Loading...

Q&A
11:18 AM | 14-12-2020

Hi, I'm having problem with joint pains from last 2 to 3 years. Now my age is 35 yrs. I know this is not the age to face these problems. But I dont know how to overcome this situation. I have taken medication, ayurvedic treatment, physiotherapy. Still I'm facing a lot. Doctors are saying to take MRI, please any one suggest me what to do.

The answers posted here are for educational purposes only. They cannot be considered as replacement for a medical 'advice’ or ‘prescription’. ...The question asked by users depict their general situation, illness, or symptoms, but do not contain enough facts to depict their complete medical background. Accordingly, the answers provide general guidance only. They are not to be interpreted as diagnosis of health issues or specific treatment recommendations. Any specific changes by users, in medication, food & lifestyle, must be done through a real-life personal consultation with a licensed health practitioner. The views expressed by the users here are their personal views and Wellcure claims no responsibility for them.

Read more
Post as Anonymous User
3 Answers

12:02 PM | 04-01-2021

Hello User,

Arthritis is a lifestyle disorder but mostly seen in elderly people. Suffering from arthritis at a young age is a matter of concern. It is the result of a sedentary lifestyle and wrong eating habits. Stress and hormonal imbalance also result in many such health issues. You can achieve good health by just adopting some healthy habits.

Some habits to follow in the morning 

  • Do oil pulling. Take 2 spoons of coconut oil or sesame oil and hold it in your mouth for 2 to 3 minutes. Then, spit it out and rinse your mouth with warm water.
  • Put 2 drops of sesame oil in each of your nostrils in the morning. 
  • Take the morning sun rays as the sunshine vitamin is good for the bones.

Foods to eat

  • Start your morning with a glass of warm water with a few drops of fresh lemon juice in it. This will help to flush out the toxins out of the body. 
  • Drink amla juice in the morning. 
  • Eat sprouts in your breakfast. 
  • Drink freshly prepared homemade fruit juices along with the breakfast. 
  • Eat fresh, seasonal, and locally available fruits and vegetables. 
  • Include salads, nuts, and beans in your diet. 
  • Drink plenty of water throughout the day to be hydrated. 

Foods to avoid

  • Avoid refined grains. 
  • Avoid sugars and sugary foods. 
  • Avoid refined oils.
  • Say no to tobacco and smoking. 
  • Avoid alcohol.
  • Avoid dairy food items like milk, curd,, paneer, butter, etc.
  • Avoid animal foods.
  • Avoid caffeinated drinks. 

Exercise 

  • Exercising regularly improves blood circulation, makes the body flexible and also keeps the metabolism of the body good.
  • Start the day with a short morning walk of at least 30min. 
  • Do suryanamaskar as it involves maximum parts of the body through its contributing 12 asanas.
  • Practice pranayam, specially anulom-vilom and kapalbhati pranayam. 
  • Walk barefoot on grass in the morning. 

Sleep

Sleeping pattern is very essential as it affects the circadian rhythm and in turn the hormonal balance.

Hence, take proper sleep of at least 8-10 hours daily. Sleep early at night and also wake up early in the morning. 

Thank you 



12:03 PM | 04-01-2021

Embrace the use of diluted lemon in boiled water twice a day morning and evening 45mins before any meal.  If you can, add honey and garlic.



09:14 AM | 29-12-2020

हेलो,
कारण - जोड़ों में दर्द और रीड की हड्डी केे आसपास दर्द शरीर में खराब प्रोटीनों के बनने, शरीर के भीतर के पर्यावरण में बदलाव से हो सकता है।शरीर के किसी भी हिस्से में दर्द का मुख्य कारक होता है। शरीर में बढ़ा हुआ अम्ल शरीर का हाजमा खराब होने पर हमारे शरीर में अम्ल की अधिकता हो जाती है। शरीर में अम्ल की अधिकता होने पर रक्त संचार में कमी आती है और यह दर्द का कारक बनता है। यह लंबे समय तक खराब हाजमा होनेे  के कारण होता है। मूल कारण पर काम करते ही शरीर मेंं हो प्रतिक्रिया से आपको छुटकारााा मिल जाएगा। जोड़ों में दर्द खरााब हाजमा का प्रतिक्रिया मात्र है ।

प्राकृतिक चिकित्सा पद्धति में इसका समाधान है।

समाधान - 1. चार भिंडी को लंबा काटकर एक गिलास पानी में डाल दें और सुबह खाली पेट नेचुरल मोशन होने से पहले उसको पी लें। पीते वक्त इस बात का ध्यान रखें कि पानी को मुंह में रख रख केपीए।2. सूर्य की रोशनी में 20 मिनट का स्नान सूर्य की रोशनी से करें 5 मिनट सामने 5 मिनट पीछे 5 मिनट दाएं 5 मिनट बाएं भाग में धूप लगाएं। धूप लेट कर लेना चाहिए धूप की रोशनी लेते वक्त सर और आपको किसी सूती कपड़े से ढक ले। सूर्य नारी मंद होने पर  इन्फेक्शन अधिक होता है अतः आप जब भी सोए अपना दायां भाग ऊपर करके सोए। 

3. प्रतिदिन अपने पेट पर खाने से 1 घंटे पहले या खाना खाने के 2 घंटे बाद गीले मोटे तौलिए को लपेटे एक तौलिया गिला करके उसको निचोड़ लें और हूं उस तौलिए को 20 मिनट तक अपने पेट पर लपेटकर रखें ऐसा करने से आपका पाचन तंत्र दुरुस्त होगा।

4. हर 3 घंटे में लंबा गहरा श्वास अंदर लें उसको थोड़ी देर रोकें और फिर सांस को खाली करें। खाली करने के बाद फिर से रुके और फिर लंबा गहरा सांस ले। यह एक चक्र है ऐसा दिन में 10 चक्र करें केवल एक शर्त का पालन करें जब आप लंबा गहरा सांस ले रहे हैं तो अपनी रीढ़ की हड्डी को सीधा रखें ऐसा करने से आपके शरीर में ऑक्सीजन की मात्रा का बढ़ेगी और ऑक्सीजन का संचार सुचारू रूप से हो पाएगा।

5.सुबह खीरा 1/2 भाग धनिया पत्ती (10 ग्राम) पीस लें, 100 ml पानी मिला कर पीएँ। यह juice आ कई प्रकार के ले सकते हैं। पेठे (ashguard ) का जूस लें और कुछ नहीं लेना है। नारियल पानी भी ले सकते हैं। पालक  पत्ते धो कर पीस कर 100ml पानी डाल पीएँ। दुब घास 25 ग्राम पीस कर छान कर 100 ml पानी में मिला कर पीएँ। कच्चे सब्ज़ी का जूस आपका मुख्य भोजन है। 2 घंटे बाद फल नाश्ते में लेना है। फल को चबा कर खाएँ। इसका juice ना लें। फल सूखे फल नाश्ते में लें।दोपहर के खाने में सलाद नट्स और अंकुरित अनाज के साथ  सलाद में हरे पत्तेदार सब्ज़ी को डालें और नारियल पीस कर मिलाएँ। कच्चा पपीता 50 ग्राम कद्दूकस करके डालें। कभी सीताफल ( yellow pumpkin)50 ग्राम ऐसे ही डालें। कभी सफ़ेद पेठा (ashgurd) 30 ग्राम कद्दूकस करके डालें। ऐसे ही ज़ूकीनी 50 ग्राम डालें।कद्दूकस करके डालें।कभी काजू बादाम अखरोट मूँगफली भिगोए हुए पीस कर मिलाएँ। लाल, हरा, पीला शिमला मिर्च 1/4 हिस्सा हर एक का मिलाएँ। लें। बिना नींबू और नमक के लें। स्वाद के लिए नारियल और herbs मिलाएँ।रात के खाने में इस अनुपात से खाना खाएँ 2 कटोरी सब्ज़ी के साथ 1कटोरी चावल या 1रोटी लेएक बार पका हुआ खाना रात को 7 बजे से पहले लें

6. एक नियम हमेशा याद रखें ठोस(solid) खाने को चबा कर तरल (liquid) बना कर खाएँ। तरल  को मुँह में घूँट घूँट पीएँ। खाना ज़मीन पर बैठ कर खाएँ। खाते वक़्त ना तो बात करें और ना ही TV और mobile को देखें।ठोस  भोजन के तुरंत बाद या बीच बीच में जूस या पानी ना लें। भोजन हो जाने के एक घंटे बाद तरल पदार्थ ले सकते हैं।हफ़्ते में एक दिन उपवास करें। शाम तक केवल पानी लें, प्यास लगे तो ही पीएँ। शाम 5 बजे नारियल पानी और रात 8 बजे सलाद ले

7. उपवास के अगले दिन किसी प्राकृतिक चिकित्सक के देख रेख में टोना लें। जिससे आँत की प्रदाह को शांत किया जा सके। एनिमा किट मँगा लें। यह किट ऑनलाइन मिल जाएगा। इससे 200ml पानी गुदाद्वार से अंदर डालें और प्रेशर आने पर मल त्याग करें। ऐसा दिन में दो बार करना है अगले 21 दिनों के लिए। ये करना है ताकि शरीर में मोजुद विषाणु निष्कासित हो जाये। इसके बाद हफ़्ते में केवल एक बार लेना है उपवास के अगले दिन। टोना का फ़ायदा तभी होगा जब आहार शुद्धि करेंगे।

धन्यवाद

रूबी,

प्राकृतिक जीवनशैली प्रशिक्षिका व मार्गदर्शिका (Nature Cure Guide & Educator)


Scan QR code to download Wellcure App
Wellcure
'Come-In-Unity' Plan











Whoops, looks like something went wrong.