हुआ खाना रात को 7 बजे से पहले लें।ओ

सेंधा नमक केवल एक बार पके हुए खाने में लें। जानवरों से उपलब्ध होने वाले भोजन वर्जित हैं।

तेल, मसाला, और गेहूँ से परहेज़ करेंगे तो अच्छा होगा। चीनी के जगह गुड़ लें।

एक नियम हमेशा याद रखें ठोस(solid) खाने को चबा कर तरल (liquid) बना कर खाएँ। तरल  को मुँह में घूँट घूँट पीएँ। खाना ज़मीन पर बैठ कर खाएँ। खाते वक़्त ना तो बात करें और ना ही TV और mobile को देखें।ठोस  भोजन के तुरंत बाद या बीच बीच में जूस या पानी ना लें। भोजन हो जाने के एक घंटे बाद तरल पदार्थ  ले सकते हैं।

हफ़्ते में एक दिन उपवास करें। शाम तक केवल पानी लें, प्यास लगे तो ही पीएँ। शाम 5 बजे नारियल पानी और रात 8 बजे सलाद लें।

उपवास के अगले दिन किसी प्राकृतिक चिकित्सक के देख रेख में टोना लें। जिससे आँत की प्रदाह को शांत किया जा सके। एनिमा किट मँगा लें। यह किट ऑनलाइन मिल जाएगा। इससे 200ml पानी गुदाद्वार से अंदर डालें और प्रेशर आने पर मल त्याग करें। ऐसा दिन में दो बार करना है अगले 21 दिनों के लिए। ये करना है ताकि शरीर में मोजुद विषाणु निष्कासित हो जाये। इसके बाद हफ़्ते में केवल एक बार लेना है उपवास के अगले दिन। टोना का फ़ायदा तभी होगा जब आहार शुद्धि करेंगे।

धन्यवाद।

रूबी, 

प्राकृतिक जीवनशैली प्रशिक्षिका व मार्गदर्शिका (Nature Cure Guide & Educator)


Scan QR code to download Wellcure App
Wellcure
'Come-In-Unity' Plan











Whoops, looks like something went wrong.