Q&A
01:25 PM | 25-01-2019

Hi, am very new to this platform. Could anyone please suggest what should I do to treat polycystic ovaries. Thank you


Post as Anonymous User
12 Answers

08:27 AM | 20-01-2019

Welcome to the platform and congratulations!

Let’s understand the meaning of Polycyst to start with!

  • Poly means many or multiple.
  • Cyst is termed to be an abnormal development of body structure.
  • Its development is quite similar to the formation of stone.

Now, from where do we get multiple stones inside our body?

We definitely do not eat stone, knowingly!

We know, how a stone forms!

It is a result of years of deposition of soil with a lot of transformation, stone forms.


The uneliminated toxins inside the body get transformed into cyst overtime.

It is a result of lack of elimination due to the lack of available CONSERVED VITALITY within the body.


This can happen for everybody and anywhere in the body.

The body decides where to form this according to its structural and chemical disposition.

The cysts keep on dissolving also, as and when, the body gets its quota of CONSERVED VITALITY; That happens primarily, through right lifestyle choices* and partly, through environmental supports.


Please do not bother much, if you do not have visible and pressing discomforts.

You might have been alerted through some scanning for this, I suppose!

Take this alert and do not discount yourself for adopting CONSISTENT CONSERVATION OF VITALITY to throw the toxins out of the body.


THE VITALITY CONSERVATION happens through these consistent right lifestyle choices*

  • RIGHT FOOD HABITS,

  • BALANCED PHYSICAL ACTIVITY INCLUDING QUALITY SLEEP and

  • STRESS-FREE MENTAL ENVIRONMENT.


Thank you...

You can follow us at facebook and/or at Wellcure

 

03:58 PM | 20-01-2019

Well said Kalyanji 😊

Reply


08:33 AM | 20-01-2019

Treatment is a medical term in natural health system it is healing. Body heals itself we need to provide right conditions.

Current state implies high level of toxins and acidic levels in body.

Body is unable to clear toxins and it has accumulated in a particular body part.

Make following changes:

First thing in the morning have fruits (300-400gms)

Have 100-200 GM's salads before lunch and dinner

Another round of fruits in evening (200-300 GM's)

Reduce intake of grains in dinner

Reduce dairy intake

Avoid all processed foods

You should see competent natural health practitioner.

 



04:26 PM | 20-01-2019

I have worked with some people who have reversed with lifestyle. It’s very much possible. Have a lot of natural raw foods, exposure to sunlight, mentally be peaceful, sleep enough,, listen to what your body says and eat when ur hungry but choose the healthy food . Quit animal derived foods. You should be fine in 6-10 months given the discipline. 



03:23 PM | 06-09-2019

Pcos is a result of the body malfunctioning due to lifestyle. Once the lifestyle is corrected and back to track, the body gets back to normal too. Whether it was emotional stress or physical stress and wrong food choices, sedentary lifestyle, they all help each other mess the body’s normal functioning. I believe that people who are disciplined can reverse it in few months. But this is a lifestyle and not a diet. I have worked with some people who have reversed with lifestyle. It’s very much possible. Have a lot of natural raw foods, exposure to sunlight, mentally be peaceful, sleep enough,, listen to what your body says and eat when ur hungry but choose the healthy food . Quit animal derived foods. You should be fine in 6-10 months given the discipline. 

Morning on empty stomach 

Celery juice 250 ml filtered / ash gourd juice / cucumber juice 

Followed by - 

Green juice with any watery vegetable like ashgourd / cucumber / ridge gourd / bottle gourd / carrot / beet with ginger and lime filtered  

More hunger - tender coconut water or more pure veggie juice 

Afternoon from 12 - answer hunger calls 

A bowl of fruits - don’t mix melons and other fruits. Eat melons alone. Eat citrus alone 

A bowl of salad which includes coconut / flax or sesame in any form 

More hunger - tender coconut water or coconut pieces with some dates or seed balls with dates 2-3 

Dinner 2 hrs before sleep 

Gluten free unpolished grains or dals 30% and 70% veggies

Please take enema for 30 days with Luke warm water and then slowly reduce the freq. this is not a substitute for daily nature call . 

 

Avoid refined oils, fried food , packaged ready to eat foods, dairy in any form including ghee, refined salt and sugar , gluten , refined oils 

include some exercises that involves moving all your parts ( neck , shoulder, elbows, wrist , hip bending twisting , squats, knees, ankles ) See if u can go to the sun for sometime in a day 30 mins atleast. 

Ensure that you are asleep between 10-2 which is when the body needs deep sleep. 

 

 

Avoid mental stress by not thinking about things you cannot control. Present is inevitable. Future can be planned. Stay happy. Happiness is only inside yourself . The world around you is a better place if you learn to stay happy inside yourself. Reach us if you need more help in this area. Emotional stress can cascade the effects. Thank your body and love it. Even in pcos it’s trying to protect you in many ways. 😇

Be blessed. 

02:13 PM | 05-08-2019

Wonderful answer Smitha
Such nice detail..
Impressed..
She will be fine soon if she implements it you have written every detail.

Reply


02:22 PM | 23-01-2019

Hi. Please read inspiring stories on Women's Health in our 'Journeys' section. Click here. Hope you find them useful.



01:46 PM | 07-09-2019

नमस्ते

 

निष्कासन ठीक प्रकार से और सही माध्यम से ना हो तो शरीर ग़लत माध्यम से शरीर में पनप रहे विषाक्त कणों को निकालता है क्योंकि शरीर का एक लक्ष्य है अनचाहे विषाणुओं को शरीर से निकाल बाहर करना है। एनिमा किट मँगा लें । यह किट ऑनलाइन मिल जाएगा। इससे 100ml पानी गुदाद्वार से अंदर डालें और प्रेशर आने पर मल त्याग करें। ऐसा दिन में दो बार करना है अगले 21 दिनों के लिए। ये करना है ताकि शरीर में उपस्थित विषाणु निष्कासित हो जाये।

इस बीमारी का मूल कारण हाज़मा और क़ब्ज़ है।

शरीर पाँच तत्व से बना हुआ है प्रकृति की ही तरह।

आकाश, वायु, अग्नि, जल, पृथ्वी ये पाँच तत्व आपके शरीर में रोज़ खुराक की तरह जाना चाहिए।

पृथ्वी और शरीर का बनावट एक जैसा 70% पानी से भरा हुआ। पानी जो कि फल, सब्ज़ी से मिलता है।

1 आकाश तत्व- एक खाने से दूसरे खाने के बीच में विराम दें। रोज़ाना 15 घंटे का उपवास करें जैसे रात का भोजन 7 बजे तक कर लिया और सुबह का नाश्ता 9 बजे लें।

2 वायु तत्व- लंबा गहरा स्वाँस अंदर भरें और रुकें फिर पूरे तरीक़े से स्वाँस को ख़ाली करें रुकें फिर स्वाँस अंदर भरें ये एक चक्र हुआ। ऐसे 10 चक्र एक टाइम पर करना है। ये दिन में चार बार करें।I

खुली हवा में बैठें या टहलें।

3 अग्नि तत्व- सूरर्य उदय के एक घंटे बाद या सूर्य अस्त के एक घंटे पहले का धूप शरीर को ज़रूर लगाएँ। सर और आँख को किसी सूती कपड़े से ढक कर। जब भी लेंटे अपना दायाँ भाग ऊपर करके लेटें ताकि आपकी सूर्य नाड़ी सक्रिय रहे।

4 जल तत्व- खाना खाने से एक घंटे पहले नाभि के ऊपर गीला सूती कपड़ा लपेट कर रखें और खाना के 2 घंटे बाद भी ऐसा करना है।

नीम के पत्ते और खीरे का पेस्ट अपने गर्भाशय पर रखें। 20मिनट तक रख कर साफ़ कर लें।

दिन में दो बार तिल के तेल से घड़ी की सीधी दिशा (clockwise) में और घड़ी की उलटी दिशा (anti clockwise)में मालिश करें। नरम हाथों से बिल्कुल भी प्रेशर नहीं दें।

मेरुदंड स्नान के लिए अगर टब ना हो तो एक मोटा तौलिया गीला कर लें बिना निचोरे उसको बिछा लें और अपने मेरुदंड को उस स्थान पर रखें।

 

मेरुदंड (स्पाइन) सीधा करके बैठें। 

5. पृथ्वी तत्व - सुबह ख़ाली पेट आधा खीरा 5 पुदीने या करी पत्ते के साथ पिस कर उसमें 100ml पानी मिला कर पिएँ।

जूस को मुँह में रख कर एक बार सहज स्वाँस लें फिर घूँट अंदर लें।

2 घंटे बाद कोई भी एक तरीक़े का फल नाश्ते में लें।फल को ठीक से चबा कर खाएँ। कोई नमक या चाट मसला या चीनी, दूध मिक्स ना करें। 

दोपहर 12 बजे सफ़ेद पेठे (ashguard) 20 ग्राम पीस 100ml पानी मिला कर लें।

नमक सेंधा ही प्रयोग करें। नमक की पके हुए खाने में भी बहुत कम लें। सब्ज़ी पकने बाद उसमें नमक डालें। नमक पका कर या अधिक खाने से शरीर में (fluid)  की कमी हो जाती।

सलाद दोपहर 1बजे बिना नमक के खाएँ तो अच्छा होगा क्योंकि नमक सलाद के गुणों को कम कर देता है। 

सलाद में हरे पत्तेदार सब्ज़ी को डालें और नारियल पीस कर मिलाएँ। कच्चा पपीता 50 ग्राम कद्दूकस करके डालें। कभी सीताफल ( yellow pumpkin)50 ग्राम ऐसे ही डालें। कभी सफ़ेद पेठा (ashgurad) 30 ग्राम कद्दूकस करके डालें। ऐसे ही ज़ूकीनी 50 ग्राम डालें।कद्दूकस करके डालें।कभी काजू बादाम अखरोट मूँगफली भिगोए हुए पीस कर मिलाएँ। रात का खाना 8 बजे खाएँ।

लाल, हरा, पीला शिमला मिर्च 1/4 हिस्सा हर एक का मिलाएँ। शाम 5 बजे नारियल पानी लें।

रात के खाने में इस अनुपात से खाना खाएँ 2 कटोरी सब्ज़ी के साथ 1कटोरी चावल या 1रोटी लें। रात 8 बजे के बाद कुछ ना खाएँ, 12 घंटे का (gap) अंतराल रखें। 8बजे रात से 8 बजे सुबह तक कुछ नहीं खाना है।

एक नियम हमेशा याद रखें ठोस(solid) खाने को चबा कर तरल (liquid) बना कर खाएँ। तरल  को मुँह में घूँट घूँट पीएँ। खाना ज़मीन पर बैठ कर खाएँ। खाते वक़्त ना तो बात करें और ना ही TV और mobile को देखें।ठोस  भोजन के तुरंत बाद या बीच बीच में जूस या पानी ना लें। भोजन हो जाने के एक घंटे बाद तरल पदार्थ  ले सकते हैं।

जानवरों से उपलब्ध होने वाले भोजन वर्जित हैं।

तेल, मसाला, और गेहूँ से परहेज़ करेंगे तो अच्छा होगा। चीनी के जगह गुड़ लें।

हफ़्ते में एक दिन उपवास करें। शाम तक केवल पानी लें, प्यास लगे तो ही पीएँ। शाम 5 बजे नारियल पानी और रात 8 बजे सलाद लें।

खीरा+एलोवेरा का पल्प का पेस्ट वंहा लगाएँ जंहा परेशानी है।  20मिनट के लिए लगाएँ।

त्वचा को गुलाब जल + बेसन और हल्दी से साफ़ करें। साबुन या कोई भी क्रीम का प्रयोग बंद कर दें।

नहाने के पानी में ख़ुशबू वाले फूलों का रस मिलाएँ। नींबू या पुदीना का रस मिला सकते हैं।खाना खाने से एक घंटे पहले नाभि के ऊपर गीला सूती कपड़ा लपेट कर रखें या खाना के 2 घंटे बाद भी ऐसा कर सकते हैं।

मेरुदंड (स्पाइन) सीधा करके बैठें। हमेशा इस बात ध्यान रखें। हफ़्ते में 3 दिन मेरुदंड का स्नान करें। मेरुदंड स्नान के लिए अगर टब ना हो तो एक मोटा तौलिया गीला कर लें बिना निचोरे उसको बिछा लें।अपने मेरुदंड को उस पर रखें।

नहाने के पानी में ख़ुशबू वाले फूलों का रस मिलाएँ। नींबू या पुदीना का रस मिला सकते हैं। नीम का रस भी बहुत फ़ायदा करेगा।

धन्यवाद।

रूबी, 

प्राकृतिक जीवनशैली प्रशिक्षिका व मार्गदर्शिका (Nature Cure Guide & Educator)



01:22 PM | 25-01-2019

I too have Polycystic ovaries, we can connect with each other to discuss the same. Pls feel free to message me and we can share our number thereafter. 



02:53 PM | 23-01-2019

Hi. As per the Laws of nature, accumulation of toxins manifest in different ways - cysts, kidney stones, gall bladder stones, eye floaters, etc. It's like the body just throws them away at one place because it's not getting the right inputs to remove them from the body. So yes it's a situation which is totally in your control & if you support ur body through the right tools, body will remove these.

I know a very well known naturopath who u can consult for the specific things you should do in your food & routine. Pls message me if you would like to get her details.  

 

 



09:52 AM | 09-09-2019

Hi Deepti 

Welcome to the platform. 

First of all as many other experts has shared with you there is nothing to worry. 
 

A healthy body is the one where you follow a natural lifestyle. 

 

When body cells work in a favorable environment thats the natural state of body..

 

Infact there is nothing called disease in the body. Disease is Dis - ease means when our body are not comfortable because of bad lifestyle. A natural lifestyle is the most healthy thing for our life and body. With bad lifestyle and eating a food which is more in producing acid ash, our body toxin level goes higher than it can handle.. Food diet heavy on milk and milk products, fried food etc produces acid residue ash in our body. Body gets at dis- ease. 

 

Our body has five elimintatory organs 

 

1. Skin 

2. Kidney

3. Liver 

4. Lungs 

5. Colon 

 

Body throws these toxins through these organs. You need to focus on these organs and help your body to relase toxins. Body is very intelligent and can heal itself in favourable conditions. Once you believe in this that body can heal itself and make following changes in your diet and life you will be be giving an opportunity to your body it heal itself. 

 

Basically folllow a lifestyle where your intake of fruits and vegetables is more than 50 percent and gradually increase to 70 percent. I suggest below changes. 

 

1. Completely avoid milk and milk products 

2. No fried food and anything which comes in a packet. 

3. Start everyday with this belief that body can heal itself. 

4. A healthy body is a body which is toxin free. 

5. Your breakfast should be only fruits and preferably mono fruits. 

6. Till 12 PM you should only consume fruits except a vegatable juice made from Beetroot, orange and carrot etc at 11AM. 

7. Eat Salad before you eat cooked food in lunch. There are many interesting recipes at Wellcure Recipe Section. You may like to include them in your diet. 

8. Evening tea should be a herbal tea. 

9. Dinner should be very light and eaten before 8PM 

10. Think positive and feel grateful for this beautiful life.

 

I wish you a great healthy life. 

 



11:39 AM | 08-09-2019

Hello Deepti,

PCOS is a hormonal condition, to treat this horomonal condition, thankfully there is natural lifestyle you can adapt  to treat this condition and overcome from it. In this condition the main significance is the diet. What you consume makes huge difference to your hormonal condition which can be regulated. You have to change your diet to whole foods which doesn't include foods that are processed, contain hormone, preservatives and artificial sugars.

Your food should include Plant based proteins which include legumes, nuts and whole grains in your diet. You need to uptake your iron intake which includes vegetables such as Broccoli, Spinach and other green leafy vegetables. Additionally eat magnesium rich diet such as almonds, bananas and cashews which can be easily consumed everyday.

Lentils, Lima beans, Sprouts, Brussel sprouts, Pears, and Avocadoes help with the necessary fiber diet. 

Additionally, exercise is your best friend,you need to keep yourself fit in order to increase your confidence level. Mindfulness therapy helps in connecting with your internal system, it helps you to command your body to heal by itself. Therefore I will highly encourage you to practice mindfulness so that you are able to connect with your body system and therefore self-heal. 

Regards

Dr.Stuti.Pardhe 



11:39 AM | 08-09-2019

Hello deepti,

Improve your lifestyle, wake up early in the morning and also sleep early.

Perform yoga every morning like Bhujanga asana,trikona asana.

For a diet specially for pcos, you can read a previous Q&A thread.
http://www.wellcure.com/questions-answers/425/can-anyone-suggest-me-a-diet-plan-for-pcos



08:02 PM | 02-12-2019

नमस्ते,
 महिलाओं को polycystic ovarian syndrome बीमारी प्रजनन हार्मोंस के संतुलन में गड़बड़ी व मेटाबॉलिज्म खराब होने पर होती है। हार्मोंस असंतुलित होने से मासिक धर्म चक्र प्रभावित होता है। सामान्य स्थिति में हर माह पीरियड्स के बाद ओवरी (अंडाशय) में अंडाणुओं का निर्माण होता है और बाहर निकलते हैं। वहीं, पीसीओएस (PCOS) की स्थिति में ये अंडाणु न तो पूरी तरह से विकसित हो पाते हैं और न ही बाहर निकल पाते हैं ।

इसके निम्नलिखित कारण हो सकते हैं-

  • अनुवांशिक : वैसे तो हार्मोंस में असंतुलन को इस बीमारी की मुख्य वजह माना गया है, लेकिन अगर आपकी मां को यह समस्या रही है, तो आशंका है कि आप भी इसकी चपेट में आ सकती है। हालांकि, वैज्ञानिक तौर पर इसकी पुष्टि नहीं हुई, लेकिन सावधानी बरतना बेहद जरूरी है ।
  • पुरुष हार्मोन : महिलाओं की ओवरी कुछ मात्रा में पुरुष हार्मोन (एंड्रोजन) का भी उत्पादन करती है। पीसीओएस की स्थिति में पुरुष हार्मोन का अत्यधिक मात्रा में उत्पादन होता है, जिस कारण ओव्यूलेशन प्रक्रिया के दौरान अंडाणु बाहर नहीं निकल पाते हैं। इस स्थिति को हाइपरएंड्रोजनिसम कहा जाता है ।
  • इंसुलिन : कुछ वैज्ञानिक शोध में इंसुलिन को भी इस बीमारी का एक कारण माना गया है। शरीर में मौजूद इंसुलिन हार्मोन, शुगर, स्टार्च व भोजन को ऊर्जा में बदलने का काम करता है। जब इंसुलिन असंतुलित हो जाता है, तो एंड्रोजन हार्मोन की मात्रा बढ़ जाती है और ओव्यूलेशन प्रक्रिया प्रभावित होती है। परिणामस्वरूप महिलाओं को पीसीओएस का सामना करना पड़ता है ।
  • खराब जीवनशैली : भोजन में पौष्टिक तत्वों की कमी, अत्यधिक जंक फूड खाने, शारीरिक व्यायाम न करने और शराब व सिगरेट का सेवन करने से भी महिलाओं को यह बीमारी हो सकती है।

आपको निम्नलिखित उपाय करने चाहिए-

  •  नींद -रात्रि में 7 से 8 घंटे की नींद अवश्य लें, इससे शरीर से दूषित पदार्थ बाहर निकलता है कोशिकाओं की मरम्मत होती है।
  • सूर्योदय के पश्चात कम से कम 45 मिनट धूप मेंं रहे इससे शरीर में विटामिन डी की आपूर्ति होती है शरीर की समस्त अंतः स्रावी ग्रंथियां सुचारू रूप से अपना कार्य करती हैं।
  • प्रतिदिन प्रातः गुनगुने पानी ,नींबू एवं शहद का सेवन करें इससे शरीर में अम्ल एवं क्षार का संतुलन बना रहता है, आंंत की दीवारें फैलती हैं, शरीर से दूषित पदार्थ बाहर निकलते हैं जिससे क्रमांक कुंचन गति सुचारू रूप से होती है।
  •  प्रतिदिन पालक ,चुकंदर ,नारियल पानी या आंवले के जूस का सेवन करें इससे शरीर में अम्ल एवं क्षार का संतुलन बना रहता है ,शरीर के सभी अंग सुचारू रूप से अपना कार्य करते हैं।
  •  प्रतिदिन भोजन में 50% ताजे मौसमी फल 35% हरी पत्तेदार सब्जियां 10% साबुत अंकुरित अनाज, 5% सूखे मेवे का सेवन खूब चबा चबाकर करें, यह हल्के एवं सुपाच्य होते  हैं, संतुलित मात्रा में शरीर को पोषण प्राप्त होता है, अंग सुचारू रूप से अपना कार्य करते हैं.।
  • प्यास लगने पर मिट्टी के घड़े में रखे हुए जल को बैठकर धीरे-धीरे सेवन करें इससे शरीर को पर्याप्त मात्रा में जल की आपूर्ति होती है ,शरीर के सभी अंग सुचारू रूप से अपना कार्य करते हैं।
  •  सप्ताह में कम से कम 1 दिन उपवास रहें इससे शरीर से दूषित पदार्थ बाहर निकलते हैं, पाचन अंगों को आराम मिलता है ।
  • पानी में पुदीने के तीन चार पंक्तियां एक गिलास पानी में डालकर उबालें जब आधा राजा उसे उतारकर शान में ठंडा होने पर धीरे-धीरे सेवन करें पुदीना एंटी-एंड्रोजन का काम करती है। इसे पीने से पीसीओएस में राहत मिलती है।
  • अनुलोम-विलोम प्राणायाम  करने से मानसिक विकार दूर होते हैं और दिल व दिमाग शांत होता है।
  • तितली आसन  करने से तनाव दूर होता है और पीरियड्स नियमित समय पर आने लगते हैं।
  • प्रतिदिन सुगंधित पुष्पों से युक्त बगीचे में प्रसन्न होकर नंगे पाव टहलें, मन शांत एवं तनाव मुक्त  रहता है। 

निषेध -जानवरों से प्राप्त भोज्य पदार्थ ,चाय ,काफी ,चीनी ,मिठाईयां ,नमक ,नमकीन ,ठंडे पेय पदार्थ, डिब्बाबंद भोज्य पदार्थ ,रात्रि जागरण ,क्रोध, ईर्ष्या , चिंता ,तनाव सोने से 2 घंटे पहले मोबाइल, टेलीविजन ,कंप्यूटर का प्रयोग।


Wellcure
'Come-In-Unity' Plan