Q&A
04:17 PM | 31-10-2019

Hi, I have bad breath problem. What to do?


Post as Anonymous User
8 Answers

04:12 PM | 01-11-2019

Halitosis is a condition where a foul odor emanating from the oral cavity. This condition is also called bad breath. Though it’s not a medical emergency, of course, this could be a social problem in some cases and some 25 to 30 percent of the world’s population suffer from this distressing problem.

Some causes of this problem could be caused due to conditions like dental cavities, gum diseases, poor oral hygiene, coated tongue It is said that hundreds of bacteria live in our oral cavity and sometimes present of oral disease could be a cause as well. Other causes may include malnutrition, uncontrolled diabetes, and dry mouth. Infections such as sore throat or sinusitis or intestinal disorders, such as heartburn, ulcers, and lactose intolerance, could also cause bad breath.

Some simple ways to manage it .....

  • If you wear artificial dentures, please make a habit to remove them at night and clean up those in the morning before you wear them again. Follow them after every meal as well.
  • Make a habit to drink plenty of water and gargle your well well from bed or after every meal.
  • Make a habit to brush after every meal and floss, preferably twice daily.
  • Make a habit to replace your toothbrushes every two to three months.
  • Chewing a handful of cloves, fennel seeds, or aniseeds could be helpful. Their antiseptic qualities help fight halitosis-causing bacteria.
  • Chewing a piece of lemon or orange rind for a mouth- freshening burst of flavor.
  • Chewing a few leaves of parsley, basil, mint, or cilantro might help too. It is believed that the chlorophyll in these green plants has the property to neutralize the odours.

 



03:25 PM | 01-11-2019

Hello,

Unpleasant odours from the mouth on a frequent basis is referred to as bad breath.

Reasons for bad breath 
 

  • Not maintaining proper mouth hygiene. 
  • Not brushing teeth properly. 
  • Eating some foods which result in a bad breath like onion, garlic. 

What should be done?

  • Brush regularly especially after the meals.
  • Clean your tongue daily using a tongue cleaner.
  • Do flossing once in a day.
  • Change your toothbrush every month.
  • Go for regular mouth check-ups.
  • Chew a piece of lemon or a piece of orange to kill the unpleasant smell of mouth.
  • Chew cinnamon As it is anti-microbial. 

 

Thank you 



03:21 PM | 01-11-2019


04:11 PM | 01-11-2019

Hi,  

Bad breath occurs due to dental cavities, gum disease, poor oral hygiene, coated tongue (a white or yellow coating on the tongue, usually due to inflammation/improper detoxification). 

Hundreds of bacteria live in our mouths and some of them on the tongue or below the gum line, between gums and teeth. Sometimes, malnutrition, uncontrolled diabetes, and dry mouth (saliva has an antimicrobial effect) Infections, sinusitis, heartburn, ulcers, and lactose intolerance, also result in bad breath.

  • To reduce bad breath, avoid cavities and lower risk of gum disease, by consistently maintaining good oral hygiene.
  • Brush your teeth after you eat. Brush regularly,  at least two times a day, especially after meals. Toothpaste/ neem stick/ babool stick with antibacterial properties has been shown to reduce bad breath odors.
  • Floss at least once a day. Proper flossing helps to remove food particles and plaque from in between your teeth helps to control bad breath.
  • Brush your tongue. Your tongue bacteria, so carefully brushing it may reduce odors. People who have a coated tongue from a significant overgrowth of bacteria use a tongue scraper or use a toothbrush that has a tongue cleaner.
  • Clean dentures. If you wear a bridge or a denture, dental retainer or mouth guard, clean it each time before you put it in your mouth.
  • Avoid dry mouth. To keep your mouth moist, tobacco and drink plenty of water.  
  • Avoid tea, coffee, soft drinks or alcohol, which can lead to a drier mouth, drink more water to stimulate saliva.
  • Adjust your diet. Avoid or consume less onions and garlic that can cause bad breath. Eating a lot of sugary foods is also cause for bad breath.
  • Change your brush periodically. Change your toothbrush when it becomes frayed, about every 2-3 months, and choose a soft-bristled toothbrush.
  • Chew of cloves, fennel seeds, cardamom also prevents bad breath. Their antiseptic quality helps to fight against bad breath causing bacteria.
  • Chew a piece of lemon/ orange peel as a mouth freshener. The citric acid stimulates the salivary glands and fights and prevents bad breath.
  • Chew fresh parsley, basil, or mint the chlorophyll in these greens neutralizes bad odours.
  • Avoid Non-Vegetarian food items.
  • Take more fresh fruits and vegetables.
  • Avoid fast food and fried oily food items.

Namasthe!



03:25 PM | 01-11-2019

हेलो, 

कारण - दांतों पर खाने का बचा हुआ अवशेष, दांतों और जीभ पर जमा हुआ प्लाक, दांतों की क्षति से हुए छेद (cavities) व पीरियडोंटल रोग जैसे मसूड़ों में सूजन (gingivitis) और पीरियंडोटिटिस (periodontitis) रोग इसके कारण होते हैं।

मसूड़ों की सूजन आमतौर पर मुंह से आने वाली दुर्गंध की गंभीरता को बढ़ा सकती है।

दांतों के अनुपचारित गहरे व नाजुक घाव भोजन के अवशेष मुंह में रह जाने की जगह बनाते हैं। इसके साथ ही दांतों में हुआ प्लाक भी इस समस्या का मुख्य कारण होता है।  

मुंह से दुर्गंध आने पर लार एक महत्वपूर्ण कारक की तरह काम करती है। यह मुंह की सफाई करने वाले तत्व के रूप मे काम करती है। इससे मुंह में होने वाले बैकटीरिया का स्तर कम हो जाता है। इस कारण ही लार का कम बनना भी मुंह की दुर्गंध का कारण होता है। 

ख़राब हाज़मा साँसों में बदबू और मुँह के दुर्गन्ध का कारण बना हुआ है। दोष पुर्ण आहार देर तक पचता नहीं है। शरीर में अम्ल के अधिकता से सड़न पैदा होता है। 

समाधान - अमरूद के पत्ते या आम के पत्ते को सुखा कर पीस लें 100g इस पाउडर में 25g लौंग का पाउडर मिला कर दाँतों और मसूड़ों को साफ़ करें।टूथ पेस्ट और टूथ ब्रश को अलविदा कर दें।

खाना खाने से एक घंटे पहले नाभि के ऊपर गीला सूती कपड़ा लपेट कर रखें और खाना के 2 घंटे बाद भी ऐसा करना है।

मेरुदंड स्नान के लिए अगर टब ना हो तो एक मोटा तौलिया गीला कर लें बिना निचोरे उसको बिछा लें और अपने मेरुदंड को उस स्थान पर रखें।

मेरुदंड (स्पाइन) सीधा करके बैठें। हमेशा इस बात ध्यान रखें और हफ़्ते में 3 दिन मेरुदंड का स्नान करें। 

आकाश तत्व - एक खाने से दुसरे खाने के बीच में अंतराल (gap) रखें।

फल के बाद 3 घंटे, सलाद के बाद 5 घंटे, और पके हुए खाने के बाद 12 घंटे का (gap) रखें।

वायु तत्व - प्राणायाम करें, आसन करें। दौड़ लगाएँ।

अग्नि - सूर्य की रोशनी लें।

जल - अलग अलग तरीक़े का स्नान करें। मेरुदंड स्नान, हिप बाथ, गीले कपड़े की पट्टी से पेट की गले और सर की 20 मिनट के लिए सेक लगाए। 

स्पर्श थरेपी करें। मालिश के ज़रिए भी कर सकते है। नारियल तेल से

घड़ी की सीधी दिशा (clockwise) में और घड़ी की उलटी दिशा (anti clockwise)में मालिश करें। नरम हाथों से बिल्कुल भी प्रेशर नहीं दें।

पृथ्वी - सुबह खीरे का जूस लें, खीरा 1/2 भाग + धनिया पत्ती (10 ग्राम) पीस लें, 100 ml पानी मिला कर पीएँ। यह juice आप कई प्रकार के ले सकते हैं। पेठे (ashguard ) का जूस लें और कुछ नहीं लेना है। नारियल पानी भी ले सकते हैं। बेल का पत्ता 8 से 10 पीस कर I100ml पानी में मिला कर पीएँ। खीरा 1/2 भाग + धनिया पत्ती (10 ग्राम) पीस लें, 100 ml पानी में मिला कर पीएँ। बेल पत्ता 8 से 10 पीस कर 100 ml पानी में मिला कर लें। दुब घास 25 ग्राम पीस कर छान कर 100 ml पानी में मिला कर पीएँ। कच्चे सब्ज़ी का जूस आपका मुख्य भोजन है। 2 घंटे बाद फल नाश्ते में लेना है। 

फल को चबा कर खाएँ। इसका juice ना लें। फल + सूखे फल नाश्ते में लें।

दोपहर के खाने में सलाद + नट्स और अंकुरित अनाज के लें। बिना नींबू और नमक के लें। स्वाद के लिए नारियल और herbs मिलाएँ।

रात के खाने में इस अनुपात से खाना खाएँ 2 कटोरी सब्ज़ी के साथ 1कटोरी चावल या 1रोटी लें। एक बार पका हुआ खाना रात को 7 बजे से पहले लें।ओ

सेंधा नमक केवल एक बार पके हुए खाने में लें। जानवरों से उपलब्ध होने वाले भोजन वर्जित हैं।

तेल, मसाला, और गेहूँ से परहेज़ करेंगे तो अच्छा होगा। चीनी के जगह गुड़ लें।

एक नियम हमेशा याद रखें ठोस(solid) खाने को चबा कर तरल (liquid) बना कर खाएँ। तरल  को मुँह में घूँट घूँट पीएँ। खाना ज़मीन पर बैठ कर खाएँ। खाते वक़्त ना तो बात करें और ना ही TV और mobile को देखें।ठोस  भोजन के तुरंत बाद या बीच बीच में जूस या पानी ना लें। भोजन हो जाने के एक घंटे बाद तरल पदार्थ  ले सकते हैं।

हफ़्ते में एक दिन उपवास करें। शाम तक केवल पानी लें, प्यास लगे तो ही पीएँ। शाम 5 बजे नारियल पानी और रात 8 बजे सलाद लें।

उपवास के अगले दिन किसी प्राकृतिक चिकित्सक के देख रेख में टोना लें। जिससे आँत की प्रदाह को शांत किया जा सके। एनिमा किट मँगा लें। यह किट ऑनलाइन मिल जाएगा। इससे 200ml पानी गुदाद्वार से अंदर डालें और प्रेशर आने पर मल त्याग करें। ऐसा दिन में दो बार करना है अगले 21 दिनों के लिए। ये करना है ताकि शरीर में मोजुद विषाणु निष्कासित हो जाये। इसके बाद हफ़्ते में केवल एक बार लेना है उपवास के अगले दिन। टोना का फ़ायदा तभी होगा जब आहार शुद्धि करेंगे।

धन्यवाद।

रूबी, 

 

प्राकृतिक जीवनशैली प्रशिक्षिका व मार्गदर्शिका (Nature Cure Guide & Educator)



03:24 PM | 01-11-2019

Bad Breath means you are having issues like constipation, faltulence and blaoting etc. There are the sign you are suffering from gastrointestinal issues. 

Firstly try to work on you the above-mentioned issues.

. Start your day with a glass of sauf water ( soaked it overnight and have it empty stomach ) 

. Avoid all kind of Non-veg food till you get relief. 

. Drink 2-3 litres of water throughout the day. This will help in flushing out the toxins from your body. 

. After every meal, chew 1 tsp Sauf, this will helps in digesting the food. 

. Walk as much as you can. It is good for health. 

. Try this concoction ( 1 tsp Sauf + 1 tsp Ajwain + pinch of hing - boil these in 2 cups water and reduce it to half ; add pinch of black pepper ) and have it after dinner every day. 

.Avoid spicy and fried food. 

. Include soup and fresh vegetable juices in your diet. 

Thanks 

Eat Healthy and stay healthy 

 

Regards 

Wellness Coach -

Mehar Rajput 

 

 



03:23 PM | 01-11-2019

Dear Health seeker Suresh,

In  nut shell the problem of bad breath is indicative that there are lots of rotting toxins laid down throughout your gastrointestinal tract, the  previous meals are not digested and yet again and again munching and brunching  going on  resulting  in a  chaotic condition where the food is rotting, Off course dental  hygiene is also a contributing factor. You will have to be quite disciplined in the intake of foods. The following program to be followed:.
1   Cut down all non-vegetarian items if any, which are the main cause of the troubles, since carnivores have gut length of  6 to  8 feet while we have gut of 22 to 24 feet.  as such the animal products and garlic, onions, spices, etc. putrefies and remain in the intestines for much too longer periods causing bad breath The main culprit could be constipation and clogged intestines playing spoilsport. 
  2.The aim should be to  clean the whole  gastrointestinal tract for which  consume foods  predominantly consisting of  fruits and vegetables raw and cooked to the extent of 70%rest  carbohydrates, coconut  nuts, seeds, beans 
3..keep a  substantial  gap of a minimum of 6 hours 
Between two meals 
  4. Do some deep breathing exercises and brisk walking in the early morning sun. 
5..Dental care is a must 
   The  bad  breath will  leave you ere long 
   V.S.Pawar  MIINT 



02:58 PM | 04-11-2019

नमस्ते,

 मुंह की बदबू भोजन के दातों में फंसे रहने के कारण, फेफड़े के संक्रमण, नशीली वस्तुएं जैसे गुटखा , पान-मसाला लहसुन या प्याज के सेवन से,भोजन का सही से पाचन ना हो पाने की अवस्था में होता है ।

 

  • प्रतिदिन प्रातः गुनगुने पानी में नींबू का रस मिलाकर सेवन करें इससे हाथों में स्थित से निकलते हैं।
  •  प्रतिदिन खीरा, आंवला ,सेव या अमरूद को दांतों से काटकर खूब चबा चबाकर सेवन करें इससे दांतो की अच्छी तरीके से सफाई होती है, पर्याप्त मात्रा में पोषक तत्व भी शरीर को मिल जाते हैं ।

 

  • भोजन में अधिकतर मौसमी फल एवं हरी पत्तेदार सब्जियों का प्रयोग करें, इससे इनका पाचन ,अवशोषण एवं मल का निष्कासन आसानी से होता है, शरीर के सभी अंग सुचारू रूप से अपना कार्य करते हैं।

 

 

  •  सप्ताह में 1 दिन उपवास रहें इससे शरीर से दूषित पदार्थ बाहर निकलते हैं पाचन अंगों को आराम मिलता है ।

 

  • रोज नीम या बबूल की दातुन से दांतो को अच्छी तरीके से साफ करें एवं सरसों के तेल में हल्का सा नमक मिलाकर मसूड़ों की अच्छी तरीके से मालिश करें।
  •  मुंह में सरसों या नारियल का तेल लेकर 2 से 3 मिनट तक मुंह में चारों तरफ घूमांए उसके पश्चात उसे थूक दें।

 


Wellcure
'Come-In-Unity' Plan