Q&A
05:14 PM | 07-01-2020

I have knee problem due to osteoarthritis. How to get out of pain?


The answers posted here are for educational purposes only. They cannot be considered as replacement for a medical 'advice’ or ‘prescription’. ...The question asked by users depict their general situation, illness, or symptoms, but do not contain enough facts to depict their complete medical background. Accordingly, the answers provide general guidance only. They are not to be interpreted as diagnosis of health issues or specific treatment recommendations. Any specific changes by users, in medication, food & lifestyle, must be done through a real-life personal consultation with a licensed health practitioner. The views expressed by the users here are their personal views and Wellcure claims no responsibility for them.

Read more
Post as Anonymous User
5 Answers

05:21 PM | 14-01-2020

Hello Manasmita. As you align your lifestyle with Natural Laws, you will get immense relief. Let's begin by guiding you to a few resources on Wellcure. We strongly suggest you read the below: 

We suggest you take a personal consultation with our Natural Health Coach who can understand your background better & give you an action plan. You can explore our Nature-Nurtures Program for the same. We will guide you on diet, sleep, exercise, stress, etc to correct your existing routine & make it in line with Natural Laws. Let us know if you are interested.  

All the best.

Regds
Team Wellcure



11:41 AM | 14-01-2020

Mustard paste application to knees will help to reduce pain.



01:57 PM | 14-01-2020

Osteoarthritis is a condition that is very common in the postmenopausal women which are mainly caused due to degenerative conditions and also due to calcium imbalances in the metabolism in the body.

Some lifestyle changes along with conventional therapies could improvise the quality of cure in patients suffering from this ailment. Taking natural therapies is always considered to be safe and no side effects and hence most Orthopedicians recommend multi-therapy modality in the management of this condition. In some cases, this therapy model could even prevent the complications of this ailment getting worsened and could cease the ill effects of the complications if detected and managed in early stages.

Some ways to manage along with the conventional therapies

  1. Knee pack – It is a simple procedure that could be done at home. Take a cold cotton cloth and soak it in water and then squeeze water out of it and then wrap it over the knees. A woollen flannel is wrapped over the wet cotton cloth and keep it for 45 min to 1 hr. This treatment could be undertaken while relaxing or watching TV or reading a book.
  2. Hot & Cold Fomentation – Hot and cold compress could be beneficial to reduce pain and also stiffness.
  3. Hot Water Pouring – Simply pouring tolerable hot water over the knees could work as a pain-relieving measure to bring down the pain and stiffness
  4. Massage Therapy – partial massages followed by local steam could be the best pain relief measure.
  5. Yoga Therapy – Loosening exercises could loosen the joints and reduce stiffness.
  6. Diet – Consume a lot of broccoli, citrus fruits, garlic (contains diallyl disulfide, which may reduce cartilage damage), green tea, nuts, plant-based oils made from avocado, olives, safflower, and walnut.
  7. Get exposed sunlight – Sunlight is the natural source of Vit D and that is sourced from sunlight, hence exposure to sunlight could be more effective in this case.

NOTE – The above said the treatment could be best undertaken under the guidance or supervision of a registered naturopath available near to your place



01:56 PM | 14-01-2020

Off late, it has become a very common ailment. Almost all the ladies beyond 35+ have leg pains, knee pains, heel pains. All these are due to eroding of calcium in the bones. Where is all the calcium going? Did your body stop making it? No, your body is continuing to make it, but your acidic lifestyle is sucking the calcium to maintain homeostasis in your body because calcium is a great antacid. This continues to get worse if you don't change the foods you consume and live.

My own mom has suffered this a lot and is now pain-free only because she has changed her lifestyle.

Foods like milk, dead animal tissue, eggs, fish, grains, beans etc are acid dominate foods which mean more inflammation in the body. Inflammation is simply just a reaction caused by acid accumulation in the body. Over time, this accumulation leads to systemic acidosis and inflammation in the body.

If you eat foods that are alkaline such as fruits veggies and greens, they clean the body and promote the detoxification process then you can avoid creating a problem where the body is forced to rob calcium from bones.

In addition to this, expose yourself to plenty of sunlight daily. Suns energy helps to make vitamin D and promotes healthy production of essential minerals needed in the body.

Avoid all animal foods especially stay miles away from all forms of dairy, refined sugar, processed junk, fried foods, gluten, oil all of which adds to the acidity already in the body.

If you want to reach me and go through a guided step by step relief from all your problems, then click here to reach me

https://rzp.io/l/1LR1mH1

Be blessed

Smitha Hemadri (educator of natural healing practices)



08:01 PM | 13-01-2020

हेलो,

कारण - ऑस्टियोआर्थराइटिस आमतौर पर तब होता है जब उपास्थि (एक फिसलन और फर्म ऊतक जो घर्षण रहित संयुक्त गति की अनुमति देता है) जो आपके जोड़ों के अंदर हड्डियों को कुचलने में बिगड़ती है। उपास्थि के नीचे की सतह किसी न किसी बनने लगती है। अगर उपास्थि पूरी तरह से क्षतिग्रस्त हो जाती है, तो हड्डियों को एक सुरक्षात्मक बाधा के बिना एक साथ रगड़ सकता है। इससे अत्यधिक दर्द और असुविधा हो सकती है। ये शरीर में अम्ल की अधिकता और शरीर में बने टॉक्सिन के निष्कासन के अवरोध के कारण ऐसा हो जाता है।

समाधान - दर्द वाले हिस्से पर खीरा+नीम की पत्ते का पेस्ट लगाएँ।

लंबा गहरा स्वाँस अंदर भरें और रुकें। इसके बाद फिर पूरे तरीक़े से स्वाँस को ख़ाली करें, रुकें, फिर स्वाँस अंदर भरें। ये एक चक्र हुआ। ऐसे 10 चक्र एक समय पर करना है। ये दिन में चार बार करें। खुली हवा में बैठें या टहलें।

खाना खाने से एक घंटे पहले नाभि के ऊपर गीला सूती कपड़ा लपेट कर रखें या खाना के 2 घंटे बाद भी ऐसा कर सकते हैं।

नीम के पत्ते का पेस्ट अपने नाभि पर रखें। 20मिनट तक रख कर साफ़ कर लें। मेरुदंड स्नान के लिए अगर टब ना हो तो एक मोटा तौलिया गीला कर लें बिना निचोरे उसको बिछा लें और अपने मेरुदंड को उस स्थान पर रखें।

मेरुदंड (स्पाइन) सीधा करके बैठें। हमेशा इस बात ध्यान रखें।

जीवन शैली-  1आकाश तत्व - एक खाने से दुसरे खाने के बीच में अंतराल (gap) रखें।

फल के बाद 3 घंटे, सलाद के बाद 5 घंटे, और पके हुए खाने के बाद 12 घंटे का (gap) रखें।

2.वायु तत्व - प्राणायाम करें, आसन करें। दौड़ लगाएँ।

3.अग्नि - सूर्य की रोशनी लें।

4.जल - अलग अलग तरीक़े का स्नान करें। मेरुदंड स्नान, हिप बाथ, गीले कपड़े की पट्टी से पेट की गले और सर की 20 मिनट के लिए सेक लगाए। 

स्पर्श थरेपी करें। मालिश के ज़रिए भी कर सकते है। दर्द वाले हिस्से पर तिल के तेल से

घड़ी की सीधी दिशा (clockwise) में और घड़ी की उलटी दिशा (anti clockwise)में मालिश करें। नरम हाथों से बिल्कुल भी प्रेशर नहीं दें।

5.पृथ्वी - सुबह खीरा 1/2 भाग + धनिया पत्ती (10 ग्राम) पीस लें, 100 ml पानी मिला कर पीएँ। यह juice आप कई प्रकार के ले सकते हैं। पेठे (ashguard ) का जूस लें और कुछ नहीं लेना है। नारियल पानी भी ले सकते हैं। पालक  पत्ते धो कर पीस कर 100ml पानी डाल पीएँ। दुब घास 25 ग्राम पीस कर छान कर 100 ml पानी में मिला कर पीएँ। कच्चे सब्ज़ी का जूस आपका मुख्य भोजन है। 2 घंटे बाद फल नाश्ते में लेना है। 

फल को चबा कर खाएँ। इसका juice ना लें। फल + सूखे फल नाश्ते में लें।

दोपहर के खाने में सलाद + नट्स और अंकुरित अनाज के साथ  सलाद में हरे पत्तेदार सब्ज़ी को डालें और नारियल पीस कर मिलाएँ। कच्चा पपीता 50 ग्राम कद्दूकस करके डालें। कभी सीताफल ( yellow pumpkin)50 ग्राम ऐसे ही डालें। कभी सफ़ेद पेठा (ashgurd) 30 ग्राम कद्दूकस करके डालें। ऐसे ही ज़ूकीनी 50 ग्राम डालें।कद्दूकस करके डालें।कभी काजू बादाम अखरोट मूँगफली भिगोए हुए पीस कर मिलाएँ। 

लाल, हरा, पीला शिमला मिर्च 1/4 हिस्सा हर एक का मिलाएँ। लें। बिना नींबू और नमक के लें। स्वाद के लिए नारियल और herbs मिलाएँ।

रात के खाने में इस अनुपात से खाना खाएँ 2 कटोरी सब्ज़ी के साथ 1कटोरी चावल या 1रोटी लेएक बार पका हुआ खाना रात को 7 बजे से पहले लें।

6.सेंधा नमक केवल एक बार पके हुए खाने में लें। जानवरों से उपलब्ध होने वाले भोजन वर्जित हैं।

तेल, मसाला, और गेहूँ से परहेज़ करेंगे तो अच्छा होगा। चीनी के जगह गुड़ लें।

7.एक नियम हमेशा याद रखें ठोस(solid) खाने को चबा कर तरल (liquid) बना कर खाएँ। तरल  को मुँह में घूँट घूँट पीएँ। खाना ज़मीन पर बैठ कर खाएँ। खाते वक़्त ना तो बात करें और ना ही TV और mobile को देखें।ठोस  भोजन के तुरंत बाद या बीच बीच में जूस या पानी ना लें। भोजन हो जाने के एक घंटे बाद तरल पदार्थ  ले सकते हैं।

हफ़्ते में एक दिन उपवास करें। शाम तक केवल पानी लें, प्यास लगे तो ही पीएँ। शाम 5 बजे नारियल पानी और रात 8 बजे सलाद लें।

8.उपवास के अगले दिन किसी प्राकृतिक चिकित्सक के देख रेख में टोना लें। जिससे आँत की प्रदाह को शांत किया जा सके। एनिमा किट मँगा लें। यह किट ऑनलाइन मिल जाएगा। इससे 200ml पानी गुदाद्वार से अंदर डालें और प्रेशर आने पर मल त्याग करें। ऐसा दिन में दो बार करना है अगले 21 दिनों के लिए। ये करना है ताकि शरीर में मोजुद विषाणु निष्कासित हो जाये। इसके बाद हफ़्ते में केवल एक बार लेना है उपवास के अगले दिन। टोना का फ़ायदा तभी होगा जब आहार शुद्धि करेंगे।

धन्यवाद।

रूबी, 

प्राकृतिक जीवनशैली प्रशिक्षिका व मार्गदर्शिका (Nature Cure Guide & Educator)


Scan QR code to download Wellcure App
Wellcure
'Come-In-Unity' Plan