Loading...

Q&A
10:29 AM | 28-01-2021

Pls suggest some treatment of soraisis


The answers posted here are for educational purposes only. They cannot be considered as replacement for a medical 'advice’ or ‘prescription’. ...The question asked by users depict their general situation, illness, or symptoms, but do not contain enough facts to depict their complete medical background. Accordingly, the answers provide general guidance only. They are not to be interpreted as diagnosis of health issues or specific treatment recommendations. Any specific changes by users, in medication, food & lifestyle, must be done through a real-life personal consultation with a licensed health practitioner. The views expressed by the users here are their personal views and Wellcure claims no responsibility for them.

Read more
Post as Anonymous User
2 Answers

04:46 PM | 01-02-2021

Hello Sapna,

Psoriasis is an immune system issue. In this, cells of our immune system start attacking the healthy skin cells and they trigger the increased production of healthy skin cells. In this new skin cells move to the outermost layer of the skin too quickly. Skin cells build as thick and scaly patches on the surface and sometimes develop redness and sometimes the skin lesions develop pus also.

Reasons for psoriasis 

  • Stress
  • Family history
  • Bacterial or viral infection 
  • Obesity 
  • Smoking
  • Alcohol consumption 
  • Vitamin D deficiency 
  • Certain medications containing lithium.

Diet

  • Start the day with warm water and some drops of lemon in it. This will eliminate the toxins out of the body and vitamin C in it always help in all the skin problems.
  • Take 1.5 - 3gm of turmeric daily as it has antimicrobial properties and is very good for the overall health. 
  • Avoid spicy foods, oily foods, packaged foods, and processed foods. 
  • Take a healthy natural diet.
  • Include fresh fruits, vegetables, sprouts, salads, beans, dry fruits in your diet.
  • Avoid dairy products because they are not for human consumption and may increase the problem. 
  • Avoid animal products also.
  • Avoid alcohol and smoking. 

Some things to do

  • Avoid chemical-based products like perfumes, scented soaps.
  • Keep your skin hydrated.
  • Apply aloe vera gel and Gulab Jal on your skin.
  • Take sun rays. 

Physical activity 

  • Perform yoga regularly as this will improve the blood circulation in the body.
  • Do suryanamaskar daily. Initially start with 2-3sets and then increase it gradually up to 12 sets.
  • Also, do pranayam daily.

Sleep 

Sleep is very important to remove stress, to maintain a circadian rhythm, and hence to maintain hormonal balance. 

Take proper sleep of at least 7-8 hours daily. 

Sleep early at night at around 10 pm and also wake up early in the morning at around 6 am. Sleep and wake up at fixed times.

Don't use any electronic devices 1hour before sleeping. 

Thank you 



04:46 PM | 01-02-2021

हेलो,
कारण -  त्वचा संबंधी रोग को ‘सरायसिस ’कहते हैं। इसके लक्षण हैं - शरीर पर लाल चकत्ते और उन पर सफेद रंग की ऊपरी त्वचा, त्वचा में दरारें पड़ना, पानी जैसा पतला द्रव बहना, खुजली और जलन।  सरायसिस की समस्या वात-पित्त के असंतुलन से होती है। पाचन तंत्र के स्वस्थ ना होने के कारण शरीर में विषैले तत्व इकट्ठे हो जाते हैं जो रक्त और मांसपेशियों के अलावा इनके अंदर के ऊत्तकों को संक्रमित करने लगते हैं। ऑटो इम्म्यून  रोग भी इसी कारण सेे होता है। विटामिन डी की कमी संक्रमण को पोषण देता है। शरीर में अम्ल की मात्रा अधिक होने पर  विटामिन डी की कमी होती है।

प्राकृतिक जीवन शैली अपनाकर पूर्ण स्वास्थ को पा सकते हैं।

समाधान -1. केले के पत्ते या बंद गोभी के पत्ते को त्वचा के उसी हिस्से  पर लगाएं जंहा पर समस्या है। उसके बाद  उस हिस्से को सूर्य की रोशनी 40 मिनट के लिए  लगाएं। 

2. अपने खाने में सेंधा नमक दिन में एक बार केवल पके हुए खाने में लें। क्योंकि नमक त्वचा के नमी को सोख लेती है। खाना खाने से एक घंटे पहले नाभि के ऊपर गीला सूती कपड़ा लपेट कर रखें या खाना के 2 घंटे बाद भी ऐसा कर सकते हैं।

मेरुदंड स्नान के लिए अगर टब ना हो तो एक मोटा तौलिया गीला कर लें बिना निचोरे उसको बिछा लें और अपने मेरुदंड को उस स्थान पर रखें।

मेरुदंड (स्पाइन) सीधा करके बैठें। हमेशा इस बात ध्यान रखें और हफ़्ते में 3 दिन मेरुदंड का स्नान करें। 

3.स्पर्श थरेपी करें। मालिश के ज़रिए भी कर सकते है।

कपूर मिश्रित नारियल तेल से त्वचा के उस हिस्से की मालिश करें जहां पर समस्या है।  घड़ी की सीधी दिशा (clockwise) में और घड़ी की उलटी दिशा (anti clockwise) में मालिश करें। नरम हाथों से बिल्कुल भी प्रेशर नहीं दें।

4. हर 3 घंटे में लंबा गहरा श्वास अंदर लें उसको थोड़ी देर रोकें और फिर सांस को खाली करें। खाली करने के बाद फिर से रुके और फिर लंबा गहरा सांस ले। यह एक चक्र है ऐसा दिन में 10 चक्र करें केवल एक शर्त का पालन करें जब आप लंबा गहरा सांस ले रहे हैं तो अपनी रीढ़ की हड्डी को सीधा रखें ऐसा करने से आपके शरीर में ऑक्सीजन की मात्रा का बढ़ेगी और ऑक्सीजन का संचार सुचारू रूप से हो पाएगा।

5.पृथ्वी - सुबह खीरा 1/2 भाग धनिया पत्ती (10 ग्राम) पीस लें, 100 ml पानी मिला कर पीएँ। यह juice आप कई प्रकार के ले सकते हैं। पेठे  (ashgourd ) का जूस लें और कुछ नहीं लेना है। नारियल पानी भी ले सकते हैं। पालक पत्ते धो कर पीस कर 100ml पानी डाल पीएँ। दुब घास 25 ग्राम पीस कर छान कर 100 ml पानी में मिला कर पीएँ। कच्चे सब्ज़ी का जूस आपका मुख्य भोजन है। 2 घंटे बाद फल नाश्ते में लेना है। फल को चबा कर खाएँ। इसका juice ना लें। फल सूखे फल नाश्ते में लें।

दोपहर के खाने में सलाद नट्स और अंकुरित अनाज के साथ  सलाद में हरे पत्तेदार सब्ज़ी को डालें और नारियल पीस कर मिलाएँ। कच्चा पपीता 50 ग्राम कद्दूकस करके डालें। कभी सीताफल (yellow pumpkin) 50 ग्राम ऐसे ही डालें। कभी सफ़ेद पेठा (ashgourd) 30 ग्राम कद्दूकस करके डालें। ऐसे ही ज़ूकीनी 50 ग्राम डालें। कद्दूकस करके डालें। कभी काजू बादाम अखरोट मूँगफली भिगोए हुए पीस कर मिलाएँ।  लाल, हरा, पीला शिमला मिर्च 1/4 हिस्सा हर एक का मिलाएँ। लें। बिना नींबू और नमक के लें। स्वाद के लिए नारियल और herbs मिलाएँ।

रात के खाने में इस अनुपात से खाना खाएँ 2 कटोरी सब्ज़ी के साथ 1कटोरी चावल या 1रोटी लेएक बार पका हुआ खाना रात को 7 बजे से पहले लें।

6.सेंधा नमक केवल एक बार पके हुए खाने में लें। जानवरों से उपलब्ध होने वाले भोजन वर्जित हैं। तेल, मसाला, और गेहूँ से परहेज़ करेंगे तो अच्छा होगा। चीनी के जगह गुड़ लें।

7.एक नियम हमेशा याद रखें ठोस (solid) खाने को चबा कर तरल (liquid) बना कर खाएँ। तरल  को मुँह में घूँट घूँट पीएँ। खाना ज़मीन पर बैठ कर खाएँ। खाते वक़्त ना तो बात करें और ना ही TV और mobile को देखें।ठोस  भोजन के तुरंत बाद या बीच बीच में जूस या पानी ना लें। भोजन हो जाने के एक घंटे बाद तरल पदार्थ ले सकते हैं।

हफ़्ते में एक दिन उपवास करें। शाम तक केवल पानी लें, प्यास लगे तो ही पीएँ। शाम 5 बजे नारियल पानी और रात 8 बजे सलाद लें।

8.उपवास के अगले दिन किसी प्राकृतिक चिकित्सक के देख रेख में टोना लें। जिससे आँत की प्रदाह को शांत किया जा सके। एनिमा किट मँगा लें। यह किट ऑनलाइन मिल जाएगा। इससे 200ml पानी गुदाद्वार से अंदर डालें और प्रेशर आने पर मल त्याग करें। ऐसा दिन में दो बार करना है अगले 21 दिनों के लिए। ये करना है ताकि शरीर में मोजुद विषाणु निष्कासित हो जाये। इसके बाद हफ़्ते में केवल एक बार लेना है उपवास के अगले दिन। टोना का फ़ायदा तभी होगा जब आहार शुद्धि करेंगे।

धन्यवाद।

रूबी, 

प्राकृतिक जीवनशैली प्रशिक्षिका व मार्गदर्शिका (Nature Cure Guide & Educator)


Scan QR code to download Wellcure App
Wellcure
'Come-In-Unity' Plan











Whoops, looks like something went wrong.