Loading...

Q&A
11:10 AM | 21-01-2021

Hi. I'm 37 years old and I have dilated cardiomyopathy. 4 years ago my heart almost went back to normal size. Recently, I'm experiencing bad headaches, and behind the ear pain, and like pressure from my left jaw. What could this be? Thank you so much in advance.

The answers posted here are for educational purposes only. They cannot be considered as replacement for a medical 'advice’ or ‘prescription’. ...The question asked by users depict their general situation, illness, or symptoms, but do not contain enough facts to depict their complete medical background. Accordingly, the answers provide general guidance only. They are not to be interpreted as diagnosis of health issues or specific treatment recommendations. Any specific changes by users, in medication, food & lifestyle, must be done through a real-life personal consultation with a licensed health practitioner. The views expressed by the users here are their personal views and Wellcure claims no responsibility for them.

Read more
Post as Anonymous User
2 Answers

12:18 PM | 27-01-2021

हेलो,
कारण - शरीर के किसी भी हिस्से में दर्द  का कारण अम्ल की अधिकता है। पाचन तंत्र को स्वस्थ करके अम्ल की अधिकता को कम करें। शरीर में अम्ल की अधिकता कम होते ही शरीर के द्वारा चलाए गए शुद्धि अभियान खत्म हो जाता हैै। प्रकट हो रहे प्रतिक्रियाओं की समाप्ति हो जाती है।

समाधान -

1. सिर दर्द को दूर करने के लिए प्राकृतिक चिकित्सा पद्धति के सर पर सूती कपड़ा बाँध कर उसके ऊपर गुड़हल(hibiscus) के पत्ते का पेस्ट लगाएँ। 

पैरों को 20 मिनट के लिए सादे पानी से भरे किसी बाल्टी या टब में डूबो कर रखें।

कानों के दर्द में इससे आराम आ जाएगा।

सफेद पेठा का जूस छान कर 3 ड्रॉप दोनों कानों में डाल दें।

 मसूूड़ों के लिए आम के पत्ते कुछ इस तरीके से चबाकर अपनी उंगलियों की मदद से दांतो को साफ करें और मुंह में थोड़ी देर बात करके उसको कुल्ला करें। इसी प्रकार से अमरूद के पत्ते से भी कर सकते हैं। दूब घास का जूस रोज खाली पेट में चोरी मोशन के बाद पिए। दुख के जूस को मुंह में रख रख कर अच्छे से चारों तरफ मुंह में घूमा कर पिएंगे तो दर्द बिल्कुल ठीक हो जाएगा।

चार भिंडी को लंबा काटकर एक गिलास पानी में डाल दें और सुबह खाली पेट नेचुरल मोशन होने से पहले उसको पी लें। पीते वक्त इस बात का ध्यान रखें कि पानी को मुंह में रख रख केपीए।

2. सूर्य की रोशनी में 20 मिनट का स्नान सूर्य की रोशनी से करें 5 मिनट सामने 5 मिनट पीछे 5 मिनट दाएं 5 मिनट बाएं भाग में धूप लगाएं। धूप लेट कर लेना चाहिए धूप की रोशनी लेते वक्त सर और आपको किसी सूती कपड़े से ढक ले। सूर्य नारी मंद होने पर  इन्फेक्शन अधिक होता है अतः आप जब भी सोए अपना दायां भाग ऊपर करके सोए। 

3. प्रतिदिन अपने पेट पर खाने से 1 घंटे पहले या खाना खाने के 2 घंटे बाद गीले मोटे तौलिए को लपेटे एक तौलिया गिला करके उसको निचोड़ लें और हूं उस तौलिए को 20 मिनट तक अपने पेट पर लपेटकर रखें ऐसा करने से आपका पाचन तंत्र दुरुस्त होगा।

4. हर 3 घंटे में लंबा गहरा श्वास अंदर लें उसको थोड़ी देर रोकें और फिर सांस को खाली करें। खाली करने के बाद फिर से रुके और फिर लंबा गहरा सांस ले। यह एक चक्र है ऐसा दिन में 10 चक्र करें केवल एक शर्त का पालन करें जब आप लंबा गहरा सांस ले रहे हैं तो अपनी रीढ़ की हड्डी को सीधा रखें ऐसा करने से आपके शरीर में ऑक्सीजन की मात्रा का बढ़ेगी और ऑक्सीजन का संचार सुचारू रूप से हो पाएगा।

5.सुबह खीरा 1/2 भाग धनिया पत्ती (10 ग्राम) पीस लें, 100 ml पानी मिला कर पीएँ। यह juice आ कई प्रकार के ले सकते हैं। पेठे (ashguard ) का जूस लें और कुछ नहीं लेना है। नारियल पानी भी ले सकते हैं। पालक  पत्ते धो कर पीस कर 100ml पानी डाल पीएँ। दुब घास 25 ग्राम पीस कर छान कर 100 ml पानी में मिला कर पीएँ। कच्चे सब्ज़ी का जूस आपका मुख्य भोजन है। 2 घंटे बाद फल नाश्ते में लेना है। फल को चबा कर खाएँ। इसका juice ना लें। फल सूखे फल नाश्ते में लें।दोपहर के खाने में सलाद नट्स और अंकुरित अनाज के साथ  सलाद में हरे पत्तेदार सब्ज़ी को डालें और नारियल पीस कर मिलाएँ। कच्चा पपीता 50 ग्राम कद्दूकस करके डालें। कभी सीताफल ( yellow pumpkin)50 ग्राम ऐसे ही डालें। कभी सफ़ेद पेठा (ashgurd) 30 ग्राम कद्दूकस करके डालें। ऐसे ही ज़ूकीनी 50 ग्राम डालें।कद्दूकस करके डालें।कभी काजू बादाम अखरोट मूँगफली भिगोए हुए पीस कर मिलाएँ। 

लाल, हरा, पीला शिमला मिर्च 1/4 हिस्सा हर एक का मिलाएँ। लें। बिना नींबू और नमक के लें। स्वाद के लिए नारियल और herbs मिलाएँ।

रात के खाने में इस अनुपात से खाना खाएँ 2 कटोरी सब्ज़ी के साथ 1कटोरी चावल या 1रोटी लेएक बार पका हुआ खाना रात को 7 बजे से पहले लें।

6. एक नियम हमेशा याद रखें ठोस(solid) खाने को चबा कर तरल (liquid) बना कर खाएँ। तरल  को मुँह में घूँट घूँट पीएँ। खाना ज़मीन पर बैठ कर खाएँ। खाते वक़्त ना तो बात करें और ना ही TV और mobile को देखें।ठोस  भोजन के तुरंत बाद या बीच बीच में जूस या पानी ना लें। भोजन हो जाने के एक घंटे बाद तरल पदार्थ ले सकते हैं।

हफ़्ते में एक दिन उपवास करें। शाम तक केवल पानी लें, प्यास लगे तो ही पीएँ। शाम 5 बजे नारियल पानी और रात 8 बजे सलाद लें।

7. उपवास के अगले दिन किसी प्राकृतिक चिकित्सक के देख रेख में टोना लें। जिससे आँत की प्रदाह को शांत किया जा सके। एनिमा किट मँगा लें। यह किट ऑनलाइन मिल जाएगा। इससे 200ml पानी गुदाद्वार से अंदर डालें और प्रेशर आने पर मल त्याग करें। ऐसा दिन में दो बार करना है अगले 21 दिनों के लिए। ये करना है ताकि शरीर में मोजुद विषाणु निष्कासित हो जाये। इसके बाद हफ़्ते में केवल एक बार लेना है उपवास के अगले दिन। टोना का फ़ायदा तभी होगा जब आहार शुद्धि करेंगे।

 

धन्यवाद।

रूबी, 

प्राकृतिक जीवनशैली प्रशिक्षिका व मार्गदर्शिका (Nature Cure Guide & Educator)



12:07 PM | 27-01-2021

Hello User,

Cardiomyopathy is a disease of the heart muscles that makes it harder for your heart to pump the blood to the rest of the body. Its symptoms include breathlessness with exertion, swelling of the legs, ankles and feet, cough while lying down, fatigue.
The main types of cardiomyopathy include dilated hypertrophic, restrictive cardiomyopathy. 
Dilated cardiomyopathy is a condition in which the heart becomes enlarged and cannot pump blood effectively.
Ear pain, pressure over the jaw, headache can be the result of insufficient oxygen supply due to improper blood circulation. 
Here are some tips to follow- 

Diet

  • Start the day with a glass of warm water with a few drops of lemon juice in it. This will help to boost the metabolism in the morning. 
  • Eat sprouts and soaked raisins in the morning. 
  • Drink freshly prepared homemade fruit juices. 
  • Have while grains like barley, millets, oats, etc in place of refined grains. 
  • Use cold-pressed oil for cooking instead of refined oils. 
  • Eat brown rice in place of refined white rice.
  • Eat fresh fruits and green leafy vegetables.

Exercise 

Daily exercising is essential for good metabolism and for improved blood circulation. 

  • Start the day with a short morning walk of at least 30min. 
  • Do paschimottan asana, trikona asana, gomukha asana and padahasta asana. 
  • Perform pranayam regularly, specially anulom-vilom and kapalbhati pranayam. 

Sleep

Sleeping pattern is essential for maintaining circadian rhythm and hormonal balance. Hence, take proper sleep of at least 7-8hours daily. Sleep early at night and also wake up early in the morning. 

Thank you 


Scan QR code to download Wellcure App
Wellcure
'Come-In-Unity' Plan











Whoops, looks like something went wrong.