Q&A
09:52 AM | 13-01-2020

I need gall bladder stone treatment. Can you help me pls?


Post as Anonymous User
3 Answers

01:37 PM | 13-01-2020

Dear health seeker Sravani,


Gallbladder stones can be dissolved and  thrown out of the body if a hygienic lifestyle is followed rigidly with utmost reverence  faith and resolve as per undermentioned regime....

EVEN LARGE SIZE STONES CAN BE DISINTEGRATED. 

   IF the patient takes to a positive diet (consisting of only vegetables and fruits)for some time and if such diet is taken very moderately, with due regards to the Principle of Vital Economy the large stones will disintegrate into small gravels of very small sizes, which can be easily eliminated .

   TREATMENT 

1...A non violent, 250 m l.cold water enema after  nature 'a  call 

2..A glass of ashgourd juice mixed with  juice of 10 bael patra leaves 

3...30 minutes sun bath coverings the head with a cap ,followed by 25 minutes spinal bath 

4...Diet:...as indicated in the below at mentioned note at  12.0 o clock 

5..Spinal bath for 20 minutes at 2.0 PM also 

6...Diet. as per note at 5.0 pm

7..ashgourd juice as per  2..above at 7.0 PM

8   stimulating wet pack for one hour 

 

DIET

   First 3 days. Tender coconut water alone  

Next 4 days. 11 a.m.tender coconut water alone 

5.p.m.with fresh fruit juice 

Afterward. 11a.m.raw vegetables cucumber carrot.ashguard. coconut scrappings. Checkurmanis (a leafy vegetable)ceylon spinach, onion and banana. 

5p.m.steamed vegetables, coconut scrapings and fruits. 

Or 

Tender coconut with the soft kernel inside Ripe banana and a piece of cucumber.

Needless to mention that all unhygienic habits and consumption of stimulants tea, coffee,cola, alcohol, animal products  protein rich diet and  specially  chocolate are to be avoided totally. 

HEALING CRISIS.

Following nature cure regime, disintegration of the stone is inevitable, during this pain is likely to follow, which has to be gone through. by hot and cold fomentation over the seat of the pain as frequently as  needed 

   and an approach to fasting (drinking only coconut water or diluted fruit juice)or water fast during the pain and local hot and cold fomentation over the seat of the pain. 

These are all  general guidelines. Services of a qualified Naturopath should be  availed 

PREVENTION IS ALWAYS THE BEST CURE. 

PREVENTION 

 

Prevention is better than cure. Wisdom lies in preventing the formations of gravels or stones in the gallbladder.  The only sensible way for this is to follow the life natural. 

In the words of Dr. J.H.Tilden,of U.S.A.

It is doubtful if such diseases as renal colic, gall-stone or stone in the urinary bladder will ever develop if the dietary is well balanced, carrying enough raw vegetables and fruits to prevent the accumulation of minerals in wrong and overworked emotions and the use of stimulants, will cause the disease, 

Some eminent nutritionists also agree that regular consumption of foods depleted of certain vitamins predispose of formation of stones in the gallbladder. 

We would advise the health seekers to take to a vegetablrian diet thus ensuring a plentiful supply of vitamins and minerals salts enzymes and trace elements 

    V.S.Pawar Member Indian institute of natural therapeutics 

     



01:07 PM | 13-01-2020

हेलो,

कारण - पित्ताशय की पथरी (Gallstones) क्रिस्टल जैसा पदार्थ होता है, जो पित्ताशय में बनने लगता है। पित्ताशय की पथरी पित्ताशय में बिना किसी प्रकार के दर्द व अन्य लक्षण पैदा किए रह सकती है या यह पित्ताशय की दीवारों को उत्तेजित कर सकती है व पित्त नलिकाओं को बंद कर सकती है। इसके कारण संक्रमण, सूजन व जलन और ऊपरी पेट में दर्द हो सकता है। प्राकृतिक चिकित्सा पद्धति के अनुसार आहार और जीवन शैली में परिवर्तन करने से ये ठीक हो जाता है।

समाधान -शारीरिक और मानसिक क्रिया में संतुलन बनाए। दौड़ लगाएँ।सुप्त मत्स्येन्द्रासन, धनुरासन

पश्चिमोत्तानासन, अर्धमत्स्येन्द्रासन, शवासन करें।

खाना खाने से एक घंटे पहले नाभि के ऊपर गीला सूती कपड़ा लपेट कर रखें या खाना के 2 घंटे बाद भी ऐसा कर सकते हैं।

नीम के पत्ते का पेस्ट अपने नाभि पर रखें। 20मिनट तक रख कर साफ़ कर लें। मेरुदंड स्नान के लिए अगर टब ना हो तो एक मोटा तौलिया गीला कर लें बिना निचोरे उसको बिछा लें और अपने मेरुदंड को उस स्थान पर रखें।

मेरुदंड (स्पाइन) सीधा करके बैठें। हमेशा इस बात ध्यान रखें।

पित्ताशय के ऊपर तिल के तेल से घड़ी की सीधी दिशा (clockwise) में और घड़ी की उलटी दिशा (anti clockwise)में मालिश करें। नरम हाथों से बिल्कुल भी प्रेशर नहीं दें। उसके बाद सूर्य की रोशनी से सेक लगाएँ।

प्रतिदिन गाजर 25g  + पान के पत्ते 1/2 पीस कर 200ml पानी मिलाएँ बिना छाने इसको पीएँ।

जीवन शैली-  1आकाश तत्व - एक खाने से दुसरे खाने के बीच में अंतराल (gap) रखें।

फल के बाद 3 घंटे, सलाद के बाद 5 घंटे, और पके हुए खाने के बाद 12 घंटे का (gap) रखें।

2.वायु तत्व - प्राणायाम करें, आसन करें। दौड़ लगाएँ।

3.अग्नि - सूर्य की रोशनी लें।

4.जल - अलग अलग तरीक़े का स्नान करें। मेरुदंड स्नान, हिप बाथ, गीले कपड़े की पट्टी से पेट की गले और सर की 20 मिनट के लिए सेक लगाए। 

स्पर्श थरेपी करें। मालिश के ज़रिए भी कर सकते है।

5.पृथ्वी - सुबह खीरा 1/2 भाग + धनिया पत्ती (10 ग्राम) पीस लें, 100 ml पानी मिला कर पीएँ। यह juice आप कई प्रकार के ले सकते हैं। पेठे (ashguard ) का जूस लें और कुछ नहीं लेना है। नारियल पानी भी ले सकते हैं। पालक  पत्ते धो कर पीस कर 100ml पानी डाल पीएँ। दुब घास 25 ग्राम पीस कर छान कर 100 ml पानी में मिला कर पीएँ। कच्चे सब्ज़ी का जूस आपका मुख्य भोजन है। 2 घंटे बाद फल नाश्ते में लेना है। 

फल को चबा कर खाएँ। इसका juice ना लें। फल + सूखे फल नाश्ते में लें।

दोपहर के खाने में सलाद + नट्स और अंकुरित अनाज के साथ  सलाद में हरे पत्तेदार सब्ज़ी को डालें और नारियल पीस कर मिलाएँ। कच्चा पपीता 50 ग्राम कद्दूकस करके डालें। कभी सीताफल ( yellow pumpkin)50 ग्राम ऐसे ही डालें। कभी सफ़ेद पेठा (ashgurd) 30 ग्राम कद्दूकस करके डालें। ऐसे ही ज़ूकीनी 50 ग्राम डालें।कद्दूकस करके डालें।कभी काजू बादाम अखरोट मूँगफली भिगोए हुए पीस कर मिलाएँ। 

लाल, हरा, पीला शिमला मिर्च 1/4 हिस्सा हर एक का मिलाएँ। लें। बिना नींबू और नमक के लें। स्वाद के लिए नारियल और herbs मिलाएँ।

रात के खाने में इस अनुपात से खाना खाएँ 2 कटोरी सब्ज़ी के साथ 1कटोरी चावल या 1रोटी लेएक बार पका हुआ खाना रात को 7 बजे से पहले लें।

6.सेंधा नमक केवल एक बार पके हुए खाने में लें। जानवरों से उपलब्ध होने वाले भोजन वर्जित हैं।

तेल, मसाला, और गेहूँ से परहेज़ करेंगे तो अच्छा होगा। चीनी के जगह गुड़ लें।

7.एक नियम हमेशा याद रखें ठोस(solid) खाने को चबा कर तरल (liquid) बना कर खाएँ। तरल  को मुँह में घूँट घूँट पीएँ। खाना ज़मीन पर बैठ कर खाएँ। खाते वक़्त ना तो बात करें और ना ही TV और mobile को देखें।ठोस  भोजन के तुरंत बाद या बीच बीच में जूस या पानी ना लें। भोजन हो जाने के एक घंटे बाद तरल पदार्थ  ले सकते हैं।

हफ़्ते में एक दिन उपवास करें। शाम तक केवल पानी लें, प्यास लगे तो ही पीएँ। शाम 5 बजे नारियल पानी और रात 8 बजे सलाद लें।

8.उपवास के अगले दिन किसी प्राकृतिक चिकित्सक के देख रेख में टोना लें। जिससे आँत की प्रदाह को शांत किया जा सके। एनिमा किट मँगा लें। यह किट ऑनलाइन मिल जाएगा। इससे 200ml पानी गुदाद्वार से अंदर डालें और प्रेशर आने पर मल त्याग करें। ऐसा दिन में दो बार करना है अगले 21 दिनों के लिए। ये करना है ताकि शरीर में मोजुद विषाणु निष्कासित हो जाये। इसके बाद हफ़्ते में केवल एक बार लेना है उपवास के अगले दिन। टोना का फ़ायदा तभी होगा जब आहार शुद्धि करेंगे।

धन्यवाद।

रूबी, 

प्राकृतिक जीवनशैली प्रशिक्षिका व मार्गदर्शिका (Nature Cure Guide & Educator)



01:06 PM | 13-01-2020

Gallstones are stones or hardened deposits in the gall bladder usually formed when there is an excess of undissolved cholesterol and sometimes due to bilirubin.

Usually, gallstones are asymptomatic and do not cause pain by itself, no matter how small or big the stones are. If you experience any severe uncontrolled abdominal pain, do not hesitate to see your physician. Here are some of the advice you may follow ;

• The best way to prevent gallstone development or it's reoccurrence is to adopt a plant-based diet which includes fruits, vegetables and whole plant-based diets such as whole grains, cereals, oats, beans, legumes, and lentils.

• Never skip your meals and eat in smaller quantity which will help your gut to easily digest and absorb the nutrients.

• Avoid oily fried foods, sugary foods and drinks, and maida products.

• An anti-inflammatory diet such as dark leafy greens, berries, cherries, almonds, and walnuts to mention a few are highly recommended.

• Avoid foods high in saturates fats such as butter, cheese, and refined oil as they are the major factors responsible for gall stones.

• Exercises and physical activities are very important in order to prevent gall stones. Go for morning walk, jog, running or any other physical activities that will improve your body's metabolic activity. Physical activities can also reduce your weight, cholesterol and control your blood sugar which is some of the major contributing factors for gallstones development.

Specific Treatment For Gall Bladder Stones:

  • Honey mixed in lukewarm water daily.
  • Lemon juice in lukewarm water.
  • Regular intake of beetroot juice helps to lower the cholesterol level which could prevent further growth or formation.
  • Raddish juice 2 tablespoons thrice a day could be helpful
  • Juice fasting under the guidance of registered naturopath or in a naturopathy hospital.
  • Gastro hepatic pack/Hot compress on the abdomen/Cold mud pack to abdomen taken in a Naturopathy Hospital under the supervision of a registered Naturopath

Wellcure
'Come-In-Unity' Plan